भारत के प्रसिद्ध शिव मंदिर (Famous Shiva Temples in India in Hindi): भारत के 8 पवित्र शिव मंदिरों की सूची

0
2504
Famous Shiva Temples in India in Hindi

1008 नामों वाले भगवान शिव को विनाशक भी कहा जाता है और साथ ही त्रिमुर्ति और सबसे शक्तिशाली देवता भी माना जाता है। शिव के 64 रूप हैं और देश भर में उनके इन्हीं रूपों की पूजा की जाती है। देश भर में शिव के बारह ज्योतिर्लिंग हैं जहां विभिन्न नामों से शिव के इन अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है। आइए भारत के इन सबसे प्रसिद्ध शिव मंदिरों पर नज़र डालते हैं|

भारत के 8 सबसे प्रसिद्ध शिव मंदिर

1. केदारनाथ

दुनिया भर में सबसे ज्यादा सम्मानित हिंदू मंदिरों में से एक केदारनाथ मंदिर है। यह हिमालय की रेंज के उत्तराखंड के गढ़वाल पर स्थित है। यह पंच केदार के पांच मंदिरों में से एक है। सर्दियों में भारी बर्फबारी के कारण यह मंदिर अप्रैल से मध्य नवंबर तक ही जनता के लिए खुलता है।

2. मल्लिकार्जुन स्वामी

मल्लिकार्जुन स्वामी मंदिर आंध्र प्रदेश के श्रीशैलम में है। यह मंदिर 12 जोतर्लिंग मंदिरों में से एक है। कृष्णा नदी के तट पर बने इस मंदिर में एक शानदार चांदी चड़ा एक दरवाजा और असाधारण सजावटी खंभे हैं। यह मंदिर लगभग 600 साल पहले राजा हरिहर राय ने बनवाया था।

श्रीशैलम पहुंचने का सबसे अच्छा तरीका हैदराबाद से फ्लाइट लेकर आगे बस लेना है। रेडबस कोड का प्रयोग करके छूट और कैशबैक ले सकते हैं|

3. महाकलेश्वर

महाकलेश्वर को स्वर्ग के मृत्यु का भगवान कहा जाता है। शिव का यह रूप भयंकर होता है और बुराइयों का विनाशक भी। यह मंदिर मध्य प्रदेश के उज्जैन शहर में है। इस मंदिर की विशाल अराती देखने लायक है|

महाकलेश्वर जाने के लिए आप प्रमुख शहरों से सीधी बस ले सकते हैं। अभिबस.कॉम से ऑफ़र देखें और अच्छी डील्स और कैशबैक का मज़ा लें।

4. ओमकारेश्वर

ओमकारेश्वर भारत की सबसे लोकप्रिय तीर्थ स्थलों में से एक है। यह नर्मदा नदी में ओम के आकार वाले एक द्वीप पर है। यहां अलग-अलग पुजारियों द्वारा दिन में तीन बार प्रार्थना की जाती है। यहाँ भगवान की मूर्ति के तीन-सिर हैं| यहाँ यात्रा करने के लिए सबसे अच्छा दिन सोमवार होता है और सबसे अच्छा समय हिन्दू कैलेंडर के पांचवें महीने के अनुसार सावन में होता है।

आप सभी बड़े शहरों से ओमकारेश्वर के लिए आसानी से ट्रेन ले सकते हैं। अच्छी कीमत पर टिकट पाने के लिए ट्रेन टिकट ऑफ़र का उपयोग करें।

5. भीमशंकर

भीमशंकर पुणे के 12 ज्योतिर्लिंग मंदिरों में से एक है। एक पौराणिक कथा के अनुसार एक राक्षस भीमशंकर के जंगलों में तपस्या करता था। जिससे प्रभावित होकर भगवान शिव ने उन्हें अमर होने का आशीर्वाद दिया और उनसे मानव जाति के सुधार के लिए अपनी शक्तियों का उपयोग करने के लिए कहा वर्ना उसकी मृत्यु हो जाएगी| समय बीतने के साथ दानव सब भूल गया और गलत काम करने लगा| मनुष्यों को बचाने के लिए शिव और पार्वती यानि अर्धनारीश्वर के रूप में पृथ्वी पर आये और उसे मार डाला। तब से भीमशंकर एक धार्मिक स्थल बन गया|

अपने रहने की चिंता किए बिना पुणे की यात्रा करें। अकबर ट्रेवल्स प्रोमो कोड का उपयोग करके आप  अच्छी होटल डील्स और कैशबैक पायें|

6. वैद्यनाथ मंदिर

वैद्यनाथ मंदिर झारखंड के देवघर में है। यह कहा जाता है कि रावण ने भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए अपने 10 सिर बलिदान में दे दिए थे। रावण की भक्ति से खुश होकर शिव देवघर पहुंचे और उनके कटे हुए सिर का इलाज किया। वैद्यनाथ नाम का शाब्दिक अर्थ “डॉक्टर लॉर्ड” है। मंदिर के आसपास अलग-अलग देवताओं के 22 मंदिर हैं।

7. नागेश्वर

नागेश्वर मंदिर गुजरात में सौरशा नदी के तट पर स्थित है। भगवान शिव का मुख्य पवित्र स्थान  जमीन के अन्दर है। इस मंदिर में 25 मीटर लम्बी भगवान शिव की मूर्ति और एक तालाब वाला बगीचा है। प्राचीन ग्रंथों में नागेश्वर को दारुकवाना के नाम से भी जाना जाता है।

सौरशा तक पहुंचने के लिए अहमदाबाद से उड़ान लेना सबसे आसान तरीका है और बाकि 5 घंटे की यात्रा तय करने के लिए टैक्सी लेनी होती है| मेकमाय ट्रिप कूपन कोड का उपयोग करके सबसे सस्ती फ्लाइट बुक करें।

8. ग्रिश्नेश्वर

यह मंदिर गुजरात में वेरुल नाम के एक छोटे से गांव के पास है। लाल चट्टानों से बना यह मंदिर पूर्व ऐतिहासिक वास्तुकला का एक नमूना है। माना जाता है कि यह इस धरती पर आखिरी ज्योतिर्लिंग मंदिर है जिसका निर्माण अहिल्याभाई होलकर ने करवाया|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four + 18 =