Abhayarishta in Hindi अभयारिष्ट: महान लाभ, उपयोग, खुराक, दुष्प्रभाव, मूल्य

Abhayarishta ke fayde aur nuksan in Hindi

Table of Contents

Abhayarishta ke fayde aur nuksan in Hindi

What is Abhayarishta in Hindi – अभयारिष्ट क्या है?

आयुर्वेद में अभयारिष्ट(Abhayarishta) को चमत्कारी दवा कहा जाता है| यह हर्बल दवा बहुत सी आयुर्वैदिक चीज़ों से बनी हुई है| यह मुख्य रूप से पाचन समस्याओं जैसे गैस, ब्लोटिंग कब्ज़ और हेमोरोइड्स के इलाज़ के लिए प्रयोग की जाती है| ज्यादातर इसका उपयोग पाचन समस्याओं को ठीक करने के लिए किया जाता है|

Check out English translation of this article - Abhayarishta in English

Abhayarishta Health Benefits in Hindi – अभयारिष्ट के फायदे

क्र.सं.अभयारिष्ट लाभ
1बवासीर का इलाज करता है
2एनल फिशर को ठीक करे
3कब्ज से राहत
4गैस और सूजन के लिए प्रभावी

अभयारिष्ट के लाभों के बारे में जानने के लिए नीचे पड़ें|

बवासीर का इलाज करता है

अभयारिष्ट(Abhayarishta) निचली आंत से दबाव को हटाकर लाभ देता है, जिससे रेक्टल की नसों में सूजन कम हो जाती है। यह कब्ज से भी छुटकारा दिलाता है जो बवासीर का सबसे आम कारण होता है।

एनल फिशर को ठीक करे

फिशर मुख्य रूप से सख्त मल और कब्ज के कारण बनते हैं। आँतों की मूवमेंट को नियमित करके यह दवा एनल फिशर को ठीक करने में मदद करती है।

कब्ज से आराम दिलाये

यह दवा जिगर में पित्त के बनने, पाचन और आँतों की  नियमित मूवमेंट को बढ़ावा देती है। अभयारिष्ट को यदि नियमित रूप से लिया जाए तो यह कब्ज और मल त्याग से आराम दिला सकता है।

गैस और सूजन के लिए प्रभावी

इसके लाभों में गैस और पेट दर्द के कारण सूजन को ठीक करना भी शामिल हैं। अभयारिष्ट में मुख्य घटक के रूप में हरितकी होती है जो पेट से गैस और ऐंठन को कम करती है।


Uses of Abhayarishta in Hindi – अभयारिष्ट के उपयोग

कब्ज के लिए

गाय का घी, बादाम का तेल और दूध मिलाएं और अभयारिष्ट(Abhayarishta) लेने से 30 मिनट पहले इसे पिएं। यह 2 सप्ताह में ही कब्ज को खत्म कर देगा।

गैस के लिए

भोजन के बाद अभयारिष्ट(Abhayarishta) के सिर्फ 2 चम्मच गैस और सूजन को कम कर सकते हैं।

एनल फिशर और बवासीर के लिए

घी और दूध के साथ अभयारिष्ट लेने से मल ढीला हो जाता है और बवासीर में आराम मिलता है| दर्दनाक रक्तस्राव के मामले में लगाने वाली दवाओं का उपयोग जरूरी हो सकता है।


Ingredients of Abhayarishta in Hindi – अभयारिष्ट में सामग्री

यह हर्बल लिक्विड निम्न चीजों से बना है:

  • अभया (हरितकी – टर्मिनलिया चबुला)
  • द्राक्षा (सूखे अंगूर)
  • मधुका (मधुका इंडिका)
  • विदंगा (एम्बेलिया रिब्स), कषयं के लिए पानी
  • गुड़
  • त्रिवृत (ऑपेरुक्लिना टेरपेथम)
  • गोक्षुरा (ट्रिबुलस टेरिस्ट्रिस)
  • धन्याका (धनिया)
  • धाताकी (वुडफोर्डिया फ्रूटिकोसा)
  • चाव्या (मुरलीवाला रेट्रोफ्रैक्टम)
  • इंद्रवरुणी (सिट्रुलस कोलोसिन्थिस)
  • शुनती (अदरक)
  • मिश्रेया (फ़ॉनिक्युलिस वल्गारे)
  • दंती (बालिओस्पर्म मोंटानम)
  • मोकारसा (सालमलिया मालाबारिका)
Also Read: Abana के फायदे | Ajwain के नुकसान | Arjunarishta के नुकसान

Properties of Abhayarishta in Hindi – अभयारिष्ट के गुण

  • प्रगेटिव
  • एंटी वायरल
  • एस्ट्रीन्जेंट
  • एंटी-ओक्सिडेंट
  • लेक्सेटिव
  • कामिनटिव
  • एंटी-स्पासमोडिक
  • एंटी बैक्टीरियल
  • एक्स्पेक्टोरेंट

Nutritional Value of Abhayarishta in Hindi – अभयारिष्ट के पोषक गुण

इस दवा में फाइटोकेमिकल्स, गैलिक एसिड, फ्लेवोनोइड्स, बी-सिटोस्टेरॉल, फ्रुक्टोज, टैनिन और टेरपीन होते हैं।


How to Use Abhayarishta in Hindi – अभयारिष्ट का उपयोग कैसे करें

अभयारिष्ट(Abhayarishta) एक लोकप्रिय आयुर्वेदिक टॉनिक है जिसका उपयोग स्वास्थ्य की विभिन्न बीमारियों का कुशल और प्रभावी तरीके से इलाज करने के लिए किया जाता है। इस आयुर्वेदिक दवा के बारे में कुछ महत्वपूर्ण विवरण इस प्रकार हैं।

क्या इसे भोजन से पहले या बाद में लिया जा सकता है?

गैस और कब्ज जैसी पाचन समस्याओं का इलाज करने के लिए भोजन के बाद अभयारिष्ट को लिया जाता है।

क्या इसे खाली पेट लिया जा सकता है?

पाचन समस्याओं के इलाज़ के रूप में इसके प्रभाव का अनुभव करने के लिए भोजन के बाद अभयारिष्ट लेने की सलाह दी जाती है।

क्या इसे पानी के साथ लेना चाहिए?

हाँ, अभयारिष्ट(Abhayarishta) को पाउडर के रूप में बराबर मात्रा में पानी के साथ दिन में दो बार लेना चाहिए।

क्या इसे दूध के साथ लेना चाहिए?

कब्ज को ठीक करने के लिए गाय के घी, बादाम के तेल और दूध में मिलाकर लेना चाहिए और अभयारिष्ट को लेने से 30 मिनट पहले इसे पीना चाहिए।

अभयारिष्ट लेते समय क्या परहेज करना चाहिए?

अभयारिष्ट(Abhayarishta) को उचित मात्रा में लेना जरूरी है और किसी भी दुष्प्रभाव से बचने के लिए इसे ज्यादा मात्रा में ना लें|


Abhayarishta: Dosage in Hindi – अभयारिष्ट: खुराक

वयस्कों के लिए

  • हर रोज़ 30 मि.ली. की बंटी हुई खुराक में
  • हर रोज़ अधिकतम 60 मि.ली. की बंटी हुई खुराक में

बच्चों के लिए

  • उम्र के अनुसार 5 मि.ली. से 10 मि.ली. के बीच
  • अभयारिष्ट को बराबर मात्रा में पानी के साथ दिन में दो बार लेना चाहिए।
आयुन्यूनतम खुराकअधिकतम खुराक
वयस्क30 मि.ली. प्रति दिन विभाजित खुराक मेंविभाजित खुराक में 60 मिलीलीटर प्रति दिन
बच्चे0.5 मि.ली.10 मि.ली.

Side Effects of Abhayarishta in Hindi – अभयारिष्ट के दुष्प्रभाव

नेचुरल मेडिसिन होने के कारण अभयारिष्ट का कोई साइड इफेक्ट नहीं है। लेकिन इस दवा को लेने से कुछ लोगों को दस्त हो सकते हैं।


Precautions & Warnings of Abhayarishta in Hindi – अभयारिष्ट से सावधानियां और चेतावनी

क्या गाड़ी चलाने से पहले इसको लिया जा सकता है?

अच्छे परिणाम पाने के लिए भोजन के बाद अभयारिष्ट लेना उचित है। इस आयुर्वेदिक दवा को लेने से उनींदापन हो सकता है और इसे ड्राइविंग से पहले नहीं लेना चाहिए।

क्या इसे शराब के साथ किया जा सकता है?

अभयारिष्ट(Abhayarishta) में पहले से ही अल्कोहल होता है, जो एक हेपेटो-सुरक्षात्मक तत्व के रूप में काम करता है और इसे अल्कोहल के साथ लेने की जरूरत नहीं होती।

क्या यह नशे की लत है?

नहीं, यह नशे की लत नहीं है।

क्या यह मदहोश कर सकता है?

हाँ, आप अभयारिष्ट(Abhayarishta) के दुष्प्रभावों के रूप में नींद आना, चक्कर आना, निम्न रक्तचाप या सिरदर्द हो सकता है। लेकिन इसका प्रभाव अलग-अलग लोगों में अलग-अलग होता है।

क्या आप अभयारिष्ट को ज्यादा मात्रा में ले सकते हैं?

नहीं, अभयारिष्ट को ज्यादा मात्रा में नहीं लेना चाहिए क्योंकि इस जड़ी बूटी को ज्यादा लेने से कुछ लोगों में ढीला मल हो सकता है।


13 Important Questions Asked About Abhayarishta in Hindi – अभयारिष्ट के बारे में पूछे गए 13 महत्वपूर्ण प्रश्न

यह किस चीज़ से बना है?

अभयारिष्ट(Abhayarishta) कई आयुर्वेदिक चीज़ों का उपयोग करके बनाया गया है। इसके इलावा इसमें 5 से 7% तक अल्कोहल भी होता है। अभयारिष्ट के तत्वों के बारे में जानने के लिए आप ऊपर दी गई चीज़ों की सूची देख सकते हैं।

स्टोर करने के लिए  

अभयारिष्ट को नमी से बचाने के लिए एक कसकर बंद एम्बर रंग की बोतल में ठंडी जगह पर रखना चाहिए।

अपनी हालत में सुधार देखने तक मुझे कितने समय तक अभयारिष्ट का लेने की आवश्यकता है?

अभयारिष्ट(Abhayarishta) का उपयोग कई महीनों तक किया जा सकता है| लेकिन इस आयुर्वेदिक दवा का सेवन करने से पहले आपको एक योग्य डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

अभयारिष्ट को दिन में कितनी बार लेने की जरूरत है?

अभयारिष्ट को बराबर मात्रा में पानी के साथ दिन में दो बार भोजन के बाद ले सकते हैं।

क्या स्तनपान कराने पर कोई प्रभाव पड़ता है?

यदि आप स्तनपान कराने वाली माँ हैं तो आपको अभयारिष्ट के उपयोग से बचना चाहिए।

क्या यह बच्चों के लिए सुरक्षित है?

हां, इसे तय की गयी खुराक के अनुसार दिया जाए तो यह बच्चों के लिए सुरक्षित है। नीचे इसकी तय की गयी खुराक बताई गयी है-

1 से 3 साल की उम्र के लिए: दिन में एक या दो बार 2 मि.ली.

3 से 7 साल के लिए: दिन में एक या दो बार 5 मि.ली.

7 से 12 साल: दिन में एक या दो बार 10 मि.ली.

12 से 18 साल के लिए: दिन में एक या दो बार 15 मि.ली.

क्या गर्भावस्था पर इसका कोई प्रभाव पड़ता है?

गर्भावस्था के दौरान अभयारिष्ट(Abhayarishta) लेने से बचना उचित है। इस जड़ी बूटी में कोलोसिन्थ होता है जो गर्भाशय के संकुचन को बढ़ा सकता है जिससे गर्भपात का खतरा बढ़ सकता है।

क्या इसमें चीनी होती है?

हां, अभयारिष्ट में चीनी होती है इसलिए मधुमेह के रोगियों को इसे डॉक्टर की देखरेख में ही लिया जाना चाहिए|

भारत में फिस्टुला के लिए सबसे अच्छा आयुर्वेदिक उपचार कहां मिल सकता है?

फिस्टुला को कई घरेलू उपचारों के साथ ठीक किया जा सकता है उनमे से एक है तय की गयी खुराक में अभयारिष्ट का सेवन करना| भारत में कई आयुर्वेदिक उपचार केंद्र हैं जहाँ इस बीमारी का उचित इलाज और सलाह ली जा सकती है| भारत के दो सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक उपचार केंद्र हैं – ठाणे में वेदमृत हेल्थ केयर एंड रिसर्च सेंटर और ईक्लिनिको – एक ऑनलाइन पोर्टल जहां आप अपने डॉक्टरों के पैनल से लिखित चिकित्सा सलाह ले सकते हैं, कॉल कर सकते हैं|

क्या आयुर्वेदिक चिकित्सा के रूप में अभयारिष्ट का कोई दुष्प्रभाव है?

आयुर्वेदिक दवा होने के कारण अभयारिष्ट कोई दुष्प्रभाव नहीं दिखाता| इसलिए हमेशा यह सलाह दी जाती है कि इसका ज्यादा मात्रा में सेवन ना करें क्योंकि अधिक मात्रा में अभयारिष्ट लेने से लूज मोशन, पेट में गड़बड़ी और सूजन हो सकती है। इसके अलावा गर्भावस्था के दौरान भी इस आयुर्वेदिक दवा का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इसमें कोलोसिन्थ होता है जो एक ऐसा तत्व है जो यूटरस के कॉन्ट्रैक्शन को बढ़ा सकता है जिससे गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है।

आयुर्वेदिक दवाओं के जरिए पाइल्स को कैसे ठीक किया जा सकता है?

स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के साथ ही आयुर्वेदिक उपचार के माध्यम से पाइल्स को ठीक किया जा सकता है। अभयारिष्ट एक ऐसी आयुर्वेदिक औषधि है जो पाइल्स को ठीक कर सकती है। अभयारिष्ट मल त्याग करने में मदद करता है और कब्ज से आराम दिलाता देता है जिससे पाइल्स के इलाज़ में मदद मिलती है। इसके अलावा अभयारिष्ट बड़ी आंत के निचले हिस्से में दबाव को भी कम करके नसों की सूजन को भी कम करता है।

क्या अभयारिष्ट लेने से पुरानी कब्ज से छुटकारा पा सकते हैं?

हल्के से मध्यम कब्ज को अभयारिष्ट(Abhayarishta) द्वारा आसानी से ठीक किया जा सकता है। अभयारिष्ट बड़ी आंत में दबाव को कम करके आँतों की मूवमेंट को सक्षम करने में मदद करता है इसलिए इसका उपयोग पुरानी कब्ज के इलाज के लिए भी किया जा सकता है।

पाइल्स का इलाज करने के लिए सबसे अच्छा आयुर्वेद इलाज़ क्या है?

अभयारिष्ट(Abhayarishta) ही सबसे अच्छा प्राकृतिक आयुर्वेदिक इलाज़ है जो पाइल्स के इलाज में मदद करता है। अच्छे परिणाम पाने के लिए इसे अर्शोघ्नी वटी और कांकायन गुटिका के साथ मिलाकर लें|

Also Read: Amla Oil के नुकसान | Amla Powder के नुकसान

Buyer’s Guide- Price and Where to Buy Abhayarishta in Hindi – खरीदने के लिए गाइड- मूल्य और अभयारिष्ट से कहां खरीदें

डाबर अभयारिष्ट – 680 मि.ली.

सबसे अच्छी कीमत:

142 रुपये

अभयारिष्ट कहां से खरीदें


Popular Brands that Sell Abhayarishta in Hindi – ब्रांड्स जो अभयारिष्ट बेचते हैं


Research on Abhayarishta in Hindi – अभयारिष्ट पर शोध

अगस्त 2015 में इंटरनेशनल जर्नल ऑफ रिसर्च में प्रकाशित ‘एक परिकर्तिका: केस स्टडी’ नाम के अध्ययन के अनुसार, अभयारिष्ट एक प्रभावी आयुर्वेदिक उपाय है जिसका उपयोग कब्ज के उपचार में किया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 + sixteen =