शहद आयुर्वेद में उपयोग किए जाने वाले सबसे लोकप्रिय पदार्थों में से एक है। यह एंटी-ऑक्सिडेंट से भरपूर होता है यही कारण है कि सदियों से यह कई बीमारियों का इलाज करने के लिए प्रयोग किया जाता है। यह स्वीटनर के रूप में भी लोकप्रिय है जो चीनी की तुलना में ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक होता है। इसके कई स्वास्थ्य लाभ भी हैं जैसे वजन कम करना और इम्युनिटी बढाना आदि| गले में आराम देने के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है, लेकिन एसिड रिफ्लक्स के इलाज में भी यह बहुत प्रभावी है। यह जानने के लिए निम्न पढ़ें कि शहद एसिडिटी, पेट दर्द, एसिड रिफ्लक्स या सीने की जलन सहित कई लक्षणों को कैसे ठीक करता है।

Honey for Acidity Benefits in Hindi – एसिडिटी के इलाज के लिए शहद के फायदे

  1. ओसोफेजियल एसिडिटी में आराम दिलाये

इंडियन जर्नल ऑफ मेडिकल रिसर्च में प्रकाशित एक अध्ययन में उल्लेख किया गया है कि “शहद में घनत्व, चिपचिपाहट की अधिकता और लचक की कमी होती है, इसलिए यह बलगम की झिल्ली पर एक कोटिंग के रूप में लंबे समय तक ओसोफेजिअल में रह सकता है।” इसका मतलब है कि यह इसोफेगस पर कोट हो जाता है और इस प्रकार एसिडिटी के खराब मामलों का भी इलाज करता है।

  1. एंटी-ऑक्सीडेंट गुण

शहद के शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट गुण मुक्त कणों को नष्ट कर देते हैं और एसिडिटी और पेट दर्द में आराम पाने के लिए महत्वपूर्ण योगदान देते हैं।

  1. एंटी-माइक्रोबियल गुण

शहद एक प्राकृतिक एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-बैक्टीरियल एजेंट है। इसका मतलब यह है कि यह एसिडिटी का कारण बनने वाले बैक्टीरिया को मारता है और पाचन तंत्र को शांत करने में मदद करता है।

  1. एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण

शहद में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो एसोफेगस में होने वाली सूजन का मुकाबला करते हैं और पेट को आराम दिलाते हैं। इससे एसिडिटी और सीने की जलन से तुरंत आराम मिलता है।

Read more: Tulsi For Cold के फायदे

How to Take Honey for Acidity in Hindi – 

सीने की जलन के लिए शहद कैसे लें

रिसर्च से पता चलता है कि गर्म पानी के साथ एक चम्मच शहद लेने से एसिडिटी के लिए बेहतरीन परिणाम हो सकते हैं।

शहद को गर्म पानी या चाय के साथ मिलाकर समान प्रभाव देखे जा सकते हैं|

Honey for Acidity Precautions in Hindi – 

सीने की जलन के लिए शहद लेते समय सावधानियां

ज्यादातर लोगों को शहद लेने पर प्रतिकूल प्रतिक्रिया नहीं होती लेकिन यदि आपको इसे लेने के बाद एलर्जी होती है तो तुरंत अपने डॉक्टर से मिलें।

शहद ब्लड शुगर में बदलाव में योगदान दे सकता है। यदि आप मधुमेह से पीड़ित हैं तो आप किसी भी रूप में शहद का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह करें।

Read more: Guduchi For Weight Loss के नुकसान | Is Turmeric Acidic ke Nuksan

👋CashKaro Exclusive Offer👋

Hungry for more Cashback 💸? Download CashKaro App to get a Rs 60 bonus Cashback + Save up to Rs 15,000/month on online shopping.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × five =