Jatamansi Powder in Hindi जटामांसी पाउडर: लाभ, उपयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स, मूल्य

Jatamansi Powder in Hindi जटामांसी पाउडर: लाभ, उपयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स, मूल्य

Jatamansi Powder in Hindi – जटामांसी पाउडर क्या है?

जटामांसी (नार्डोस्टैचिस जटामांसी) पाउडर को अंग्रेजी में ‘स्पाइकनार्ड’ के रूप में जाना जाता है और ‘जटा’ का अर्थ है ड्रेडलॉक्स और ‘माँसी’ का अर्थ मानव है। यह एक ऐसी आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जो लुप्त होने की कगार पर है, जिसका उपयोग न्यूरो-मनोवैज्ञानिक और त्वचा रोगों को ठीक करने में किया जाता है। यह गुलाबी फूलों वाला एक पौधा है और ये भारत, नेपाल और चीन में उगता है। इसका उपयोग यादाश्त बढ़ाने के लिए किया जाता है जिसमें शांत और आराम देने वाले गुण होते हैं। यह जड़, तेल और पाउडर के रूप में भी मिलता है।

Also read: पतंजलि शहद

Jatamansi Powder Price in Hindi – जटामांसी पाउडर का मूल्य

विस्तारजटामांसी पाउडर का मूल्य
प्राकृतिक हेल्थ लाइफ केयर 100% प्राकृतिक जटामांसी पाउडर249 रुपये
शगुन गोल्ड जटामांसी पाउडर – 200 ग्रा.350 रुपये
काजीमा जटामांसी पाउडर – 100 ग्रा.292 रुपये  
हर्बल हिल्स जटामांसी पाउडर – 100 ग्रा. प्रत्येक (2 का पैक)520 रुपये

Jatamansi Powder Benefits in Hindi – जटामांसी पाउडर के लाभ

  1. बालों के विकास को बढ़ावा देता है

जटामांसी पाउडर में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं जो बालों के झड़ने, डैंड्रफ़ और बालों में किसी भी अन्य माइक्रोबियल वृद्धि को रोकते हैं। यह बालों के विकास को बढ़ावा देने में मदद करता है और यह बालों को चिकना, चमकदार और रेशमी बनाता है। आप किसी भी तेल में जटामांसी पाउडर को मिलाकर खोपड़ी पर लगा सकते हैं और अच्छे परिणाम पाने के लिए इसे रातभर ऐसे ही छोड़ सकते हैं। अगली सुबह गर्म पानी से अपने बालों को अच्छी तरह धो लें।

  1. यादाश्त बढ़ाता है

जटामांसी पाउडर को यादाश्त बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जाता है क्योंकि यह दिमाग की आंतरिक शक्ति को बढ़ाता है और दिमाग को विश्राम की भावना देता  है। यह तंत्रिका तंत्र की विभिन्न बीमारियों का इलाज करने के लिए एक आयुर्वेदिक दवा के रूप में प्रयोग किया जाता है। यह आयुर्वेद में वर्णित तीन बीमारियों वात, पित्त और कफ को ठीक करने के लिए जाना जाता है। आप अपने सिर में जटामांसी तेल की मालिश कर सकते हैं या अच्छे परिणामों के लिए इसकी जड़ का उपभोग कर सकते हैं।

  1. मिर्गी का इलाज करता है

जटामांसी पाउडर तंत्रिका तंत्र की विभिन्न बीमारियों को ठीक करने के लिए अपने चमत्कारी लाभ के लिए जाना जाता है। यह तनाव, ऐंठन, आवेग, हिस्टीरिया और मिर्गी का इलाज करने में मदद करता है।

  1. रक्तचाप कम करता है

जटामांसी पाउडर रक्तचाप को कम करता है और खून के थक्के बनने से रोकने में मदद करता है। यह सिस्टम में खून के बहने में सुधार करता है और विषाक्त पदार्थों को हटा देता है जो कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों का कारण हो सकते हैं। आप अपने अपने नाश्ते में गर्म पानी के साथ या बिस्तर पर जाने से पहले इसे ले सकते हैं।

  1. तनाव कम करे

जटामांसी पाउडर शरीर में जैव रासायनिक प्रतिक्रियाओं को संतुलित करता है और इसलिए इससे चिंता और तनाव कम हो जाता है। यह उन लोगों के लिए दिमाग का टॉनिक भी है जो मानसिक बीमारियों से ग्रस्त हैं जैसे अवसाद, बायोपोलर विकार, ओबेस्सिव कोम्प्ल्सिव डिसऑर्डर आदि|

  1. त्वचा के संक्रमण को ठीक करता है

यह एक्जिमा, सोरायसिस, रोसैसा जैसे विभिन्न त्वचा के विकारों के कारण त्वचा पर जलन की उत्तेजना का इलाज करता है। आप ठंडे पानी में जटामांसी पाउडर को मिलाकर अपनी त्वचा के प्रभावित क्षेत्रों पर लगा सकते हैं।

Read more: Amalaki के फायदे | Zandu Kesari Jivan के नुकसान

Jatamansi Powder Properties in Hindi – जटामांसी पाउडर के गुण

एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण

  • एंटी-फंगल गुण
  • एंटी-डिप्रेशन गुण
  • यादाश्त बढ़ाने वाला
  • एंटी-एपिलेप्टिक गुण
  • एंटी-माइक्रोबियल गुण
  • कायाकल्प के गुणों वाला

Jatamansi Powder Uses in Hindi – जटामांसी पाउडर का उपयोग

  • त्वचा के विकारों को ठीक करने के लिए एक टॉनिक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है|
  • जटामांसी पाउडर किसी भी तेल में मिलाकर बालों पर लगाया जा सकता है|
  • ठंडे पानी में जटामांसी पाउडर मिलाएं और उन्हें ठीक करने के लिए जलने वाली जगह पर लगायें|
  • आप रंग सुधारने के लिए अपनी त्वचा पर इसकी जड़ लगा सकते हैं

How to Use Jatamansi Powder in Hindi-  जटामांसी पाउडर का उपयोग कैसे करें

  • आप अपनी त्वचा और बालों पर इसकी जड़ लगा सकते हैं या स्वास्थ्य लाभ के लिए इसे चबा भी सकते हैं|
  • आप किसी भी तेल में इसके पाउडर को मिलाकर अपनी त्वचा और बालों पर लगा सकते हैं|
  • अपने समग्र स्वास्थ्य लाभ के लिए अपनी स्मूदी में इस पाउडर को मिलाएं|
  • तंत्रिका तंत्र को मजबूत करने के लिए जटामांसी पाउडर को गर्म पानी से कच्चा ही लिया जा सकता है|

Jatamansi Powder Side-Effects in Hindi – जटामांसी पाउडर उपभोग करने के साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

जटामांसी पाउडर प्राकृतिक है और आपकी त्वचा, बालों और स्वास्थ्य के लिए 100% सुरक्षित है। आपको हमेशा इसकी खुराक लेने के बारे में जांच रखनी चाहिए क्योंकि इससे पेट दर्द, दस्त और उल्टी हो सकती है। गर्भवती महिला और स्तनपान कराने वाली मां को जटामांसी पाउडर लेने से बचना चाहिए।

Read more: Himalaya Shatavari ke Nuksan | Moringa के नुकसान

सामान्य प्रश्न

जटामांसी पाउडर का पौष्टिक मूल्य क्या है?

यह विभिन्न रसायनों जैसे एक्टिनिडाइन, अरिस्टोलिन, कैरोटीन, कैरलीन, क्लैलेरिनोल, क्यूमरिन, डायहाइड्रोज़ुलिन, जटामांसिनिक एसिड, नारडोल, नार्डोस्टैचोन, वैलेरियनोल, वैलेरनल, वैलेरोनोन, एमिलोल, वायरोलिन, एंजेलिविन, ऑरोसेलोल आदि का मेल है।

क्या जटामांसी पाउडर नशे की लत है?

हां, इसे आदत नहीं बना सकते, इसलिए हमेशा इसे लेने की मात्रा की जांच करें|

क्या जाटमांसी पाउडर बैक्टीरियल इन्फेक्शन का इलाज कर सकते हैं?

हां, इसमें बहुत मजबूत एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं। इसे प्रभावित क्षेत्र पर रगड़ना त्वचा के लिए फायदेमंद हो सकता है।

क्या जटामांसी पाउडर दिन में कितना लेना चाहिए?

आधा से एक चम्मच पाउडर प्रति दिन गर्म पानी के साथ दो बार लिया जा सकता है।

जटामांसी पाउडर कहां खरीदें

जटामांसी पाउडर बेचने वाले स्टोर

जटामांसी पाउडर बेचने वाली ब्रांड

  • हर्बल हिल्स
  • हेल्थविट
  • व्यास बलछाड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × 4 =