उच्च कोलेस्ट्रॉल (High Cholesterol in Hindi): लक्षण, कारण, निदान और उपचार

0
332
High Cholesterol in Hindi

उच्च कोलेस्ट्रॉल को हाइपरकोलेस्टेरोलिया भी कहा जाता है| यह खून में कोलेस्ट्रॉल की उच्च मात्रा की वजह से होता है।

कोलेस्ट्रॉल एक लिपिड, फैट जैसी चीज़ है जो सेल की झिल्ली, कुछ हार्मोन और विटामिन-डी के गठन के लिए महत्वपूर्ण है। जिगर इसे पैदा करता है और यह पानी में घुलनशील नहीं होता क्योंकि जिगर ही लिपोप्रोटीन पैदा करता है। यह प्रोटीन खून के बहाव से कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स ले जाते हैं।

लिपोप्रोटीन के दो प्रमुख रूप हैं लो-डेंसिटी लिपोप्रोटीन (एलडीएल) और हाई-डेंसिटी लिपोप्रोटीन (एचडीएल)। हाइपरकोलेस्टेरोलिया मूल रूप से एल.डी.एल का ज्यादा उत्पादन होता है। कोलेस्ट्रॉल की ज्यादा मात्रा आमतौर पर कोई लक्षण पैदा नहीं करती जिस कारण नियमित रूप से कोलेस्ट्रॉल के स्तर की जांच करना जरूरी होता है।

उच्च कोलेस्ट्रॉल रक्त में फैट जमा कर सकता है जो धमनियों के माध्यम से खून के बहाव को मुश्किल बना देता है। इससे दिल को ऑक्सीजन युक्त खून नहीं मिलता है जिससे दिल के दौरे का खतरा बढ़ जाता है। यह दिमाग में खून के बहाव को और कम कर सकता है, जिससे स्ट्रोक होता है। हाइपरकोलेस्ट्रोलेमिया विरासत में मिल सकता है या अस्वास्थ्यकर जीवनशैली का परिणाम है और यह इलाज योग्य है।

 और पढो: गॉलस्टोन in hindiगोउटी गठिया in hindi

हाई कोलेस्ट्रॉल शरीर को कैसे प्रभावित करता है?

कोलेस्ट्रॉल के उच्च स्तर की वजह से कार्डियोवैस्कुलर बीमारी का खतरा बढ़ जाता है| धमनियों में बनने वाला फैट जमा होकर कोलेस्ट्रॉल में बढ़ोतरी करते हैं| जो समय के साथ धमनियों को संकुचित करते हैं जिससे दिल के महत्वपूर्ण अंगों में खून का बहाव सीमित हो जाता है।

यदि धमनी में जमी फैट की सतह टूट जाती है या फट जाती है तो यह खून के थक्के बनने का कारण बन सकती है जो दिल में खून की आपूर्ति पूरी तरह से बंद हो जाती है, जिससे दिल का दौरा पड़ता है। यह दिमाग में खून की आपूर्ति को भी रोक सकता है, जिससे स्ट्रोक हो सकता है।

उच्च कोलेस्ट्रॉल के क्या कारण हैं?

निष्क्रियता, मोटापा और अस्वास्थ्यकर आहार जैसे कारक हाई एलडीएल कोलेस्ट्रॉल और लो एचडीएल कोलेस्ट्रॉल में योगदान देते हैं। जेनेटिक्स कोशिकाओं को खून से एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को हटाने के लिए प्रभावित करती है या जिगर को बहुत ज्यादा कोलेस्ट्रॉल के बनने का कारण बनती है।

उच्च कोलेस्ट्रॉल के खतरे के क्या कारक हैं?

उच्च कोलेस्ट्रॉल के खतरे के कारकों में निम्न हैं:

  • खराब आहार – सैचुरेटेड फैट और ट्रांस फैट खाने से कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ सकता है।
  • मोटापा – 30 या उससे भी ज्यादा बी.एम.आई बढे हुए कोलेस्ट्रॉल का खतरा डाल सकती है।
  • व्यायाम की कमी – एलडीएल कोलेस्ट्रॉल बनाने वाले कणों के आकार के बढने से एचडीएल कोलेस्ट्रॉल को बढ़ावा देने में व्यायाम मदद करता है जो इसे कम हानिकारक बनाता है।
  • धूम्रपान – धूम्रपान खून ले जाने वाली नलियों की दीवारों को नुकसान पहुंचाता है, जिससे फैट जमा होने की संभावना बढ़ जाती है।
  • मधुमेह – खून में शक्कर की ज्यादा मात्रा हाई एलडीएल कोलेस्ट्रॉल और लो एचडीएल कोलेस्ट्रॉल बनने में योगदान देती है और धमनियों की परत को भी नुकसान पहुंचाती है।

हाई कोलेस्ट्रॉल के लक्षण क्या हैं?

हाई कोलेस्ट्रॉल में कोई लक्षण नहीं है।

 और पढो: हर्निया in hindi | फ्लू in hindi

हाई कोलेस्ट्रॉल की पहचान कैसे की जाती है?

खून के परीक्षण से हाई कोलेस्ट्रॉल का स्तर पहचाना जाता है।

हाई कोलेस्ट्रॉल को कैसे रोकें और नियंत्रित करें?

  • फल, सब्जियां और साबुत अनाज सहित कम नमक वाला आहार खाने से हाई कोलेस्ट्रॉल को रोका जा सकता है।
  • पशु वसा की मात्रा कम करने से कोलेस्ट्रॉल के उच्च स्तर का खतरा कम हो सकता है।
  • स्वस्थ वजन बनाए रखें।
  • धूम्रपान और शराब छोड़ दें, शराब की केवल मामूली मात्रा का ही उपभोग करें|
  • 30 मिनट के लिए नियमित व्यायाम, हर हफ्ते हाइपरकोलेस्टेरोलिया को रोक सकता है।

हाई कोलेस्ट्रॉल का उपचार – एलोपैथिक उपचार

उपयोग की जाने वाली दवाएं-

स्टेटिन – स्टेटिन शरीर की धमनियों की दीवारों में बिल्ट-अप जमा से कोलेस्ट्रॉल को दोबारा स्थापित करने में मदद मिलती है, संभावित रूप से कोरोनरी धमनी रोग को उलटते हैं। इनमें एटोरवास्टैटिन (लिपिटर), फ्लुवास्टैटिन (लेस्कोल), लवस्टैटिन (अल्टॉप्रेव), पिटावास्टैटिन (लिवलो), प्रवास्टैटिन (प्रवाचोल), रोसुवास्टैटिन (क्रेस्टोर) और सिम्वास्टैटिन (ज़ोकोर) आदि शामिल हैं।

बाईल-एसिड-बाईन्ड-रेजिन – कोलेस्ट्रेलिन (प्रीवालाइट), कोलेसेवेल्म (वेल्चोल) और कोलेस्टिपोल (कोलेस्टिड) निम्न स्तर के कोलेस्ट्रॉल से अप्रत्यक्ष रूप से पित्त के एसिड के लिए बाध्यकारी जो जिगर को ज्यादा पित्त एसिड के लिए कोलेस्ट्रॉल का उपयोग करने के लिए बनाता है, जिससे कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम हो जाता है।

कोलेस्ट्रॉल एबसोर्पशन इनहीबिटर्स – एज़ेटीमिब (ज़ेटिया) आहार में कोलेस्ट्रॉल के अवशोषण को सीमित करके खून में कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है।

इंजेक्टेबल मेडिकेशनस – एलिरोकैमब (प्रैलाएंट) और इवोल्मोकैब (रिपथा) का उपयोग उन लोगों में  किया जा सकता है जिनकी स्थिति जेनेटिक है जो एलडीएल के ऊँचे स्तर या उन लोगों में होती है जिनके पास स्टेटिन या अन्य कोलेस्ट्रॉल दवाओं से असहिष्णुता होती है।

2 साल से ऊपर के बच्चों के लिए आहार और व्यायाम इसके प्रारंभिक उपचार है जिनके पास हाई  कोलेस्ट्रॉल होता है या वे मोटापे से ग्रस्त होते हैं। 10 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों को कोलेस्ट्रॉल कम करने वाली दवाओं के साथ तय की जा सकती है जैसे कि उनको ज्यादा हाई कोलेस्ट्रॉल का स्तर होता है।

हाई कोलेस्ट्रॉल का उपचार – होम्योपैथिक उपचार

  • एलियम सैटिवम – यह हाई कोलेस्ट्रॉल के स्तर की प्राकृतिक दवा है जो जीवन शक्ति को बढ़ाकर शरीर के कोलेस्ट्रॉल को खत्म करने में मदद करती है। धमनियों में कोलेस्ट्रॉल जमा होने के कारण यह उच्च रक्तचाप का भी इलाज करती है।
  • ऑरम मैटेलिकम – यह उच्च कोलेस्ट्रॉल के उन मामलों के लिए है जहां कोलेस्ट्रॉल जमा के कारण धमनियां कठोर हो गई हैं और उच्च रक्तचाप भी हो|
  • कैल्केरिया कार्बनिका – यह मोटापे या अधिक वजन वाले मरीजों में उच्च कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए दिया जाता है। यह उन मरीजों के लिए भी बहुत मददगार है जो छाती में दबाव की शिकायत करते हैं|
  • नक्स वोमिका – यह शराब की लालसा, उच्च कोलेस्ट्रॉल के साथ फैटी खाने वाले मरीजों के लिए है।
  • क्रेटेगेस ऑक्सीकंथा – यह दवा धमनियों में कोलेस्ट्रॉल के जमा होने के परिणामस्वरूप हृदय को कम खून की आपूर्ति के कारण दिल की मांसपेशियों के लिए टॉनिक के रूप में काम करता है।
  • बर्यटा मुरीएटिकम – यह दवा तब फायदेमंद होती है जब कोलेस्ट्रॉल प्लाक धमनियों में जमा हो जाता है जो दिल और दिमाग पर प्रभाव डालते हैं।

हाई कोलेस्ट्रॉल – जीवन शैली के टिप्स

  • दिल के लिए स्वस्थ भोजन खाएं
  • सैचुरेटेड और ट्रांस फैट से बचें।
  • अपने आहार में साबुत अनाज, फल और सब्जियां लें|
  • शराब संयम में पियें।
  • अतिरिक्त वजन कम करें|
  • नियमित रूप से व्यायाम करें|
  • धूम्रपान ना करें|

हाई कोलेस्ट्रॉल वाले व्यक्ति के लिए क्या व्यायाम हैं?

हाई कोलेस्ट्रॉल वाले व्यक्ति के लिए निम्न व्यायाम की सलाह दी जाती है:

  • चलना
  • सायक्लिंग
  • जॉगिंग
  • तैरना
  • एरोबिकस

हाई कोलेस्ट्रॉल और गर्भावस्था – जानने योग्य बातें

  • दूसरी तिमाही के दौरान कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ता है, तीसरी के दौरान चोटी पर और आम तौर पर डिलीवरी के बाद लगभग चार सप्ताह तक सामान्य हो जाता है।
  • गर्भावस्था के दौरान बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल जरूरी है लेकिन गर्भधारण से पहले इसका उच्च स्तर उच्च रक्तचाप का खतरा पैदा कर सकता है।
  • हाइपरकोलेस्टेरोलिया गर्भावस्था से प्रेरित उच्च रक्तचाप का कारण बन सकता है जो मां और बच्चे दोनों के जीवन को खतरे में डाल सकता है।
  • गर्भावस्था के दौरान कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने के लिए, फल, सब्जियां और फाइबर के साथ संतुलित आहार लें| सैचुरेटेड फैट लेने से बचें और अपने डॉक्टर द्वारा बताये गये स्तर पर व्यायाम करें।

उच्च कोलेस्ट्रॉल से संबंधित सामान्य परेशानियाँ

उच्च कोलेस्ट्रॉल के कारण निम्न हो सकता है:

  • अथेरोस्क्लेरोसिस
  • एनजाईना और अन्य कोरोनरी धमनी रोग
  • दिल का दौरा
  • स्ट्रोक

सामान्य प्रश्न

अच्छे और बुरे कोलेस्ट्रॉल के बीच क्या अंतर है?

एचडीएल कोलेस्ट्रॉल को अच्छे कोलेस्ट्रॉल के रूप में जाना जाता है और जो खून से खराब कोलेस्ट्रॉल ले लेता है और धमनियों में इसे बनने से रोकता है। एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को खराब कोलेस्ट्रॉल के रूप में जाना जाता है क्योंकि यह धमनियों की दीवारों पर बनता है और कार्डियोवैस्कुलर बीमारी पाने की संभावनाएँ बढ़ सकती हैं|

क्या कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करके दिल की बीमारी का खतरा कम किया जा सकता है?

जब ​​व्यक्ति के कुल कोलेस्ट्रॉल में कम एलडीएल होता है तो दिल की बीमारी का खतरा कम हो जाता है।

किस उम्र में अपने कोलेस्ट्रॉल की जांच शुरू करनी चाहिए?

कोलेस्ट्रॉल को 20 साल से कम में हर पांच साल में नापा जाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × four =