Crocin in Hindi क्रोसिन: उपयोग, फायदे, खुराक, साइड इफेक्ट्स, सावधानियां

0
41705

crocin fayde nuksan in hindi

1Crocin and Its Uses in Hindi – क्रोसिन क्या है और इसके उपयोग?

  • क्रोसिन में मुख्य घटक के रूप में पेरासिटामोल होता है।
  • यह बुखार, दांत के दर्द, स्त्री रोग के दर्द, ऑस्टियो-आर्थराइटिस और सिर के दर्द वाले मरीजों के लिए है।
  • इसे विशेष रूप से बच्चों में बुखार के लिए सबसे अच्छी दवा माना जाता है|
  • पेट की जलन के लिए यह एस्पिरिन से कहीं ज्यादा सुरक्षित दवाई है| यह खून बहने का समय को भी नहीं बढाती|
  • इससे होने वाली एलर्जी प्रतिक्रियाएं दुर्लभ हैं और इनका उपयोग सभी आयु वर्ग के लोगों बुजुर्गों, शिशुओं, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं में भी किया जा सकता है जिन्हें की एस्प्रिन की मनाही होती है|

इसको महत्वपूर्ण दवाओं के साथ लेने पर कोई प्रभाव नहीं है। इसलिए इसे मामूली स्थितियों में भी एस्पिरिन के ऊपर प्राथमिकता दी जाती है।

इस दवा को खरीदें और 20% छूट प्राप्त करें: नेटमेड्स|पिनहेल्थ

2How Crocin Works in Hindi – क्रोसिन कैसे काम करती है?

क्रोसिन साइक्लो-ऑक्सीजनेज (सीओएक्स) एंजाइमों के प्रभाव को रोकने का काम करता है। वैसे तो ये एंजाइम हमारे शरीर में स्वाभाविक रूप से मौजूद होते हैं और वे रसायनों (प्रोस्टाग्लैंडिन) के उत्पादन में सहायक होते हैं जो चोट की जगह पर दर्द, सूजन और लाली के जिम्मेदार होते हैं।

इसलिए इन एंजाइमों के प्रभाव के रुकने की वजह से प्रोस्टाग्लैंडिन का उत्पादन भी रुक जाता है जिसकी वजह से  दर्द में आराम के साथ साथ त्वचा में रक्त प्रवाह, गर्मी की कमी और पसीना बढने लगता है।

3How to Take Crocin in Hindi – क्रोसिन कैसे लें?

  • क्रोसिन गोलियों और सस्पेंशन दोनों ही रूपों में मिलता है।
  • इन गोलियों को डॉक्टर के निर्देश पर मुंह से पानी के साथ ले सकते हैं| यह गोलियां भोजन के साथ या भोजन के बाद ही ली जानी चाहिए लेकिन खाली पेट कभी भी इनका सेवन ना करें|
  • इन गोलियों को कभी भी कुचलकर या चबाकर ना खाएं|
  • इस दवा को समान रूप से लेने के लिए तरल को अच्छी तरह हिला लें| दवा के सही खुराक लेने के लिए नापने वाले चम्मच का प्रयोग करें।
  • इस दवा को लेने से पहले फार्मासिस्ट द्वारा दिए गये सूचना पत्रक को पढ़े और प्रश्नों को अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से पूछें|
और पढो:सेफ्टम 500|सिप्कल 500|एविल

4Crocin Common Dosage in Hindi – क्रोसिन की सामान्य खुराक

इस दवा की खुराक और लेने का तरीका चिकित्सक निम्न बैटन को ध्यान में रखकर तय करता है:

 

  • रोगी की आयु और उसके शरीर का वजन
  • रोगी के स्वास्थ्य की स्थिति और चिकित्सा की स्थिति
  • रोग की गंभीरता
  • पहली खुराक लेने पर प्रतिक्रिया
  • एलर्जी और दवा की प्रतिक्रियाओं का इतिहास

इन गोलियों के लिए उपलब्ध संयोजन हैं:

पैरासिटामोल 500 मि.ग्रा., 625 मि.ग्रा.

सिरप के लिए –

प्रत्येक 5 मि.ली. में पैरासिटामोल 120 मि.ग्रा.।

सावधानियां – क्रोसिन से कब बचें?

जिगर की विषाक्तता के कारण समय से पूर्व पैदा हुए शिशुओं (<2 किलोग्राम) को क्रोसिन नहीं देनी चाहिए।

यदि क्रोसिन में मौजूद किसी घटक से एलर्जी हो|

यदि जिगर या गुर्दे की बीमारी से पीड़ित हो|

क्रोसिन का उपयोग करने से बचना चाहिए यदि आपने पहले क्रोसिन लिया हो और आप अस्थमा के दौरे से पीड़ित हुए हों, नाक की जलन, चेहरे पर सूजन, त्वचा पर खुजली वाले दाने या पेट में खून बहा हो|

यदि दिल की बीमारी, हार्ट फेल और स्ट्रोक की समस्या हो|

यदि शराब का उपयोग करें|

Also Read in English: About Crocin 

5Crocin Side-Effects in Hindi – क्रोसिन के दुष्प्रभाव

  • जब क्रोसिन की (पैरासिटामोल युक्त) उचित खुराक का उपयोग किया जाए (अधिकतम 4 ग्रा. प्रति 24 एच की खुराक) तो गंभीर दुष्प्रभाव नहीं देखे जाते  हालांकि इस खुराक या दवा को लेने बाद कुछ साइड इफेक्ट्स के रूप में जिगर में हो सकते हैं।
  • ज्यादा लम्बे समय तक इसे लेने से गुर्दे के क्रियाकलाप में विकार, उच्च रक्तचाप, दिल की धडकन का अनियमित होना, जिगर की विषाक्तता, पीलिया, और अल्कोहल लेने के कारण हुई जिगर की क्षति में वृद्धि होती है।
Also Read: Clavam 625 के फायदे | Clindamycin Phosphate Gel के फायदे

6Crocin Effects on organs in Hindi – अंगों पर प्रभाव

यदि आप जिगर, दिल या गुर्दे की बीमारी से पीड़ित हैं तो क्रोसिन को डॉक्टर से पूछकर ही लें|

इस तरह के मामलों में खुराक को उचित मात्रा में लेना और जिगर व् गुर्दे की निगरानी करना अनिवार्य है।

Also Read: Cobadex Forte के फायदे | Cremaffin के फायदे | Dexorange खुराक

7Crocin Allergic Reactions in Hindi – एलर्जी प्रतिक्रियाएं

इससे होने वाली एलर्जी प्रतिक्रियाएं निम्न हैं:

  • घरघराहट
  • सांस लेने में कठिनाई
  • उल्टी
  • त्वचा पर चकत्ते और खुजली
  • होंठ और मुंह पर दर्दनाक घाव

8Crocin Drug Interactions in Hindi – ड्रग इंटरैक्शन के बारे में सावधानी

सभी इंटरैक्शन वाली दवाओं को यहां सूचीबद्ध नहीं किया जा सकता इसलिए यह सलाह दी जाती है कि रोगी को अपने चिकित्सक को अपने द्वारा उपयोग की जाने वाली सभी दवाओं और उत्पादों के बारे में सूचना देनी चाहिए| मनुष्यों में क्रोसिन की खुराक की वजह से कोई गंभीर प्रभाव नहीं होता| यदि आप वारफारिन (रक्त पतला) या केटोकोनाज़ोल (एंटी-फंगल दवा) जैसी दवाइयां उपयोग कर रहे हैं तो अपने चिकित्सक को इस बारे में बताएं| अपने द्वारा लिए जाने वाले उन हर्बल उत्पादों के बारे में भी डॉक्टर को अवश्य बताएं| बिना अपने डॉक्टर की मंजूरी के दवा के किसी भी नियम में कोई भी फेरबदल ना करें|

और पढो:एलेग्रा|डाफलॉन|सिप्लॉक्स 500

9Crocin Effects/Results in Hindi – प्रभाव और परिणाम

क्रोसिन को मुंह द्वारा लेने के लगभग 1 घंटे बाद यह अपना प्रभाव दिखाती है| इसलिए अगली खुराक लेने से पहले 4 घंटे इंतजार करें|

10Crocin Storage in Hindi – क्रोसिन का संग्रहण

क्रोसिन को 25 डिग्री सेल्सियस से नीचे और सीधे प्रकाश और गर्मी से दूर रखना चाहिए|

11Crocin Tips for Taking in Hindi – क्रोसिन लेते समय टिप्स

यदि आप क्रोसिन की टैबलेट या पेरासिटामोल से एलर्जी हैं तो अपने डॉक्टर को बताएं|

अधिक मात्रा में इसे लेने पर गैस्ट्रिक जलन, कमजोर-म्यूकोसल क्षरण और रक्तस्राव भी होता है। यह प्लेटलेट के फ़ंक्शन को प्रभावित नहीं करता|

इस दवा की 2 खुराकोंमें कम से कम 4 घंटे का समय रखें।

12सामन्य प्रश्न – क्रोसिन के बारे में जाने

क्या क्रोसिन नशे की लत है?

नहीं

क्या शराब के साथ क्रॉसिन ले सकते हैं?

नहीं। पुराने शराबियों को जिगर की क्षति का खतरा रहता है।

क्या किसी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?

नहीं

क्या गर्भवती होने पर क्रोसिन ली जा सकती है?

  • पेरासिटामोल गर्भावस्था में सुरक्षित मानी जाती है लेकिन यदि आप गर्भवती हैं तो अपने डॉक्टर को इसकी सूचना दें|
  • गर्भावस्था के दौरान मां यदि पैरासिटामोल का उपयोग करे तो बच्चे में अस्थमा का कारण बनता है|

क्या बच्चे को स्तनपान कराने के दौरान क्रोसिन ले सकते हैं?

यदि आप बच्चे को स्तनपान करा रही हैं तो इसकी सूचना अपने डॉक्टर को दें|

क्रॉसिन में मौजूद पेरासिटामोल स्तन के दूध में अवशोषित होता है।

क्या क्रोसिन लेने के बाद ड्राइव कर सकते हैं?

यदि क्रोसिन टैबलेट लेने के बाद चक्कर आना, नींद महसूस होना आदि लक्ष्ण हों तो ड्राइविंग से बचना चाहिए।

यदि क्रोसिन अधिक मात्रा में लें तो क्या होता है?

  • यदि अधिक मात्रा में इस दवा को लिया जाता है तो तुरंत अपने चिकित्सक से संपर्क करें।
  • पेरासिटामोल को अधिक मात्रा में लेने से यह जानलेवा जिगर की क्षति का कारण बनता है जो इसका सबसे गंभीर दुष्प्रभाव है।
  • इसके शुरुआती लक्षणों में मतली, उल्टी, पेट का दर्द, पसीना आना और सामान्य थकावट हो सकते हैं|
  • इस वजह से गुर्दे की क्षति, प्लेटलेट की गिनती में कमी और कोमा में जाना जैसे दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं|

यदि एक्सपायरी दवा ले ली जाए तो क्या होता है?

किसी भी प्रतिकूल घटना को पैदा करने के लिए एक्सपायरी हो चुकी क्रोसिन की एक खुराक से कोई फर्क नही पड़ता| लेकिन यदि इसे लेने के बाद आप अस्वस्थ या बीमार महसूस करें  तो कृपया चिकित्सक से सलाह लें। एक्सपायरी दवा उतनी ही शक्तिशाली नहीं होती इसलिए इस दवा के उपयोग से बचना चाहिए|

यदि क्रोसिन की खुराक लेनी याद ना रहे तो क्या होता है?

यदि क्रोसिन की खुराक लेनी याद ना रहे तो दवा प्रकार काम नहीं करती क्योंकि दवा के प्रभावी रूप से काम करने के लिए शरीर में दवा की निश्चित मात्रा हमेशा रहनी चाहिए। इसलिए जैसे ही आपको भूली हुई खुराक याद आये तुरंत उसका सेवन करें| यदि दूसरी खुराक का समय हो गया हो तो दुगुनी खुराक ना लें|

क्रोसिन कब बनाई गयी थी?

पेरासिटामोल को 1955  में मैकनील लेबोरेटरीज द्वारा फार्माकोलॉजिकल मार्केट में अपने व्यापारिक नाम टायलोनोल चिल्ड्रन एलिक्सीर के नाम से एनाल्जेसिक और एंटीप्रेट्रिक दवा के रूप में पेश किया गया था|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eight − six =