Chronic Obstructive Pulmonary Disease in Hindi

सीओपीडी को एम्फीसिमा या पुराना ब्रोंकाइटिस भी कहा जाता है। सीओपीडी वायुमार्ग में बाधा वाली  एक प्रगतिशील और ना बदलने वाली बीमारी है। सिगरेट या धूम्रपान करना इसका सबसे मजबूत खतरा है और सीओपीडी रोगियों को धूम्रपान बंद करना पहली प्राथमिकता है।

यह एक प्रकार का अवरोधक फेफड़ों की बीमारी (ऑब्सट्रकटिव लंग डीसीज) है जिसकी लम्बे समय तक सांस की समस्याओं और खराब वायुमार्ग एक विशेषता है। सीओपीडी के मुख्य लक्षणों में शुक्राणु उत्पादन के साथ सांस में कमी और खांसी हो सकती है इसके इलावा रोजमर्रा की गतिविधियां, जैसे चलना या तैयार होना मुश्किल हो जाता है।

2015 में किए गए एक अध्ययन के अनुसार सीओपीडी ने विश्व की आबादी के 174.5 मिलियन लोगों को प्रभावित किया है| सीओपीडी आमतौर पर 40 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में होता है और पुरुष व् महिलाएं दोनों समान रूप से प्रभावित होते हैं। इसके कारण 1990 में 2.4 मिलियन मौतों की तुलना में 3.2 मिलियन मौतें हुईं। विकासशील देशों में धूम्रपान की ऊँची दरों और कई देशों में बुढ़ापे के कारण मृत्यु की संख्या में और वृद्धि हुई है।

 और पढो: सिस्टिक फाइब्रोसिस in hindi

क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मनरी रोग (सीओपीडी) आपके शरीर को कैसे प्रभावित करता है?

सीओपीडी सांस की नली की सूजन का कारण होता है जो अस्थमा से अलग होता है। यह सूजन वायुमार्ग को प्रभावित करती है, जिसके कारण (एम्फिसीमा) के विनाश से वायुमार्ग का संकुचन और फाइब्रोसिस और फेफड़ों का विनाश होता है। इन बदलावों के कारण वायुमार्ग बंद हो जाता है, जिससे विशेष रूप से गतिशील हाइपरिनफ्लेशन होता है। यह सीओपीडी के लक्षण हैं जो व्यायाम और अभ्यास करने पर सांस की तकलीफ की हो जाती है।

क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मनरी रोग (सीओपीडी) के क्या कारण हैं?

तंबाकू और धूम्रपान इसका सबसे आम कारण है| वायु प्रदूषण और जेनेटिक्स कारण भी इसके लिए  एक छोटी सी भूमिका निभाते हैं|

क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मनरी रोग (सीओपीडी) के लिए खतरा बनने वाले कारक क्या हैं?

तंबाकू धूम्रपान से एक्सपोजर – सीओपीडी का सबसे ज्यादा खतरा धूम्रपान करने वालों को होता है, साथ ही लोगों को धुएं की वजह से भी बड़ी मात्रा में होता है।

धूम्रपान करने वाले अस्थमा वाले लोग – उनमे भी सीओपीडी का खतरा बढ़ जाता है।

धूल और रसायनों से व्यावसायिक संपर्क – काम करने की जगह पर रासायनिक धुआं, वाष्प और धूल की वजह से फेफड़ों को नुक्सान हो सकता है।

आयु – कम से कम 40 साल के लोग सीओपीडी से ज्यादा प्रभावित होते हैं क्योंकि यह स्थिति वर्षों में विकसित होती है।

जेनेटिक्स – अल्फा-1-एंटीट्रिप्सिन की कमी सीओपीडी का कारण है।

क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी रोग (सीओपीडी) के क्या लक्षण हैं?

क्रोनिक ब्रोंकाइटिस लगातार दो साल तक और कम से कम तीन महीने तक खांसी और बलगम  (स्पुटम) के बनने का कारण बनता है। सीओपीडी के अन्य लक्षणों में निम्न हो सकते हैं:

 और पढो: चिकनगुनिया in hindiपिंकऑय in hindi
  • सांस की तकलीफ खासकर शारीरिक गतिविधियों के दौरान
  • घरघराहट
  • सीने में जकड़न
  • स्पष्ट, सफेद, पीले या हरे रंग का बलगम (स्पुटम) वाली पुरानी खांसी
  • होंठों या नाखूनों का नीलापन (साइनोसिस)
  • बार बार होने वाला सांस का संक्रमण
  • ताकत की कमी
  • वजन घटना
  • एड़ियों या पैरों में सूजन

क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी रोग (सीओपीडी) का निदान कैसे किया जाता है?

लंग्स फ़ंक्शन टेस्ट – ये जांच हवा की मात्रा को नापते हैं जो बताते हैं कि कितनी सांस लेते या निकालते हैं और यदि आपके फेफड़े खून को पर्याप्त ऑक्सीजन दे रहे हैं या नहीं।

स्पाइरोमेट्री – फेफड़ों के काम करने के ढंग के लिए यह सबसे आम जांच है| जहां स्पिरोमीटर नामक छोटी मशीन से जुड़ी बड़ी सी ट्यूब में फूंक मारने के लिए कहा जाता है। यह नापता है कि फेफड़े कितनी हवा पकड़ सकते हैं और आप फेफड़ों से हवा को कितनी तेजी से निकाल सकते हैं।

एंटरियल ब्लड गैस टेस्ट – इसमें खून में ऑक्सीजन के स्तर को नापने के लिए धमनियों से खून का नमूना लेना होता है। यह सीओपीडी या शायद कोई अन्य स्थिति जैसे अस्थमा या दिल का दौरा  आदि|

चेस्ट एक्स-रे – यह जांच सीएफडीडी के मुख्य कारणों में एक एम्फिसीमा दिख सकता है और अन्य फेफड़ों की समस्याओं या दिल के दौरे को भी रद्द किया जा सकता है।

क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी रोग (सीओपीडी) को कैसे रोकें और नियंत्रित करें?

इससे धूम्रपान की दरों में कमी और वायु को अंदर लेने और निकालने की गुणवत्ता में सुधार करके सीओपीडी को रोका जा सकता है।

क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी रोग (सीओपीडी) का उपचार – एलोपैथिक उपचार

ज्यादा गंभीर बीमारी वाले लोगों में  फेफड़ों के प्रत्यारोपण या फेफड़ों की सर्जरी सहित शल्य चिकित्सा जिसमें फेफड़ों के हिस्सों को हटाना भी शामिल होता है, जिसको एम्फिसीमा हानि पहुंचाते हैं।

उपयोग की जाने वाली दवाएं-

शॉर्ट-एक्टिंग ब्रोंकोडाइलेटर – यह दवा सांस लेने को आसान बनाने के लिए वायुमार्गों को खोलने में मदद करती है। अल्ब्यूरोल (वोस्पायर ईआर), लीवलब्युरोलोल (एक्सपेनेक्स), आईप्रेट्रोपियम (एट्रोवेन्ट), अल्ब्यूरोल / आईप्रेट्रोपियम (संयोजक) ब्रोंकोडाइलेटर के उदाहरण हैं।

कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स – कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स शरीर की सूजन को कम करने में मदद करता है, जिससे फेफड़ों में हवा का बहाव आसान हो जाता है। फ्लूतीकेसोन (फ्लोवेंट), बुडेप्रेडनिसोलोन सोनिड (पुल्मिकॉर्ट), प्रेडनिसोलोन जैसे कॉर्टिकोस्टेरॉइड इस्तेमाल किये जाते हैं|

मेथिलक्सैंथिन – यह दवा एक थियोफाइललाइन है जो एंटी-इंफ्लेमेटरी दवा के रूप में काम करती है और वायुमार्ग की मांसपेशियों को आराम देती है।

रोफ्लुमिलास्ट – यह एक फॉस्फोडाइस्टेरेस-4 अवरोधक है जो सूजन से छुटकारा पाने में मदद करता है और आपके फेफड़ों में हवा के बहाव को बेहतर बना सकता है।

क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी रोग (सीओपीडी) का उपचार – होम्योपैथिक उपचार

अस्पिडोस्परमा – यह दवा श्वसन केंद्रों को उत्तेजित करके खून के ऑक्सीकरण की अस्थायी बाधा को हटा देती है और इसे फेफड़ों का टॉनिक माना जाता है।

ब्रायोनिया अल्बा – यह रात में बुरी तरह से आने वाली सूखी खांसी के लिए है।

कोका – यह दवा ज्यादा उम्र के खिलाड़ियों और शराबियों के लिए उपयोगी है।

नेप्थालाइन – यह अस्थमा के ज्यादा उम्र के एम्फिसीमा के लिए उपयोगी है।

सेनेगा – जब छाती की मांसपेशियों में बहुत ज्यादा डिस्पन और तेज संवेदनात्मक दर्द होता है तो इस दवा का उपयोग किया जाता है|

लोबेलिया – सीओपीडी की वजह से जब उल्टी के साथ खांसी आती है तो यह दवा ली जाती है|

एंटीमोनियम आर्स – यह बहुत ज्यादा सांस और खांसी के साथ बहुत ज्यादा बलगम के आने के लिए है।

क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी रोग (सीओपीडी) – जीवन शैली के टिप्स

  • ज्यादा कुशलता से सांस लें।
  • बहुत सारा पानी पीने से खांसी को नियंत्रित और एक ह्यूमिडीफायर का उपयोग करके सांस लेने के रास्ते को साफ़ रखें|
  • नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • पौष्टिक भोजन खाएं।
  • धूम्रपान और वायु प्रदूषण से बचें।

क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी रोग (सीओपीडी) वाले व्यक्ति के लिए क्या एक्सरसाइज हैं?

10 से 15 मिनट के लिए थोड़ा सा अभ्यास हर रोज़ आपको मजबूत रहने में मदद करता है।

क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी रोग (सीओपीडी) और गर्भावस्था – जानने के लिए बातें

  • गर्भावस्था के दौरान ब्रोंकाइटिस खतरनाक होता है जिसके कारण थकान बढ़ती है और ऊर्जा को गर्भ से दूर ले जाती है|
  • गर्भावस्था के दौरान कार्डियोस्पिरेटरी प्रणाली प्रभावित होती है क्योंकि ऊपरी वायुमार्ग के बढ़ते बलगम के स्राव की वजह से नाक में बाधा होती है और कभी-कभी एपिस्टैक्सिस होता है।

क्रोनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी रोग (सीओपीडी) से संबंधित सामान्य परेशानियां

  • सांस की प्रणाली में संक्रमण
  • हृदय की समस्याएं
  • फेफड़ों का कैंसर
  • फेफड़ों की धमनियों में उच्च रक्तचाप
  • डिप्रेशन

सामान्य प्रश्न

मैं कैसे जान सकता हूं कि मुझे सीओपीडी है या नहीं?

शुरुआत में सीओपीडी का पता लगाने के लिए सबसे अच्छा परीक्षण सांस का परीक्षण है जिसे स्पाइरोमेट्री कहा जाता है।

स्पाइरोमेट्री क्या है?

स्पाइरोमेट्री फेफड़ों से निकलने वाली हवा की मात्रा को नापता है और स्पाइरोमीटर कहे जाने वाले डिवाइस का उपयोग करके पता लगता है कि आप कितनी तेजी से इसे उड़ा सकते हैं।

यदि मैं धूम्रपान करता हूं और मेरा डॉक्टर मेरे फेफड़ों की आवाज़ सुनता है और छाती के एक्स-रे के लिए कहता है तो क्या अभी भी स्पाइरोमेट्री होना जरूरी है?

हां, क्योंकि स्पाइरोमेट्री सीओपीडी के शुरुआती चरण को पहचान सकती है जहां छाती का एक्स-रे और अन्य परीक्षण नहीं हो सकते|

📢 Hungry for more deals? Visit CashKaro stores for best cashback deals & online products to save up to ₹15,000 per month. Download the app - Android & iOS to get free ₹25 bonus Cashback!
Previous articleKojivit: Uses, Dosage, Side Effects, Price, Composition & 20 FAQs
Next articleकंजक्टिवाइटिस (Conjunctivitis in Hindi): लक्षण, कारण, निदान और उपचार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

9 − 6 =