Ashwagandha Tablet in Hindi अश्वगंधा टेबलेट:-फायदे, उपयोग, खुराक और नुकसान

अश्वगंधा टेबलेट:-फायदे, उपयोग, खुराक और नुकसान

अश्वगंधा(Ashwagandha) जिसको भारतीय जिनसेंग भी कहा जाता है, 2500 से भी अधिक वर्षों से दवाइयों में इस्तेमाल किया जाता है। यह एक ऐसी जड़ी बूटी है जो शरीर को स्ट्रेस सहने के अनुकूल बना देती है। इसको मूल्यवान इसलिए भी कहा जाता है क्योंकि इसको थायरॉइड मोडयूलिंग, न्यूरोप्रोटेक्टिव, चिंता और तनाव खत्म करने वाला, डिप्रेशन घटाने वाला माना गया है। इसको रसायन की संज्ञा दी गई है जिसका अर्थ है यह शारीरिक और मानसिक रूप से जवान बना देता है।

आप दालचीनी & Dabur Chyawanprash के नुकसान बारे में भी पढ़ सकते हैं

1Ashwagandha Tablet Benefits in Hindi – अश्वगंधा टेबलेट्स के फायदे—

थाइरॉइड और कोलेस्ट्रॉल पर नियंत्रण

अश्वगंधा को दोनों प्रकार के थाइरॉइड से निपटने में मदद करता है। दिल की मांसपेशियों को मजबूती देकर कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर देता है।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन और प्रजनन क्षमता का इलाज

अश्वगंधा पुरुष हार्मोन के स्तर पर शक्तिशाली प्रभाव डालता है। यह इरेक्टाइल डिसफंक्शन का इलाज तो करता ही है साथ ही प्रजनन क्षमता को बढ़ाता है।

चिंता और तनाव को कम करना

यह चिंता और तनाव को कम करके मन शांत करता है। यह डिप्रेशन से लड़ने और जीवन शक्ति को सुधारने में सहायता करता है। इसके सीडेटिव और आराम देने वाले गुण अच्छी नींद को बढ़ावा देते हैं।

डायबिटीज से लड़ने में मदद

यह इन्सुलिन का स्त्राव करता है जिस वजह से बढ़ी हुई शुगर कम हो जाती है। मांसपेशियों के सेल्स में सुधरी हुई इन्सुलिन की संवेदनशीलता के कारण भी डायबिटीज नियंत्रण में रहती है।

प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा

अश्वगंधा लेने से खून में लाल, सफेद सेल्स और प्लेटलेट्स की बढ़ोतरी निश्चित है। यह उस नशे के प्रभाव को मिटाता है जोकि प्रतिरक्षा प्रणाली को दबा देते हैं, मजबूती प्रदान करता है और धैर्य में बढ़ोतरी करता है।

उद्वेग से बचाना

इसमे आक्षेप करने के गुण हैं जिस वजह से यह ऐंठन और उद्वेग के लिए उपयोग किया जाता है।

मांसपेशियों को मजबूती

जो लोग किसी भी प्रकार का व्यायाम करते हैं या फिर कोई प्रतिरोध प्रशिक्षण लेते हैं उनके लिए मांसपेशियों को मजबूत बनाने का एक साधन है।

एन्टी इंफ्लेमेटरी

यह संधिशोध की समस्याओं से लड़ने में भी बहुत प्रभावी है। यह जोड़ों की दर्द और सूजन जोकि अल्कालोइड्स, सैपोनिन्स और स्टेरॉइडल लैक्टोन्स की वजह से होती है को भी कम करने में मदद करता है।

Also Read: Baidyanath Shankhpushpi के नुकसान | Bhringrajasava के नुकसान

इन्फेक्शन से लड़ने में मदद

अश्वगंधा मनुष्यों में फंगल और पैसिटिक इन्फेक्शन्स, वायरल, बैक्टीरिया आदि पर नियंत्रण करने में बहुत प्रभावी है। यह यूरिनोजेनिटल, गैस्ट्रो इंटेस्टाइनल और रेस्पिरेटरी इन्फेक्शन्स का इलाज करने में भी मददगार है।

Previous articleAmway Vs GNC Whey Protein- 5 Differences You Must Know
Next articleArjunarishta in Hindi अर्जुनारिष्ट: स्वास्थ्य लाभ, उपयोग, खुराक, दुष्प्रभाव, मूल्य

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × 5 =