ह्यूमोलॉग (Humalog in Hindi): उपयोग, खुराक, मूल्य, साइड इफेक्ट्स, सावधानियां

0
628
humalog fayde nuksan in hindi

ह्यूमोलॉग क्या है?

ह्यूमोलॉग का प्रयोग टाइप-1 और टाइप-2 वाले मधुमेह रोगियों में रक्त ग्लूकोज के स्तर को कम करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

ह्यूमोलॉग में सक्रिय घटक के रूप में इंसुलिन लिस्प्रो है जो मानव निर्मित इन्सुलिन है जो रीकॉम्बीनेंट डी.एन.ए तकनीक द्वारा उत्पादित होती है जो शरीर की कोशिकाओं को कृत्रिम इंसुलिन प्रदान करता है।

ह्यूमोलॉग का उपयोग

ह्यूमोलॉग को एक मध्यम या लंबे समय तक इंसुलिन के उत्पाद या अन्य मौखिक मधुमेह दवाओं जैसे सल्फोन्यूरियस के साथ प्रयोग किया जाता है।

ह्यूमोलॉग इंसुलिन (यू -100) के रूप में उपलब्ध है:

10 मि.ली. की शीशी

3 मि.ली. प्री फिल्ल्ड पेन

3 मि.ली. कार्टरिज

इस दवा को खरीदें और 20% छूट प्राप्त करें: 1 एमजीमाइरा मेडिसिन

ह्यूमोलॉग कैसे काम करता है?

  • ह्यूमोलॉग इंसुलिन लिस्प्रो का एक स्टरलाइट समाधान है। ह्यूमोलॉग की प्रत्येक मि.ली. इंसुलिन लिस्प्रो  की 100 अंतरराष्ट्रीय इकाइयां शामिल हैं।
  • इंसुलिन ग्लार्गिन तेजी से काम करने वाला इंसुलिन है जो मानव इंसुलिन के समान काम करता है और मांसपेशियों द्वारा ग्लूकोज को उत्तेजित करके और ग्लूकोज के उत्पादन को रोककर रक्त ग्लूकोज के स्तर को कम करता है।
  • रक्त ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करके यह गुर्दे की क्षति, हृदय की समस्याओं, अंधापन, तंत्रिका -तन्त्र की समस्याओं की घटनाओं को कम करता है।

ह्यूमोलॉग कैसे लें?

  • ह्यूमोलॉग ह्यूमोलॉग की खुराक और इसे लेने का तरीका आपकी उम्र, स्थिति की गंभीरता, शारीरिक स्वास्थ्य और चिकित्सा के प्रति प्रतिक्रिया पर आधारित होता है।
  • यदि सोल्युशन रंगहीन हो गया हो या कंटेनर में क्लम्प्स हो गये हों तो ह्यूमोलॉग ना लें| ऐसे मामलों में कंटेनर को छोड़ दें।
  • इंजेक्शन लेने से पहले उस जगह को अल्कोहल के साथ रगड़कर उस जगह को साफ और सूखी कर लें| उसी सिरिंज या सुई को फिर से उपयोग या साझा न करें क्योंकि इससे हेपेटाइटिस, एच.आई.वी जैसे गंभीर संक्रमणों की संभावना बढ़ सकती है।
  • भोजन से 15 मिनट पहले या भोजन के तुरंत बाद ह्यूमोलॉग को इंजेक्ट करें क्योंकि इंसुलिन तेजी से काम करती है और भोजन छोड़ने पर हाइपोग्लाइकेमिया हो सकता है।
  • ह्यूमोलॉग इंसुलिन तीन अलग-अलग तरीकों से ली जा सकता है:
Read More: hydrocodone benefits in hindiimatinib benefits in hindi |
imdur benefits in hindi

त्वचा में – पेट की दीवार, जांघ, ऊपरी भुजा, नितंब में उपकरणीय इंजेक्शन। लाइपोडायस्ट्रोफी (असामान्य वसा वितरण) के जोखिम को कम करने के लिए प्रतिदिन एक ही जगह पर इंजेक्शन न लगायें|

इंसुलिन पंप – निरंतर त्वचा के नीचे इन्फ्यूयन द्वारा लेना चाहिए| हर हफ्ते रिज़र्व रखे हुए ह्यूमोलॉग को  बदलें।

अंतःशिरा – चिकित्सा पर्यवेक्षण के द्वारा रक्त ग्लूकोज और पोटेशियम के स्तर की निगरानी से ह्यूमोलॉग किया जा सकता है।

गैर औषधीय थेरेपी (आहार संशोधन, वजन नियंत्रण और व्यायाम) को ह्यूमलॉग लेने के साथ लेना रक्त ग्लूकोज के स्तर को कम करने के लिए जरूरी है।

भारत में ह्यूमोलॉग का मूल्य

  • 00 रुपये में 25 मिक्स 100 आई.यू. प्रति 3 मि.ली. सस्पेंशन इंजेक्शन के लिए
  • 00 रुपये में 50 मिक्स 100 आई.यू. प्रति 3 मि.ली. सस्पेंशन इंजेक्शन के लिए
  • 00 रुपये में 100 मिक्स 100 आई.यू. प्रति 3 मि.ली. समाधान इंजेक्शन के लिए
  • 00 रुपये में 200 मिक्स 100 आई.यू. प्रति 3 मि.ली. सस्पेंशन इंजेक्शन के लिए

ह्यूमोलॉग की सामान्य खुराक

  • मधुमेह के इलाज के लिए ह्यूमोलॉग की कोई निश्चित खुराक नहीं है। इसकी खुराक भिन्नता के लिए रक्त ग्लूकोज के स्तर की निरंतर निगरानी जरूरी है।
  • इसके दुष्प्रभावों के जोखिम को कम करने के लिए आपका डॉक्टर शुरू में कम खुराक से शुरू करता है और धीरे-धीरे आपकी स्थिति के आधार पर ही आपकी खुराक बढ़ा सकता है।
  • दैनिक रूप से इंसुलिन कुल खुराक की आवश्यकता प्रति कि.ग्रा. प्रति दिन 0.5 से 1 इकाई के बीच होती है।
  • खुराक को ध्यान से मापकर ही लें क्योंकि इंसुलिन की खुराक में सबसे छोटे बदलाव से रक्त शर्करा के स्तर पर बड़ा प्रभाव पड़ सकता है।
  • शारीरिक गतिविधि, समय और भोजन के सेवन की मात्रा, गुर्दे और जिगर के कार्यों में बादलाव के साथ ह्यूमोलॉग इंसुलिन की खुराक के समायोजन की आवश्यकता होती है।

ह्यूमोलॉग से कब बचें?

ह्यूमोलॉग से निम्न स्थितियों में बचना चाहिए या सावधानी के साथ इसका प्रयोग करना चाहिए:

  • इसके किसी भी घटक से एलर्जी वाले मरीज
  • हाईपोगलाईकेमिया के दौरान ह्यूमोलॉग का उपयोग न करें।
  • गुर्दे या जिगर का गंभीर विकार

ह्यूमोलॉग के दुष्प्रभाव

इसके इच्छित उपयोगों के इलावा ह्यूमोलॉग के कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकते है जिसमें कुछ निम्न हो सकते हैं:

  • हाईपोगलाईकेमिया – आमतौर पर मनाया जाता है कि क्या रोगियों को भोजन से पहले या जब रोगी अपना भोजन छोड़ देते हैं तो यह दवा लेते हैं। हाइपोग्लाइकेमिया (कम रक्त ग्लूकोज) के लक्षणों में शामिल हैं:
  • बेचैनी
  • सरदर्द
  • आलस्य
  • अवांछित एकाग्रता
  • डिप्रेशन
  • उलझन
  • कंपकपी
  • चक्कर आना
  • घबराहट
  • टाईकार्डिया (दिल की धड़कन में वृद्धि)
  • चिंता
  • थकान
  • पसीना आना

इससे होने वाले अन्य साइड इफेक्ट्स हैं:

  • सरदर्द
  • जी मिचलाना
  • भूख में कमी
  • पसीना आना
  • त्वचा पर लाल चकत्ते
  • चक्कर आना
  • दुर्बलता
  • दस्त
  • पेट में दर्द
  • खून की कमी
  • थ्रोम्बोसाइटोपेनिया (प्लेटलेट की गिनती में कमी आना)
  • जिगर की क्षति – पीलिया, खुजली वाली त्वचा, गहरे रंग का मूत्र, निरंतर नींद

इसके अलावा कुछ अन्य एलर्जी या अवांछित प्रभाव पैदा कर सकता है। ऐसे मामलों में तुरंत चिकित्सा से सलाह लें|

Read More: inderal benefits in hindigriseofulvin benefits in hindi |
 herceptin benefits in hindi

 अंगों पर प्रभाव

लिवर और किडनी – जिगर और गुर्दे की बीमारी वाले मरीजों को ह्यूमोलॉग का सावधानी से उपयोग करना चाहिए क्योंकि इससे गंभीर हेपेटिक और गुर्दे की हानि हो सकती है।

एलर्जी प्रतिक्रियाएं

ह्यूमोलॉग लेने के साथ होने वाली एलर्जी प्रतिक्रियाओं के बारे में अपने डॉक्टर को सूचित करें। इससे होने वाली एलर्जी प्रतिक्रिया के लक्षणों में निम्न हो सकते हैं:

  • साँसों की कमी
  • चेहरे, होंठ, जीभ या गले की सूजन
  • बेहोशी
  • एंजियोएडेमा (त्वचा के नीचे दर्द रहित सूजन)
  • चेतना का नुक्सान

सामान्य प्रश्न

क्या ह्यूमोलॉग नशे की लत है?

इस दवा की आदत बनने की कोई सूचना नहीं है। लेकिन इन दवाइयों पर निर्भरता से बचना चाहिए।

क्या शराब के साथ ह्यूमोलॉग ले सकते हैं?

ह्यूमोलॉग के साथ शराब लेने की सलाह नहीं दी जाती| ह्यूमोलॉग लेने पर यह रक्त में ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करने में हस्तक्षेप कर सकता है।

क्या किसी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?   

उच्च ग्लूकोज की मात्रा युक्त खाद्य पदार्थों से बचें और ह्यूमोलॉग लेने के साथ रक्त ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करने के लिए सख्त आहार का पालन करें।

क्या गर्भवती होने पर ह्यूमोलॉग ले सकते हैं?

गर्भावस्था के दौरान सामान्य रक्त ग्लूकोज के स्तर को बनाए रखने की सलाह दी जाती है क्योंकि असामान्य रक्त ग्लूकोज के स्तर से जन्मजात असामान्यताएं जुडी होती हैं। इसलिए गर्भावस्था के दौरान ह्यूमोलॉग केवल तभी लेना चाहिए जब इससे जोखिम से अधिक लाभ हो|

क्या स्तनपान कराने के दौरान ह्यूमोलॉग ले सकते हैं?

जब आप स्तनपान करा रही हैं तो ह्यूमोलॉग का उपयोग करने की सलाह नही दी जाती क्योंकि यह दवा स्तन के दूध में गुजर सकती है और रक्त शर्करा के स्तर को कम करके बच्चे को नुकसान पहुंचा सकती है।

क्या ह्यूमोलॉग लेने के बाद ड्राइव कर सकते हैं?

ह्यूमोलॉग का सेवन आपकी ड्राइव करने की क्षमता को प्रभावित नहीं करता लेकिन इसकी खुराक के कारण होने वाली हाइपोग्लाइकेमिया या हाइपरग्लाइकेमिया की वजह से उनींदापन, थकान, एकाग्रता में कमी, नींद आदि हो सकती है इसलिए भारी मशीनरी और वाहन चलाने में बाधा हो सकती है।

यदि ह्यूमोलॉग अधिक मात्रा में लें तो क्या होता है?

ह्यूमोलॉग को कभी भी तय की गयी मात्रा से अधिक नहीं लेना चाहिए। अधिक मात्रा में लेने से या बार बार लेने से गंभीर हाइपोग्लाइकेमिया हो सकता है| इसलिए यदि आपने इसकी अधिक खुराक ली है तो तुरंत अपने डॉक्टर के पास जाएँ|

यदि एक्सपायरी हो चुकी हुमोलॉग लें तो क्या होगा?

हुमोलॉग की एक खुराक से कोई बड़ा प्रतिकूल प्रभाव नहीं हो सकता लेकिन दवा की शक्ति कम हो सकती है और इससे हाइपरग्लेकेमिया (रक्त ग्लूकोज के स्तर में वृद्धि) हो सकता है। यदि आपने ऐसी दवा को लंबी अवधि के लिए लिया है तो अपने चिकित्सक को इसके बारे में सूचित करें।

अगर मुझे हुमोगोल की खुराक याद आती है तो क्या होता है?

अगर आपको खुराक याद आती है तो दवा अच्छी तरह से काम नहीं कर सकती है क्योंकि इससे हाइपरग्लाइकेमिया और खराब ग्लूकोज नियंत्रण हो सकता है।

भंडारण

  • इसे सीधी गर्मी और नमी से दूर ठंडी और सूखी जगह पर रखें|
  • दवा को फ्रीज न करें।
  • बच्चों और पालतू जानवरों से इस दवा को दूर रखें।

ह्यूमोलॉग लेते समय टिप्स

अच्छे परिणाम पाने के लिए ह्यूमोलॉग को गैर फार्माकोलॉजिकल थेरेपी (उचित आहार संशोधन, वजन नियंत्रण और व्यायाम) के साथ लेना चाहिए। शुरुआती टाइप-2 मधुमेह में केवल गैर फार्माकोलॉजिकल थेरेपी द्वारा ही अच्छे परिणाम मिल सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seven + 4 =