Bronchitis in Hindi

ब्रोंकाइटिस को ब्रोन्कियल ट्यूबों की सूजन भी कहा जाता है, जो वायु मार्गों को ट्रेकेआ से छोटे वायुमार्गों और अलवेली तक बढ़ जाते हैं| यह आम तौर पर तंबाकू के धुएं, धूल और वायु प्रदूषण जैसी फेफड़ों को परेशान करने वाली चीजों में सांस लेने या वायरस के कारण होता है। बैक्टीरिया भी कभी-कभी एक्यूट ब्रोंकाइटिस का कारण बनता है। एक्यूट ब्रोंकाइटिस बहुत आम है। इसके लक्षण आमतौर पर ऊपरी श्वसन संक्रमण (अपर रेस्पिरेटरी इन्फेक्शन) के 3 से 4 दिन बाद शुरू होते हैं और दो या तीन हफ्ते बाद गायब हो जाते हैं। इसके इलावा क्रोनिक ब्रोंकाइटिस, सीओपीडी के दो सबसे आम रूपों में से एक है| यह बदलने योग्य नहीं है और अक्सर बार-बार होने लगता है।

ब्रोंक्स में सूजन से साल भर में 1000 में से 1000 वयस्कों को प्रभावित करती है और 82% से अधिक घटनाएँ पतझड़ या सर्दियों में होती है। ब्रोंकाइटिस महिलाओं से ज्यादा पुरुषों को प्रभावित करता है। लेकिन यह सभी आयु के लोगों को होता है| एक्यूट ब्रोंकाइटिस अक्सर 5 साल से कम उम्र के बच्चों में भी पाया जाता है, जबकि क्रोनिक ब्रोंकाइटिस 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को ज्यादा  होता है। एक्यूट ब्रोंकाइटिस आमतौर पर 10 से 12 दिनों के भीतर चला जाता है, लेकिन अगर 10 दिनों के बाद खांसी में सुधार नहीं हो या यह स्थिति 20 दिनों से ज्यादा समय तक रहे तो आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए| यदि आप वास्तव में असहज हैं या मेहनत करने के बाद भी सो नहीं सकते, आपको खांसी के साथ सीने में दर्द होता है या सांस लेने में कठिनाई होती है या आपको 100.4 डिग्री फ़ारेनहाइट से ज्यादा बुखार होता है।

यदि आपको गाढ़ी बलगम वाली खांसी और सांस की तकलीफ है, तो आप ब्रोंकाइटिस से पीड़ित हो सकते हैं। इसलिए अपने डॉक्टर से सलाह लें।

 और पढो: एमिलॉयडोसिस लक्षणएन्यूरीसिम लक्षण

ब्रोंकाइटिस शरीर को कैसे प्रभावित करता है?

ब्रोंकाइटिस के कारण ब्रोंकी लाइन वाली कोशिकाएं संक्रमित हो जाती हैं। यह इन्फेक्शन आमतौर पर नाक या गले से शुरू होता है और ब्रोन्कियल ट्यूबों तक जाता है। जब शरीर इस इन्फेक्शन से लड़ने की कोशिश करता है तो यह ब्रोन्कियल ट्यूबों में सूजन हो जाती है। यह खांसी का कारण बनता है। कभी-कभी यह सूखी खांसी होती है, लेकिन अक्सर यह बलगम वाली (शुक्राणु) खांसी होती है| सूजन की वजह से कम हवा ब्रोन्कियल ट्यूबों से पारित होने  में सक्षम होती है जिससे  घरघराहट, छाती की कठोरता और सांस की तकलीफ पैदा हो सकती है। आखिरकार प्रतिरक्षा प्रणाली संक्रमण से लड़ती है। एक्यूट ब्रोंकाइटिस आमतौर पर 3 से 10 दिनों तक रहता है। लेकिन इन्फेक्शन ज्यादा होने पर यह  खांसी और बलगम (स्पुतम) बनना कई हफ्तों तक चल सकता है।

ब्रोंक्स में सूजन के के दौरान ब्रोन्कियल-अस्तर के ऊतकों की कोशिकाओं में परेशानी होती हैं| जिसके कारण वायु मार्ग में गंदगी और जलन बढ़ जाती है। बलगम के रुका हुआ रिसाव विकसित होता है, जो ब्रोंकाइटिस की खांसी का कारण बनता है।

ब्रोंकाइटिस के कारण क्या हैं?

एक्यूट ब्रोंकाइटिस वायरस के कारण होता है| आमतौर पर यही वायरस सर्दी और फ्लू (इन्फ्लूएंजा) का कारण बनता है। क्रोनिक ब्रोंकाइटिस का सबसे आम कारण सिगरेट पीना है। पर्यावरण या काम करने की जगह पर वायु प्रदूषण और धूल या विषैली गैस भी इस स्थिति में योगदान दे सकती है।

ब्रोंकाइटिस के खतरे के लिए क्या कारक हैं?

ब्रोंकाइटिस के सामान्य खतरे के लिए निम्न कारक ज़िम्मेदार हैं:

  • सर्दी या एक्यूट ब्रोंकाइटिस वाले किसी व्यक्ति से संपर्क ना रखें|
  • उम्र के अनुसार टीकाकरण (शॉट्स) करवाने में विफलता
  • तंबाकू का धुआं, धुएं, धूल और वायु प्रदूषण की वजह से
 और पढो: बुलीमिया लक्षण | कोलेरा लक्षण

ब्रोंकाइटिस के लक्षण क्या हैं?

ब्रोंकाइटिस के लक्षणों में निम्न हो सकते हैं:

  • खांसी (सबसे आम लक्षण)
  • बलगम बनना (साफ़, पीला, हरा, या यहां तक ​​कि खून जैसा)
  • बुखार (असामान्य; खांसी के साथ, इन्फ्लूएंजा या निमोनिया)
  • मतली, उल्टी और दस्त (दुर्लभ)
  • सामान्य मलिनता और सीने में दर्द (गंभीर मामलों में)
  • डिस्पने और साइनोसिस (केवल अंतर्निहित क्रोनिक अवरोधक फुफ्फुसीय बीमारी [सीओपीडी] या किसी अन्य स्थिति के साथ देखा जाता है जो फेफड़ों के काम को कम करता है)
  • गले में खरास
  • चलने वाली या भरी नाक
  • सरदर्द
  • मांसपेशी में दर्द
  • अत्यधिक थकान

ब्रोंकाइटिस को कैसे पहचाना जाता है?

निम्नलिखित प्रयोगशाला जांचों से ब्रोंकाइटिस पहचाना जा सकता है:

  • छाती का एक्स-रे – यदि आपको बुखार है या था तो यह निमोनिया हो सकता है।
  • स्पुटम कल्चर – यदि लक्षण गंभीर हैं तो डॉक्टर को खांसी (स्पुतम) के बलगम का नमूना दें| प्रयोगशाला की जांच ही बता सकती है कि यह एक संक्रामक जीवाणु इन्फेक्शन है।
  • स्पाइरोमेट्री – यह फेफड़ों के काम का परीक्षण करता है। यह नापता है कि फेफड़े कितनी हवा ले सकते हैं और आप इसे कितनी जल्दी उड़ा सकते हैं। यह परीक्षण डॉक्टर को यह पता लगाने में मदद कर सकता है कि कहीं ब्रोन्काइटिस के साथ अस्थमा या दूसरी सांस लेने की समस्या तो नहीं है।
  • कम्पलीट ब्लड काउंट (सीबीसी)
  • स्पुटम साइटोलॉजी (यदि खांसी लगातार है)
  • ब्लड कल्चर (यदि जीवाणु की अतिसंवेदनशीलता पर संदेह है)
  • चेस्ट रेडियोग्राफी (यदि रोगी बुजुर्ग है)
  • ब्रोंकोस्कोपी (तपेदिक, ट्यूमर, और अन्य पुरानी बीमारियों को बाहर करने के लिए)
  • इन्फ्लूएंजा टेस्ट
  • लैरींगोस्कोपी (एपिग्लोटाइटिस को बाहर करने के लिए)

ब्रोंकाइटिस को कैसे रोकें और नियंत्रित करें?

इन का पालन करके ब्रोंकाइटिस को रोका जा सकता है:

  • धूम्रपान से बचें
  • साफ़ वातावरण में रहें
  • हर साल अक्टूबर और दिसंबर के बीच इन्फ्लूएंजा का टीका लगवाएं
  • 65 साल से ज्यादा उम्र के या पुरानी बीमारी वाले हर 5 से 10 साल में निमोनिया टीका लगवाएं|

ब्रोंकाइटिस का उपचार

ब्रोंकाइटिस का आमतौर पर निम्न दवाओं से इलाज किया जाता है:

सेंट्रल कफ स्प्रेस्सेंट – एक्यूट और पुराने ब्रोंकाइटिस में खांसी के लक्षण

ब्रोंकोडाइलेटर  – क्रोनिक ब्रोंकाइटिस वाले स्थिर रोगियों में ब्रोंकोस्पस्म, सांस लेने में तकलीफ और क्रोनिक खांसी पर नियंत्रण, लंबे समय से अभिनय बीटा-एगोनिस्ट प्लस सांस वाली कॉर्टिकोस्टेरॉयड भी पुरानी खांसी को नियंत्रित करने के लिए पेश किया जा सकता है

नॉनस्टेरोइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी मेडिसिन (NSAIDs) – एक्यूट ब्रोंकाइटिस के लक्षणों का उपचार, हल्के से मध्यम दर्द सहित

एंटी-टूस्सिव/ एक्स्पेक्टोरेंट्स – खांसी, सांस लेने में कष्ट और घरघराहट का इलाज़

म्यूकोलिटिक्स – विशेष रूप से सर्दी में मध्यम से गंभीर सीओपीडी का प्रबंधन

ब्रोंकाइटिस – जीवन शैली के टिप्स

ब्रोंकाइटिस के लक्षणों को कम करने के लिए जीवनशैली में निम्न बदलाव किए जाने चाहिए:

  • धूम्रपान न करें और फेफड़ों को परेशान करने वाली किसी भी चीज की सांस लेने से बचें।
  • घर की हवा को नम रखें
  • आम से ज्यादा तरल पदार्थ पियें|
  • ज्यादा ठंडी और गरम हवा से बचें|
  • जितना हो सके उतना आराम करें|

ब्रोंकाइटिस वाले व्यक्ति के लिए क्या व्यायाम हैं?

व्यायाम से ब्रोंकाइटिस के लक्षणों को कम नहीं किया जा सकता है। लेकिन यदि सावधानी से किया जाए तो एक्यूट ब्रोंकाइटिस से ठीक होने वाले लोगों के लिए नियमित शारीरिक व्यायाम करने की सलाह दी जाती है। यदि सांस लेने में तकलीफ, घरघराहट या खांसी अनियंत्रित हो या चक्कर आयें  तो व्यायाम बंद कर देना चाहिए।

ब्रोंकाइटिस और गर्भावस्था – जानने योग्य बातें

ज्यादातर महिलाओं में गंभीर परेशानियों का विकास होने की संभावना नहीं है। इससे होने वाली खतरों में निम्न हो सकते हैं:

  • सांस लेने में कठिनाई – ब्रोंकाइटिस के कारण ब्रोन्कियल दीवारों में सूजन से फेफड़ों में ऑक्सीजन का अप्रभावी सेवन होता है। यह शरीर को ऑक्सीजन से वंचित कर देता है जिससे जरूरी स्तर से भी कम सांस लेते हैं और गर्भ में जरूरी ऑक्सीजन को कम कर देते हैं।
  • बढ़टे गर्भ को नुकसान पहुंचाने वाली दवाएं – ब्रोंकाइटिस में एंटीबायोटिक दवाओं और अन्य शक्तिशाली दवाओं से उपचार की जरूरत हो सकती है। लेकिन ये बढ़ते हुए भ्रूण के लिए हानिकारक हैं। इसलिए, डॉक्टर ब्रोंकाइटिस के इलाज के लिए अच्छे आराम और सावधानी की सलाह देते हैं।
  • निमोनिया – कई बार ब्रोंकाइटिस में कम ग्रेड का बुखार होता है। जब तापमान बढ़ता है तो बढ़ते बच्चे को ज्यादा खतरा होता है| यदि आप में निमोनिया के लक्षण हैं तो आपको तेज़ बुखार हो सकता है। निमोनिया से शक्तिशाली दवाओं की जरूरत बच्चों में एक बड़े खतरे का कारण हो सकती है।

इसके अलावा, यदि आपको बुखार है तो आप पर्याप्त तरल पदार्थ नहीं लेते| यह निर्जलीकरण का कारण बनता है और इससे संकुचन होता है| बुखार से जुड़ा ब्रोंकाइटिस भी बच्चे को स्पाइना बिफिडा (4) और कुछ मामलों में मौत जैसी गंभीर मुश्किलों के खतरे में डाल सकता है।

ब्रोंकाइटिस से संबंधित सामान्य परेशानियाँ

ब्रोक्स में सूजन की वजह से निमोनिया सबसे आम परेशानी है। यह तब होता है जब इन्फेक्शन फेफड़ों में फैलता है जिससे फेफड़ों के अंदर छोटी हवा की थैली तरल पदार्थ से भर जाती है। ब्रोंकाइटिस के 20 मामलों में से 1 मामलों निमोनिया का होता है।

ब्रोंकाइटिस के बारे में सामान्य प्रश्न

ब्रोंकाइटिस कैसे होता है?

ब्रोंकाइटिस फेफड़ों के रास्ते में सूजन के कारण होता है इसलिए इस बीमारी के सबसे महत्वपूर्ण लक्षणों में सांस लेने में कठिनाई होना मुख्य हैं| यह भी महसूस होता है कि वायुमार्ग में बड़ी मात्रा में बलगम या कफ है। खांसी, सीने में असुविधा, थकान और मामूली बुखार ब्रोंकाइटिस के अन्य लक्षण हैं।

क्या बुखार के बिना ब्रोंकाइटिस हो सकता है?

बुखार और थकान इस बीमारी के दो मुख्य लक्षण हैं। ब्रोंकाइटिस से होने वाला बुखार आमतौर पर निचले दर्जे का होता है। यदि तेज़ बुखार (100.4 डिग्री फ़ारेनहाइट या 38 डिग्री सेल्सियस से अधिक) हो, सर्दी, कंधे और सीने में दर्द और अन्य लक्षणों का अनुभव हो तो डॉक्टर से सलाह लें|

क्या किसी और से ब्रोंकाइटिस हो सकता है?

जी हां, ब्रोंकाइटिस इन्फेक्शन से हो सकता है लेकिन तभी जब यह वायरस या बैक्टीरिया के कारण होता है। जब कोई व्यक्ति छींकता, खांसी या बात करता है तो ये संक्रामक जीव बूंदों के द्वारा एक व्यक्ति से दूसरे में फैल सकते हैं।

📢 Hungry for more deals? Visit CashKaro stores for best cashback deals & online products to save up to ₹15,000 per month. Download the app - Android & iOS to get free ₹25 bonus Cashback!
Previous articleकेएससीओ कस्टमर केयर नंबर, शिकायत और हेल्पलाइन – कानपुर विद्युत आपूर्ति कंपनी लिमिटेड
Next articleAmazon India Customer Care Numbers In Hindi अमेज़ॅन इंडिया कस्टमर केयर नंबर: अमेज़ॅन इंडिया टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर और कांटेक्ट नंबर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ten − 3 =