Flutibact in Hindi फ्लुटिबक्ट: उपयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स, मूल्य, संयोजन, सावधानियां

0
390

Table of Contents

Flutibact in Hindi फ्लुटिबक्ट: उपयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स, मूल्य, संयोजन, सावधानियां

1What is Flutibact in Hindi – फ्लूटिबैक्ट  क्या है?

  • फ्लूटिबैक्ट मरहम का उपयोग त्वचा की विभिन्न स्थितियों जैसे कि सोरायसिस, एक्जिमा, दाने आदि के उपचार के लिए किया जाता है।
  • फ्लूटिबैक्ट पानी में घुलनशील मलहम है जिसमें फ्लुटिकासोन (कोर्टिकोस्टेरोइड) और मुपिरोसिन (एंटीबायोटिक) का मेल होता है|

निर्माता – ग्लाक्सो स्मिथक्लीन फार्मासुटिकलस लि.

अन्य संस्करण और रचनाएं

संस्करण संरचना
फ्लूटिबैक्ट  200 मि.ग्रा. टेबलेट फ्लेवॉक्सेट (200 मि.ग्रा.)
फ्लूटिबैक्ट  ओ 200  मि.ग्रा. टेबलेट ओफ्लोक्सासिन(200 मि.ग्रा.) + फ्लेवोक्सेट (200 मि.ग्रा.)

 


2Uses of Flutibact in Hindi – फ्लूटिबैक्ट  के उपयोग

यह निम्न के लिए उपयोग होता है:

  • त्वचा का इन्फेक्शनस
  • एलर्जी संबंधी विकार

3How does Flutibact work in Hindi – फ्लूटिबैक्ट कैसे काम करता है?

फ्लूटिबैक्ट एक स्टेरॉयड दवा है। यह केमिकल मेसेंजर (प्रोस्टाग्लैंडिंस) के बनने में रूकावट डालती है जिनकी वजह से त्वचा पर सूजन और लाल खुजली वाले दाने हो जाते हैं। इन प्रोस्टाग्लैंडिंस के अवरोध से त्वचा की स्थिति में सुधार होता है|

यह बैक्टीरिया के अस्तित्व के लिए जरूरी प्रोटीन के उत्पादन को रोककर बैक्टीरिया को भी मारता है|


4Flutibact Price in India in Hindi – भारत में फ्लूटिबैक्ट का मूल्य

फ्लूटिबैक्ट क्रीम 10 ग्रा. 162 रुपये

 


5How to take Flutibact in Hindi – फ्लूटिबैक्ट कैसे उपयोग करें?

  • फ्लूटिबैक्ट त्वचा पर लगाने के लिए क्रीम के रूप में मिलती है।
  • हाथों को धोने और उस जगह को सुखाने के बाद क्रीम की एक पतली परत लगानी चाहिए।
  • यदि उपचार के 10 दिनों में भी स्थिति में सुधार नहीं होता या बिगड़ जाता है तो उपचार बंद कर दें।
  • फ्लूटिबैक्ट थेरेपी को धीरे-धीरे बंद करना चाहिए, अचानक नहीं।

6Common Dosage of Flutibact in Hindi – फ्लूटिबैक्ट की सामान्य खुराक

हालत की गंभीरता के आधार पर या चिकित्सक के बताये  अनुसार फ्लूटिबैक्ट मलहम को रोजाना एक या दो बार लगाना  चाहिए।


7When to avoid Flutibact in Hindi – फ्लूटिबैक्ट से कब बचें?

  • अगर आपको इससे या इसमें मौजूद किसी अन्य तत्व से एलर्जी है तो फ्लूटिबैक्ट से बचें|
  • रोसैसिया, मुँहासे वल्गेरिस, पेरियोरल, डर्मेटाइटिस, सूजन के बिना प्रुरिटस, पेरिअनल और जननांग प्रुरिटस जैसे संक्रमणों में उपयोग के लिए फ्लूटिबैक्ट की सिफारिश नहीं की जाती|
  • यह त्वचा के प्राथमिक वायरल, फंगल, खमीर और बैक्टीरिया के इन्फेक्शन और 3 महीने से कम उम्र के शिशुओं में जिल्द की सूजन और नैपी रशेस में नहीं लगाना चाहिए|

8Drug interactions to be careful about in Hindi – दवा इंटरेक्शन के बारे में सावधानी

फ्लूटिबैक्ट का प्रयोग करते समय निम्न दवाओं से बचना चाहिए:

  • रिटनोंविर
  • इट्राकोनाजोल
  • साइक्लोस्पोरिन ए
  • फुरोसेमाइड
  • फ़िनाइटोइन
  • प्रीमिडॉन
  • रिफैम्पिसिन
  • थियोफिलाइन
  • वारफरिन

9Precautions when taking Flutibact in Hindi – फ्लूटिबैक्ट लेते समय सावधानियां

  • यह केवल बाहरी उपयोग के लिए है, इसे आंखों के संपर्क से बचाएं और चेहरे पर इसका उपयोग न करें|
  • खुले घाव, सूखी, जकड़ी हुई, या धूप में जली हुई त्वचा पर इसे न लगायें|
  • फ्लूटिबैक्ट लगाने से पहले और बाद में अपने हाथों को धो लें|

10Side Effects of Flutibact in Hindi – फ्लूटिबैक्ट के साइड इफेक्ट्स

  • इसे लगाने पर उस जगह पर रिएक्शन (जलन, खुजली और लाली)
  • प्रुरिटिस (त्वचा में खुजली)
  • त्वचा का पतला होना
  • खिंचाव के निशान
  • लाल चकत्ते
  • त्वचा का सूखापन

11Are There Any Reported Allergic Reactions in Hindi – एलर्जी प्रतिक्रियाएं

इससे होने वाली एलर्जी प्रतिक्रियाएँ निम्न हैं:

  • हीव्स, चकत्ते
  • सांस लेने में कठिनाई
  • चेहरे, होठों, जीभ या गले पर सूजन

12Effect of Flutibact on organs in Hindi – अंगों पर प्रभाव

  • त्वचा और चमड़ी के नीचे के टिश्यू विकार- प्रुरिटस (खुजली)।

13Shows effects / Results in Hindi – प्रभाव या परिणाम

  • फ्लूटिबैक्ट प्रोस्टाग्लैंडिंस के बायोसिंथेसिस में रूकावट डालता है और ल्यूकोट्रिएनस से प्रभावित क्षेत्र में लाली, सूजन और दर्द को कम करता है।
  • यह बैक्टीरिया के प्रोटीन के संश्लेषण में भी रूकावट डालता है जिससे बैक्टीरिया की मृत्यु हो जाती है, और इन्फेक्शन को और अधिक फैलने से रोका जा सकता है|

14Storage Requirements of Flutibact in Hindi – भंडारण

  • इसे एक एयर-टाइट कंटेनर में रखें|
  • सीधे प्रकाश या नमी से दूर रखें|
  • बच्चों की पहुंच से दूर रखें|

15Pro Tips in Hindi – टिप्स

  • फ्लूटीबैक्ट दवा त्वचा के फंगल या वायरल इन्फेक्शन के लिए प्रभावी नहीं है|
  • फ्लूटीबैक्ट मलहम से संरोधक ड्रेसिंग नहीं की जानी चाहिए क्योंकि इससे इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है|
  • 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में इसका उपयोग ना करें क्योंकि शिशुओं को लम्बे समय तक कॉर्टिकोस्टेरॉइड थेरेपी लेने के कारण एड्रेनल सप्रेशन हो सकता है|

16FAQs in Hindi – सामान्य प्रश्न

क्या फ्लूटिबैक्ट नशे की लत है?

नहीं

क्या शराब के साथ फ्लूटिबैक्ट ले सकते हैं?

शराब के साथ फ्लूटिबैक्ट का उपयोग करने पर इसके प्रभाव  अज्ञात हैं।

किसी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?

नहीं

क्या गर्भवती होने पर फ्लूटिबैक्ट ले सकते हैं?

पशु अध्ययन से भ्रूण पर कोई भी प्रतिकूल प्रभाव नहीं दिखाई दिया| (भ्रूण के विकास की असामान्यता)।

क्या बच्चे को स्तनपान कराते समय फ्लूटिबैक्ट ले सकते हैं?

स्तनपान करने वाली माताओं को इसका प्रयोग तभी करना चाहिए जब इसके लाभ ज्यादा हों|

क्या फ्लूटिबैक्ट  लेने के बाद गाड़ी चला सकते हैं?

हाँ|

यदि फ्लूटिबैक्ट ज्यादा मात्रा में लगायें तो क्या होगा?

फ्लूटिबैक्ट ज्यादा मात्रा में उपयोग करने से हाइपरकोर्टिसोलिज्म के लक्षण दिख सकते हैं।

यदि एक्सपायरी हो चुकी फ्लूटिबैक्ट प्रयोग करें तो क्या होगा?

एक्सपायरी दवा आपके इलाज के लिए अप्रभावी हो सकती है, इस लिए सुरक्षित रहने के लिए यह महत्वपूर्ण है कि एक्सपायरी दवा का उपयोग न करें।

यदि फ्लूटिबैक्ट की एक खुराक लगनी याद ना रहे तो क्या होगा?

यदि इसकी खुराक लेनी याद ना रहे तो उस खुराक को छोड़कर अपनी सामान्य खुराक उपयोग करें| भूली हुई खुराक की वजह से दुगुनी दवा का प्रयोग ना करें|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 − one =