एडीमा (Edema in Hindi): लक्षण, कारण, निदान और उपचार

0
4205
Edema in Hindi

एडीमा शरीर के हिस्सों की सूजन होती है। एडीमा आमतौर पर पैर, एड़ियों और टांगों में होता है। यह चेहरे और हाथों को भी प्रभावित कर सकता है। गर्भवती महिलाओं और बुजुर्ग वयस्कों को अक्सर एडीमा हो जाता है। लेकिन यह किसी को भी हो सकता है।

एडीमा के कई प्रकार हैं:

  • पेरीफेरल एडीमा – यह आमतौर पर टांगों, पैरों और एड़ियों को प्रभावित करता है, लेकिन यह बाहों में भी हो सकता है। यह सरक्यूलेट्री सिस्टम, लिम्फ नोड्स या गुर्दे की समस्याओं का संकेत हो सकता है।
  • पेडल एडीमा – यह तब होता है जब तरल पदार्थ पैरों और टांगों के निचले हिस्से में इकट्ठा हो जाता है। यह बूढों या गर्भवती महिलाओं में आम है। इसकी वजह से पैरों में कुछ महसूस ना होने से चलना मुश्किल हो सकता है।
  • लिम्पेडेमा – बाहों और पैरों में होने वाली यह सूजन अक्सर लिम्फ नोड्स को नुकसान पहुंचाती है यानी उन ऊतकों को जो शरीर से जीवाणुओं और गंदगी को फ़िल्टर करने में मदद करते हैं। शल्य चिकित्सा और कीमोथेरेपी जैसे कैंसर के इलाज़ के कारण भी यह हो सकता है। कैंसर स्वयं भी लिम्फ नोड्स में रुकावट पैदा कर सकता है और तरल पदार्थों का निर्माण कर सकता है।
  • पलमनरी एडीमा – जब तरल पदार्थ फेफड़ों में हवा की थैली में इकठा होता है तो यह एडीमा हो सकता है। जब कोई लेटता है तो इससे सांस लेने में मुश्किल होती है। दिल की धड़कन तेज हो सकती है, सांस घुटने लगती है और झागदार थूक वाली खांसी हो सकती है।
  • सेरेब्रल एडीमा – यह एक गंभीर स्थिति है जिसमें दिमाग में तरल पदार्थ बनता है। ऐसा तभी होता है यदि सिर पर कड़ी चोट लगती है, खून की नली में रूकावट आ जाती है, ट्यूमर या एलर्जी प्रतिक्रिया हो सकती है।
  • मैकुलर एडीमा – ऐसा तब होता है जब तरल पदार्थ आंख के एक हिस्से में बनता है जिसे मैक्यूला कहा जाता है, जो रेटिना के केंद्र में होता है|
और पढो: सिरोसिस लक्षणइबोला लक्षणफिलीरियासिस लक्षण

खुद पहचानिए:

सूजन वली जगह पर त्वचा बढ़ी हुई और चमकदार दिखती है। लगभग 15 सेकंड तक सूजन की जगह पर धीरे-धीरे दबाने से डिंपल बन जाता है|

एडीमा आपके शरीर को प्रभावित करता है?

शरीर में दो मुख्य भाग होते हैं जिनमें द्रव का लेन दें होता है: इंट्रावास्कुलर और एक्स्ट्रावास्कुलर भाग| इंट्रावास्कुलर भाग में कार्डियक चैम्बर और वास्कुलर सिस्टम होता है, जबकि एक्स्ट्रावास्कुलर भाग हर जगह होते हैं। इन भागों के बीच द्रव आसानी से चलता है और इसकी गति की सीमा मुख्य रूप से हाइड्रोस्टैटिक और ऑन्कोटिक दबावों के बीच संतुलन द्वारा तय की जाती है। इन दबावों के संतुलन में कोई भी परिवर्तन होने के कारण लिम्फेटिक सिस्टम से ज्यादा साफ़ निस्पंदन होता है, यही एडीमा का कारण बन सकता है।

एडीमा के कारण क्या हैं?

एडीमा के सामान्य कारण हैं:

हार्ट फेलियर – यदि दिल के निचले भागों में से एक या दोनों खून को ठीक से पंप नहीं करते हैं, तो खून अंगों में जमा हो सकता है जिससे एडीमा हो सकता है।

गुर्दे की बीमारी – गुर्दे की कोशिकाएं जो खून से गंदगी और अतिरिक्त तरल पदार्थ फ़िल्टर करती हैं, इसके कारण नेफ्रोटिक सिंड्रोम हो सकता है। इसका एक लक्षण खून में एल्बमिन प्रोटीन का स्तर कम होना है। इससे एडीमा हो सकता है।

लिवर रोग – सिरोसिस हार्मोन और द्रव-विनियमन रसायनों के स्राव और प्रोटीन उत्पादन में कमी के कारण परिवर्तन हो सकता है। इससे तरल पदार्थ रक्त वाहिकाओं से आसपास के ऊतक में निकल जाता है, जिससे एडीमा होता है।

गर्भावस्था – गर्भावस्था के दौरान शरीर ऐसे हार्मोन जारी करता है जो फ्लूइड रीटेनशन को प्रोत्साहित करते हैं और महिला सामान्य से ज्यादा सोडियम और पानी को बनाए रखती है। चेहरे, हाथ, निचले अंग और पैर सूख सकते हैं।

आहार कारक – कई आहार एडीमा के खतरे को बढ़ा सकते हैं। इसमें निम्न हैं:

  • बहुत ज्यादा नमक लेना
  • कुपोषण जहां एडीमा रक्त में प्रोटीन के कम स्तर से हो सकता है
  • विटामिन बी-1, बी-6, और बी-5 की कम खपत
  • दिमाग को प्रभावित करने वाली स्थितियां – मस्तिष्क में सूजन के कुछ कारण भी शामिल हैं:

सिर की चोट – सिर में लगने वाली चोट से दिमाग में तरल पदार्थ का इकठा हो सकता है।

और पढो: फ्रॉस्ट बाइट लक्षणटाइप-2 मधुमेह लक्षण

स्ट्रोक – दिमाग में सूजन से बड़ा स्ट्रोक हो सकता है।

दिमाग में ट्यूमर – यह ट्यूमर अपने चारों ओर पानी जमा करता है, खासकर जब यह नयी ख़ून की नलियों का निर्माण करता है।

एलर्जी – कुछ खाद्य पदार्थ और कीड़े काटने से लोगों के चेहरे या त्वचा पर एडीमा हो सकता है जो एलर्जी है। यह गंभीर सूजन एनाफिलैक्सिस का लक्षण हो सकता है। गले में सूजन किसी व्यक्ति के वायुमार्ग को बंद कर सकती है और सांस लेने को रोक सकती है। यह आपातकालीन चिकित्सका की स्थिति है।

चरम सीमाओं में समस्याएं – किसी भी तरह की रूकावट जैसे कि नस में खून का थक्का जमना खूनको बहने से रोक सकता है। जैसे ही नस में दबाव बढ़ता है तरल पदार्थ का ऊतक में रिसाव होना शुरू हो जाता है जिससे एडीमा होता है।

वैरिकाज़ नसें – ये आमतौर पर तब होती हैं जब वाल्व को नुक्सान पहुंचता है| नसों में दबाव बढ़ने लगता है। यह दबाव आसपास के ऊतकों में लीक होकर खतरे को बढ़ा देता है।

सिस्ट या ट्यूमर – यदि कोई लिम्फ नोड या नस को दबाया जाता है तो यह गांठ एडीमा का कारण बन सकती है। जैसे-जैसे दबाव बढ़ता है ये तरल पदार्थ आसपास के ऊतकों में रिसाव कर सकते हैं।

लिम्पेडेमा – लिम्फेटिक सिस्टम ऊतकों से अतिरिक्त तरल पदार्थ को हटाने में मदद करता है। इस प्रणाली में कोई भी नुकसान जैसे सर्जरी, इन्फेक्शन या ट्यूमर एडीमा के कारण हो सकता है।

कुछ दवाओं का उपयोग – कुछ दवाएं एडीमा के बढने के खतरे को बढ़ाती हैं। इसमें निम्न है:

  • वासोडीलेटर्स या वे दवाएं जो खून की नलियाँ खोलें
  • कैल्शियम चैनल ब्लोकर्स
  • एंटी-स्टेरॉयड, एंटी-इंफ्लैमेटरी ड्रग्स (एनएसएड्स)
  • एस्ट्रोजेन
  • कुछ कीमोथेरेपी की दवाएं
  • कुछ मधुमेह की दवाएं,जैसे थाइज़ोलिडेडियोनियंस (टीजेडडीएस)

अन्य प्रकार की स्थितियां:

लंबे समय तक अस्थिरता – जो लोग लंबे समय तक हिलते जुलते नहीं  हैं उनकी त्वचा में एडीमा हो सकता है। यह गुरुत्वाकर्षण पर निर्भर जगहों में फ्लूइड पूलिंग और पिट्यूटरी से एंटी-डियुरेटिक हार्मोन के रिसने के कारण हो सकता है।

हाई ऑल्टीटूड – शारीरिक श्रम के कारण एडीमा का खतरा बढ़ सकता है। एक्यूट माउंटेन सिकनेस की वजह से पल्मनरी एडीमा या सेरेब्रल एडीमा हो सकते हैं।

जलन और सनबर्न – त्वचा द्रव को बनाए रखकर जलन पैदा करती है। यह सूजन का कारण बनती है।

इन्फेक्शन या सूजन – इन्फेक्टेड या सूजन वाला कोई भी ऊतक सूज सकता है। त्वचा में यह सबसे अधिक ध्यान देने योग्य है।

मासिक धर्म और पूर्व मासिक धर्म – मासिक धर्म के दौरान हार्मोन का स्तर उतार-चढ़ाव होता है। मासिक धर्म रक्तस्राव से पहले के दिनों के दौरान प्रोजेस्टेरोन का स्तर कम होता है और इससे द्रव रीटेनशन हो सकता है।

गर्भ निरोधक गोलियों का उपयोग – एस्ट्रोजन वाली कोई भी दवा इसका कारण बन सकती है। जब पहली बार गोली का उपयोग शुरू करते हैं तो महिलाओं का वजन कम करना असामान्य नहीं है।

रजोनिवृत्ति – रजोनिवृत्ति के आसपास, हार्मोन के उतार-चढ़ाव के कारण भी यह हो सकता है। हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (एचआरटी) भी एडीमा को ट्रिगर कर सकती है।

थायराइड रोग – थायराइड की समस्याओं से जुड़े हार्मोनल असंतुलन से एडीमा हो सकता है।

एडीमा के खतरे के लिए क्या कारक हैं?

  • बहुत लंबे समय तक एक ही स्थिति (बैठे, खड़े या खड़े) में रहना
  • सोडियम के सेवन में बढ़ोतरी
  • मासिक धर्म के कारण हार्मोन बदलना
  • गर्भावस्था
  • वासोडिलेटर, कैल्शियम चैनल अवरोधक, एस्ट्रोजेन आधारित दवा, गैर-स्टेरॉयड एंटी-इंफ्लैमेटरी ड्रग्स (एनएसएआईडी) और कुछ मधुमेह की दवाओं जैसी कुछ दवाएं लेना
  • संक्रामक हार्ट फ़ैल होना, सिरोसिस, गुर्दे की बीमारी, पुरानी शिरापरक अपर्याप्तता, और पुरानी फेफड़ों की बीमारियों जैसी बीमारियों के लक्षण के रूप में

एडीमा के लक्षण क्या हैं?

एडीमा के सामान्य लक्षण हैं:

  • सूजन, खिंचाव और चमकदार त्वचा
  • त्वचा को कुछ सेकंड के लिए दबाए रखने पर डिंपल बने रहना
  • टखने, चेहरे या आंखों की फुलावट
  • शरीर के अंगों और जोड़ों का कठोर होना
  • वजन बढ़ना या घटना
  • हाथ और गर्दन की नसों का फूलना
  • नाड़ी और रक्तचाप की ऊंची दर
  • सर-दर्द
  • पेट में दर्द
  • मतली और उल्टी
  • भ्रम और सुस्ती
  • नज़र की असामान्यताएं

एडीमा को कैसे पहचाना जाता है?

यह समझने के लिए कि एडीमा का कारण क्या हो सकता है, डॉक्टर पहले शारीरिक परीक्षा करता है  और चिकित्सा के इतिहास के बारे में प्रश्न पूछेगा। यह जानकारी अक्सर एडीमा के कारण को निर्धारित करने के लिए पर्याप्त होती है। कुछ मामलों में एक्स-रे, अल्ट्रासाउंड परीक्षाएं, मेग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग, खून की जांच या मूत्र विश्लेषण जरूरी हो सकता है।

एडीमा को कैसे रोकें और नियंत्रित करें?

यदि एडीमा स्वास्थ्य समस्याओं के कारण होता है जैसे संक्रामक दिल की विफलता, जिगर की बीमारी या गुर्दे की बीमारी तो इसे प्रबंधित किया जा सकता है या रोका नहीं जा सकता| यदि एडीमा बहुत अधिक नमक खाने के कारण होता है तो इसे नमक के कम सेवन कम करके रोका जा सकता है।

एडीमा का उपचार

माइल्ड एडीमा – यह आमतौर पर अपने आप ठीक हो जाता है खासकर यदि प्रभावित अंग दिल से अधिक उठाया जाता है।

सीवियर एडीमा – इसका दवाओं से इलाज किया जा सकता है जो शरीर से मूत्र (मूत्रवर्धक) के रूप में अतिरिक्त तरल पदार्थ निकालने में मदद करता है। सबसे आम मूत्रवर्धकों में से एक फ्यूरोसाइड (लासिक्स) है। लेकिन चिकित्सक ही यह तय करता है कि ये दवाएं अच्छा विकल्प हैं या नहीं।

एडीमा का दीर्घकालिक प्रबंधन – यह विधि सूजन के कारणों का इलाज करने पर केंद्रित है। यदि दवा के उपयोग के कारण भी एडीमा होता है तो डॉक्टर पर्चे को समायोजित कर सकता है या वैकल्पिक दवा की जांच कर सकता है जो एडीमा का कारण ना बनती हो|

एडीमा- जीवन शैली के टिप्स

एडीमा को कम करने के लिए निम्न जीवनशैली की युक्तियों का पालन किया जाना चाहिए:

  • बैठते या लेटते समय पैरों को ऊपर उठाएं।
  • पैरों के एडीमा के मामले में स्टॉकिंग पहनें।
  • चारों ओर घूमे बिना लंबे समय तक बैठें या खड़े न रहें|
  • नमक का सेवन ना करें|

एडीमा वाले व्यक्ति के लिए क्या व्यायाम हैं?

योग आसन एडीमा के रोगियों के लिए बहुत उपयोगी साबित हुए हैं:

  • ताड़ासन-पर्वत मुद्रा
  • योद्धा मुद्रा
  • उर्धाहस्तोतानासन
  • पार्श्वकोणासन
  • विपरीत करनी
  • सर्वांगासन
  • हलासन
  • सेतु-बंध आसान
  • अश्व्चालासन
  • सूर्य नमस्कार (सूर्य अभिवादन)
  • कटिचक्रासन
  • त्रिकोणासन
  • भुजंगासन

एडीमा और गर्भावस्था – जानने योग्य चीजें

जब कोई महिला गर्भवती होती है तो उसका शरीर बढ़ रहे भ्रूण का समर्थन करने के लिए सामान्य से 50% ज्यादा खून और अन्य तरल पदार्थ पैदा करता है। यह हाथों, चेहरे, पैरों, टखने और पैरों के एडीमा का कारण बनते हैं जो गर्भावस्था का एक सामान्य हिस्सा है। बढ़ता हुआ गर्भ (गर्भाशय) पेट में जगह लेते हुए और पैरों से तरल पदार्थ की वापसी को रोकता है जिससे टांगों और पैरों में सूजन आती है।

गर्भावस्था के दौरान एडीमा किसी को भी समय हो सकता है। लेकिन यह आमतौर पर पांचवें महीने में अनुभव किया जाता है और तीसरी तिमाही में और खराब हो सकता है।

इससे होने वाली हल्की सूजन आम है, लेकिन हाथों या चेहरे की अचानक सूजन गर्भावस्था की जटिलता प्रिक्लेम्प्शिया का संकेत देती है। गर्भावस्था के दौरान चेहरे के एडीमा, पैर के एडीमा या अचानक या गंभीर सूजन के मामले में डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

डिलीवरी के बाद भी एडीमा जारी रह सकता है। ज्यादातर मामलों में, समय से पहले जन्म देने के बाद धीरे-धीरे एक हफ्ते के भीतर ये ठीक हो जाता है और आम तौर पर स्थिति गंभीर नहीं होती है। लेकिन यदि सूजन लगभग एक सप्ताह के भीतर ठीक नहीं होती और पैरों में दर्द या सिर दर्द के लक्षण होते हैं तो डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए क्योंकि इन लक्षणों में उच्च रक्तचाप और प्रिक्लेम्पिया का संकेत भी हो सकता है।

एडीमा से संबंधित सामान्य परेशानियाँ

अगर इसे ऐसे ही  छोड़ दिया जाता है तो एडीमा का परिणाम ऊपरी त्वचा, संक्रमण या अल्सर का फैलाव हो सकता है। इसके अलावा खून के दौरे में कमी शरीर की गहरी नसों में रक्त के थक्के का कारण बन सकती है। इससे गहरी नसों के थ्रोम्बिसिस के रूप में भी जाना जाता है।

सामान्य प्रश्न

क्या एडीमा घातक है?

दिमाग की सूजन का इलाज करना बहुत मुश्किल हो सकता है। यह ना बदलने वाली हानि पैदा हो सकती है। यह सूजन दिमाग में या कुछ अन्य जगहों में हो सकती है। यदि इलाज नहीं किया जाता है तो सेरेब्रल एडीमा घातक हो सकता है।

क्या डॉक्टर एडीमा का इलाज करता है?

क्योंकि एडीमा मल्टीफैक्टोरियल (कई संभावित कारण) है, कई डॉक्टर इसकी देखभाल में शामिल होंगे। इसमें प्राथमिक देखभाल चिकित्सक (पीसीपी) या इंटर्निस्ट, एक नेफ्रोलॉजिस्ट (किडनी विशेषज्ञ), हृदय रोग विशेषज्ञ (हृदय विशेषज्ञ), या गैस्ट्रोएंटरोलॉजिस्ट (पाचन तंत्र या यकृत विशेषज्ञ) शामिल हैं।

क्या उच्च रक्तचाप एडीमा का कारण बन सकता है?

नसों में बढ़ते हुए रक्तचाप के कारण द्रव आसपास के ऊतकों से बाहर निकलता है। इससे पैरों में सूजन हो सकती है या पेट में तरल पदार्थ का निर्माण हो सकता है। संक्रामक दिल की विफलता फेफड़ों में एडीमा भी पैदा कर सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

5 × 5 =