एपीपेन क्या है?

एपीपेन डिस्पोजेबल, पूर्वनिर्धारित और स्वचालित इंजेक्शन है जो खतरनाक एलर्जी की स्थिति के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है।

एपीपेन का उपयोग

  • एपीपेन एक आपातकालीन दवा है जिसमें एपिनेफ्राइन होता है जिसका प्रयोग कीट काटने, खाद्य उत्पादों, दवाओं या अन्य अज्ञात कारणों से होने वाली विभिन्न एलर्जी प्रतिक्रियाओं के लिए किया जाता है।
  • एपीपेन आपातकाल के दौरान स्वयं लेने के लिए है और इसे लेने के लिए किसी भी स्वास्थ्यकर्मी की जरूरत नहीं है।

एपीपेन दो रूपों में उपलब्ध है:

  • एपीपेन इंजेक्शन- 3 मि.ग्रा या 0.3 मि.ली एपिनेफ्राइन
  • एपीपेन जूनियर इंजेक्शन- 0.15 मि.ग्रा या 3 मि.ली एपिनेफ्राइन
इस दवा को खरीदें और 20% छूट प्राप्त करें: मेडलाइफप्रैक्टो

एपीपेन कैसे काम करता है?

  • एपीपेन में मुख्य घटक के रूप में एपिनेफ्राइन होता है जो फेफड़ों (ब्रोन्कियल फैलाव) में वायुमार्ग को खोलने के लिए जिम्मेदार एक महत्वपूर्ण न्यूरोट्रांसमीटर होता है और एनाफिलैक्सिस के दौरान होने वाली श्वास की समस्याओं को कम करने में मदद करता है।
  • एपिनेफ्राइन एनाफिलेक्सिस के अन्य लक्षणों जैसे प्रुरिटिस (खुजली), एंजियोएडेमा (दर्द रहित सूजन) और आर्टिकरिया (त्वचा की धड़कन) से राहत देता है।

एपीपेन कैसे लें

  • यदि जरूरी हो तो इस इंजेक्शन को कपड़ों के माध्यम से भी जांघ में या मांसपेशियों में दिया जा सकता है।
  • इसे अनजाने में नितंब, हाथ या पैर पर न लगायें|
  • कुछ मिनटों में ही एपीपेन का प्रभाव कम हो सकता है। एपीपेन के उपयोग के तुरंत बाद डॉक्टर को तलाश करें।
  • ऑटो इंजेक्टर एपीपेन का उपयोग केवल एक बार ही किया जा सकता है जिसके बाद इसे एक पंचर प्रूफ कंटेनर में फेंक देना चाहिए।
Read More: crestor ke fayde | enbrel ke fayde

भारत में एपीपेन का मूल्य

100.00 रुपये में 0.3 मि.ली. की 1 मि.ग्रा इंजेक्शन की शीशी

एपीपेन की सामान्य खुराक

एपिपेन की खुराक रोगी के शरीर के वजन पर निर्भर करती है।

30 किलो से अधिक वजन या उसके बराबर वजन वाले मरीजों को एपिपेन 0.3 मि.ग्रा. लेनी चाहिए।

15 से 30 किलो वजन वाले मरीजों को एपिपेन जूनियर 0.15 मि.ग्रा. लेनी चाहिए।

गंभीर एनाफिलैक्सिस के मामलों में, एपिपेन इंजेक्शन दोहराया जा सकता है। लेकिन एपिपेन की (2 से अधिक) खुराक चिकित्सक की सलाह के तहत ही लेनी चाहिए

एपीपेन से कब बचें?

एपीपेन एपिनेफ्राइन का आपातकालीन इंजेक्शन है जिसे सभी रोगियों द्वारा लिया जा सकता है क्योंकि यह एक जीवन रक्षक दवा है।

एपीपेन के दुष्प्रभाव

इसके उपयोगों के अलावा एपीपेन कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं जिनमें निम्न भी हो सकते हैं:

  • दिल की तेज़ धड़कन
  • घबराहट
  • पसीना आना
  • जी मिचलाना
  • पीली त्वचा
  • चक्कर आना
  • दुर्बलता
  • बहुत तेज सिरदर्द
  • पसीना आना
  • सांस लेने में कठिनाइयां
  • एंजाइना दिल की बीमारी वाले मरीजों में
  • रक्तचाप में तेज वृद्धि विशेष रूप से बुजुर्गों में सेरेब्रल रक्तस्राव

अंगों पर प्रभाव

किसी भी अंग पर इसका कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं देखा।

एलर्जी प्रतिक्रियाएं

  • एपीपेन के साथ एलर्जी प्रतिक्रियाएं देखी गयी है लेकिन यह एलर्जी उत्पाद में मौजूद सल्फाइट (सोडियम मेटाबिसल्फाईट) की उपस्थिति के कारण है, एपीपेन के कारण नहीं।
  • रोगी को एपिपेन का उपयोग रोकना नहीं चाहिए, भले ही सल्फाइट एलर्जी हो क्योंकि यह एक जीवन रक्षक दवा है।
Read More: entresto ke fayde

दवा इंटरैक्शन के बारे में सावधानी

बड़ी संख्या में दवाओं को एक-दूसरे के साथ प्रभाव डालते देखा गया है। इसलिए रोगी को अपने डॉक्टर को अपने द्वारा प्रयोग की जाने वाली सभी दवाइयों या काउंटर उत्पादों या विटामिन की खुराक के बारे में सूचित करना चाहिए।

एपिपेन के साथ डालने वाली कुछ दवाओं की सूची:

  • डायजोक्सिन
  • बीटा अवरोधक
  • मोनोमाइन ऑक्सीडेस अवरोधक
  • एंटीडिप्रेसन्ट
  • एर्गोगो एल्कोलोइड
  • मूत्रल
  • क्लोर्फिरामिन

प्रभाव या परिणाम

एपिपेन को मांसपेशियों में लेने के तुरंत बाद अपना प्रभाव दिखाना शुरू कर देता है।

सामान्य प्रश्न

क्या एपीपेन नशे की लत है?

एपीपेन के आदत बनने की कोई सूचना नहीं मिली है।

क्या शराब के साथ एपीपेन ले सकते हैं?

एपीपेन लेने के दौरान शराब लेने पर इसके प्रभाव अज्ञात है इसके लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें|

क्या किसी भी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?                                                                                    

किसी भी खाद्य उत्पाद के साथ लेने पर कोई प्रभाव नहीं देखा गया |

क्या गर्भवती होने पर एपीपेन ले सकते हैं?

गर्भावस्था के दौरान एपिपेन लेने की सलाह नहीं दी जाती क्योंकि गर्भवती महिलाओं में एपीपेन के प्रभाव के पर्याप्त अध्ययन नहीं हैं। यदि आप गर्भवती हैं या गर्भवती होने की योजना बना रही हैं तो अपने डॉक्टर को सूचित करें।

क्या बच्चे को स्तनपान कराने के दौरान एपीपेन ले सकते हैं?

स्तनपान कराने वाली महिलाओं को एपीपेन का उपयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि मानव स्तन के दूध में एपिनेफ्राइन उत्सर्जित होता है या नहीं इसके बारे में पर्याप्त अध्ययन नहीं हैं।

क्या एपीपेन लेने के बाद ड्राइव कर सकते हैं?

एपीपेन ड्राइव करने की क्षमता को प्रभावित नहीं करता इसलिए कुछ रोगियों उनींदापन, थकान, सिरदर्द, झटके आदि का अनुभव हो तो भारी मशीनरी या वाहन चलाने के दौरान एपीपेन का सावधानी से उपयोग करना चाहिए।

अगर एपीपेन अधिक मात्रा में ली जाए तो क्या होता है?

एपीपेन एक आपातकालीन दवा है जिसे केवल आपातकालीन परिस्थितियों में जीवन को खतरे से बचाने के लिए लिया जाना चाहिए।

यदि एक्सपायरी हो चुकी एपीपेन लें तो क्या होता है?

इससे एपीपेन की शक्ति कम हो सकती है और यह जीवन की खतरनाक परिस्थितियों के लिए सहायक नहीं होता|

यदि एपीपेन की खुराक लेनी याद ना रहे तो क्या होता है?

एपिपेन केवल आपातकालीन परिस्थितियों में ही लिया जाता है। गंभीर एनाफिलेक्सिस मामलों में इसकी खुराक को दोहराया जा सकता है।

भण्डारण

  • इसे कमरे के तापमान पर सीधी गर्मी और प्रकाश से बचाकर रखें|
  • बच्चों और पालतू जानवरों से इस दवा को दूर रखें।
  • इस दवा को फ्रीज न करें।

एपीपेन लेते समय टिप्स

पूर्व-मौजूदा हृदय रोग वाले मरीजों जैसे कार्डियक एराइथेमिया, कोरोनरी हृदय रोग, उच्च रक्तचाप,

हाइपरथायरायडिज्म, मधुमेह, पार्किंसंस रोग वाले मरीजों को भी एपिपेन का सावधानी से उपयोग करना चाहिए।

👋CashKaro Exclusive Offer👋

Hungry for more Cashback 💸? Download CashKaro App to get a Rs 60 bonus Cashback + Save up to Rs 15,000/month on online shopping.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

5 × 1 =