Jp tone injection In Hindi जेपी टोन इंजेक्शन: उपयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स, मूल्य, संरचना और 20 सामान्य प्रश्न

0
291

Jp tone injection In Hindi जेपी टोन इंजेक्शन: उपयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स, मूल्य, संरचना और 20 सामान्य प्रश्न

1What is Jp tone injection In Hindi – जेपी टोन क्या है?

यह मुख्य रूप से नर्व डैमेज, सुन्न होना झुनझुनी और एनीमिया को रोकने या उसका इलाज करने के लिए किया जाता है। जिगर की विषाक्तता और ब्लड शुगर बढना जेपी टोन की ज्यादा और बार बार ली जाने वाली खुराक से होने वाले दुष्प्रभाव हैं। जिगर या गुर्दे की कमजोरी वाले रोगियों, दिल की समस्याओं और एलर्जी के रोगियों के मामलों में इसे पूरी तरह से टाला जाना चाहिए।

जेपी टोन संरचना –डी-पंथेंनॉल 50 मि.ग्रा. + मेकोबालामिन 1000 ऍमसीजी + नियासिनामाइड 100 मि.ग्रा. + पयरिडोक्सामाइन 100 मि.ग्रा. + थियामाइन मोनोनाइट्रेट 100 मि.ग्रा.
निर्मित – जगसनपाल फार्मास्यूटिकल्स प्राइवेट लि.।
प्रिस्क्रिप्शन – जरूरी है
प्रपत्र – इंजेक्शन, गोलियाँ, कैप्सूल और सिरप
मूल्य – 37 रुपये का 1 पैक
एक्सपायरी – निर्माण की तारीख से 24 महीने तक
दवा का प्रकार – मल्टीविटामिन

Also Read in English about Jp tone injection


2Uses of J P Injection In Hindi – जेपी टोन के उपयोग

जेपी टोन विभिन्न स्थितियों की रोकथाम और उपचार के लिए उपयोग होता है। यह निम्न के लिए तय है:

  • हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर: हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर के लिए इसका उपयोग किया जाता है।
  • एनीमिया: विभिन्न प्रकार के एनीमिया के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है|
  • अल्जाइमर रोग: अल्जाइमर रोग जैसी बीमारियों के इलाज़ के लिए इसका उपयोग किया जाता है।
  • न्यूरोलॉजिकल विकार: न्यूरोलॉजिकल विकारों के मामलों में इसका उपयोग किया जाता है।
  • विटामिन की कमी: विटामिन की कमी (मुख्य रूप से विटामिन बी-6 और बी-3 की कमी के कारण) के इलाज़ के लिए इसका उपयोग किया जाता है।
  • तंत्रिका रोग: नर्व रोग (तंत्रिका क्षति के कारण दर्द) और परस्टेसिया (स्वाद में बदलाव) जैसे तंत्रिका रोगों के इलाज़ के लिए इसका उपयोग किया जाता है
  • झुनझुनी: झुनझुनी के इलाज़ के लिए इसका उपयोग किया जाता है|
  • गठिया: गठिया के मामलों में इसका इस्तेमाल किया जाता है|
  • कोलेस्ट्रॉल की समस्या: कोलेस्ट्रॉल के ज्यादा स्तर के मामलों में उपयोग किया जाता है|
  • डायरिया: डायरिया के इलाज के लिए इसका उपयोग किया जाता है।
  • भूख कम लगना: पाचन को बढ़ावा देने और भूख बढ़ाने के लिए इसका उपयोग किया जाता है।

3How does J P Injection work In Hindi – जेपी टोन कैसे काम करता है?

  • जेपी टोन में डी-पंथेंनॉल, मेकोबालामिन, नियासिनामाइड, पयरिडोक्सामाइन, थियामाइन मोनोनाइट्रेट होते हैं।
  • जेपी टोन शरीर को जरूरी विटामिन देने का काम करता है।
  • यह टिश्यूओं पर काम करता है और सांस में फैट और प्रोटीन के मेटाबोलिज्म में मदद करता है।
  • यह कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन के संश्लेषण में रूकावट डालता है जिससे खून में कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है और यह नर्वस सेल्स को नुकसान पहुंचाने में भी मदद करता है।
  • यह पाइरिडोक्सिन के कम स्तर का भी इलाज करता है।

4How to take J P Injection In Hindi – जेपी टोन कैसे लें?

  • जेपी टोन मुख्य रूप से इंजेक्शन, टैबलेट और सिरप के रूप में मिलता है|
  • जेपी टोन का इंजेक्शन इंट्रामस्क्युलर रूप में हर 24 घंटे में लिया जाता है।
  • यह इंजेक्शन केवल किसी प्रोफेशनल के द्वारा लिया जाना चाहिए|
  • इस टैबलेट को मुंह द्वारा पानी से भोजन के साथ या बिना भी ले सकते हैं|
  • गोलियों को चबाएं या कुचले नहीं बल्कि पूरा ही निगल लें।
  • यदि आप जेपी टोन सिरप ले रहे हैं तो इसे लेने से पहले बोतल को अच्छी तरह से हिलाना चाहिए और एक मापने वाले कप का उपयोग करना चाहिए।
  • रोगी को दवा की बेहतर समझ रखने के लिए पैकेज के अंदर लीफलेट पढने की सलाह दी जाती है।

5J P Injection Common Dosage In Hindi – जेपी टोन की सामान्य खुराक

  • जेपी टोन की सामान्य खुराक रोगी की उम्र, वजन, मानसिक स्थिति, एलर्जी के इतिहास के अनुसार हर व्यक्ति को डॉक्टर द्वारा तय की जानी है।
  • वयस्क खुराक: हालत की गंभीरता के आधार पर डॉक्टर द्वारा रोजाना एक इंजेक्शन लिया जाना चाहिए|
  • बच्चे: बच्चों के लिए इसे देने की सलाह नहीं दी जाती| जेपी टोन सिरप उन बच्चों के लिए है जिसे केवल बाल रोग विशेषज्ञ की सलाह से ही देनी चाहिए।
  • इस दवा को 24 घंटे के बराबर अंतराल पर दिया जाना चाहिए, ताकि हर समय दवा की उचित मात्रा शरीर के अंदर मौजूद हो।

यदि जेपी टोन अधिक मात्रा में लें तो क्या होगा?

इसे तय की गयी खुराक के अनुसार ही लेना चाहिए। इसे ज्यादा मात्रा में लेने से कुछ गंभीर प्रभाव हो सकते हैं। इसलिए डॉक्टर या प्रशिक्षित मेडिकल स्टाफ से तुरंत सलाह लें|

यदि जेपी टोन की खुराक लेनी याद ना रहे तो क्या होगा?

जेपी टोन को हमेशा तय समय के अनुसार ही लेना चाहिए| हमेशा याद रखकर इसे लेने की कोशिश करें। लेकिन यदि पहले से ही दूसरी खुराक लेने का समय हो गया हो तो भूली हुई खुराक लेने से बचें क्योंकि इससे दवा की विषाक्तता बढ़ सकती है।

यदि एक्सपायरी जेपी टोन लें तो क्या होगा?

एक्सपायरी जेपी टोन किसी भी अवांछनीय प्रभाव का कारण नहीं होती लेकिन एक्सपायरी दवा का सेवन करने से बचना उचित है क्योंकि यह पर्याप्त प्रभावकारी नहीं दे सकता और एक्सपायर्ड दवा का सेवन करने के बाद किसी भी लक्षण के मामले में तुरंत डॉक्टर के पास जाएँ|

जेपी टोन की शुरुआत का समय क्या है?

प्रइसे भाव दिखाने के लिए दवा द्वारा लिया गया समय जेपी टोन लेना शुरू करने के पहले कुछ ही हफ्तों में शुरू हो जाता है|

जेपी टोन का प्रभाव कब तक रहता है?

डॉक्टर द्वारा बताई गई इस दवा की खुराक और लेने का तरीका सभी लक्षणों के पूरी तरह खत्म होने तक कड़ाई से पालन किया जाना चाहिए। इसके प्रभाव को दिखाने के लिए दवा द्वारा लिया गया समय हर व्यक्ति में अलग हो सकता है।


6When to Avoid J P Injection In Hindi – जेपी टोन से कब बचें?

निम्न स्थितियों में जेपी टोन का सेवन न करें

  • दिल की समस्याएं: दिल की समस्याओं जैसे कि एक्यूट मायोकार्डियल इन्फ्राक्शन या कार्डियक अर्रीथमिअस के मामलों में।
  • गर्भावस्था: गर्भवती महिलाओं के मामलों में।
  • त्वचा रोग: किसी भी प्रकार के त्वचा रोगों से पीड़ित रोगियों के मामलों में।
  • मधुमेह: मधुमेह के रोगियों के मामलों में|
  • हाइपरथायरायडिज्म: हाइपरथायरायडिज्म के रोगियों मामलों में|
  • लिवर या किडनी के विकार: मध्यम से गंभीर लिवर की बीमारियों के मामलों में| इसका इस्तेमाल डॉक्टर से सलाह लेने पर ही करना चाहिए।
  • एलर्जी: जे पी इंजेक्शन या इसके किसी भी तत्व से एलर्जी के मामलों में।

7Precautions While Taking J P Injection in Hindi – जेपी टोन लेते समय सावधानियां

  • लंबे समय तक उपयोग: जब तक डॉक्टर द्वारा न कहा जाए तब तक इसे ज्यादा समय तक उपयोग न करें।
  • एलर्जी प्रतिक्रिया: यदि जे पी इंजेक्शन लेने के बाद एलर्जी की प्रतिक्रिया होती है तो तुरंत डॉक्टर या प्रशिक्षित चिकित्सा कर्मचारियों को सूचित करना चाहिए।
  • खुद लेने से बचें: इस इंजेक्शन की खुराक खुद तय करने से और खुद इसे लेने से बचना चाहिए।

जेपी टोन लेते समय चेतावनी

  • इंजेक्शन लगने वाली जगह साफ़ और किसी भी प्रकार की सूजन या दर्द के बिना होनी चाहिए।
  • दवा के किसी भी दुष्प्रभाव और दवा के विषाक्त प्रभाव से बचने के लिए बहुत सारे तरल पदार्थ लेने की कोशिश करें।
  • दो इंजेक्शन के बीच कम से कम 12 से 14 घंटे का अंतर होना चाहिए। वैसे तो एक दिन में केवल एक इंजेक्शन लेना ही उचित है।

8Side-Effects of J P Injection In Hindi – जेपी टोन के साइड-इफेक्ट्स

जेपी टोन के विभिन्न प्रभावों के लिए उपयोग किए जाने वाले साइड इफेक्ट्स निम्न हो सकते हैं:

  • जिगर की विषाक्तता (दुर्लभ)
  • धुंधली नजर (कम सामान्य)
  • दाने (कम सामान्य)
  • डायरिया (सामान्य)
  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल संकट (सामान्य)
  • एलर्जी प्रतिक्रियाएं (कम सामान्य)
  • जिगर के एंजाइम में बढ़ोतरी (सामान्य)
  • ब्लड शुगर में बढ़ोतरी (कम सामान्य)
  • फ्लशिंग (सामान्य)
  • चक्कर आना (कम सामान्य)

क्या एलर्जी संबंधी प्रतिक्रियाएं हैं जो कि जेपी टोन से होती हैं?

जेपी टोन इंजेक्शन से होने वाली संभावित एलर्जी प्रतिक्रियाएँ हैं:

  • गंभीर चकत्ते (कम सामान्य)
  • सिरदर्द (कम सामान्य)
  • मुँह सूखना (सामान्य)
  • सांस की तकलीफ (कम सामान्य)

अंगों पर प्रभाव

जेपी टोन का उपयोग जिगर और किडनी की हानि वाले रोगियों में सावधानी से किया जाना चाहिए|

9Drug Interactions to be Careful About In Hindi – जेपी टोन के साथ दवा इंटरैक्शन

सभी इंटरैक्शन वाली दवाओं को यहाँ सूचीबद्ध नहीं किया जा सकता। इसलिए हमेशा यह सलाह दी जाती है कि जेपी टोन का सेवन करने करने के दौरान कुछ सावधानियों का ध्यान रखें। जेपी टोन का सेवन करते समय हमेशा खाद्य पदार्थों, अन्य दवाओं या लैब परीक्षणों के बारे में जागरूक रहें।

  1. बीप्लैक्स फोर्टे के साथ खाद्य पदार्थ

परहेज करने के लिए कोई विशेष खाद्य पदार्थ नहीं है।

  1. जेपी टोन के साथ दवाएँ

सभी इंटरैक्शन वाली दवाओं को यहां सूचीबद्ध नहीं किया जा सकता। इसलिए हमेशा यह सलाह दी जाती है कि रोगी को अपने चिकित्सक को अपने द्वारा उपयोग की जाने वाली सभी दवाओं या उत्पादों के बारे में सूचित करना चाहिए। डॉक्टर को उन सभी हर्बल उत्पादों के बारे में भी सूचित करना चाहिए जिन्हें आप ले रहे हैं। अपने डॉक्टर की सलाह के बिना कभी भी दवा की खुराक में बदलाव नहीं करना चाहिए।

निम्नलिखित दवा इंटरैक्शन के अपने प्रभाव और परिणाम हैं, जिन्हें हल्के या गंभीर के रूप में पहचाना जाता है:

  • अमीनोसैलिसिलिक एसिड (हल्का)
  • अमियोडेरोन (मध्यम)
  • एंटीबायोटिक्स (हल्का)
  • कार्बामाज़ेपिन (मध्यम)
  • क्लोरैमफेनिकॉल (हल्का)
  • सिप्रोफ्लोक्सासिन (मध्यम)
  • कोलिसिन (मध्यम)
  • H2 ब्लॉकर्स (हल्का)
  • लेवोफ़्लॉक्सासिन (मध्यम)
  • मेथोट्रेक्सेट (मध्यम)
  1. लैब टेस्ट पर बेप्लेक्स फोर्टे का प्रभाव

जेपी टोन लीवर फंक्शन और ब्लड शुगर के स्तर को प्रभावित कर सकता है। किसी भी प्रयोगशाला जांच के लिए जाने से पहले इलाज़ करने वाले डॉक्टर से सलाह करें।

  1. जेपी टोन की पहले से मौजूद स्थितियों या बीमारियों के साथ पारस्परिक क्रिया

कोई भी मध्यम से गंभीर लिवर की बीमारी

क्या शराब के साथ जेपी टोन ले सकते हैं?

शराब के साथ जेपी टोन लेना उचित नहीं है क्योंकि यह लिवर के नुक्सान का कारण हो सकता है। जेपी टोन के साथ शराब का सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह ज़रूर लें।

किसी भी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?

नहीं।

क्या गर्भवती होने पर जेपी टोन ले सकते हैं?

नहीं, जेपी टोन इंजेक्शन को गर्भावस्था के दौरान तब तक नहीं देना चाहिए जब तक जरूरी न हो| गर्भवती होने पर या गर्भवती होने की योजना बनाएं तो इसे लेने से पहले हमेशा डॉक्टर को सूचित करें|

क्या बच्चे को स्तनपान कराते समय जेपी टोन ले सकते हैं?

नहीं, स्तनपान कराने वाली माताओं के मामले में जेपी टोन का उपयोग तब किया जाता है जब बहुत ही जरूरी हो और इसे केवल डॉक्टर की देखरेख में ही लिया जाना चाहिए|

क्या जेपी टोन को लेने के बाद ड्राइव कर सकते हैं?

नहीं, जेपी टोन लेने पर साइड इफेक्ट्स के रूप में यह चक्कर आना या नजर के दोष का कारण बन सकता है इसलिए ड्राइविंग या भारी मशीनरी चलाने से बचना ही उचित है।


10Buyer’s Guide – J P Injection Composition, Variant and Price In Hindi – जेपी टोन की संरचना और मूल्य – खरीदने के लिए गाइड

जेपी टोन वेरिएंट जेपी टोन सरंचना जेपी टोन की कीमत
जेपी टोन टीआर कैप्सूल एलिमेंटल जिंक 61.8 मि.ग्रा. + फेरस सल्फेट 150 मि.ग्रा. + फोलिक एसिड 0.5 मि.ग्रा. 87.50 रूपए के 15 कैप्सूल
जेपी टोन जेम्स टेबलेट एलिमेंटल जिंक 61.8mg + फेरस सल्फेट 150mg + फोलिक एसिड 0.5mg 157 रूपए की 10 टेबलेट
जेपी टोन ब्लैक करंट 200 मि.लि. सिरप फोलिक एसिड  10 मि.ग्रा. + मेथिलकोबालामिन 500 ऍमसीजी + पाइरिडोक्सिन 5 मि.ग्रा. 142 रुपये का 1 पैक
जेपी टोन एसऍफ़ 200 मि.लि.  सिरप नियासिनामाइड 22.5 मि.ग्रा., विटामिन बी-12 2.5ऍमसीजी, विटामिन बी-2 2.5 मि.ग्रा., विटामिन बी-6 1 मि.ग्रा. 119 रूपए का 1 पैक

11Substitutes of J P Injection In Hindi – जेपी टोन के स्थान पर

इसके लिए निम्न दवाएं हैं:

जेपी टोन इंजेक्शन के लिए निम्नलिखित दवाएं हैं:

  • रिकोबाल प्लस 2 एमएल इंजेक्शन:
    • निर्मित: ऑस्कर उपचार प्राइवेट लिमिटेड द्वारा
    • मूल्य– 75 रूपए

भंडारण

  • इसे 25 डिग्री से कम कमरे के तापमान पर सीधे गर्मी या धूप से दूर सूखी, नमी मुक्त जगह पर स्टोर करें।
  • इस दवा को बच्चों की पहुँच से दूर रखें|

12FAQs – 10 Important Questions Answered about Jp tone injection In Hindi – सामान्य प्रश्न

जेपी टोन क्या है?

जेपी टोन इंजेक्शन इस तरह से तैयार किया गया नुट्रीशनल सप्लीमेंट है, जो शरीर के अंदर पोषण संबंधी कमियों के इलाज के लिए जरूरी विटामिन और खनिज पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध करने में कुशल है।

जेपी टोन के क्या प्रयोग हैं?

यह शरीर के अंदर पोषण संबंधी कमियों के इलाज के लिए जरूरी विटामिन और खनिज देने में कुशल है।

जेपी टोन के क्या दुष्प्रभाव हैं?

जेपी टोन के सबसे सामान्य दुष्प्रभाव लिवर की विषाक्तता, धुंधली नजर, दाने, दस्त, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्या, एलर्जी प्रतिक्रियाएं, जिगर के एंजाइम में बढ़ोतरी, ब्लड शुगर बढना, चक्कर आना आदि हैं।

जेपी टोन कितना प्रभावी है?

प्रभाव दिखाने के लिए जेपी टोन लेना शुरू करने के 2 हफ्ते तक अलग होता है।

जेपी टोन को परिणाम दिखाने के लिए कितना समय लगता है?

किसी भी पेट की खराबी होने से बचने के लिए जेपी टोन को खाली पेट नहीं लिया जाना चाहिए।

क्या जेपी टोन मदहोश करता है?

कुछ दुर्लभ मामलों में जेपी टोन उनींदेपन का कारण हो सकता है लेकिन यह हर व्यक्ति में अलग अलग होता है।

जेपी टोन की खुराक लेने के बीच क्या समय अंतराल होना चाहिए?

जेपी टोन की दो खुराकों के बीच कम से कम 12 से 14 घंटे का अंतराल होना चाहिए। इसका इंजेक्शन दिन में केवल एक बार दिया जाता है।

क्या चिकित्सा का कोर्स पूरा करना चाहिए, भले ही ठीक हो जाएँ?

जेपी टोन को डॉक्टर के बताये अनुसार लिया जाना चाहिए और लक्षणों की गंभीरता के मामले में तुरंत चिकित्सा सहायता या सलाह लेनी चाहिए। जेपी टोन के चक्र को कब और कैसे रोकना है यह डॉक्टर को तय करने देना चाहिए।

क्या जेपी टोन मासिक धर्म चक्र को प्रभावित करता है?

नहीं, यह आम तौर पर मासिक धर्म चक्र को प्रभावित नहीं करता लेकिन दवा का सेवन करने से पहले मौजूद मासिक धर्म की समस्याओं के मामले में डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

क्या जेपी टोन बच्चों के लिए सुरक्षित है?

बाल रोग विशेषज्ञ की उचित सलाह के बिना बच्चों को जेपी टोन नहीं लेना चाहिए।

क्या जेपी टोन लेने से पहले कोई लक्षण दिखाई देने चाहिए?

किसी भी प्रकार के जिगर या किडनी के विकार, एक्यूट मायो कार्डियल और एलर्जी प्रतिक्रिया को जेपी टोन लेने से पहले ध्यान में रखना चाहिए।

क्या भारत में जेपी टोन कानूनी है?

उत्तर: हां, यह भारत में कानूनी है।


डिस्क्लेमर – ऊपर दी गई जानकारी हमारे शोध और ज्ञान के सर्वश्रेष्ठ है। हालांकि, आपको दवा का सेवन करने से पहले एक चिकित्सक से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

13लेखक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen + 13 =