Erythromycin in Hindi एरिथ्रोमाइसिन: प्रयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स, मूल्य, संयोजन, सावधानियां

0
386

Erythromycin in Hindi एरिथ्रोमाइसिन: प्रयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स, मूल्य, संयोजन, सावधानियां

1What is Erythromycin in Hindi – एरिथ्रोमाइसिन क्या है?

एरिथ्रोमाइसिन एक एंटीबायोटिक दवा है जो मैक्रोलाइड्स नामक एंटीबायोटिक दवाओं के समूह से संबंधित है।


2Uses of Erythromycin in Hindi – एरिथ्रोमाइसिन के उपयोग:

एरिथ्रोमाइसिन एक एंटीबायोटिक है जो आमतौर पर बैक्टीरिया के कारण होने वाले विभिन्न प्रकार के इन्फेक्शनस में उपयोग किया जाता है जैसे टॉन्सिल, साइनस, त्वचा, कान, नाक और गले में इन्फेक्शन, श्वसन पथ और फेफड़ों (निमोनिया) में इन्फेक्शन, बैक्टीरियल एंडोकार्डिटिस की रोकथाम और आमवाती बुखार|


3How does Erythromycin work in Hindi – एरिथ्रोमाइसिन कैसे काम करता है?

एरिथ्रोमाइसिन मैक्रोलाइड एंटीबायोटिक्स के वर्ग से संबंधित है जो बैक्टीरिया में जरूरी प्रोटीन के संश्लेषण में हस्तक्षेप करता है जिससे बैक्टीरिया का बढना पूरी तरह से बंद हो जाता है।


4How to Take Erythromycin in Hindi – एरिथ्रोमाइसिन कैसे लें?

  • एरिथ्रोमाइसिन आमतौर पर टैबलेट और सस्पेंशन के रूप में आता है जिन्हें मुंह, आंखों की बूंदों और इंजेक्शन के रूप में लेते हैं|
  • एरिथ्रोमाइसिन की गोलियाँ / सस्पेंशन आमतौर पर पानी के साथ मुंह से लिया जाता है जैसा कि डॉक्टर द्वारा बताया जाता है, आमतौर पर दिन में एक बार या बिना भोजन के। अच्छे परिणाम पाने के लिए, एरिथ्रोमाइसिन को समान समय के अंतराल पर लेना चाहिए।
  • इस दवा को समान रूप से लेने के लिए हर बार उपयोग से पहले निलंबन को अच्छी तरह से हिलाएं। दवा की सही खुराक का उपयोग करने के लिए नापने वाले कप का उपयोग करें।
  • एरिथ्रोमाइसिन का उपयोग तब तक जारी रखना चाहिए जब तक कि तय की गयी खुराक खत्म न हो जाए भले ही लक्षण गायब हों।

5Common Dosage For Erythromycin in Hindi – एरिथ्रोमाइसिन की सामान्य खुराक:

इस दवा की खुराक और उसे लेने का तरीका चिकित्सक के आधार पर तय किया जाता है:

  • रोगी की आयु और उसके शरीर का वजन
  • रोगी के स्वास्थ्य की स्थिति या चिकित्सा की स्थिति
  • रोग की गंभीरता
  • पहली खुराक लेने पर प्रतिक्रिया
  • एलर्जी या दवा प्रतिक्रियाओं का इतिहास
  • गोलियाँ और निलंबन

वयस्क के लिए इसकी खुराक हर 6 घंटे में 250 मि.ग्रा. या हर 12 घंटे में 500 मि.ग्रा. है। इसकी अधिकतम दैनिक खुराक 4 ग्रा. है।


6When To Avoid Erythromycin & precautions to take in Hindi – एरिथ्रोमाइसिन लेने से कब बचें?

वायरल संक्रमण (जैसे फ्लू, सामान्य सर्दी) के मामले में एरिथ्रोमाइसिन काम नहीं करती। एंटीबायोटिक के अनावश्यक उपयोग से बचना चाहिए क्योंकि इससे इसकी प्रभावकारिता कम हो जाती है।


7Side-effects of Erythromycin in Hindi – एरिथ्रोमाइसिन के साइड इफेक्ट्स?

इससे होने वाले सबसे आम प्रतिकूल प्रभाव दस्त, मतली, ऊपरी पेट में दर्द और उल्टी हैं।

इससे सीने में दर्द, चक्कर आना, बेहोशी, तेज़ दिल की धड़कन के साथ सिरदर्द भी पैदा हो सकता है| बुखार, गले में खराश, गहरे रंग का पेशाब, मिट्टी के रंग का मल और पीलिया, तेज़ या अनियमित दिल की धड़कन हो सकता है। अन्य ज्ञात दुष्प्रभावों में खुजली, चेहरे, गले, जीभ, होंठ, आंख, हाथ, पैर, टखने या निचले पैर में सूजन, अत्यधिक थकान, असामान्य मांसपेशियों की कमजोरी या मांसपेशियों के नियंत्रण में कठिनाई आदि शामिल हैं।


8Effects on organs in Hindi – अंगों पर प्रभाव?

जिगर और गुर्दे की बीमारियों से पीड़ित रोगियों को इसकी खुराक को बदलने की जरूरत होती है।


9Reported Allergic Reactions in Hindi – एलर्जी प्रतिक्रियाएं

इससे होने वाली एलर्जी प्रतिक्रियाओं में चकत्ते, साँस लेने या निगलने में कठिनाई, सूजन, स्वर बैठना आदि हो सकते हैं|


10Drug Interactions To Be Careful About in Hindi – दवा इंटरेक्शन के बारे में सावधानी

सभी इंटरेक्शन करने वाली दवाओं को यहाँ सूचीबद्ध नहीं किया जा सकता। इसलिए हमेशा यह सलाह दी जाती है कि रोगी को चिकित्सक से अपने द्वारा उपयोग की जाने वाली सभी दवाओं या उत्पादों के बारे में सूचित करना चाहिए।

यदि आप निम्न में से किसी भी दवा पर हैं तो अपने डॉक्टर को सूचित करना चाहिए

  • एलफेनटानिल
  • एलफुजोसिन
  • एल्प्राजोलम
  • ऐमियोडैरोन
  • एम्लोडीपिन
  • एस्टेमिजोल
  • एटोरवास्टेटिन
  • एजीथ्रोमायसिन
  • एंटिफंगल दवाएं जैसे कि केटोकोनाज़ोल, इट्राकोनाज़ोल
  • ब्रोमाज़ेपाम
  • ब्रोमोक्रिप्टीन
  • बसपिरोन
  • कार्बमेज़पाइन
  • क्लोरमफेनिकाल
  • सिसाप्राइड
  • क्लिंडामायसिन
  • क्लोबाजाम
  • क्लोनाज़ेपम
  • क्लोपिडोग्रेल
  • क्लोज़ापिन
  • क्लोचिसिन
  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स (जैसे मेथिलप्रेडनिसोलोन, प्रेडनिसोन, डेक्सामेथासोन)
  • साइक्लोस्पोरिन
  • डाबीगाट्रान
  • डायजेपाम
  • डिगोक्सिन
  • डीहाईरोएरगोटामाईन
  • डीलटियाजेम
  • डिसोपाईरामाइड
  • डाइवैलप्रोएक्स
  • ड़ोक्सेपिन
  • ड्रोनडरोन
  • एप्लेरनॉन
  • एर्गोटेमाइन
  • फेलोडीपिन
  • फेंटनील
  • फेक्सोफ़नाडीन
  • फ्लुराज़ेपाम
  • अंगूर का रस
  • लिंकोमायसिन
  • लिवोफ़्लॉक्सासिन
  • लोवासटाटिन
  • लोक्सापिन
  • मप्रोटीलाइन
  • मेफ्लोकुइनम
  • मेथाडोन
  • मेथासरगिड
  • मिडाजोलम
  • मोक्सिफ्लोक्सिन
  • नॉरफ्लोक्सासिन
  • फ़िनाइटोइन
  • फॉस्फोडिएस्टरेज़-5 इनहिबिटर्स (जैसे, सिल्डेनाफिल, टैडालफिल, वोडाफ़ेल)
  • पिमोजिड
  • प्रोपाफेनोन
  • प्रोटीन अवरोधक
  • कुएटियापिन
  • क़ुइनिडाईन
  • कुनेन की दवा
  • रीफाबूटिन
  • रिफम्पिन
  • रिसपेएरीडन
  • सलमीटरोल
  • सिमवस्टाटिन
  • सिरोलिमस
  • सोटोलोल
  • सिटालोप्राम, फ्लुओक्सेटीन, पैरॉक्सिटिन, सेराट्रेलिन)
  • टेक्रोलिमस
  • तेलीथ्रोमायसिन
  • टरफ़नाडीन
  • टेट्राबेनाजिन
  • थियोफिलाइन डेरिवेटिव (जैसे, थियोफिलाइन, एमिनोफिललाइन, ऑक्सीट्रिफ़लाइन)
  • थिओरिडाजिन
  • टोपोटेकैन
  • ट्रियाजोलम
  • ट्राइसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट्स (जैसे, एमिट्रिप्टिलाइन, नॉर्ट्रिप्टिलाइन)
  • ट्रीमिपरामाइन
  • वैल्प्रोइक एसिड
  • वेरापामिल
  • विन्का अल्कालॉइड एंटीइनोप्लास्टिक एजेंट (उदाहरण के लिए, विनब्लास्टाइन, विंक्रिस्टाइन, विनोरेलबाइन)
  • वॉरफारिन
  • ज़िप्रासिडॉन
  • जोपीक्लोन
  • आमतौर पर मैग्नीशियम या एल्यूमीनियम वाले एंटासिड्स को शरीर में एरिथ्रोमाइसिन के अवशोषण को कम करने के लिए जाना जाता है। इसलिए इसे एरिथ्रोमाइसिन लेने से कम से कम 2 घंटे पहले या बाद में लिया जाना चाहिए।
  • जब तक आपका डॉक्टर आपको न बताये तब तक एरीथ्रोमाइसिन का उपयोग करते समय कोई टीकाकरण नहीं लेना चाहिए।
  • आपको अपने डॉक्टर को उन हर्बल उत्पादों के बारे में भी जानकारी देनी चाहिए जिनका आप उपयोग कर रहे हैं| आपको अपने डॉक्टर की सलाह के बिना दवा में कोई फेरबदल  नहीं करना चाहिए

11Shows Effects / Results In Hindi – प्रभाव या परिणाम

एरिथ्रोमाइसिन लेने के कुछ ही दिनों में आप ठीक होना शुरू कर देते हैं लेकिन अपने शरीर से इन्फेक्शन को पूरी तरह ठीक करने  डॉक्टर द्वारा बताई गयी पूरी खुराक लें|


12Pro Tips When Taking Erythromycin in Hindi – टिप्स:

  • यदि आपको एरिथ्रोमाइसिन, क्लियरिथ्रोमाइसिन, डायरिथ्रोमाइसिन या एरिथ्रोमाइसिन की गोलियाँ या सस्पेंशन से एलर्जी है तो हमेशा अपने चिकित्सक को सूचित करें।
  • यदि आपको कभी भी पीलिया या कोई अन्य जिगर की समस्या हो, या यदि लिवर और गुर्दे की बीमारी का इतिहास हो तो एरिथ्रोमाइसिन लेने से पहले हमेशा अपने चिकित्सक को सूचित करें|
  • यदि आपको या आपके परिवार में किसी को भी अनियमित दिल की धड़कन, दिल की विफलता, बेहोशी या अचानक मृत्यु या खून के इन्फेक्शन का इतिहास है या सिस्टिक फाइब्रोसिस, मायस्थेनिया ग्रेविस, किडनी या लिवर की बीमारी है तो भी अपने डॉक्टर को सूचित करें|
  • यदि एरिथ्रोमाइसिन लेने के एक घंटे के भीतर ही उल्टी हो जाती है तो तुरंत अपने डॉक्टर को बुलाएं।

13Storage instructions in Hindi – भण्डारण

एरिथ्रोमाइसिन को सीधे ताप और प्रकाश से दूर ठंडी और सूखी जगह पर रखें|


14Frequently asked questions in Hindi – सामान्य प्रश्न

क्या एरिथ्रोमाइसिन नशे की लत है?

नहीं

क्या शराब के साथ एरिथ्रोमाइसिन ले सकते हैं?

नहीं

क्या किसी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?

नहीं

क्या गर्भवती होने पर एरिथ्रोमाइसिन ले सकते हैं?

यदि आप गर्भवती है तो एरिथ्रोमाइसिन लेने से पहले डॉक्टर को सूचित करें|

चूंकि गर्भवती महिलाओं में एरिथ्रोमाइसिन के प्रभाव पर कोई अध्ययन नहीं किया गया है, इसलिए गर्भावस्था के दौरान एरिथ्रोमाइसिन का उपयोग केवल तभी किया जाना चाहिए जब बहुत जरूरी हो।

क्या बच्चे को दूध पिलाते समय एरिथ्रोमाइसिन ले सकते हैं?

स्तनपान कराने वाली माताओं को एरिथ्रोमाइसिन का उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिये| एरिथ्रोमाइसिन के मान के दूध में पा होने के बारे में कोई सबूत नहीं हैं|

क्या एरिथ्रोमाइसिन लेने के बाद गाड़ी चला सकते हैं?

कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि एरिथ्रोमाइसिन कुछ लोगों की ड्राइविंग क्षमता को को प्रभावित कर सकती है, विशेष रूप से उन महिलाओं में जो 60 वर्ष से ज्यादा उम्र की हैं और 2 से 5 साल से ज्यादा समय से दवा ले रही हैं और एंटी-डिप्रेशन, उच्च-रक्तचाप की दवाओं पर हैं|

यदि एरिथ्रोमाइसिन ज्यादा मात्रा में ली जाए तो क्या होगा?

एरिथ्रोमाइसिन की ज्यादा मात्रा में लेने से यह अनियमित दिल की धड़कन या जिगर को नुकसान पहुंचा सकती है। यदि आपने इसकी खुराक ज्यादा ले ली है तो अपने चिकित्सक से तुरंत संपर्क करें|

यदि एक्सपाईरी हो चुकी एरिथ्रोमाइसिन लें तो क्या होगा?

ऐसी दवा काम नहीं करेगी और दवा की शक्ति भी कम हो जाती है और इसके कुछ प्रतिकूल प्रभाव भी हो सकते हैं|

यदि एरिथ्रोमाइसिन की खुराक लगनी याद ना रहे तो क्या होगा?

यह दवा अच्छी प्रकार काम नहीं करेगी क्योंकि दवा के ठीक से काम करने के लिए शरीर में दवा कि एक निश्चित मात्र होना जरूरी है इसलिए जैसे ही याद आये तो हमेशा भूली हुई खुराक को लें| लेकिन यदि अगली खुराक का पहले से ही समय हो गया हो तो दुगुनी खुराक न प्रयोग करें|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 − nine =