Breo Ellipta fayde nuksan in hindi

ब्रेयो-एल्लिपटा क्या है?

ब्रेयो-एल्लिपटा में मुख्य सामग्री के रूप में फ्लुटाइकसोन फ्यूरोएट जोकि सांस लेने वाले कॉर्टिकोस्टेरॉयड, और विल्लेटरोल जोकि एक लंबे समय तक प्रभाव डालने वाला बीटा 2-एड्रेरेनर्जिक एगोनिस्ट आदि होते हैं।

ब्रेयो-एल्लिपटा में संकेत है:

पुरानी अवरोधक फुफ्फुसीय बीमारी से पीड़ित रोगी

18 साल और उससे अधिक आयु के रोगियों में अस्थमा के उपचार के लिए

ब्रेयो-एल्लिपटा कैसे काम करता है?

ब्रेयो-एल्लिपटा में फ्लुटाइकसोन फ्युरोएट और विलेन्टरोल होता है।

  • फ्लुटाइकसोन एक कॉर्टिकोस्टेरॉयड है जो फेफड़ों के वायुमार्ग की सूजन को कम करता है और सांस लेना आसान बनाता है।
  • विलेन्टरोल लंबे समय तक प्रभाव डालने वाला बीटा-एगोनिस्ट है। यह फेफड़ों के वायुमार्ग को खोलने का काम करता है और सांस लेना आसान बनाता है।
इस दवा को खरीदें और 20% छूट प्राप्त करें: 1 एमजीमाइरा मेडिसिन

ब्रेयो-एल्लिपटा कैसे लें?

  • ब्रेयो-एल्लिपटा की खुराक और लेने का तरीका आपकी उम्र, स्थिति की गंभीरता, शारीरिक स्वास्थ्य और चिकित्सा के प्रति प्रतिक्रिया पर निर्भर होता है।
  • ब्रेयो-एल्लिपटा केवल मुंह द्वारा इनहेलेशन के लिए है।
  • ब्रेयो-एल्लिपटा एक विशेष इनहेलर डिवाइस के साथ पाउडर के रूप में मिलता है। जब भी रोगी इनहेलर का उपयोग करता है तो डिवाइस खुल जाता है और ब्रेयो-एल्लिपटा पाउडर की एक मात्रा अन्दर चली जाती है।
  • आपको इनहेलर डिवाइस के साथ दिए गए दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए।
  • ब्रेयो-एल्लिपटा को डॉक्टर की सहमति के बिना खुद से नहीं लेना चाहिए।

ब्रेयो-एल्लिपटा की सामान्य खुराक

18 वर्ष या उससे अधिक उम्र के वयस्कों के लिए ब्रेयो-एल्लिपटा की निम्न खुराक है:

और पढो: बस्परकैल्शियम ग्लुकोनेट

सी.ओ.पी.डी.

ब्रेयो-एल्लिपटा 100/25 एम.सी.जी.- रोजाना एक बार इनहेलेशन

ब्रेयो-एल्लिपटा 200/25 एम.सी.जी.- सूचना नहीं है

दमा

ब्रेयो-एल्लिपटा 100/25 एम.सी.जी.- रोजाना एक बार इनहेलेशन

ब्रेयो-एल्लिपटा 200/25 एम.सी.जी.- रोजाना एक बार इनहेलेशन

ब्रेयो-एल्लिपटा से कब बचें?

ब्रेयो-एल्लिपटा को सावधानी से उपयोग करना चाहिए:

  • यदि आपको फ्लूटिकासोन फ्युरोएट, विलेन्टरोल या इसके किसी भी घटक से एलर्जी से हो
  • दूध और प्रोटीन की गंभीर अतिसंवेदनशीलता वाले मरीज़
  • अस्थमात्मक या अस्थमा के अन्य प्राथमिक उपचार में।
  • सांस की समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए ब्रेयो-एल्लिपटा का उपयोग न करें।
  • ब्रेयो-एल्लिपटा का इस्तेमाल बच्चों और किशोरों में नहीं किया जाना चाहिए।

ब्रेयो-एल्लिपटा के दुष्प्रभाव

इसके उपयोगों के अलावा ब्रेयो-एल्लिपटा से कुछ साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं जिसमें निम्न हो सकते हैं:

सी.ओ.पी.डी रोगियों में –

नासोफैरिंजिसिस, ऊपरी श्वसन पथ का संक्रमण, सिरदर्द, मौखिक फंगल संक्रमण, पीठ दर्द, निमोनिया, ब्रोंकाइटिस, साइनसिसिटिस, खांसी, मुंह या गले में दर्द, शरीर में दर्द, जोड़ों में दर्द, उच्च-रक्तचाप, सर्दी और खांसी, फेरींगिटिस और बुखार।

अस्थमा रोगियों में –

सबसे आम प्रतिकूल प्रतिक्रियाएं नासोफैरिंजिसिस, मौखिक फंगल संक्रमण, सिर-दर्द, इन्फ्लूएंजा, ऊपरी श्वसन पथ का संक्रमण, ब्रोंकाइटिस, साइनसिसिटिस, मुंह या गले में दर्द, बोलने में कठिनाई और खांसी है।

अन्य दुष्प्रभावों में निम्न हैं –

दिल पर प्रभाव: रक्तचाप में वृद्धि, तेज या अनियमित दिल की धड़कन, छाती में दर्द।

तंत्रिका तंत्र पर प्रभाव: कंपकंपी, घबराहट।

हड्डी पतली या कमजोर होना।

ग्लूकोमा और मोतियाबिंद सहित आंख की समस्याएं।

रक्त मूल्यों में परिवर्तन: उच्च रक्त शर्करा और कम पोटेशियम

बच्चों की वृद्धि में धीमापन

अंगों पर प्रभाव

गुर्दे और जिगर के रोगों से पीड़ित मरीजों को ब्रेयो-एल्लिपटा की खुराक की जरूरत नहीं है।

एलर्जी प्रतिक्रियाओं

ब्रेयो-एल्लिपटा से होने वाली कई एलर्जी प्रतिक्रियाओं की सूचना मिली है। यदि आपको इसके किसी भी तत्व से एलर्जी है तो अपने डॉक्टर को सूचित करें।

एलर्जी प्रतिक्रिया के लक्षणों में निम्न हो सकते हैं:

  • त्वचा पर चकत्ते या खुजली
  • साँसों की कमी
  • चेहरे, होंठ, जीभ या गले की सूजन
  • बेहोशी
  • एंजियोएडेमा (त्वचा के नीचे दर्द रहित सूजन)

दवा इंटरैक्शन के बारे में सावधानी

बड़ी संख्या में दवाओं को एक दूसरे के साथ प्रभाव डालते देखा गया है। इसलिए रोगी को ब्रेयो-एल्लिपटा का उपयोग करते समय अपने द्वारा किये जाने वाले सभी काउंटर उत्पादों या विटामिन की खुराक के बारे में भी डॉक्टर को सूचित करना चाहिए| सभी इंटरैक्शन करने वाली दवाओं को यहां सूचीबद्ध नहीं किया जा सकता लेकिन ब्रेयो-एल्लिपटा के साथ प्रभाव डालने वाली कुछ महत्वपूर्ण दवाएं नीचे सूचीबद्ध हैं:

  • केटोकोनाजोल
  • मोनोमाइन ऑक्सीडेस अवरोधक और ट्रीसाइक्लिक एंटी-डीप्रेसेंट
  • बीटा-अवरोधक
  • मूत्रल
  • लंबे समय तक बीटा 2-एड्रेरेनर्जिक एगोनिस्ट युक्त दवा के अतिरिक्त संयोजन का उपयोग न करें|
  • ब्रो-एल्लिपटाके साथ इन सभी उत्पादों का उपयोग इन दवाइयों के चिकित्सीय प्रभाव को प्रभावित कर सकता है और साइड इफेक्ट्स की संभावनाओं को बढ़ा सकता है। इस प्रकार दवाओं के साथ ब्रेयो-एल्लिपटा लेने के लिए इस दवा के प्रतिस्थापन की आवश्यकता हो सकती है।

प्रभाव या परिणाम

  • ब्रेयो-एल्लिपटा द्वारा अपने प्रभाव को दिखाने के लिए लिया गया समय इसके इच्छित उपयोग पर निर्भर करता है।
  • लक्षण गायब होने के बावजूद भी आपको अपने डॉक्टर द्वारा तय की गयी एक पूरी खुराक लेनी चाहिए।

सामान्य प्रश्न

क्या ब्रेयो-एल्लिपटा नशे की लत है?

ऐसी कोई सूचना नहीं मिली है।

क्या शराब के साथ ब्रो-एल्लिपटा ले सकते हैं?

ब्रो-एल्लिपटा लेने के दौरान शराब पीना अच्छा नहीं है। लेकिन इससे पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।

क्या किसी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?

किसी भी खाद्य उत्पाद के साथ इसे लेने पर कोई बदलाव नहीं देखा गया।

क्या गर्भवती होने पर ब्रो-एल्लिपटा ले सकते हैं?

गर्भावस्था के दौरान ब्रेयो-एल्लिपटा  लेने की सलाह नहीं दी जाती| यदि आप गर्भवती हैं या गर्भवती होने की योजना बना रही हैं तो अपने डॉक्टर से सलाह लें।

क्या बच्चे को स्तनपान कराने के दौरान ब्रेयो-एल्लिपटा ले सकते हैं?

स्तनपान कराने के दौरान ब्रेयो-एल्लिपटा लेने की सलाह नहीं दी जाती क्योंकि यह दवा स्तन के दूध में गुजरती है और बच्चे को नुकसान पहुंचा सकती है।

क्या ब्रेयो-एल्लिपटा लेने के बाद ड्राइव कर सकते हैं?

ब्रेयो-एल्लिपटा से होने वाले दुष्प्रभावों में कंपकंपी, घबराहट और रक्तचाप में वृद्धि आदि प्रमुख हैं| इसलिए यह आपकी ड्राइव करने की क्षमता को प्रभावित करता है।

यदि ब्रेयो-एल्लिपटा अधिक मात्रा में लें तो क्या होता है?

ब्रेयो-एल्लिपटा को तय की गयी खुराक से ज्यादा नहीं लेना चाहिए। अधिक दवा लेने से या बार बार लेने से गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं। यदि गलती से ज्यादा खुराक ले ली हो तो  तुरंत डॉक्टर से सलाह लें|

यदि एक्सपायरी हो चुकी ब्रेयो-एल्लिपटा  लें तो क्या होगा?

एक्सपायरी हो चुकी ब्रेयो-एल्लिपटा  की एक खुराक से कोई बड़ा प्रतिकूल प्रभाव नहीं होता लेकिन दवा की शक्ति कम हो सकती है। इसलिए यदि आपने ऐसी दवा को लम्बे समय तक लिया हैतो कृपया अपने चिकित्सक को सूचना दें|

अगर ब्रेयो-एल्लिपटा की खुराक लेनी याद ना रहे तो क्या होता है?

यदि आपको इसकी खुराक लेनी याद ना रहे तो यह दवा अच्छी तरह से काम नहीं कर सकती क्योंकि प्रभावी रूप से काम करने के लिए आपके शरीर में हर समय दवा की एक निश्चित मात्रा मौजूद होनी चाहिए, इसलिए यदि आप खुराक लेना भूल गए हैं, तो जितनी जल्दी हो सके इसे लें। लेकिन यदि दूसरी खुराक लेने का समय हो गया हो तो दुगुनी खुराक न लें।

ब्रेयो-एल्लिपटा का भंडारण

  • इसे सीधी गर्मी और नमी से दूर ठन्डे और सूखे स्थान पर रखें|
  • दवा को फ्रीज में ना रखें|
  • इसे बच्चों और पालतू जानवरों से दूर रखें।

ब्रेयो-एल्लिपटा लेते समय टिप्स

ब्रो-एल्लिपटा मुंह के फंगल संक्रमण का कारण बन सकता है। श्वास के साथ खींचने के बाद इसके जोखिम को कम करने के लिए रोगी को पानी के साथ बिना पानी निगले कुल्ला करने के लिए सलाह दी जाती है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × two =