Kesar During Pregnancy in Hindi गर्भावस्था के दौरान केसर: लाभ, उपयोग करने के तरीके और एक्सपर्ट टिप्स

About Kesar in Hindi – केसर के बारे में

केसर को सैफरन के रूप में भी जाना जाता है| यह एक ऐसा मसाला है जो क्रोकस सैटियस के फूल से निकला है। इस मसाले में इन ज्वलंत क्रिमसन स्टिग्मा और शैलियों को धागे कहा जाता है| इनको तब इकठ्ठा किया जाता है और मुख्य रूप से भोजन में रंग भरने के लिए उपयोग किया जाता है। केसर दुनिया के सबसे महंगे मसालों में से एक है और इसकी खेती पहली बार ग्रीक में की गई थी।

Also read: Patanjali Kesar in Hindi

Is it Safe? in Hindi – क्या ये सुरक्षित है?

कम समय के लिए केसर की खुराक का उपयोग करना ज्यादातर लोगों के लिए सुरक्षित है। लेकिन, कभी-कभी यह चिंता, पेट खराब और नींद न आना जैसे दुष्प्रभाव पैदा कर सकता है। इसलिए लंबे समय तक केसर का ज्यादा उपयोग करना खतरे से भरा हो सकता है।

Benefits of Kesar During Pregnancy in Hindi – गर्भावस्था के दौरान केसर के फायदे

आयुर्वेद का मानना ​​है कि केसर का सही मात्रा में सेवन करने से गर्भावस्था की असुविधाएँ दूर होती हैं। यह शरीर के प्रत्येक अंग को समान रूप से खून की आपूर्ति करके पाचन और भूख में सुधार करता है। यदि हर रोज़ इसका सेवन किया जाए तो यह मूड स्विंग को नियंत्रित करने में सहायक होता है|

मूड स्विंग्स को नियंत्रित करता है

गर्भावस्था के दौरान हार्मोन के बहाव आपको चिड़चिड़ा और आवेगी बना सकता है। केसर में एंटी-डिप्रेसेंट गुण होते हैं जो आपको उन आंसू भरे  और घिनौने दिनों से निपटने में मदद करता है। यह मस्तिष्क में खून के बहाव को बढ़ाता है जो सेरोटोनिन नाम के हार्मोन का उत्पादन करता है जो निश्चित रूप से आपको बेहतर महसूस कराता है।

रक्तचाप को कम करता है

गर्भावस्था के दौरान रक्तचाप में वृद्धि एक आम समस्या है| इसे कम करने के लिए दूध में केसर की 3 से 4 धागे मिला सकते हैं। यह मांसपेशियों को आराम देता है और गर्भाशय के उत्तेजक के रूप में काम करता है।

पाचन को सुधारे

गर्भावस्था के दौरान कब्ज, गैस और सूजन बहुत आम समस्याएं हैं। केसर मेटाबोलिज्म को बढ़ाता है और पाचन तंत्र में खून के बहाव को बढ़ावा देता है। उच्च प्रोटीन और कैल्शियम के लिए दूध का सेवन किया जाता है लेकिन यह आसानी से पच नहीं सकता। केसर दूध को पचाने में भी मदद करता है।

एलर्जी से लड़ता है

गर्भावस्था के दौरान एलर्जी होने का खतरा ज्यादा होता है। केसर वाल दूध खाँसी, अस्थमा, एलर्जी को शांत करता है और कॉनजेशन से भी छुटकारा दिलाता है। आप चंदन और केसर के पेस्ट को मिलाकर बुखार से छुटकारा पा सकते हैं, यह बुखार के इलाज का एक प्राकृतिक तरीका है।

दिल की बीमारियों को दूर रखता है

केसर में उच्च एंटी-ऑक्सिडेंट, पोटेशियम और क्रोकेटिन सामग्री होती है। यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है और धमनियों को वसा के जमाव से मुक्त रखता है।

Read more: Safi के फायदे

Ways to Use Saffron in Hindi – केसर उपयोग करने के तरीके

दूध के साथ केसर

यह सबसे आम तरीका है जिसमें लोग केसर का उपयोग करते हैं| (केसर) को एक गिलास गर्म दूध में कुछ धागे मिलाएं|

पानी के साथ केसर

आप बस पानी में केसर के कुछ धागे डाल सकते हैं| यह आपके पाचन में मदद करेगा।

टुकड़े किया हुआ केसर  

केसर का यह रूप पौष्टिक सूप और सलाद की ड्रेसिंग के लिए सबसे उपयुक्त है। आप अपनी उंगलियों से केसर को मसल सकते हैं और सीधे विभिन्न चीज़ों में उनका उपयोग कर सकते हैं।

Expert Tips in Hindi – एक्सपर्ट टिप्स

भारतीय आयुर्वेद विज्ञान गर्भावस्था के पांचवें महीने से केसर लेने की सलाह देता है। ऐसा माना जाता है कि यह बच्चे की गतिविधि को तेज़ करने में मदद करता है। यदि गर्म दूध के गिलास में केसर के कुछ धागे मिलाकर दिए जाएँ तो समय से पहले संकुचन के कारण बच्चे को खतरे में डालने का खतरा कम हो जाता है।

Read more:Patanjali Kesar के नुकसान
📢 Hungry for more deals? Visit CashKaro stores & online shopping categories to get exclusive coupons and save up to ₹15,000 per month. Download the app - Android & iOS to get free ₹25 bonus Cashback!
Previous articleIsabgol for Constipation in Hindi कब्ज के लिए इसबगोल: ईसबगोल के 4 अद्भुत लाभ, उपयोग करने के तरीके और एक्सपर्ट टिप्स 
Next articleNoni Juice for Weight Loss in Hindi वजन घटाने के लिए नोनी जूस: लाभ, उपयोग करने के तरीके और एक्सपर्ट टिप्स

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × 4 =