Ecosprin in Hindi इकोस्प्रिन: उपयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स, मूल्य, संरचना और 20 सामान्य प्रश्न

0
379

Ecosprin in Hindi इकोस्प्रिन: उपयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स, मूल्य, संरचना और 20 सामान्य प्रश्न

What is Ecosprin in Hindi-इकोस्प्रिन क्या है?

इकोस्प्रिन भारत में व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं में से एक है। यह मुख्य रूप से स्ट्रोक और कार्डियक अरेस्ट जैसी दिल की समस्याओं की रोकथाम के लिए उपयोग की जाती है। इसका उपयोग खून के पतले होने (एंटीकायगुलेंट) के गुणों के कारण किया जाता है। इसकी ज्यादा खुराक दोहराए जाने पर गैस्ट्रिक जलन या रक्तस्राव आदि दुष्प्रभाव हो सकते हैं| गैस्ट्रिक अल्सर, जिगर की बीमारियों और सर्जिकल प्रक्रियाओं से पहले इसे लेने से पूरी तरह से बचना चाहिए।

इकोस्प्रिन की संरचना – एस्पिरिन 75 मि.ग्रा
निर्मित – यूएसवी प्रा. लि.
प्रिस्क्रिप्शन – जरूरी नहीं
प्रपत्र – टेबलेट्स
मूल्य – 14 टेबलेट्स 4.55 रुपये में
एक्सपायरी – निर्माण की तारीख से 24 महीने तक
दवा का प्रकार – एनएसएआईडी और एंटी-कोगुलेंट

Also read in English About Ecosprin


Uses of Ecosprin in Hindi-इकोस्प्रिन के उपयोग

इकोस्प्रिन एक बहुउद्देश्यीय काम करता है क्योंकि यह एक थक्कारोधी (रक्त पतला करने वाला) है जो दर्द और सूजन के लिए भी काम करता है। इसका उपयोग निम्न स्थितियों की रोकथाम और उपचार के लिए किया जाता है:

  • मायोकार्डियल इन्फ्रक्शन: हृदय की मांसपेशियों में रूकावट से खून के बहाव में सुधार के लिए मायोकार्डियल इन्फ्रक्शन के मामलों में उपयोग किया जाता है।
  • रीफ्रक्टरी इस्केमिया: इस्केमिया के मामलों में उपयोग किया जाता है क्योंकि यह खून को पतला करने और इसके बहाव को बढ़ाकर शारीरिक गतिविधि को बढ़ाता है।
  • अस्थिर एनजाइना: अस्थिर एनजाइना को रोकने या उसका इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है।
  • दर्द: इसका उपयोग दर्द निवारक के रूप में भी किया जाता है क्योंकि यह एनएसएआईडी के वर्ग से संबंधित है।
  • रुमेटीइड गठिया: जोड़ों के दर्द (मांसपेशियों में दर्द और कोमल जोड़ों) के मामलों में सूजन और दर्द का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है।

How does Ecosprin work in Hindi-इकोस्प्रिन कैसे काम करता है?

  • इकोस्प्रिन साइक्लो-ऑक्सीजनेस एंजाइम में रूकावट डालने का काम करता है जो आगे चलकर प्रोस्टाग्लैंडिंस के उत्पादन को रोकता है जो दर्द, लालिमा या सूजन जैसे इंफ्लेमेटरी लक्षणों के लिए जिम्मेदार होते हैं।
  • प्रोस्टाग्लैंडिन्स में रूकावट पैदा होने से दर्द, सूजन और चोट के स्थान पर लालिमा जैसे लक्षणों से राहत मिलती है।
  • इकोस्प्रिन में एस्पिरिन मुख्य तत्व के रूप में होता है, जो प्रकृति में थक्कारोधी होता है और खून को पतला रखने में मदद करता है और तंग खून की नालियों में खून के बहाव को बढ़ाता है।

Effects of Ecosprin tablets on organs in Hindi-अंगों पर प्रभाव?

इकोस्प्रिन जिगर को सीधे प्रभावित करता है इसलिए, जिगर को किसी भी नुकसान से बचाने के लिए चिकित्सकीय परामर्श के बाद ही इकोस्प्रिन लें|

इकोस्प्रिन गैस्ट्रिक अस्तर को भी प्रभावित करता है। इसलिए सावधानी बरतने और उचित परामर्श लेने की सलाह दी जाती है


How to take Ecosprin in Hindi-इकोस्प्रिन कैसे लें?

  • इकोस्प्रिन टेबलेट्स के रूप में मिलता है।
  • टेबलेट को मुंह द्वारा पानी के साथ या चिकित्सक के निर्देश से लेना चाहिए। इसे खाली पेट के बजाय भोजन के बाद या साथ ले सकते हैं ताकि इससे एसिडिटी होने की वजह से पेट पर बुरे प्रभाव पैदा हो सकते हैं|
  • इकोस्प्रिन कैप्सूल एक निश्चित समय पर रोजाना लेना चाहिए, यदि हो सके तो रात में लें।
  • इस टेबलेट को कुचले या चबाये बिना पूरा ही निगल लेना चाहिए|
  • इस दवा की निर्धारित मात्रा का सेवन करने के लिए हमेशा नापने वाले कप का उपयोग करना चाहिए।
  • काउंटर दवा के रूप में इकोस्प्रिन का उपयोग करने के मामले में हमेशा दवा का बेहतर ज्ञान रखने के लिए दवा के लीफलेट को जानें|

Common Dosage for Ecosprin in Hindi-इकोस्प्रिन की सामान्य खुराक

  • चिकित्सक रोगी की आयु, वजन, मानसिक स्थिति, एलर्जी के इतिहास और स्वास्थ्य की स्थिति के अनुसार हर व्यक्ति के लिए दवा की खुराक तय करता है।
  • इकोस्प्रिन की सामान्य खुराक अस्थिर एनजाइना जैसी दिल की स्थिति के मामलों में एक टैबलेट होती है।
  • 16 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को इकोस्प्रिन देना उचित नहीं है जब तक डॉक्टर द्वारा ना बताया गया हो।

यदि इकोस्प्रिन ज्यादा मात्रा में लें तो क्या होगा?

इकोस्प्रिन की ओवरडोज से गंभीर दुष्प्रभाव जैसे पेट खराब होना या रक्तस्त्राव होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए दवा की निर्धारित खुराक का सख्ती से पालन करने की सलाह दी जाती है और दवा के ओवरडोज के किसी भी लक्षण के मामले में तुरंत चिकित्सक से सलाह करें।

यदि इकोस्प्रिन की खुराक लेनी याद ना रहे तो क्या होगा?

इकोस्प्रिन मनचाहे प्रभाव नहीं दिखाता क्योंकि इसकी एक निश्चित मात्रा हमेशा शरीर में मौजूद होनी चाहिए ताकि लाभकारी प्रभाव दिखाई दें।

इसलिए जैसे ही याद आये वैसे ही छूटी हुई खुराक का सेवन करना चाहिए, लेकिन अगली खुराक का समय हो गया हो तो छूटी हुई खुराक लेने से बचने की कोशिश करें।

यदि एक्स्पायरी हो चुकी इकोस्प्रिन खाते हैं तो क्या होगा?

एक्स्पायरी हो चुकी इकोस्प्रिन की एक खुराक लेते हुए प्रतिकूल घटना होने की संभावना नहीं है क्योंकि यह अपनी प्रभावशीलता और क्षमता खो सकता है। लेकिन किसी भी एक्सपायरी दवा का सेवन करने से बचना चाहिए और ऐसी दवा का सेवन करने के बाद किसी को कोई अवांछनीय लक्षण महसूस हो तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

इकोस्प्रिन की शुरुआत का समय और इकोस्प्रिन का प्रभाव कब तक रहता है?

  • इकोस्प्रिन की गोलियाँ मुंह द्वारा लेने के लगभग 5 से 10 मिनट में परिणाम दिखने लगते हैं।
  • इकोस्प्रिन की दो खुराक के बीच 4 से 6 घंटे का अंतराल रखने की सलाह दी जाती है।

When to Avoid Ecosprin in Hindi-इकोस्प्रिन से कब बचें?

निम्न स्थितियों में इकोस्प्रिन का उपयोग न करें:

  • हाई ब्लड प्रेशर: हाइपरटेंशन के मामलों में इकोस्प्रिन से सोडियम और वॉटर रिटेंशन हो सकता है और आगे चलकर ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है।
  • अस्थमा: इकोस्प्रिन या अन्य दवाओं के मामलों में अस्थमा का दौरा, जलन और नाक और चेहरे पर सूजन या अस्थमा की वर्तमान स्थिति पैदा हो जाती है।
  • गैस्ट्रिक समस्याएं: पेट या आंतों के अल्सर के ज्ञात मामलों या इतिहास में इकोस्प्रिन से पेट में रक्तस्राव का खतरा बढ़ जाता है।
  • लिवर की बीमारियाँ: लिवर की समस्याओं या बीमारियों के अतीत या वर्तमान स्थिति के मामलों में।
  • रक्त विकार: हेमोफिलिया जैसे रक्त विकारों के मामलों में जहां खून आसानी से नहीं चढ़ता।
  • गर्भावस्था: गर्भावस्था के मामलों में विशेषकर पिछले तीन महीनों के दौरान इससे रक्तस्राव हो सकता है।
  • गाउट: गाउट की वर्तमान स्थिति या इतिहास के मामलों में।

Precautions While Taking Ecosprin in Hindi-इकोस्प्रिन लेते समय सावधानियां

  • खाली पेट: विशेष रूप से गैस्ट्रिक रोगों के मामलों में इकोस्प्रिन को खाली पेट सेवन न करें क्योंकि इससे पेट की स्थिति खराब हो सकती है।
  • एलर्जी प्रतिक्रिया: इकोस्प्रिन लेने के बाद किसी भी एलर्जी प्रतिक्रिया के होने पर तुरंत डॉक्टर को बताना  चाहिए।
  • ओवरडोज से बचें: ड्रग ओवरडोज से बचना चाहिए।
  • समय अंतराल: खून में दवा के बढ़े हुए स्तर से बचने के लिए दो खुराक के बीच 4 से 6 घंटे का अंतराल बनाए रखना चाहिए क्योंकि इससे विषाक्तता हो सकती है।

इकोस्प्रिन लेते समय चेतावनी

  • इसकी रोजाना खुराक से ज्यादा सेवन करने से गैस्ट्रिक रक्तस्राव और जिगर को नुकसान हो सकता है।
  • रक्तस्राव के विकारों में इकोस्प्रिन उचित नहीं है।
  • जिन रोगियों में एस्पिरिन या अन्य दवाओं से अस्थमा, राइनाइटिस या पित्ती के लक्षणों को प्रेरित करते हैं उन्हें इकोस्प्रिन नहीं दिया जाना चाहिए।

Side-Effects of Ecosprin in Hindi-इकोस्प्रिन के साइड-इफेक्ट्स

विभिन्न उपचारों के लिए उपयोग किए जाने वाले इकोस्प्रिन से जुड़े दुष्प्रभाव निम्नलिखित हैं:

  • पेट खराब होना और बीमार महसूस करना – कम सामान्य
  • चक्कर आना – कम सामान्य
  • भ्रम – कम सामान्य
  • रक्तस्राव की संभावना बढ़ना – सामान्य
  • आसान चोट – सामान्य
  • टिनिटस (कान में बजना) – कम सामान्य
  • काले टैरी मल – दुर्लभ

क्या इकोस्प्रिन से किसी भी तरह की एलर्जी की प्रतिक्रिया है?

इकोस्प्रिन से होने वाली एलर्जी प्रतिक्रियाएं हैं:

  • लम्बी त्वचा या पित्ती – कम सामान्य
  • पलकों, चेहरे, होंठ, मुंह या जीभ की सूजन – कम सामान्य
  • अचानक घरघराहट होना – कम प्रचलित

Drug Interactions to be Careful About in Hindi-ड्रग इंटरैक्शन के बारे में सावधानी

इकोस्प्रिन का सेवन करते समय मरीज को कुछ दवाइयों से सावधान रहना चाहिए। ये कुछ खाद्य पदार्थों से लेकर अन्य दवाओं तक कुछ परीक्षणों में शामिल हो सकते हैं, जिन्हें इकोस्प्रिन के सेवन के बाद नहीं लेना चाहिए। हम नीचे इन विवरणों का पता लगाते हैं।

1. इकोस्प्रिन के साथ खाद्य पदार्थ

परहेज करने के लिए कोई विशेष खाद्य पदार्थ नहीं।

2. इकोस्प्रिन के साथ दवाएं

सभी इंटरेक्शन वाली दवाओं को यहाँ  सूचीबद्ध नहीं किया जा सकता इसलिए हमेशा यह सलाह दी जाती है कि रोगी को अपने चिकित्सक को आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली सभी दवाओं या उत्पादों के बारे में सूचित करना चाहिए। उन हर्बल उत्पादों के बारे में भी जानकारी देनी चाहिए जिनका आप सेवन कर रहे हैं। अपने डॉक्टर की इजाज़त के बिना दवा के किसी भी नियम में कोई फेरबदल नहीं करना चाहिए।

निम्न दवाओं के साथ लेने पर पारस्परिक क्रिया देखी गई है:

  1. मिफेप्रिस्टोन – गर्भावस्था को समाप्त करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवा और यदि इसे इकोस्प्रिन के साथ लिया जाता है तो कम प्रभावी साबित हो सकता है। (सौम्य)
  2. मेटोक्लोप्रमाइड – मतली और उल्टी का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवा इकोस्प्रिन के बढ़ते प्रभाव को जन्म दे सकती है यदि इसे सहवर्ती रूप से लिया जाए। (सौम्य)
  3. एल्यूमीनियम हाइड्रॉक्साइड जैसे अवशोषक या एंटासिड इकोस्प्रिन के प्रभाव को कम कर सकते हैं। (सौम्य)
  4. एंटीडिप्रेसेंट जैसे कि सिटालोपराम या फ्लुओक्सेटीन।
  5. सिबुट्रमिन (वजन घटाने के लिए एक दवा)
  6. वाल्सर्टन या लोसार्टन (एंटीहाइपरटेंसिव)
  7. फेनीटोइन और वालप्रोट(एंटी-पिलेपटिक): इकोस्प्रिन इन दवाओं के प्रभाव को बढ़ा सकता है।
  8. ज़फिरलूकास्ट (अस्थमा के इलाज के लिए प्रयुक्त)
  9. एसेटज़ोलामाइड
  10. सिलोसटाजोल
  11. लैब टेस्ट पर इकोस्प्रिन का प्रभाव

कोई विशेष प्रयोगशाला परीक्षण इकोस्प्रिन से प्रभावित नहीं होते हैं।

4. पहले से मौजूद बीमारियों के साथ इकोस्प्रिन का इंटरैक्शन

लिवर की कोई भी बीमारी, अस्थमा, गैस्ट्रिक अल्सर या हीमोफिलिया जैसे रक्तस्राव विकार।

क्या शराब के साथ इकोस्प्रिन ले सकते हैं?

नहीं, जब इकोस्प्रिन को शराब के साथ लिया जाता है, तो साइड इफेक्ट्स का खतरा बढ़ जाता है। इकोस्प्रिन के साथ शराब का सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

क्या किसी भी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?

इकोस्प्रिन का सेवन करते समय किसी विशेष खाद्य पदार्थ से बचने की जरूरत नहीं होती।

जब गर्भवती हो तो क्या इकोस्प्रिन ले सकते हैं?

नहीं, क्योंकि गर्भवती महिलाओं में इकोस्प्रिन की सुरक्षा के विषय में कोई अध्ययन नहीं किया गया है। इसलिए, गर्भावस्था के दौरान इसे तब तक टाला जाना चाहिए जब तक कि डॉक्टर द्वारा न कहा जाए और गर्भवती होने पर इसे लेने से पहले हमेशा डॉक्टर को सूचित करें|

क्या शिशु को दूध पिलाते समय मुझे इकोस्प्रिन ले सकते हैं?

नहीं, क्योंकि मानव दूध पर इकोस्प्रिन का प्रभाव अज्ञात है। इसलिए ऐसे मामलों में एहतियात के तौर हमेशा डॉक्टर को सूचित किया जाना चाहिए।

क्या इकोस्प्रिन लेने के बाद ड्राइव कर सकते हैं?

हां, चूंकि इकोस्प्रिन ड्राइव करने की क्षमता को प्रभावित नहीं करता लेकिन यदि इकोस्प्रिन लेने के बाद चक्कर आना या उनींदापन जैसे लक्षण दिखाई देते हैं तो ड्राइविंग या भारी मशीनरी चलाने से बचने की सलाह दी जाती है|


Ecosprin Composition, Variant and Price in Hindi-इकोस्प्रिन रचना, भिन्न और मूल्य – क्रेता गाइड

इकोस्प्रिन वेरिएंट इकोस्प्रिन कम्पोजिशन इकोस्प्रिन मूल्य
इकोस्प्रिन 150 मि.ग्रा. टेबलेट एस्पिरिन 150 मि.ग्रा. 8.28 रूपए में 14 गोलियां
इकोस्प्रिन 325 मि.ग्रा. टैबलेट एस्पिरिन 325 मि.ग्रा. 11.45 रूपए में 14 गोलियां
इकोस्प्रिन ए-वी 150 मि.ग्रा. कैप्सूल एटोरवासटाटिन 10 मि.ग्रा. + एस्पिरिन 150 मि.ग्रा. 43.44 रूपए में 15 कैप्सूल
इकोस्प्रिन ए वी 75 मि.ग्रा. कैप्सूल एटोरवासटाटिन 10 मि.ग्रा. + एस्पिरिन 75 मि.ग्रा. 42.89 रूपए में 15 कैप्सूल
इकोस्प्रिन गोल्ड 10 मि.ग्रा. कैप्सूल एटोरवासटाटिन 10 मि.ग्रा. +  क्लोपिडोग्रेल 75mg + एस्पिरिन 75 मि.ग्रा. 84.76 रूपए में 15 कैप्सूल

Substitutes of Ecosprin in Hindi-इकोस्प्रिन की जगह पर

इकोस्प्रिन के लिए वैकल्पिक दवाएं निम्न हैं:

लोप्रिन 75 मि.ग्रा. टेबलेट: टोरेंट फार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड द्वारा निर्मित।

डेलिस्प्रिन 75 मि.ग्रा. टेबलेट: अरस्तु फार्मास्युटिकल्स प्राइवेट लिमिटेड द्वारा निर्मित

भंडारण

  • इकोस्प्रिन को ठंडी, नमी रहित जगह पर 25 डिग्री से नीचे रखना चाहिए।
  • दवा को बच्चों की पहुँच से दूर रखा जाना चाहिए।

FAQs in Hindi-सामान्य प्रश्न – इकोस्प्रिन के बारे में 10 महत्वपूर्ण प्रश्न

इकोस्प्रिन क्या है?

इकोस्प्रिन एक ऐसी अकेली दवा है जिसमें एस्पिरिन मुख्य तत्व के रूप में होता है। यह दोहरे उद्देश्य के रूप में काम करता है क्योंकि इसमें (खून को पतला करने और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण हैं। इसका उपयोग ज्यादातर अस्थिर एनजाइना या स्ट्रोक को रोकने या इलाज करने के लिए किया जाता है।

परिणाम दिखाने के लिए यह कितना प्रभावी है या कितना समय लगता है?

इसे लेने के 5 से 10 मिनट में ही इकोस्प्रिन अपना प्रभाव दिखाता है।

क्या इकोस्प्रिन को खाली पेट लेना चाहिए?

किसी भी पेट की परेशानी से बचने के लिए भोजन के साथ या उसके बाद ही इकोस्प्रिन का सेवन करना बेहतर होता है।

क्या इकोस्प्रिन उनींदा बनाता है?

इकोस्प्रिन कुछ मामलों में उनींदेपन का कारण हो सकता है लेकिन यह हर व्यक्ति के साथ बदलता रहता है।

इकोस्प्रिन की गोलियों के सेवन के बीच समय का अंतर क्या होना चाहिए?

इकोस्प्रिन विषाक्तता या ओवरडोज से बचने के लिए दो खुराक के बीच कम से कम 4 से 6 घंटे के समय अंतराल होना चाहिए।

क्या चिकित्सा का पूरा चक्र ठीक करना चाहिए, भले ही लक्षण ठीक हो जाए?

हां, लक्षणों के गायब होने पर भी इकोस्प्रिन की पूरी खुराक लेना जरूरी है। बिना परामर्श के कभी भी इकोस्प्रिन को बंद नहीं करना चाहिए|

क्या इकोस्प्रिन मासिक धर्म चक्र को प्रभावित करता है?

हाँ, यह मासिक धर्म चक्र को प्रभावित करता है क्योंकि इसकी वजह से रक्तस्त्राव ज्यादा हो सकता है लेकिन दवा का सेवन करने से पहले हमेशा मासिक धर्म की समस्याओं के मामले में डॉक्टर से सलाह लें|

क्या बच्चों के लिए इकोस्प्रिन सुरक्षित है?

इकोस्प्रिन 16 साल से कम बच्चों को नहीं दी जानी  चाहिए| बाल रोग विशेषज्ञ की सिफारिश से ही बच्चों को इकोस्प्रिन दिया जाना चाहिए।

इकोस्प्रिन को लेने से पहले कोई लक्षण या बीमारियाँ हैं जिन पर विचार करना चाहिए?

किसी भी रक्तस्राव के विकार, गैस्ट्रिक समस्या और लिवर की समस्याओं वालों को इकोस्प्रिन लेने से पहले ध्यान में रखना चाहिए|

क्या भारत में इकोस्प्रिन की कानूनी मान्यता है?

हां, यह भारत में कानूनी है।


डिस्क्लेमर – ऊपर दी गई जानकारी हमारे शोध और ज्ञान के सर्वश्रेष्ठ है। हालांकि, आपको दवा का सेवन करने से पहले एक चिकित्सक से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

लेखक –

Dr. Pradeep Choudhary Clinical Research Coordinator at Apollo Hospital with 3 Years of Work Experience

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven − 10 =