Dementia in Hindi

डिमेंशिया मूल रूप से यादाश्त, सोच और सामाजिक क्षमताओं को प्रभावित करने वाले लक्षणों का एक समूह है जो दैनिक काम करने में हस्तक्षेप करने के लिए पर्याप्त है। यह कोई विशेष बीमारी नहीं है। डिमेंशिया भावनात्मक समस्याओं, भाषा की कठिनाइयों और प्रेरणा में कमी का कारण बन सकती है।

50% से 70% मामलों में अल्जाइमर रोग सबसे आम प्रकार का डिमेंशिया माना जाता है। अन्य प्रकार के डिमेंशिया में वेस्कुलर डिमेंशिया, लुई बॉडी डिमेंशिया और फ्रंटोटैम्पोरल डिमेंशिया आदि हैं। यह संभव है कि एक ही व्यक्ति में एक से ज्यादा प्रकार के डिमेंशिया मौजूद हो।

इसका निदान आमतौर पर अन्य कई कारणों को रद्द करने के लिए चिकित्सा इमेजिंग और रक्त की जांच वाली बीमारी और संज्ञानात्मक जांच के इतिहास पर आधारित होता है। डिमेंशिया के लिए कोई जाना माना इलाज नहीं है इस प्रकार देखभाल करने वाले को भावनात्मक समर्थन के बारे में शिक्षित करना महत्वपूर्ण है। दैनिक जीवन की गतिविधियों और उससे होने वाले परिणामों में सुधार के लिए व्यायाम फायदेमंद हो सकता है।

2015 में विश्व स्तर पर इस बीमारी ने 46 मिलियन लोगों को प्रभावित किया था। डिमेंशिया उम्र के साथ अधिक आम हो जाता है और 65 से 74 वर्ष की आयु के लगभग 3% लोगों में 75% लोगों को 84 के बीच, 9% लोगों को 85 वर्ष से अधिक उम्र में डिमेंशिया हो सकता है।

Read More: Depression in HindiDiphtheria in Hindi

डिमेंशिया शरीर को कैसे प्रभावित करता है?

डिमेंशिया के विभिन्न रूप शरीर को अलग-अलग तरह से प्रभावित करते हैं, लेकिन चाचे जैसे भी हो वे दिमाग को प्रभावित करते हैं। डिमेंशिया का सबसे आम रूप अल्जाइमर रोग है जो मस्तिष्क के ऊतकों और तंत्रिका कोशिकाओं के अपघटन का कारण बनता है। फ्रंटोटेम्पोरल डिमेंशिया तंत्रिका की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाता है लेकिन केवल मस्तिष्क के सामने और अस्थायी लोब में। ल्यूवी बॉडी डिमेंशिया मस्तिष्क में प्रोटीन के ज्यादा होने के कारण होता है जिसे ल्यूवी बॉडी कहा जाता है और वेस्कुलर डिमेंशिया धमनियों को प्रभावित करती है जो दिल से खून को मस्तिष्क में ले जाती है।

डिमेंशिया होने के क्या कारण हैं?

डिमेंशिया केवल एक बीमारी के बजाय बीमारियों का एक समूह है जो कई अलग-अलग प्रकार की डिमेंशिया की बीमारियों का कारण बन सकता है। इन कारणों का उल्लेख नीचे दिया गया है:

अल्जाइमर रोग के कारण – यह डिमेंशिया का सबसे आम प्रकार है। एमिलॉयड और तौ प्रोटीन का जमाव मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान पहुंछाता है|

वेस्कुलर रोग के कारण – यह मस्तिष्क में खून के बहाव को कम करने के कारण होता है क्योंकि तंत्रिका कोशिकाएं कम काम करती हैं और मर जाती हैं।

लुई बॉडीज वाले डिमेंशिया के कारण – लुई निकाय प्रोटीन का एक प्रकार है जो दिमाग में विकसित होने वाले सेल को कम करने और एक दूसरे के साथ संवाद करने के तरीके को नुकसान पहुंचा सकता है।

फ्रंटोटैम्पोरल डिमेंशिया के कारण – यह युवा लोगों में होता है और प्रोटीन की असामान्य रूप से इकठ्ठे होने के कारण होता है।

अन्य दुर्लभ कारण भी हैं जो डिमेंशिया का कारण बन सकते हैं।

डिमेंशिया के लिए खतरा बनने वाले कारक क्या हैं?

  • आयु – उम्र के साथ विशेष रूप से 65 के बाद डिमेंशिया का खतरा बढ़ जाता है। लेकिन युवा लोगों में भी हो सकता है।
  • पारिवारिक इतिहास – डिमेंशिया का पारिवारिक इतिहास स्थिति को विकसित करने के लिए अधिक खतरा बन सकता है।
  • डाउन सिंड्रोम – डाउन सिंड्रोम वाले लोगों में शुरुआत में अल्जाइमर रोग हो सकता है|
  • माइल्ड कोगनिटिव इमपेअरमेंट – लोगों को यादाश्त की कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है लेकिन दैनिक काम करने के किसी भी नुकसान के बिना डिमेंशिया का काफी खतरा रहता है|
  • शराब – शराब ज्यादा लेने से भी ज्यादा खतरा हो सकता है।
  • डिप्रेशन – अवसाद की वजह से डिमेंशिया का विकास हो सकता है।
  • मधुमेह – मधुमेह वाले मरीजों में डिमेंशिया का खतरा बढ़ सकता है खासकर यदि खराब नियंत्रित होता हो तो|
  • स्लीप एप्नेया – जो लोग खराटे लेते हैं और अक्सर नींद के दौरान सांस लेना रुक जाता है, उन्हें यादाश्त की हानि हो सकती है|
Read More:Epilepsy in Hindi

डिमेंशिया के लक्षण क्या हैं?

डिमेंशिया के लक्षणों में भूलना, सामाजिक कौशल में कमी और सोचने की खराब क्षमता है जो दैनिक कम करने में हस्तक्षेप करती है।

  • संज्ञानात्मक लक्षण – यादाश्त में कमी, शाम के समय में भ्रम, विचलन, बोलने या समझने में असमर्थता, चीजें बनाने, मानसिक भ्रम या सामान्य चीजों को पहचानने में असमर्थता।
  • व्यवहार संबंधी लक्षण – चिड़चिड़ापन, व्यक्तित्व में परिवर्तन, बेचैनी, संयम की कमी या घूमना और खो जाना।
  • मनोवैज्ञानिक लक्षण – डिप्रेशन, भेदभाव या परानोईया
  • मांसपेशियों के लक्षण – मांसपेशियों के काम करने में या चलने में असमर्थता।

डिमेंशिया का निदान कैसे किया जाता है?

डिमेंशिया के निदान की जरूरत कम से कम दो प्रकार के मानसिक कार्यों के लिए होता है जैसेकि  स्मृति, भाषा कौशल, ध्यान केंद्रित करने और ध्यान देने की क्षमता, तर्क की क्षमता और समस्या हल करने जैसे दैनिक जीवन के कामों में हस्तक्षेप करने के लिए अक्षम होना जरूरी है।

  • कोगनिटिव और न्यूरोप्सिओलॉजिकल परीक्षण – सोच (संज्ञानात्मक) के काम करने का मूल्यांकन करने के लिए कई परीक्षण किए जाते हैं जिनमें यादाश्त, तर्क और निर्णय, भाषा कौशल और ध्यान आदि|
  • न्यूरोलॉजिकल इवैल्यूएशन – यादाश्त, भाषा, नजर की धारणा, ध्यान, समस्या को सुलझाना, आंदोलन, इंद्रियों का संतुलन, प्रतिबिंब और अन्य कई मूल्यांकन करने के लिए यह जांच की जाती है|
  • ब्रेन स्कैन – सी.टी और एम.आर.आई स्कैन से स्ट्रोक या रक्तस्राव या ट्यूमर या हाइड्रोसेफलस की जांच कर सकते हैं।
  • पी.ई.टी स्कैन – यह स्कैन दिमाग की गतिविधि का पैटर्न दिखाता है, यदि अमीलाइड प्रोटीन दिमाग में जमा हो जो अल्जाइमर रोग का एक हॉलमार्क है|
  • खून की जांच – शारीरिक समस्याओं का पता लगाने के लिए जो दिमाग के काम को प्रभावित कर सकते हैं जैसे कि विटामिन बी-12 की कमी या थायराइड ग्रंथि।
  • मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन – यह तय करने के लिए कि डिप्रेशन या कोई अन्य मानसिक स्वास्थ्य स्थिति तो आपके लक्षणों में योगदान नहीं दे रही|

डिमेंशिया को कैसे रोकें और नियंत्रित करें?

  • मानसिक रूप से उत्तेजनात्मक गतिविधियां, जैसे पढ़ना, पहेली को हल करना, शब्द गेम खेलना और यादाश्त का प्रशिक्षण डिमेंशिया की शुरुआत में देरी कर सकती हैं और इसके प्रभाव को कम कर सकते हैं|
  • शारीरिक गतिविधि और सामाजिक बातचीत से डिमेंशिया की शुरुआत में देरी हो सकती है और इसके लक्षण कम हो सकते हैं।
  • अध्ययनों से पता चला है कि धूम्रपान डिमेंशिया और खून की नलियों (संवहनी) की स्थितियों के बढ़ते जोखिम से संबंधित होता है। इसलिए धूम्रपान से बचें विशेष रूप से किशोरों से|
  • खून में विटामिन-डी के निम्न स्तर वाले लोग अल्जाइमर और डिमेंशिया के अन्य रूपों को विकसित करने की ज्यादा संभावना रखते हैं। शरीर में कुछ खाद्य पदार्थ, पूरक और सूर्य के संपर्क के माध्यम से विटामिन-डी मिलाएं|
  • फल, सब्जियां, साबुत अनाज और ओमेगा -3 फैटी एसिड आमतौर पर मछली और नट्स वाले स्वस्थ आहार को बनाए रखें।

डिमेंशिया का उपचार – एलोपैथिक उपचार

दवाएं

कोलिनेस्टेस इन्हिबिटर्स – इनमें पेपेज़िल (अरिसप्ट), रिवास्टिग्माइन (एक्सेलॉन) और गैलांटमाइन (रज़ैडेन) होते हैं, यादाश्त और निर्णय में रासायनिक संदेशवाहक के स्तर को बढ़ावा देने का काम करता है। इन्हें अन्य प्रकार के डिमेंशिया के लिए भी दिया जा सकता है जिनमें वेस्कुलर डिमेंशिया, पार्किंसंस रोग डिमेंशिया और लेवी बॉडी डिमेंशिया हैं।

मेमंटिन – यह दवा ग्लूटामेट की गतिविधि को विनियमित करने का काम करती है, यह दिमाग के कामों के लिए एक और रासायनिक संदेशवाहक है जैसे सीखना और याद रखना |

इलाज़

ओकूपैशनल थेरेपी – इस चिकित्सा का उद्देश्य दुर्घटनाओं को रोकने के लिए होता है जैसे गिरना आदि| व्यवहार का प्रबंधन करें और डिमेंशिया की प्रगति के लिए तैयार करें।

कार्यों को संशोधित करना – कामों को आसान चरणों में बाँटें| इससे डिमेंशिया वाले लोगों में भ्रम को कम करने में भी मदद मिलती है।

डिमेंशिया का उपचार – होम्योपैथिक उपचार

नक्स वोमिका – इसका उपयोग डिमेंशिया के ऐसे मामलों में किया जाता है जहां रोगी दूसरों के शब्दों और कार्यों के प्रति बेहद संवेदनशील होता है और हमेशा ध्यान देने की मांग करता है।

मर्कुरिउस – यह डिमेंशिया वाले उन मरीजों को दिया जाता है जिनमे गंभीर मानसिकता विकसित होती है। यादाश्त काफी हद तक कमजोर हो जाती है और रोगी को नजर, अप्रिय गंध और लेपित जीभ की समस्याएं होती हैं।

इग्नाटिया – यह होम्योपैथिक दवा उन लोगों को दी जाती है जिनका मन ज्यादा संवेदनशील होता है, जिन्हें प्रेम संबंधों में विफलता के कारण अवसाद और दुःख होता है।

कैलकेरिया कार्ब – यह एक प्रभावी दवा है जो डिमेंशिया के लिए उपयोग की जाती है जहां मस्तिष्क और अन्य अंग ठीक से विकसित नहीं होते हैं। रोगी आमतौर पर कुछ सीखने में बहुत धीमा होता है।

लाइकोपोडियम – जब डिमेंशिया प्रभावित लोगों को बहुत निराशा का अनुभव होता है, निराश हो जाते हैं और लगातार खुद की चिंता करते हैं तो यह दवा निर्धारित की जाती है।

स्टेफिसग्रिया – नींद आने वाले डिमेंशिया के इलाज के लिए।

कैमोमिला – यह ज्यादा संवेदनशीलता वाले डिमेंशिया के इलाज करने के लिए है।

डिमेंशिया – जीवन शैली के टिप्स

  • दिमाग की चोट से बचें।
  • दिमाग की गतिविधि को बढ़ाएं|
  • संतुलित और स्वस्थ आहार खाएं|
  • अच्छी नींद लें|
  • कार्डियोवैस्कुलर स्वास्थ्य बनाए रखें।
  • धूम्रपान छोड़ दें|
  • सामाजिक रूप से व्यस्त रहें।
  • सामाजिक गतिविधियों में सक्रिय रहें।
  • अवसाद का इलाज करें।

डिमेंशिया वाले व्यक्ति के लिए क्या व्यायाम हैं?

डिमेंशिया वाले व्यक्ति के लिए निम्न व्यायाम की सिफारिश की जाती है:

  • चलना
  • साइकिल चलाना
  • एरोबिक्स
  • नृत्य

डिमेंशिया और गर्भावस्था – जानने योग्य बातें

डिमेंशिया और गर्भावस्था के बीच संबंधों पर अध्ययन अभी भी प्रक्रिया में है।

डिमेंशिया से संबंधित सामान्य परेशानियाँ

डिमेंशिया के कारण होने वाली कुछ सामान्य परेशानियों में से निम्न हैं:

  • अपर्याप्त पोषण।
  • निमोनिया।
  • अपनी देखभाल के कामों को करने में असमर्थता।
  • व्यक्तिगत सुरक्षा की चुनौतियां।
  • मौत

सामान्य प्रश्न

मैं चीजों को भूल रहा हूं, क्या मुझे अल्जाइमर है?

यह अल्जाइमर या डिमेंशिया का ही एक अन्य रूप नहीं है। डिमेंशिया में यादाश्त का नुक्सान होने से कभी-कभी चीजों को भूलना ज्यादा गंभीर हो जाता है उदाहरण के लिए पास की दुकान पर जाने के दौरान खो जाना।

क्या डिमेंशिया उम्र बढ़ने का एक प्राकृतिक हिस्सा है?

सिर्फ इसलिए कि डिमेंशिया लोगों को प्रभावित करता है क्योंकि वे बूढ़े हो जाते हैं, यह उम्र बढ़ने का सामान्य भाग नहीं है। दस बुजुर्गों में से नौ लोगों में डिमेंशिया विकसित नहीं होता।

क्या नारियल का तेल, जिन्सेंग, कैफीन, हरी चाय और अन्य जड़ी बूटियां डिमेंशिया को रोकने में मदद कर सकती हैं?

वर्तमान में इसका कोई निर्णायक सबूत नहीं है

📢 Hungry for more deals? Visit CashKaro stores for best cashback deals & online products to save up to ₹15,000 per month. Download the app - Android & iOS to get free ₹25 bonus Cashback!
Previous articleसिस्टिक फाइब्रोसिस (Cystic Fibrosis in Hindi): लक्षण, कारण, निदान और उपचार
Next articleडिप्रेशन (Depression in Hindi): लक्षण, कारण, निदान और उपचार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 + fourteen =