एन्सेफलाइटिस (Encephalitis in Hindi): लक्षण, कारण, निदान और उपचार

0
751
Encephalitis in Hindi

एन्सेफलाइटिस मस्तिष्क की सूजन को कहा जाता है। इसमे अक्सर सिरदर्द, बुखार, भ्रम, गर्दन मे कठोरता और उल्टी जैसे हल्के लक्षण होते हैं। एन्सेफलाइटिस वायरस हर्पीस सिम्प्लेक्स वायरस और रेबीज के साथ-साथ बैक्टीरिया, फंगल या परजीवी के कारण होता है। इसकी पहचान इसके लक्षणों पर आधारित होती है और खून की जांच, चिकित्सा इमेजिंग और सेरेब्रोस्पाइनल तरल पदार्थ के विश्लेषण से होती है।

एन्सेफलाइटिस के इलाज़ में एंटीवायरल दवाएं, एंटीकोनवल्सेंट्स और कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स दिए जाते हैं| 2015 में यह अनुमान लगाया गया था कि एन्सेफलाइटिस ने 4.3 मिलियन लोगों को प्रभावित किया है और इसके कारण दुनिया भर में 150,000 मौतें हुई|

Read More: Type 1 Diabetes in HindiLassa Fever in Hindi

एन्सेफलाइटिस शरीर को कैसे प्रभावित करता है?

शरीर पर एन्सेफलाइटिस के होने वाले प्रभाव में सुनने की समस्याओं और देखने की परेशानी के साथ-साथ पक्षाघात(पयरालिसिस), खराब को-ओरडीनेशन और थकान भी हो सकती है। एन्सेफलाइटिस के गंभीर मामलों में किसी व्यक्ति को सांस लेने की दिक्कत का भी सामना करना पड़ सकता है या व्यक्ति की सांस रुक सकती है। कुछ मामलों में, एन्सेफलाइटिस कोमा और मौत का कारण बन सकता है।

एन्सेफलाइटिस के कारण क्या हैं?

वायरल एन्सेफलाइटिस – यह या तो एक गंभीर इन्फेक्शन के प्रभाव के रूप में या गुप्त इन्फेक्शन के रूप में हो सकता है। वायरल एन्सेफलाइटिस का सबसे आम पहचाना जाने वाला  कारण हर्पीस सिम्प्लेक्स इन्फेक्शन से होता है जबकि क्रोनिक वायरल एन्सेफलाइटिस के अन्य कारण रेबीज वायरस, पोलिओ वायरस और खसरा के वायरस होते हैं।

बैक्टीरियल एन्सेफलाइटिस – मस्तिष्क की सूजन जीवाणुओं के संक्रमण के कारण हो सकती है, जैसे बैक्टीरियल मेनिंजाइटिस या फिर संक्रामक रोग सिफलिस से हो सकती है।

पैरासिटिक या प्रोटोज़ोलल इन्फेस्टेशन – टोक्सोप्लाज्मोसिस, मलेरिया या अमीबिक मेनिंगोएन्सेफलाइटिस वाले कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में एन्सेफलाइटिस भी पैदा कर सकता है।

लिंबिक एन्सेफलाइटिस – यह मस्तिष्क की अंग प्रणाली की सीमित सूजन की बीमारी के नाम से जाना जाता है। इसके अलावा लिंबिक एन्सेफलाइटिस के कुछ मामले ऑटोम्यून्यून के भी हैं।

ऑटोम्यून्यून एन्सेफलाइटिस – यह कैटोनोनिया, मनोविज्ञान, असामान्य गतिविधियों और विषाक्तता का कारण बनता है। एंटी-एनएमडीए रिसेप्टर एन्सेफलाइटिस सबसे आम ऑटो-इम्यून टाइप होती है और बाद में 18 से 45 वर्ष की आयु में 58 प्रतिशत प्रभावित महिलाओं में डिम्बग्रंथि टेराटोमा का कारण बनता है।

एन्सेफलाइटिस लेथर्गिका – यह तेज़ बुखार, सिरदर्द, देरी से शारीरिक प्रतिक्रिया और सुस्ती से  पहचाना जाता है। इसका कारण अभी तक पता नहीं चल पाया है|

एन्सेफलाइटिस के खतरे के कारक क्या हैं?

आयु – युवा बच्चों और बुजुर्ग वयस्कों को ज्यादातर प्रकार के वायरल एन्सेफलाइटिस का ज्यादा खतरा होता है।

कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली – एचआईवी/एड्स के रोगी जो प्रतिरक्षा-दबाने वाली दवाएं लेते हैं या कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण होने वाली स्थिति से एन्सेफलाइटिस का खतरा बढ़ जाता है।

जलवायु – गर्मी के दौरान मच्छर और टिक-ब्रोन बीमारियां ज्यादा होती हैं।

Read More: Lower Respiratory Tract Infection in HindiMalaria in Hindi

एन्सेफलाइटिस के लक्षण क्या हैं?

  • वयस्क रोगियों के लक्षणों में बुखार, सिरदर्द, भ्रम और कभी-कभी दौरे की तेज़ शुरुआत भी होती है।
  • छोटे बच्चों या शिशुओं के लक्षणों में चिड़चिड़ापन, खराब भूख और बुखार होता है।
  • मस्तिष्क को ढंकने वाले मेनिंगों की जलन के कारण अक्सर गर्दन कठोर हो जाती है, इससे पता चलता है कि रोगी में या तो मेनिनजाइटिस या मेनिंगोएन्सेफलाइटिस है|

एन्सेफलाइटिस को कैसे पहचाना जाता है?

ब्रेन स्कैन – इससे होने वाले अन्य कारणों से सूजन का पता लगाने और अंतर करने के लिए एमआरआई किया जाता है।

ईईजी – यह दिमाग की गतिविधि की निगरानी के लिए किया जाता है क्योंकि यदि एन्सेफलाइटिस मौजूद है तो यह एक असामान्य संकेत उत्पन्न करता है|

लम्बर पेंचर (रीढ़ की हड्डी) – सेरेब्रोस्पाइनल तरल पदार्थ में बदलाव मस्तिष्क में इन्फेक्शन और सूजन का संकेत दे सकते हैं।

रक्त की जांच और मूत्र का विश्लेषण – यह वायरस या अन्य संक्रामक एजेंटों के परीक्षण के लिए किया जाता है।

पॉलिमरेज़ चेन रिएक्शन (पीसीआर) – यह वायरल डीएनए की उपस्थिति का पता लगाने के लिए किया जाता है जो वायरल एन्सेफलाइटिस का संकेत है।

एन्सेफलाइटिस को कैसे रोकें और नियंत्रित करें?

सफाई की आदत डाले – शौचालय और भोजन के पहले और बाद में साबुन और पानी से अक्सर हाथ धोएं|

बर्तन साझा न करें – किसी के साथ भी टेबल पर बर्तन और पीने की चीज़ें साझा न करें।

बच्चों को अच्छी आदतें सिखाएं – बच्चों को साफ़ सफाई की आदत डालें और घर और स्कूल में बर्तन साझा करना टालना चाहिए।

टीकाकरण जरूर कराएँ – बच्चों को इसका टीका जरूर लगवाना चाहिए और दूसरे देश में यात्रा करने से पहले भी टीकाकरण जरूर करवाना चाहिए।

सुरक्षात्मक कपड़े पहनें – शाम और सुबह के बीच मच्छरों के सबसे ज्यादा सक्रिय होने के समय पर बाहर जाते समय लंबी आस्तीन वाली शर्ट और लंबी पैंट पहनें।

एन्सेफलाइटिस का उपचार – एलोपैथिक उपचार

शारीरिक चिकित्सा – यह चिकित्सा शक्ति, लचीलापन, संतुलन, मोटर को-ओरडीनेशन और गतिशीलता में सुधार करती है।

ओक्यूपेशनल थेरेपी – यह चिकित्सा रोज़ के काम करने के कौशल को विकसित करती है और अनुकूल चीज़ों का उपयोग करके रोजमर्रा की गतिविधियों में मदद करती हैं।

स्पीच थेरेपी – यह थेरेपी भाषण देने के लिए मांसपेशियों के नियंत्रण को मुक्त करने में मदद करती है।

मेडिकेशनस

एंटीवायरल दवाएं – एसाइक्लोविर, गैन्सीक्लोविर का प्रयोग तब किया जाता है जब कोई वायरस बीमारी का कारण बनता है।

एंटीबायोटिक्स – बैक्टीरिया के कारण होने पर इनका उपयोग किया जाता है।

स्टेरॉयड – इनका उपयोग मस्तिष्क की सूजन को कम करने के लिए किया जाता है।

सेडेटिव्स – अस्वस्थता के लिए सेडेटिव्स दिए जाते हैं।

एसिटामिनोफेन – यह बुखार के लिए दिया जाता है।

एन्सेफलाइटिस का उपचार – होम्योपैथिक उपचार

बेल्लाडोना – यह डेलिरियम के साथ तेज़ बुखार के लिए है।

गेल्समियम – यह तब दिया जाता है जब सिरदर्द, वर्टिगो और गर्दन और कंधे में दर्द के साथ बुखार होता है।

हेलेबोरस – जब मस्तिष्क में सूजन होती है तो हेलेबोरस दिया जाता है।

ह्योस्क्यमस – यह तब दिया जाता है जब मस्तिष्क की सूजन के साथ सिर और चेहरे पर भी  होती है।

स्ट्रैमोनियम – यह तब दिया जाता है जब गर्मी से मस्तिष्क की सूजन और वर्टेक्स का पल्सेशन होता है।

आर्सेनिक अल्बा – जब मस्तिष्क में डी-जेनेरेटीव बदलाव होते हैं तब ये दवा दी जाती है|

एन्सेफलाइटिस – जीवन शैली के टिप्स

  • इन्फेक्टेड लोगों से दूर रहें|
  • बेहतर मदद पाने के लिए विभिन्न उपचारों में भाग लें।

एन्सेफलाइटिस वाले व्यक्ति के लिए क्या व्यायाम हैं?

10 से 15 मिनट की रोजाना ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने की सलाह दी जाती है।

एन्सेफलाइटिस और गर्भावस्था – जानने योग्य बातें

  • यदि ठीक से इलाज ना किया जाए तो गर्भावस्था के दौरान एन्सेफलाइटिस भ्रूण को नष्ट कर सकता है
  • एन्सेफलाइटिस माँ को इन्फेक्शन होने के कारण हो सकता है जैसे हर्पीस सिम्प्लेक्स वायरस (एचएसवी), ग्रुप-बी स्ट्रेप (जीबीएस), मूत्र पथ का संक्रमण (यूटीआई), जीवाणु वेजिनोसिस (बीवी), और कोरियोमोनियोनाइटिस जो जन्म के दौरान बच्चे में पास हो जाता है।
  • ये इन्फेक्शन सेप्सिस, सेप्टिक शॉक और मेनिनजाइटिस का कारण बन सकते हैं, जो एन्सेफलाइटिस का कारण होते हैं|
  • सेप्टिक शॉक बच्चे को ऑक्सीजन से वंचित कर सकता है और हाइपोक्सिक-इस्कैमिक एन्सेफेलोपैथी का कारण बन सकता है।
  • मेनिनजाइटिस के कारण एन्सेफलाइटिस को मेनिंगोएन्सेफलाइटिस कहा जाता है, जो नवजात शिशु में एन्सेफेलोपैथी का ही एक रूप है जो बच्चे के दिमाग में सूजन का कारण बनता है।
  • जब गर्भावस्था में एन्सेफलाइटिस का संदेह होता है तो एसाइक्लोविर और पेनिसिलिन का मेल देने की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे होने वाले लाभ से ज्यादा खतरे कहीं ज्यादा हैं।

एन्सेफलाइटिस से संबंधित सामान्य परेशानियाँ

  • सीज़र्स
  • बुरे सपने
  • बोलने में परेशानी
  • यादाश्त की समस्याएं
  • सुनने की समस्या

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven + three =