केरल में जाने के लिए 16 स्थान (Kerala Best Places in Hindi)

0
1585
kerala-kerala-best-places-in-hindi

kerala-kerala-best-places-in-hindi

दक्षिणी भारतीय राज्य केरल में लंबे ताड़ के पेड़, समुद्र तट, सशक्त पहाड़ियां, प्राचीन बैकवाटर के साथ-साथ नदी निकायों का एक आकर्षक दृश्य दिखाई देता है। यह पृथ्वी पर दस स्वर्गों में से एक माना जाता है, केरल को मील उसके नाम “भगवान का अपना देश” को यह सच साबित करता है।

सुंदर प्राकृतिक उपहारों के इलावा, केरल अपनी समृद्ध संस्कृति, आयुर्वेद, स्थानीय व्यंजनों, त्योहारों, हस्तशिल्प आदि के लिए भी प्रसिद्ध है।

सामान्य ज्ञान: केरल को “भगवान का अपना देश” कहा जाता है

क्यों जाएं: सांस्कृतिक अनुभव, आराम के लिए,  जैव विविधता

आदर्श: समुद्र तट पर छुट्टियां, आयुर्वैदिक उपचार, प्रकृति में घूमना,  वन्यजीव की खोज

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: अक्टूबर से मार्च

लाने के लिए चीजें: कोयूर मर्चेंडाइज,  हाथी प्रतिमाएं,  थूकू (लटकती घंटी), त्रावणकोर साड़ियां, ‘निलाविल्लक्कस’ (पारंपरिक दीपक), नेटूर चेस्ट (नेटटोर पेटी), नारियल खोल शिल्प और भी बहुत कुछ।

केरल में जाने के लिए जगहें

1. मन्नार

यह सुंदर पहाड़ी स्थान अपने चाय के बागानों और हरे रंग से ढकी हुई ऊबड़-खाबड़ शानदार पहाड़ियों के लिए जाना जाता है। पश्चिमी घाटों में मन्नार सबसे बड़ा चाय की खेती वाला स्थान  है और दुनिया के सबसे बड़े चाय के बगीचों का वाणिज्यिक केंद्र भी है। इस के अलावा, मन्नार में इराविकुलम नेशनल पार्क और सलीम अली पक्षी अभयारण्य भी हैं| मन्नार में घूमने के लिए कुछ शीर्ष स्थाननीचे बताये गये हैं:

  • रोज गार्डन
  • इको स्पॉट
  • एलीफैंट एड्वेंट प्लेस
  • फोटो प्वाइंट
  • मट्टूपट्टी डैम
  • कोलुकुमालाई टी एस्टेट

अपेक्षित समय: 2 दिन

आदर्श: ट्रेक्केर्स, विदेशी वनस्पति की खोज करने वाले

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: सितंबर-मई

2. एलेप्पी (अलाप्पुज्हा)

अरब समुद्र के किनारे पर बसा हुआ , एलेप्पी प्राचीन बैकवाटर, खूबसूरत समुद्र तटों, मंदिरों और प्रसिद्ध ‘वल्लम काली’ (पारंपरिक नाव दौड़) के लिए प्रसिद्ध है। लोग इस जगह पर आयुर्वेदिक उपचार और कल्याण केंद्रों के लिए भी आते हैं। कई समुद्र तटों, लागोन और नहरों की वजह से  एलेप्पी को “पूर्व का वेनिस” कहा जाता है। उष्णकटिबंधीय क्षेत्र के जीवन की सुंदरता का आनन्द लेने के लिए आपको बैकवाटर में हाउसबोट में रहना चाहिए। एलेप्पी में घूमने के लिए शीर्ष स्थान इस प्रकार हैं:

  • अलाप्पुज्हा बीच
  • कुमारकोरम पक्षी अभयारण्य
  • वेमबानाद झील
  • नेहरू ट्रॉफी स्नेक बोट रेस

सामान्य ज्ञान: एलेप्पी को “पूर्व का वेनिस” कहा जाता है।

अपेक्षित समय: 1-2 दिन

आदर्श: आराम | आयुर्वेदिक और कल्याण उपचार | प्रकृति चलता है

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: जून-मार्च

स्थान: मानचित्र पर देखें

3. कोच्चि

यह केरल की सबसे व्यस्त वाणिज्यिक बंदरगाह वाला शहर है। कोच्चि या कोचीन को  महत्वपूर्ण व्यापार केंद्र कहते हैं क्योंकि यह व्यापार के क्षेत्र में विश्वव्यापी प्रभाव डालता है। यह स्थान कई बड़े स्तर के स्टोर, कला दीर्घाओं के साथ ही विरासती निवास से अटा हुआ है। कोच्चि में करने के लिए कुछ शीर्ष चीजें हैं:

  • विलिंगडन आइलैंड
  • बोल्गाटी पैलेस
  • मटनचेरी पैलेस
  • मरीन ड्राइव
  • फोर्ट कोच्चि

सामान्य ज्ञान: कोच्चि को “अरब सागर की रानी” का नाम दिया गया है|

अपेक्षित समय: 1-2 दिन

आदर्श: विरासत यात्राओं | खरीदारी | विश्राम

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: जुलाई-अप्रैल

स्थान: मानचित्र पर देखें

4. थेक्कडी

पेरियार, थेक्कडी – भारत के सबसे बड़े बाघ रिजर्व के लिए जाना जाता है| ‘अनाकर’ में प्रकृति में घूमने के इलावा मूरिकाडी अपने मसाले के बागों के लिए प्रसिद्ध है। ‘चेल्लर कोविल’ झरने और मंगला देवी मंदिर यहाँ के अन्य प्रमुख आकर्षण हैं। थेक्कडी में करने के लिए कुछ शीर्ष चीजें हैं:

  • पेरियार टाइगर ट्रेल
  • थेक्कडी झील
  • मुल्लाइपरियार डैम में बांस राफ्टिंग

अपेक्षित समय: 1 दिन

आदर्श: वन्यजीव अन्वेषण | प्रकृति चलता है | बांस राफ्टिंग

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

स्थान: मानचित्र पर देखें

5. वायनाड

तमिलनाडु और केरल सीमा पर मौजूद यह जगह पर्यटन के लिए झरने, मसाले के बगीचे, वन्यजीवन और गुफाएं पेश करती है। वायनाड में घूमने के लिए प्रमुख स्थान नीचे दिए गए हैं:

  • बनसुरा बांध
  • पुकोट झील
  • चेम्बरा पीक
  • वायनाड वाइल्डलाइफ सेंचुरी
  • सोचिपारा फॉल्स
  • एडक्कल केव्स

अपेक्षित समय: 1-2 दिन

आदर्श: वन्यजीवन की खोज,  प्रकृति में घूमना

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

स्थान: मानचित्र पर देखें

6. थेटेकड बर्ड सेंचुरी

इसको सलीम अली पक्षी अभयारण्य के रूप में भी जाना जाता है जोकि एर्नाकुलम में स्थित है। यह विविध वन्यजीव प्रजातियों के इलावा पक्षियों की 500 से अधिक किस्मों के लिए भी प्रसिद्ध है| यह 1983 में अस्तित्व में आया और इसमें उष्णकटिबंधीय वृक्ष भी मौजूद है।

यहाँ खोजने के लिए कुछ चीजें नीचे बताई गई हैं

  • भुथथंकेतु बांध
  • बैकवाटर्स

अपेक्षित समय: 1 दिन

आदर्श: वन्यजीवन की खोज,  प्रकृति में घूमना,  नाव की सवारी

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

स्थान: मानचित्र पर देखें

7. वर्कला

यह शहर त्रिवेंद्रम में है और इसको मछली पालन के साथ साथ झरनों, पहाड़ियों, झीलों, किलों, समुद्र तटों के लिए भी जाना जाता है। केरल के सम्मानित संत श्री नारायण गुरु के मकबरे के लिए भी यह जगह प्रसिद्ध है|

वर्कला में कुछ प्रमुख चीजें नीचे दी गई हैं

  • पानी के खेल
  • वर्कला, एडवा और तिरुवंबदी में स्थित समुद्र तट
  • शिवगिरी मुट्ठ
  • अंजेंगो किला

सामान्य ज्ञान: वर्कला को केरल का छिपा खजाना भी कहा जाता है|

अपेक्षित समय: 1-2 दिन

आदर्श: पानी के खेल, प्रकृति में घूमना, विश्राम

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

स्थान: मानचित्र पर देखें

 और पढो: पलक्कड़|एर्नाकुलम|मैसूर

8. कोवलम

अरब सागर के तट पर स्थित, कोवलम एक शांत शहर है जो अपने उथले पानी के समुद्र तटों के लिए प्रसिद्ध है। आयुर्वेदिक उपचार, योग और ध्यान जैसी चीज़ें करने के लिए आपको यहाँ के  प्राचीन इलाकों में जाना होगा| इस जगह पर मसालों, लकड़ी की कलाकृतियां आदि की खरीदारी की जा सकती है|

कोवलम में करने के लिए कुछ शीर्ष चीजें नीचे बताई गई हैं:

  • जल खेल क्रियाएँ
  • समुद्र तटों पर जाना जैसे लाइटहाउस बीच, हावा बीच, समुद्र बीच
  • हेलिसन कैसल
  • वेलायानी झील

अपेक्षित समय: 1-2 दिन

आदर्श: पानी के खेल, समुद्र तट, आयुर्वैदिक उपचार

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: सितंबर-मार्च

स्थान: मानचित्र पर देखें

9. पोवर

तिरुवनंतपुरम के पास पोवर प्राचीन समुद्र तटों और शांतिपूर्ण बैकवाटर को लिए हुए एक सुंदर द्वीप है। पोवर एक ऐसे बिंदु पर है जहां नदी, समुद्र और जमीन मिलते हुए दिखाई देते हैं और यह एक प्राकृतिक आश्चर्य है| आसपास के मछली पकड़ने वाले समुदायों में घूमकर स्थानीय परंपराओं और अनुष्ठानों का पता भी लगा सकते हैं।

पोवर में पता लगाने के लिए कुछ शीर्ष चीजें इस प्रकार हैं:

  • पोवर बीच और कोवलम बीच जैसे समुद्र तट
  • तिरुपरप्पू फॉल्स
  • मत्स्य पालन गांव
  • क्रुइसेस

अपेक्षित समय: 1 दिन

आदर्श: समुद्र तट, स्थानीय संस्कृति की खोज

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: अगस्त-मार्च

स्थान: मानचित्र पर देखें

10. कुमारकॉम

वेम्बनाद झील से पुनः प्राप्त, कई छोटे द्वीपों का समूह है कुमारकॉम| कुट्टानाद प्रदेश का ही एक हिस्सा  कुमारकॉम अपने सुंदर बैकवाटर के लिए प्रसिद्ध है। कुमारकॉम पक्षी अभयारण्य पक्षी निरीक्षकों के लिए स्वर्ग है, जहाँ बड़ी संख्या में विविध प्रकार के प्रवासी पक्षी आते हैं|

कुमारकॉम में कुछ प्रमुख चीजें नीचे दी गई हैं

  • कुमारकॉम बर्ड सेंचुरी
  • बैकवाटर्स
  • वेल्लावाल्ली
  • टोडी शॉप विजिट
  • बे द्वीप ड्रिफ्टवुड म्यूजियम
  • मछली पकड़ना

अपेक्षित समय: 1-2 दिन

आदर्श: मत्स्य पालन, पक्षी देखना, बैकवाटर्स

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: सितंबर-मार्च

स्थान: मानचित्र पर देखें

11. सबरीमाला

सबरीमाला पम्पा नदी के तट पर स्थित मंदिरों का शहर है। इस शहर के प्रसिद्ध अयप्पा मंदिर में हर साल 30 मिलियन से भी ज्यादा भक्त आते है। दिलचस्प बात यह है कि 12 से 50 साल तक की महिलाओं को मंदिर के परिसर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है। यह मंदिर एक वर्ष में केवल दो महीने ही खुलता है।

सबरीमाला में करने के लिए नीचे कुछ शीर्ष चीजें हैं

  • अयप्पा मंदिर
  • मकरविलाक्कू
  • मलिकक्कापुरम देवी मंदिर
  • वावर श्राइन

अपेक्षित समय: 1 दिन

आदर्श: धार्मिक लोग

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: सितंबर-अप्रैल

स्थान: मानचित्र पर देखें

12. कोल्लम

कोल्लम सबसे पुराना बंदरगाह है जो अष्टमुंडी झील के किनारे स्थित है| इसका ज्यादा महत्व इसलिए है क्योंकि यहाँ बेहतरीन गुणवत्ता वाले काजू का व्यापार होता है। कोल्लम में कई मंदिरों, मस्जिदों के साथ-साथ शांत बैकवाटर भी हैं|

कोल्लम में जाने के लिए कुछ शीर्ष स्थान निम्न हैं:

  • पुनालुर
  • पलारुवी झरने
  • करुनागाप्पल्ली
  • माय्यानद
  • अष्टमुडी झील
  • पथान्पुरम

अपेक्षित समय: 1-2 दिन

आदर्श: धार्मिक लोग, आराम करने के लिए,  काजू की खरीदारी

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: सितंबर-फरवरी

स्थान: मानचित्र पर देखें

13. कोझिकोड

कोझिकोड नारियल, कॉफी, रबर जैसी वस्तुओं का प्रमुख व्यापार केंद्र है। पहले इसको कालीकट के नाम से जाना जाता था, अब कोझिकोड के नाम से यह एक आदर्श पर्यटन स्थल है जो सुंदर ग्रामीण इलाकों और समृद्ध विरासत के कारण पर्यटकों को लुभाता है|

कोझिकोड में जाने के लिए कुछ शीर्ष स्थान नीचे दिए गए हैं

  • कोझिपपारा फॉल्स
  • थुशरागिरी वाटरफॉल
  • थिक्कोटी लाइट हाउस
  • कक्कयम
  • स्वीट स्ट्रीट (मिठाई ठेरवु)

अपेक्षित समय: 1-2 दिन

आदर्श: प्रकृति प्रेमी, आराम के लिए,  खरीदारी

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: अक्टूबर-मार्च

स्थान: मानचित्र पर देखें

14. त्रिशूर

केरल की सांस्कृतिक राजधानी के रूप में जाना जाने वाला त्रिशूर पारंपरिक प्रदर्शन कला, पवित्र स्थानों के साथ-साथ त्यौहारों के लिए भी लोकप्रिय है। ओणम और त्रिशूरपुरम जैसे त्यौहार पूरे उत्साह के साथ यहाँ मनाये जाते हैं|

त्रिशूर में जाने के लिए नीचे कुछ स्थान बताये गए हैं

  • अथिरपल्ली फॉल्स
  • वादाकुम्म्नाथान मंदिर
  • चारपा फॉल्स
  • हेरिटेज गार्डन
  • वजाचल फॉल्स
  • विलांगन कुन्नू

अपेक्षित समय: 2-3 दिन

आदर्श: धार्मिक लोग,  सांस्कृतिक गतिविधियां

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे वर्ष

स्थान: मानचित्र पर देखें

15. त्रिवेंद्रम

केरल की राजधानी त्रिवेन्द्रम अपने समुद्र-तटों, मंदिरों, संग्रहालयों, ऐतिहासिक स्थलों और जैविक उद्यानों के लिए भी जाना जाता है।

त्रिवेन्द्रम में जाने के लिए कुछ शीर्ष स्थान बताये गए हैं:

  • नेययार बांध और वन्यजीव अभयारण्य
  • श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर
  • कनककुन्नू पैलेस
  • पोवार द्वीप
  • ऑब्जर्वेटरी
  • हैप्पी लैंड वॉटर थीम पार्क

अपेक्षित समय: 1-2 दिन

आदर्श: धार्मिक लोग, वन्यजीवन खोजी, समुद्र तट

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: अक्टूबर-फरवरी

स्थान: मानचित्र पर देखें

16. पल्लकड़

केरल के पश्चिमी घाटों में एक सुरम्य जगह है, पलक्कड़। यह अपने ताड़ के पेड़ों और धान के खेतों के लिए प्रसिद्ध तो है ही साथ ही यह केरल की मुख्य ग्रैनरी है। पलक्कड़ को यह नाम ‘पाला’ पेड़ों से मिला है जो इस क्षेत्र में ज्यादा संख्या में पाए जाते हैं। यद्यपि मलयालम केरल की मुख्य भाषा है, लेकिन पलक्कड़ जिले में तमिल भाषा मुख्य रूप से बोली जाती है।

पलक्कड़ में जाने के लिए नीचे कुछ शीर्ष स्थान बताये गए हैं

  • परंबिकुलम टाइगर रिजर्व
  • ओट्टापलम
  • पलक्कड़ फोर्ट
  • धोनी
  • साइलेंट वैली नेशनल पार्क
  • जैन मंदिर

सामान्य ज्ञान: पलक्कड़ को “केरल का गेटवे” कहा जाता है

अपेक्षित समय: 1-2 दिन

आदर्श: विरासत, आराम के लिए, जैव विविधता

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: जुलाई-मार्च

स्थान: मानचित्र पर देखें

केरल कैसे पहुंचे

प्रमुख हवाई अड्डे:

  • त्रिवेंद्रम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा
  • कोचीन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा
  • कालीकट अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा
  • कन्नूर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा

बुक करें: इक्सिगो  ऑफर,  पेटीएम फ्लाइट ऑफ़र,  फ्लाईविडस ऑफर

प्रमुख रेलवे स्टेशन:

  • तिरुवनंतपुरम सेंट्रल (टीवीसी)
  • एर्नाकुलम टाउन नॉर्थ (ईआरएन)
  • कोझिकोड (सीएलटी)
  • शोरनूर जंक्शन (एसआरआर)
  • कोल्लम जंक्शन (क्यूएलएन)
  • एर्नाकुलम जंक्शन साउथ (ईआरएस)
  • कोट्टायम (केटीएमएम)

मुख्य बस डिपो:

केरल राज्य सड़क परिवहन निगम (केएसआरटीसी)

निजी कंपनी की बसों और टैक्सियों द्वारा यात्रा भी एक विकल्प है|

अपनी बस बुक करके पैसा बचाएं: रेडबस ऑफ़र, टिकटगोस ऑफर, ट्रेवलयारी  ऑफर

केरल में कहाँ रहें

ताज ग्रीन कोव रिज़ॉर्ट और स्पा कोवलम, ओल्ड हार्बर होटल, ताज कुमारकोम रिज़ॉर्ट एंड स्पा, ताज मालबार रिज़ॉर्ट एंड स्पा, कोचीन,  ललित रिज़ॉर्ट एंड स्पा, बेकल

होटल बुकिंग पर डिस्काउंट का लाभ उठाएं: क्लब महिंद्रा ऑफर, गोआईबीबो ऑफर, मेक माय ट्रिप  होटल ऑफर, रेडबस होटल ऑफर

केरल में जाने के लिए अन्य स्थान

नीलंबुर मलप्पुरम जिले में स्थित एक छोटा सा शहर है (त्रिवेंद्रम से 380 कि.मी) जो सागौन के पेड़ों के लिए जाना जाता है।

पोनमुडी चाय के बागानों, घाटियों और जल निकायों जैसे झरने और धाराओं वाला एक पहाड़ी क्षेत्र है। (त्रिवेंद्रम से 55 कि.मी)

काल्पेटा वायनाड जिले का एक पहाड़ी क्षेत्र है जिसमे कॉफी बागानों की बहुतायत है| (त्रिवेंद्रम से 447 कि.मी)

पेर्मडे इडुक्की जिले में एक पहाड़ी स्थान है जिसकी पहचान चाय, कॉफी, रबड़ और इलायची की वजह से है| (त्रिवेंद्रम से 178 किमी)

गुरुवायूर त्रिशूर जिले में भगवान कृष्ण को समर्पित भारत के तीसरे सबसे बड़े मंदिर गुरुवायूर मंदिर के लिए जाना जाने वाला एक छोटा सा शहर है| (त्रिवेंद्रम से 292 कि.मी)

पलक्कड़ जिले में मौजूद मालम्पुझा बांध के लिए प्रसिद्ध है। (त्रिवेंद्रम से 350 कि.मी)

इडुकी एक ऐसा पहाड़ी क्षेत्र है जो वनों, वन्यजीवन और रबर के खेतों के लिए जाना जाता है| (त्रिवेंद्रम से 240 कि.मी)

व्याथिरी वायनाड के जंगलों में बसा हुआ है और यह आरामदायक आवासों के लिए लोकप्रिय है। (त्रिवेन्द्रम से 437 कि.मी)

तम्माला देश का प्रमुख पर्यावरण पर्यटन स्थल है जिसमे खूबसूरत जल निकाय, पहाड़ियां, सुंदर रेलवे ट्रैक हैं| (त्रिवेंद्रम से 72 कि.मी)

पोनानी मलप्पुरम जिले में प्यारे समुद्र तटों के लिए जाना जाता है। (त्रिवेंद्रम से 313 कि.मी)

वागामन एक ऐसा पहाड़ी क्षेत्र है जहां सदाबहार हरियाली और शांति रहती है (त्रिवेंद्रम से 186 कि.मी)

मलप्पुरम ब्रिस्टिश युग के इतिहास के निशानों से भरा हुआ कोझिकोड के नजदीक स्थित है| (त्रिवेंद्रम से 363 किमी)

छिपे हुए रत्न

बेकल मालाबार तटरेखा पर स्थित है जो गुफाओं, मंदिरों, समुद्र तटों और किलों से भरा हुआ है|

थालसैरी को टेलिचेरी के रूप में भी जानते हैं| यह केरल का एक तटीय शहर है जो मिथुन और भरथ जैसे कई प्रसिद्ध सर्कस मालिकों का घर है। यह जगह बेकरी के लिए भी प्रसिद्ध है।

नेल्लियंपैथी केरल और तमिलनाडु सीमा पर स्थित एक सुंदर पहाड़ी स्थान है जो चाय, कॉफी और इलायची एस्टेट के लिए जाना जाता है।

कन्नूर केरल में एक ऐसी सुंदर जगह है जो समुद्र तटों, मंदिरों, विरासत स्थलों आदि से भरी हुई है| यह स्थान बुनाई की परंपरा और काजू के बागानों के लिए प्रसिद्ध है।

कासरगोड समुद्र तट पर एक सुंदर जगह है जहाँ किले, पहाड़ियां, नदियां और समुद्र तट जैसे  कई दर्शनीय स्थल हैं| इस शहर में सात भाषाएँ बोली जाती हैं| कासरगोड कॉयर और हैंडलूम काम के लिए भी प्रसिद्ध है।

कोट्टायम को केरल में ‘अक्षरा नगरी’ के रूप जाना जाता है क्योंकि भारत में 100% साक्षरता यहाँ पर ही है| यह स्थान रबर के बागानों और मसालों के लिए भी प्रसिद्ध है|

कैशकारो की सलाह

आपको निश्चित रूप से केरल के व्यंजनों का आनंद लेना चाहिए जिनमें वहां के मसालों के उपयोग के साथ स्थानीय सब्ज़ियों, मांस और सीफ़ूड का मिश्रण होता है।

इस क्षेत्र की उष्णकटिबंधीय जलवायु गर्मियों में गर्म और आर्द्रता वाली होती है इसलिए आप केरल के कई पहाड़ी स्थानों पर जा सकते हैं जो गर्मियों में भी ठन्डे रहते हैं|

केरल में यात्रा

जब आप केरल में यात्रा करते हैं और आप कैब बुक करना चाहते हैं। कैब की बुकिंग कभी-कभी महंगी भी हो सकती है। इसलिए, जब आप कैब बुक करते हैं तो पैसे बचाने के लिए इन कैब ऑफ़र का उपयोग कर सकते हैं: ओला कैब ऑफर,  मेरु कैब ऑफर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × two =