Dashmularishta in Hindi दशमूलारिष्ट: लाभ, उपयोग, खुराक, दुष्प्रभाव, मूल्य

Dashmularishta in Hindi दशमूलारिष्ट: लाभ, उपयोग, खुराक, दुष्प्रभाव, मूल्य

What is Dashmularishta in Hindi-दशमूलारिष्ट क्या है?

दशमूलारिष्ट एक आयुर्वेदिक औषधि है जो दस शक्तिशाली औषधीय जड़ी बूटियों से तैयार की जाती है। इसके नाम का अर्थ “दशा” मतलब दस और “मूल” मतलब “जड़ें”। यह एक स्वास्थ्य टॉनिक है जो एक पेन रिलीवर के रूप में काम करता है| इसमें 3% से 7% अल्कोहल होती है जिसे जड़ी बूटियों के फर्मेंटेशन से तैयार किया जाता है। यह आमतौर पर महिलाओं को डिलीवरी के बाद दिया जाता है जिससे महिलाओं का स्वास्थ्य अच्छा हो सके|


Dashmularishta Benefits in Hindi-दशमूलारिष्ट के फायदे

भूख बढ़ाने में मदद करता है

बच्चे को जन्म देने के बाद महिला भूख और बदहजमी के नुकसान का अनुभव करती है। दशमूलारिष्ट(Dashmularishta) में पाचन बढाने के गुण होते हैं जो भूख बढ़ाने में मदद करता है और बदहजमी को कम करता है।

प्रसव के बुखार को कम करता है

दशमूलारिष्ट उन मामलों में सहायक होता है जहां एक महिला जिसने बच्चा दिया है उसे बुखार आ रहा है। प्रसव के बाद उच्च और निम्न ग्रेड का बुखार हो सकता है। इसमें ऐसे गुण होते हैं जो हानिकारक बैक्टीरिया और रोगाणुओं से लड़ने में मदद करते हैं।

पाचन रोगों की देखभाल करता है

कई महिलाएं डिलीवरी के बाद से दस्त और आईबीएस जैसी पाचन समस्याओं का विकास करती हैं। दशमूलारिष्ट का सेवन करने से इस तरह की समस्याओं को कम करने में मदद मिलेगी क्योंकि इसमें हल्की कसैली क्रिया होती है।

शारीरिक शक्ति में सुधार करता है

जड़ी-बूटियों से भरपूर होने के नाते यह जीवन शक्ति देते हैं| दशमूलारिष्ट महिलाओं को शारीरिक रूप से बाद में मजबूत बनाने में मदद करता है। यह दर्द से आराम देने में भी मदद करता है और शारीरिक फिटनेस में सुधार करता है।

इम्युनिटी में सुधार करता है

दशमूलारिष्ट(Dashmularishta) में इम्युनोमोड्यूलेटर होता है जो जन्म देने के बाद महिलाओं में इम्युनिटी में सुधार करने में मदद करता है।

पीठ दर्द कम करता है

जब एक महिला जन्म देती है तो उसे पीठ में दर्द और पीठ में अकड़न की समस्या होती है। दर्द निवारक गुणों के कारण दशमूलारिष्ट पीठ की समस्याओं को कम करने में मदद करता है।


Dashmularishta Uses in Hindi-दशमूलारिष्ट के उपयोग

डिलीवरी के बाद थकान के लिए टॉनिक के रूप में काम करता है

दशमूलारिष्ट(Dashmularishta) डिलीवरी के बाद महिलाओं के मेटाबोलिज्म को बढ़ावा देने में मदद करता है। यह विटामिन और खनिजों में भरपूर है और शरीर को पोषक तत्वों में सुधार करता है। यह पाचन शक्ति को बढ़ाने में भी योगदान देता है और महिलाओं में कमजोरी और थकान को दूर करने में मदद करता है।

मानसिक तनाव से छुटकारा दिलाता है

दशमूलारिष्ट महिलाओं को मानसिक शक्ति देता है और उनके दिमाग और शरीर को मजबूत बनाता है। यह उनके मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए कायाकल्प का काम करता है।

त्वचा में सुधार करता है

दशमूलारिष्ट(Dashmularishta) त्वचा की रंगत को सुधारने में मदद करता है और त्वचा को एक प्राकृतिक चमक देता है। यह त्वचा पर मौजूद काले धब्बे, मुंहासे और काले घेरे को खत्म करने में मदद करता है।


How to use Dashmularishta in Hindi-दशमूलारिष्ट का उपयोग कैसे करें?

क्या इसे भोजन से पहले या बाद में लिया जा सकता है?

इस जड़ी बूटी के जबरदस्त प्रभाव का अनुभव करने के लिए भोजन के तुरंत बाद दिन में दो बार दशमूलारिष्ट लेना चाहिए।

क्या इसे खाली पेट लिया जा सकता है?

भोजन के तुरंत बाद दिन में दो बार दशमूलारिष्ट का लेना उचित है न कि खाली पेट।

क्या इसे पानी के साथ लेना चाहिए?

हां, दिन में दो बार दशमूलारिष्ट की 15 से 20 मि.ली. की मात्रा पानी के साथ लेनी चाहिए।

क्या इसे दूध के साथ लेना चाहिए?

दशमूलारिष्ट(Dashmularishta) को केवल पानी के साथ ही लेने की सलाह दी जाती है।

दशमूलारिष्ट लेते समय किन बातों से बचना चाहिए?

पानी के साथ दशमूलारिष्ट लेना चाहिए और इस दवा के दुष्प्रभाव से बचने के लिए इस जड़ी बूटी को ज्यादा मात्रा में लेने से बचना चाहिए।

नोट: दशमूलारिष्ट लेने से पहले किसी मेडिकल विशेषज्ञ से सलाह लें


Dashmularishta Dosage in Hindi-दश्मूलरिष्ट: खुराक

  • डिलीवरी के बाद महिला 15 मि.लि. दशमूलारिष्ट दिन में दो बार ले सकती है।
  • यदि महिला गंभीर कमजोरी से पीड़ित है तो खुराक को दिन में दो बार 30 मि.लि. तक बढ़ाया जा सकता है।
  • यह दवा भोजन के बाद लेनी चाहिए।
  • यदि कोई महिला कड़वे स्वाद का अनुभव करती है तो इसे पानी के साथ मिलाया जा सकता है।

महिलाओं को 15 से 20 मि.ली. या 4 चम्मच भोजन के तुरंत बाद पानी की बराबर मात्रा के साथ दिन में दो बार लेना चाहिए|


Dashmularishta Side-Effects in Hindi-दशमूलारिष्ट के साइड इफ़ेक्ट

दशमूलारिष्ट(Dashmularishta)लेने से कोई दुष्प्रभाव नहीं हैं लेकिन इस दवा को अधिक मात्रा में लेने से कुछ भी हो सकता है-

  • सीने की जलन
  • मुंह में छाले
  • प्यास ज्यादा लगना
  • जलन के साथ दस्त
  • पेट में जलन

कुछ मामलों में पानी के बिना इस दवा की ज्यादा खुराक मसालों के कारण बवासीर या कब्ज का कारण हो सकती है।


Harmful Interactions of Dashmularishta in Hindi-दशमूलारिष्ट का हानिकारक इंटरेक्शन

दशमूलारिष्ट(Dashmularishta) निम्न दवाओं के साथ आपस में क्रिया कर सकता है – एल्कालॉइड्स, एल्टेप्लेस, एंटी-प्लेटलेट ड्रग्स, एंटीकोगुलेंट्स, एंटीडिप्रेसेंट्स, एंटीथ्रॉम्बिन, एपिक्सैबन, आर्डीपेरिन, एर्गोब्रोबैन और एस्कॉर्बिक एसिड।


Precautions & Warnings of Dashmularishta in Hindi-दशमूलारिष्ट से सावधानी और चेतावनी

क्या गाड़ी चलाने से पहले इसे लिया जा सकता है?

यदि आपको उनींदापन, चक्कर आना, हाइपोटेंशन या सिरदर्द महसूस होता है तो इस दवा को लेने के बाद गाड़ी चलाने की ज़रूरत नहीं है।

क्या इसे शराब के साथ लिया जा सकता है?

नहीं, इसको पानी के साथ ही लेना चाहिए क्योंकि शराब के साथ इस दवा को लेने से उनींदापन और तेज हो सकता है।

क्या यह नशे की लत हो सकती है?

नहीं, यह नशे की दवा नहीं है।

क्या यह आपको मदहोश कर सकता है?

दशमूलारिष्ट(Dashmularishta) को उनींदापन से बचने के लिए तय की गयी खुराक से ज्यादा नहीं लेना चाहिए।

क्या दशमूलारिष्ट ज्यादा मात्रा में ले सकते हैं?

नहीं, दशमूलारिष्ट को ज्यादा मात्रा में लेने से विषाक्तता या गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं। आपको इस दवा की केवल निर्धारित खुराक ही लेनी चाहिए।


Important Questions asked about Dashmularishta in Hindi-दशमूलारिष्ट के बारे में पूछे गए महत्वपूर्ण प्रश्न

यह किस चीज़ से बना है?

दशमूलारिष्ट(Dashmularishta) 10 शक्तिशाली औषधीय जड़ी बूटियों का उपयोग करके तैयार किया जाता है। इसमें 3 से 7% अल्कोहल होती है और यह महिलाओं के लिए बेहद फायदेमंद है।

भंडारण

दशमूलारिष्ट को कमरे के तापमान पर एयर टाइट कंटेनर में गर्मी और सीधी रोशनी से दूर रखना चाहिए।

अपनी हालत में सुधार देखने तक मुझे कितने समय तक दशमूलारिष्ट का उपयोग करने की जरूरत होती है?

दशमूलारिष्ट(Dashmularishta) लेने का न्यूनतम समय 3 से 6 महीने है। आप इसे सख्त चिकित्सा के तहत ही लंबी अवधि के लिए उपयोग कर सकते हैं।

दशमूलारिष्ट को दिन में कितनी बार लेने की जरूरत है?

भोजन के बाद आप 15 से 20 मि.लि. दशमूलारिष्ट दिन में दो बार ले सकते हैं। चिकित्सा समस्याओं से बचने के लिए आपको एक दिन में 60 मि.लि. से ज्यादा आयुर्वेदिक दवा नहीं लेनी चाहिए।

क्या इससे स्तनपान कराने पर कोई प्रभाव पड़ता है?

दशमूलारिष्ट(Dashmularishta) को स्तनपान के दौरान लेने के लिए ‘सुरक्षित’ माना जाता है क्योंकि इससे स्तन के दूध की आपूर्ति बढ़ जाती है। लेकिन आपको इस स्थिति में इसका सेवन करने से पहले किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए।

क्या यह बच्चों के लिए सुरक्षित है?

नहीं, दशमूलारिष्ट 3 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए तय नहीं की गयी है। इस दवा की तय की गयी खुराक के बारे में जानने के लिए आपको किसी प्रमाणित डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

क्या गर्भावस्था पर इसका कोई प्रभाव पड़ता है?

किसी भी जटिलता से बचने के लिए गर्भावस्था के दौरान दशमूलारिष्ट का सेवन नहीं करना चाहिए। यदि आप गर्भावस्था के दौरान किसी बीमारी से पीड़ित हैं जिसका इलाज इस आयुर्वेदिक जड़ी बूटी की मदद से किया जा सकता है तो आपको इसे सख्त चिकित्सकीय देखरेख में ही लेना चाहिए।

क्या इसमें चीनी होती है?

हां, दशमूलारिष्ट में चीनी होती है।

क्या दशमूलारिष्ट गैस के लिए अच्छा है?

दशमूलारिष्ट(Dashmularishta) में हल्का कसैला होता है इसलिए यह पाचन संबंधी बीमारियों जैसे अपच, गैस और इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम को ठीक करने के लिए उपयोगी होता है।


Buyer’s Guide in Hindi-खरीदने के लिए गाइड- मूल्य और कहां से खरीदें

डाबर दशमूलारिष्ट – 450 मि.ली

सबसे अच्छी कीमत:

115 रुपये

कहॉ से खरीदें:

ब्रांड्स जो दशमूलारिष्ट बेचते हैं


Research on Dashmularishta in Hindi-दशमूलारिष्ट पर शोध

वर्ष 2016 में रिसर्चगेट द्वारा पब्लिश एक अध्ययन, जिसका शीर्षक “क्लिनिकल इवैलुएशन ऑफ़ दशमूलरिष्टा(आयुर्वेदिक सूत्रीकरण)” है, जो डिलीवरी के बाद महिलाओं के सामान्य स्वास्थ्य को बहाल करने के लिए है ’में कहा गया है कि दशमूलारिष्ट में प्रसव के बाद पीरियड्स के दर्द को कम करने के गुण होते हैं। यह गर्भाशय के क्लीन्ज़र के रूप में काम करता है और इसमें जीवन शक्ति बढ़ाने वाले गुण होते हैं जो प्रसव के बाद पीरियड में लाभकारी प्रभाव देते हैं।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × one =