Buspar fayde nuksan in hindi

बस्पर क्या है?

  • बस्पर एक एंटी-एंग्जायटी दवा है जो मस्तिष्क में कुछ रासायनिक घटकों की गतिविधि को संशोधित करने का काम करता है।
  • बस्पर में सक्रिय घटक के रूप में बसपिरोन हाइड्रोक्लोराइड पाया जाता है और यह मुंह द्वारा लेने के लिए टैबलेट के रूप में मिलता है।
  • बस्पर को चिंता-विकारों, तनाव, चिड़चिड़ापन, भय, झुकाव जैसे लक्षणों से थोड़े समय के लिए राहत पाने के लिए प्रयोग किया जाता है।

बस्पर कैसे काम करता है

बस्पर में बसपिरोन सक्रिय घटक के रूप में होता है। बसपिरोन मस्तिष्क में कुछ न्यूरोट्रांसमीटर के स्तर को बदलने का काम करता है जो असंतुलित हो जाते हैं और चिंता का कारण बनते हैं|

इस दवा को खरीदें और 20% छूट प्राप्त करें: नेटमेड्सप्रैक्टो

बस्पर कैसे लें?

  • बस्पर मुंह द्वारा लेने के लिए टैबलेट के रूप में (5 एम.जी., 10 एम.जी., 15 एम.जी. और 30 एम.जी.) उपलब्ध है।
  • बस्पर को भोजन के साथ या बिना भी लिया जा सकता है लेकिन रोजाना इसे लेना महत्वपूर्ण है ताकि दवा की अवशोषित होने वाली मात्रा समान हो।
  • बस्पर टैबलेट को आवश्यकता के अनुसार प्रत्येक खुराक थोड़ी मात्रा में लेने के लिए आप 2 या 3 भागों में विभाजित कर सकते हैं।
  • इसकी खुराक ज्यादा या डॉक्टर की सहमति के बिना लंबे समय तक उपयोग न करें।
  • लक्षणों में सुधार या बदतर होने के मामले में तुरंत डॉक्टर से बात करें|
  • बस्पर को अचानक लेना बंद ना करें| इसकी खुराक धीरे-धीरे कम करके फिर बंद कर देनी चाहिए। अचानक दवा को रोकने से लक्षण बिगड़ सकते हैं|
Read More: breo ellipta benefits in hindicalcium gluconate benefits in hindi

सामान्य खुराक और बस्पर कब लें?

  • बस्पर की तय की गयी खुराक और लेने का तरीका रोगी की उम्र और बीमारी की गंभीरता पर निर्भर करता है।
  • बस्पर की प्रारंभिक खुराक- रोजाना 15 मि.ग्रा. है। इसे दिन में तीन बार 5 मि.ग्रा. टैबलेट या दिन में दो बार 7.5 मि.ग्रा. टैबलेट के रूप में लिया जा सकता है।
  • इसकी दैनिक खुराक हर 2 से 3 दिनों में 5 मि.ग्रा. तक बढ़ाया जा सकता है। बस्पर की अधिकतम खुराक रोजाना 60 मि.ग्रा. है।
  • बाल रोगियों के लिए प्रारंभिक खुराक रोजाना 2.5 मि.ग्रा. से 10 मि.ग्रा. है।
  • बुजुर्गों और जिगर या गुर्दे की बीमारियों से ग्रस्त मरीजों में खुराक के समायोजन की आवश्यकता होती है।

बस्पर से कब बचें?

बस्पर का उपयोग सावधानी के साथ करना चाहिए यदि:

  • इसके किसी भी घटक से एलर्जी हो
  • जिगर या गुर्दे की समस्या वाले लोग
  • एम.ए.ओ. अवरोधक दवाएं लेने वाले मरीज
  • चुनिंदा सेरोटोनिन री-अपटेक इनहिबिटर ले रहे मरीज़
  • मायास्थेनिया ग्रेविस जैसे मांसपेशियों की समस्याओं वाले मरीज़
  • गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताए

बस्पर के साइड इफेक्ट्स

बस्पर से कुछ दुष्प्रभाव पैदा हो सकते हैं लेकिन वे सभी मरीजों में आम नहीं होते| इससे होने वाले दुष्प्रभावों में निम्न हो सकते हैं:

  • आलसपन
  • चक्कर आना
  • जी मिचलाना
  • उल्टी
  • मुँह सूखना
  • अनिद्रा
  • घबराहट
  • उलझन
  • दुर्बलता
  • दृष्टि धुंधलाना
  • दुर्बलता
  • सर-दर्द
  • कम्पन
  • चकत्ते

अंगों पर प्रभाव

जिगर और गुर्दे की बीमारी वाले मरीजों को सावधानी से और डॉक्टर की सलाह से बस्पर लेना चाहिए।

एलर्जी प्रतिक्रियाएं

यदि आपको इसके किसी भी तत्व से एलर्जी है तो अपने डॉक्टर से कहें। बस्पर से एलर्जी होने पर निम्न लक्षण दिखाई दे सकते हैं:

  • लाल चकत्ते
  • सीने में जकड़न
  • खुजली
  • साँसों की कमी
  • चेहरे, होंठ, जीभ या गले की सूजन।

दवा इंटरैक्शन के बारे में सावधानी

बड़ी संख्या में दवाओं को एक-दूसरे पर प्रभाव डालते देखा गया है। इसलिए रोगी को अपने चिकित्सक को सभी दवाओं या काउंटर उत्पादों या विटामिन की खुराक के बारे में अपने डॉक्टर को सूचित करना चाहिए। बस्पर  के साथ किसी भी अन्य दवा को लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें। सभी इंटरैक्शन वाली दवाओं को यहां सूचीबद्ध नहीं किया जा सकता| लेकिन कुछ प्रभाव डालने वाले उत्पाद निम्न हो सकते हैं:

  • शराब
  • सिमेटिडाइन
  • एम.ए.ओ. अवरोधक
  • डायजेपाम
  • अल्प्राजोलम
  • ऐमिट्रिप्टिलाइन
  • वेरापामिल
  • इरीथ्रोमाइसीन
  • इटराकोनाजोल

बस्पर के साथ इन सभी दवाओं का उपयोग करने से इन दवाइयों के चिकित्सीय प्रभाव हो सकते हैं और कई साइड इफेक्ट्स की संभावनाओं को बढ़ा सकता है।

प्रभाव या परिणाम

  • बस्पर को हमेशा कम समय के लिए लिया जाना चाहिए। डॉक्टर की सलाह के बिना इसे 4 सप्ताह से अधिक समय तक न लें।
  • यहां तक ​​कि यदि लक्षण गायब भी हो जाते हैं तब भी इसे तब तक लेते रहना चाहिए जब तक कि ठीक होने के लक्षण पैदा ना हो जाएं।

क्या बस्पर नशे की लत है?

ऐसी कोई प्रवृत्ति नहीं देखी गई है।

क्या शराब के साथ बस्पर ले सकते हैं?

बस्पर के साथ शराब लेने से बचना ही सही है। इस दवा के साथ शराब का सीमित उपयोग करने के बारे में अपने डॉक्टर से सलाह लें। इस दवा के साथ शराब लेने से अत्यधिक उनींदापन और अशांति जैसे प्रभाव हो सकते हैं|

क्या किसी भी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?

बस्पर लेने के दौरान अंगूर का फल और अंगूर के फलों का रस लेने से बचें क्योंकि इससे रक्त प्रवाह में बसिप्रोन की एकाग्रता बढ़ सकती है।

क्या गर्भवती होने पर मुझे बस्पर ले सकते हैं?

यदि आप गर्भवती हैं या गर्भवती होने की योजना बना रहे हैं तो बस्पर  लेना सुरक्षित नहीं है। इस दवा को लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें क्योंकि यह भ्रूण पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। इसलिए बस्पर का उपयोग केवल तभी करना चाहिए जब भ्रूण को हानि का जोखिम ना हो|

क्या बच्चे को स्तनपान कराने के दौरान बस्पर ले सकते हैं?

होने के लिए जानी जाती है| स्तनपान कराने के दौरान बस्पर  लेने से बचना बहुत जरूरी है क्योंकि यह ज्ञात नही है कि यह दवा मां के दूध में विसर्जित होती है या नहीं।

क्या बस्पर लेने के बाद ड्राइव कर सकते हैं?

बस्पर लेने के दौरान आपको उनींदापन, चक्कर आना, सिरदर्द या कोई भी दुष्प्रभाव हो सकता है इसलिए इसे लेने के बाद भारी मशीनरी चलाना या ड्राइव करना सुरक्षित नहीं है।

यदि बस्पर अधिक मात्रा में लें तो क्या होता है?

बस्पर को अधिक मात्रा में लेने से आपके लक्षणों में सुधार नहीं होगा| यह चक्कर आना, मतली, उल्टी, और दस्त जैसे गंभीर दुष्प्रभाव भी पैदा कर सकता है। इसलिए इसे अधिक मात्रा में लेने के बारे में तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह लें।

यदि एक्सपायरी हो चुकी बस्पर लें तो क्या होगा?

यदि गलती से आप एक्सपायरी हो चुकी बस्पर  की एक खुराक लेते हैं तो नुकसान की संभावना बहुत ही कम होती है। इसलिए इसे लेने से पहले हमेशा लेबल पर बताई गयी एक्सपायरी तिथि की जांच करें|

यदि बस्पर की खुराक लेनी याद ना रहे तो क्या होता है?

यह दवा अच्छी तरह से काम नहीं कर सकती क्योंकि दवा को प्रभावी रूप से काम करने के लिए आपके शरीर में हर समय दवा की एक निश्चित मात्रा मौजूद होनी चाहिए। कृपया अपने चिकित्सक को इसके बारे में सूचित करें। इसलिए जैसे ही आपको भूली हुई दवा की याद आये तुरंत इसका उपयोग करें। लेकिन दूसरी खुराक का  समय हो गया हो तो दोगुनी खुराक ना लें|

बस्पर का भंडारण

  • इसे कमरे के तापमान पर सीधी गर्मी और प्रकाश से बचाकर रखें|
  • बच्चों और पालतू जानवरों से इस दवा को दूर रखें।

बस्पर लेते समय टिप्स:

  • चिंता के लक्षणों को रोकने के लिए बस्पर को नियमित रूप से लेना चाहिए|

गंभीर हेपेटिक और गुर्दे की बीमारी वाले मरीजों को इसके उपयोग की सलाह नहीं दी जाती|

Previous articleब्रो-एल्लिपटा (Breo Ellipta in hindi): उपयोग, खुराक, मूल्य, साइड इफेक्ट्स, सावधानियां
Next articleकैल्शियम ग्लुकोनेट (Calcium Gluconate in hindi): उपयोग, खुराक, मूल्य, साइड इफेक्ट्स, सावधानियां

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

13 − eleven =