एनब्रेल (Enbrel in Hindi): उपयोग, खुराक, मूल्य, साइड इफेक्ट्स, सावधानियां Enbrel in Hindi

enbrel fayde nuksan in hindi

एन्ब्रेल क्या है?

एन्ब्रेल दवाओं के ऐसे समूह से संबंधित है जिन्हें “एंटी-इंफ्लेमेटरी दवाएं” कहा जाता है। एन्ब्रेल में  सक्रिय घटक के रूप में “एटानेरसेप्ट” है जो पाउडर रूप में मिलता है जिसे इंजेक्शन के रूप में और भरे हुए सिरिंज और इंजेक्शन के लिए घोल युक्त पेन के रूप में बनाया जाता है।

एन्ब्रेल का उपयोग

निम्न स्थितियों के इलाज के लिए एन्ब्रेल का उपयोग किया जाता है –

  • संधि-शोथ
  • 2 साल या उससे अधिक आयु के रोगियों में पॉलीआर्टिकुलर जुवेनाइल इडियोपैथिक गठिया
  • सोरियाटिक गठिया
  • आंक्यलोसिंग स्पॉन्डिलाइटिस
  • प्लाक सोरायसिस
इस दवा को खरीदें और 20% छूट प्राप्त करें: 1 एमजी

एन्ब्रेल कैसे काम करता है

  • एन्ब्रेल में सक्रिय पदार्थ एटानरसेप्ट है। एटानरसेप्ट एक प्रोटीन है जो ट्यूमर नेक्रोसिस कारक (शरीर में रासायनिक संदेशवाहक) की गतिविधि को रोकने का काम करता है।
  • ऊपर बताई गयी बीमारियों से पीड़ित मरीजों में ट्यूमर नेक्रोसिस कारक उच्च स्तर में पाया जाता है।
  • ट्यूमर नेक्रोसिस कारक को रोककर सूजन और एन्ब्रेल बीमारियों के अन्य लक्षणों को कम कर देता है।

भारत में एन्ब्रेल का मूल्य

8700 रुपये में 25 मि.ग्रा इंजेक्शन की शीशी

17170 रुपये में 50 मि.ग्रा इंजेक्शन की शीशी

और पढो: क्रेस्टर के नुकसानडूलेरा के नुकसानडीलानटिन के नुकसान

एन्ब्रेल कैसे लें

एन्ब्रेल को एक प्रशिक्षित स्वास्थ्यकर्मी द्वारा त्वचा के नीचे इंजेक्शन द्वारा दिया जाता है।

सामान्य खुराक और एन्ब्रेल कब लें?

  • एन्ब्रेल की खुराक और इसे लेने का तरीका रोगी के वजन और उपचार की प्रारंभिक प्रतिक्रिया पर निर्भर करता है।
  • वयस्कों को सप्ताह में एक बार इसकी खुराक 25 मि.ग्रा. या 50 मि.ग्रा. प्रति सप्ताह होती है।
  • 18 वर्ष से कम आयु के रोगियों के लिए इसकी खुराक शरीर के वजन पर निर्भर करती है|

एन्ब्रेल से कब बचें?

निम्न स्थितियों में एन्ब्रेल का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए:

  • इसके किसी भी घटक से एलर्जी हो
  • जिगर या गुर्दे की समस्या वाले लोग
  • सक्रिय संक्रमण
  • माईलिन रहित रोग
  • ह्रदय गति रुकना
  • हेपेटाइटिस बी का इतिहास
  • मधुमेह,
  • एच.आई.वी.,
  • कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली
  • टी.बी

एन्ब्रेल के साइड इफेक्ट्स?

एन्ब्रेल से कई दुष्प्रभाव पैदा हो सकते हैं लेकिन ये सभी रोगियों में आम नहीं हो सकते| सामान्य तौर पर देखे गए दुष्प्रभाव:

  • संक्रमण (सर्दी, साइनसिसिटिस, ब्रोंकाइटिस, मूत्र पथ संक्रमण और त्वचा संक्रमण सहित);
  • इंजेक्शन की जगह पर प्रतिक्रिया (रक्तस्राव, चोट लगाना, लाली, खुजली, दर्द, और सूजन सहित)।
  • एलर्जी; बुखार, लाल चकत्ते, खुजली, एंटीबॉडी, सामान्य ऊतकों के खिलाफ निर्देशन
  • गंभीर संक्रमण (निमोनिया, गहरी त्वचा संक्रमण, संयुक्त संक्रमण, रक्त संक्रमण और विभिन्न जगहों पर संक्रमण)
  • दिल की विफलता का बिगड़ना
  • लाल रक्त कोशिकाओं की गिनती कम होना
  • सफेद रक्त कोशिकाओं की गिनती कम होना
  • न्यूट्रोफिल (सफेद रक्त कोशिका का एक प्रकार) की गिनती कम होना
  • रक्त प्लेटलेट की गिनती कम होना
  • त्वचा का कैंसर (मेलेनोमा को छोड़कर)
  • त्वचा की सूजन (एंजियोएडेमा)
  • पित्ताशय (लाल या पीले रंग की त्वचा के ऊंचे पैच जो अक्सर खुजली करते हैं)
  • आंख की सूजन
  • सोरायसिस (नया या खराब)
  • कई अंगों को प्रभावित करने वाली रक्त वाहिकाओं की सूजन
  • जिगर का उच्च रक्त परीक्षण (रोगियों में मेथोट्रैक्साईट उपचार भी प्राप्त होता है, ऊंचा यकृत रक्त परीक्षण की आवृत्ति आम है)

अंगों पर प्रभाव

जिगर और गुर्दे की बीमारी वाले मरीजों को सावधानी से और डॉक्टर की सलाह से एन्ब्रेल लेना चाहिए।

और पढो: | एंट्रेस्टो के नुकसानएपीपेन के नुकसान

एलर्जी प्रतिक्रियाएं

यदि आपको  इसके किसी भी तत्व से एलर्जी है तो अपने डॉक्टर से कहें। एन्ब्रेल के साथ एलर्जी निम्न लक्षण प्रदर्शित हो सकते हैं:

  • लाल चकत्ते
  • सीने में जकड़न
  • खुजली
  • साँसों की कमी
  • चेहरे, होंठ, जीभ या गले की सूजन

ड्रग इंटरैक्शन के बारे में सावधानी

बड़ी संख्या में दवाओं को एक-दूसरे के साथ प्रभाव डालते देखा गया है। इसलिए रोगी को अपने चिकित्सक को सभी दवाइयों या काउंटर उत्पादों या विटामिन की खुराक के उपयोग के बारे में सूचित करना चाहिए। एन्ब्रेल के साथ इसे लेने से किसी भी अन्य दवा को लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें। सभी इंटरैक्शन वाली दवाओं को यहां सूचीबद्ध नहीं किया जा सकता| कुछ इस प्रकार हैं:

  • एबेटेसेप्ट, सल्फासलाज़ीन या इंटरलेकिन-1 एंटागोनिस्ट जैसे अनाकिनरा।
  • साईक्लोफॉस्फोमाईड
  • कुछ टीके
  • डायजोक्सिन
  • वारफरिन
  • एंटी-मधुमेह दवाएं

प्रभाव या परिणाम

एन्ब्रेल लेने के तुरंत बाद काम नहीं करता| पूरी तरह ठीक होने के लिए कुछ दिन लग सकते हैं।

यहां तक ​​कि यदि लक्षण गायब भी हो जाए तब भी इसे डॉक्टर द्वारा जारी रखने की सलाह दी जाती है।

सामान्य प्रश्न

क्या एन्ब्रेल नशे की लत है?

ऐसी किसी प्रवृत्ति की कोई सूचना नहीं है।

क्या शराब के साथ एन्ब्रेल ले सकते हैं?

शराब के साथ एन्ब्रेल लेने से बचना चाहिए क्योंकि इससे चक्कर आना, उनींदापन, भ्रम आदि का खतरा बढ़ सकता है।

क्या किसी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?

किसी भी खाद्य उत्पाद के साथ इसे लेने से कोई बदलाव नहीं देखा गया।

क्या गर्भवती होने पर एन्ब्रेल ले सकते हैं?

गर्भावस्था के दौरान एन्ब्रेल का उपयोग केवल तभी करना चाहिए जब भ्रूण को जोखिम ना हो| यदि  आप गर्भवती हैं या गर्भवती होने की योजना बना रही हैं तो हमेशा अपने डॉक्टर को सूचित करें।

क्या बच्चे को स्तनपान कराने के दौरान एन्ब्रेल ले सकते हैं?

स्तनपान कराने में महिलाओं को इसका उपयोग तभी करना चाहिए जब इससे जोखिम ना हो|

क्या एन्ब्रेल लेने के बाद ड्राइव कर सकते हैं?

एन्ब्रेल लेने के बाद कुछ रोगियों को उनींदापन, चक्कर आना और भ्रम हो सकता है| भारी मशीनरी चलाने या वहां चलाने के दौरान ऐसे मरीजों को उत्साह से एन्ब्रेल का उपयोग नहीं करना चाहिए।

यदि एन्ब्रेल अधिक मात्रा में लें तो क्या होता है?

इसे तय की गयी मात्रा से अधिक नहीं लेना चाहिए। अधिक मात्रा में या बार बार इसे लेने से गंभीर विषाक्तता हो सकती है।

यदि एक्सपायरी हो चुकी एन्ब्रेल खाते हैं तो क्या होगा?

एक्सपायरी दवा काम नहीं करेगी| इन दवाओं की शक्ति भी कम हो सकती है और इससे कुछ प्रतिकूल प्रभाव भी हो सकते हैं। सुरक्षित रहने के लिए हमेशा एक्सपायरी दवा की जांच करें और कभी भी इसका उपयोग न करें।

यदि एन्ब्रेल की खुराक लेनी याद ना रहे तो क्या होता है?

यदि इसकी खुराक लेनी याद ना रहे तो यह दवा अच्छी तरह से काम नहीं करेगी क्योंकि दवा के प्रभावी रूप से काम करने के लिए आपके शरीर में हर समय दवा की एक निश्चित मात्रा मौजूद होनी चाहिए। इसलिए जैसे ही आपको याद आये हमेशा भूली हुई खुराक का उपयोग करें। लेकिन यदि अगली खुराक का पहले से ही समय हो गया हो तो दोगुनी खुराक न करें।

भंडारण

  • इसे कमरे के तापमान पर सीधी गर्मी और प्रकाश से बचाकर रखें|
  • बच्चों और पालतू जानवरों को इन दवाओं से दूर रखें।

एन्ब्रेल लेते समय टिप्स

  • इसे चिकित्सक की सहमति के बिना और अचानक ही कभी नहीं रोकना चाहिए।
  • एन्ब्रेल प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर कर सकती है। इससे गंभीर और कभी-कभी घातक संक्रमण हो सकते हैं।

एन्ब्रेल शुरू करने से पहले हमेशा त्वचा परीक्षण और तपेदिक का छाती का एक्स-रे करवाना चाहिए|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × one =