Kumaryasava in Hindi कुमार्यासव: लाभ, उपयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स, मूल्य

0
110222

kumaryasava ke fayde aur nuksan in Hindi

What is Kumaryasava in Hindi – कुमार्यावास क्या है?

कुमार्यावास(Kumaryasava) जिसे कुमारी असावा के नाम से भी जाना जाता है यह एक पॉली हर्बल लिक्विड दवा है जिसमें 5 से 10% तक अल्कोहल होती है। यह अल्कोहल और पानी शरीर में सक्रिय हर्बल तत्वों को घुलने करने में मदद करती है। कुमार्यावास में मुख्य तत्व एलो वेरा है और यह आयुर्वेदिक नुस्खा अक्सर गैस्ट्राइटिस, बवासीर, खांसी, सर्दी, सांस की तकलीफ और मूत्र पथ के विकारों के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। इसका उपयोग मासिक धर्म संबंधी विकारों के इलाज के लिए भी किया जाता है।

Read More: Patanjali Almond Oil के नुकसानPatanjali Body Ubtan के नुकसानBrahmi Ghrita  के नुकसान

Kumaryasava Benefits in Hindi – कुमार्यावास के लाभ

कुमार्यावास(Kumaryasava) का उपयोग मुख्य रूप से अलग अलग स्वास्थ्य विकारों के उपचार के लिए किया जाता है। यह स्वास्थ्य चिंताओं से लड़ने में तेजी से लाभ देता है। सबसे अधिक ध्यान देने योग्य लाभों में से कुछ नीचे बताये गये हैं:

पाचन को उत्तेजित करने में मदद करता है

कुमार्यावास(Kumaryasava) एलो वेरा और ताम्र भस्म जैसे तत्वों की मदद से जिगर से पित्त के स्राव को उत्तेजित करता है। इसलिए यह जिगर के कामों और पाचन में सुधार करता है।

ब्रोंकाइटिस और खांसी का इलाज करता है

इस दवा का सेवन करने से बलगम बननी कम हो जाती है और असामान्य स्राव होने लगता है। यह एक एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट के रूप में काम करता है। अपने मजबूत एंटी-बैक्टीरियल गुणों के कारण यह बलगम में क्रोनिक ब्रोंकाइटिस अटैक को कम करने में मदद करता है। यह फेफड़ों के टिश्यूओं को मजबूत करता है और इन्फेक्शन होने से रोकता है।

मासिक धर्म की अनियमितताओं का इलाज करता है

कुमार्यावास मासिक धर्म के प्रवाह को कण्ट्रोल करता और बेहतर बनाता है। यह दर्दनाक पीरियड्स से आराम देने में भी सहायक है। यदि कुमार्यावास का उपयोग महायोगराज, गुग्गुल, चंद्रप्रभा वटी और कुछ अन्य आयुर्वेदिक सामग्रियों के साथ किया जाता है तो यह पीसीओएस या पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। भारी रक्तस्राव के मामले में कुमार्यावास के बजाय अशोकरिष्ट लिया जाता है।

एफ्रोडिसीएक के रूप में काम करता है

कुमार्यावास(Kumarsayava) कामेच्छा को बढ़ाता है और स्पर्म की क्वालिटी में सुधार करता है। पुरुष नपुंसकता के इलाज के लिए इसकी सिफारिश की जाती है।

भूख और एनोरेक्सिया के नुकसान को ठीक करने में मदद करता है

कुमार्यावास पाचक रसों के स्राव को उत्तेजित करता है इस प्रकार सभी पोषक तत्वों के पाचन को बढ़ावा देता है। यह भूख में सुधार करने के लिए भी जाना जाता है। यह लार के ज्यादा बनने, पेट में भारीपन, बुरप्स और पुरानी कब्ज को कम करता है।

फैटी लीवर सिंड्रोम (हेपेटिक स्टीटोसिस) का इलाज करता है

कुमार्यावास(Kumarsayava) में मौजूद कई तत्व फैट के मेटाबोलिज्म को बढ़ावा देते हैं और उसे जिगर में इकठ्ठा होने से रोकते हैं।

Read More: Himalaya Tagara के नुकसानKamdudha Ras के नुकसानKutajarishta  के नुकसान

Kumaryasava Uses in Hindi – कुमार्यावास के उपयोग

कुमार्यावास के पास लाभों का भण्डार है| इसके सबसे अच्छे उपयोगों में से कुछ नीचे दिए गए हैं:

एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-बैक्टीरियल

कुमार्यावास(Kumarsayava) में ऐसे तत्व होते हैं जो प्रकृति में ऑक्सीकरण विरोधी और जीवाणु विरोधी होते हैं। यह सर्दी, बुखार, मूत्र की समस्याओं, सांस जैसी बीमारियों को रोकने और उनसे लड़ने में मदद करता है।

त्वचा की देखभाल

कुमार्यावास का उपयोग त्वचा को फिर से जीवित करने में मदद करता है और यह इसमें हर्बल सामग्री और एलोवेरा की होने के कारण होता है। ये विटामिन-ई और सी से भरपूर  होते हैं जो त्वचा को एक चमकदार रूप देते हैं।

एन्थ्राकुईनॉन

कुमार्यावास(Kumaryasava) में एलोवेरा होने से यह प्रकृति में लेक्सेटिव है। यह बदले में पुरानी कब्ज से लड़ने में मदद करता है।


How To Use Kumaryasava in Hindi – कुमार्यावास का उपयोग कैसे करें?

कुमार्यावास को दिन में दो बार पानी के साथ भोजन के तुरंत बाद लिया जाता है।

क्या इसका सेवन भोजन से पहले या बाद में किया जा सकता है?

इसका उपयोग भोजन के बाद किया जाना चाहिए ताकि बीमारियों को ठीक करने में ज्यादा प्रभाव पड़े।

क्या कुमार्यावास को खाली पेट लिया जा सकता है?

नहीं, कुमार्यावास(Kumarsayava) को खाली पेट नहीं लेना चाहिए। यह एक आयुर्वेदिक दवा है जो गैस्ट्रिटिस और मूत्र पथ के विकारों की समस्याओं का इलाज करने में मदद करती है। कुमार्यावास एक पाचक एंजाइम है इसलिए आप इसका सेवन लंच या डिनर में जरूर करें।

क्या कुमार्यावास का सेवन पानी के साथ किया जा सकता है?

हां, भोजन के बाद पानी के साथ कुमार्यावास का समान मात्रा में सेवन करना चाहिए। भोजन से पहले इसे लेने से कई दुष्प्रभाव हो सकते हैं।


Kumaryasava Dosage in Hindi – कुमार्यावास की खुराक

सुरक्षित खुराक

आयु मात्रा समय
वयस्क 10 मि.ली. से 20 मि.ली. दिन में दो बार भोजन के बाद
बच्चे (5 वर्ष से अधिक) 5 मि.ली. से 10 मि.ली. भोजन के बाद

इसकी अधिकतम खुराक हर रोज़ 60 मि.ली. होती है। लेकिन  इस दवा का सेवन करने से पहले सख्त चिकित्सा पर्यवेक्षण की सिफारिश की जाती है।

इस दवा को डॉक्टर की सलाह से ही लें और खुद इस दवा को लेने से बचना चाहिए।


Side Effects of Kumaryasava in Hindi – कुमार्यावास के साइड इफेक्ट्स

कुमार्यावास के निम्नलिखित दुष्प्रभाव हो सकते हैं:

  • बवासीर के रोगियों के लिए अनुपयुक्त: खूनी बवासीर से पीड़ित होने पर कुमार्यावास का उपयोग करने से बचना चाहिए।
  • हरे रंग के दस्त: अपने भोजन से पहले कुमार्यावास का सेवन करने से हरे रंग के दस्त हो सकते हैं। अच्छे परिणामों के लिए इसे हमेशा बराबर मात्रा में पानी के साथ लेना चाहिए।
  • इंफ्लेमेटरी प्रभाव: इसे ज्यादा मात्रा में लेने पर यह किडनी में सूजन पैदा कर सकता है।
  • स्तनपान के दौरान असुरक्षित: इसे गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं द्वारा नहीं लिया जाना चाहिए।
  • मलत्याग के दौरान दर्द: इसके ज्यादा उपयोग से मल त्याग या मूत्राशय या मूत्रमार्ग में असुविधा के दौरान ऐंठन हो सकती है।

Harmful Interaction of Kumaryasava in Hindi – कुमार्यावास से हानिकारक इंटरेक्शन

कुमार्यावास(Kumaryasava) कुछ दवाओं के साथ इंटरेक्शन कर सकता है। इसलिए यह सलाह दी जाती है कि आप कुमार्यावास का उपयोग शुरू करने से पहले कुछ दवाएं ले रहे हों।


Precautions And Warnings Of Kumaryasava in Hindi – कुमार्यावास से चेतावनी और बचाव

क्या ड्राइविंग से पहले कुमार्यावास का लिया जा सकता है?

यदि रोगी को उनींदापन या थकान का अनुभव होता है तो ड्राइविंग से पहले इसे लेना सुरक्षित नहीं हो सकता। इस तरह के मामले में दवा का सेवन करने के तरीके में बदलाव की जरूरत होती है।

क्या कुमार्यावास को शराब के साथ लिया जा सकता है?

नहीं, इसे शराब के साथ लेना उचित नहीं है क्योंकि यह रोगी में उनींदापन को बढ़ाता है जो आगे चलकर गंभीर रूप धारण कर सकता है।

क्या कुमार्यावास नशे की लत है?

आयुर्वेदिक चिकित्सक द्वारा किसी भी दवा पर निर्भरता से बचने के लिए निर्धारित मात्रा में कुमार्यावास का सेवन करने में सावधानी बरतनी चाहिए।

क्या कुमार्यावास आपको मदहोश बना सकता है?

कुछ स्थितियों में यह आपको नीरस या सुस्त बना सकता है। यदि आपको इस प्रकार का कुछ भी अनुभव हो तो आपको तुरंत अपने आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए।

क्या कुमार्यावास को ज्यादा मात्रा में ले सकते हैं?

हाँ। कुमार्यावास(Kumaryasava) को लेते समय कड़े कदम उठाने चाहिए। ज्यादा मात्रा में इसका सेवन करने पर यह प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है और दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं।


9 Important Questions About Kumaryasava Answered in Hindi – कुमार्यावास के बारे में महत्वपूर्ण सवाल जवाब

यह किस चीज़ से बना है?

कुमार्यावास बहुत से शक्तिशाली और प्रभावी तत्वों से बना होता है जैसे एलोवेरा जूस, पानी, शहद, गुड़, पिप्पा चबा, शीतल मिर्च, लौह भस्म आदि।

भंडारण?

कुमार्यावास(Kumaryasava)को कमरे के तापमान पर एक सूखी जगह पर रखा जाना चाहिए। इसे बच्चों की पहुंच से दूर रखना होगा।

अपनी हालत में सुधार देखने तक मुझे कितने समय तक कुमार्यावास का उपयोग करने की जरूरत होगी?

हर व्यक्ति में यह अलग होता है। आम तौर पर कुमार्यावास के सेवन इसके कोर्स को शुरू करने से 4 से 8 सप्ताह में दिखाई देता है।

कुमार्यावास को दिन में कितनी बार लेने की जरूरत है?

वयस्कों को इसे 10 मि.ली. और 20 मि.ली. के बीच की मात्रा में दिन में दो बार लेना चाहिए। अच्छे परिणामों के लिए इसका सेवन भोजन के बाद करना चाहिए।

किसी भी मामले में एक दिन में इसे लेने की अधिकतम मात्रा 60 मि.ली. से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।

क्या इसका स्तनपान पर कोई प्रभाव पड़ता है?

हाँ, स्तनपान कराने वाली मां के स्वास्थ्य की स्थिति के आधार पर आयुर्वेदिक चिकित्सक द्वारा उचित सलाह के बाद ही इसे लेना चाहिए।

क्या यह बच्चों के लिए सुरक्षित है?

बच्चों के लिए कुमार्यावास का सेवन करना सुरक्षित है। लेकिन इसकी मात्रा 5 मि.ली. से 10 मि.ली. तक सीमित होनी चाहिए।

क्या कुमार्यावास को खाली पेट लिया जा सकता है?

नहीं, इसका सेवन भोजन के बाद तय की गयी मात्रा में किया जाना चाहिए।

क्या गर्भावस्था पर इसका कोई प्रभाव पड़ता है?

हाँ। इसे गर्भावस्था के दौरान नहीं लेना चाहिए क्योंकि इससे रक्तस्राव हो सकता है और अंत में गर्भपात हो सकता है।

क्या इसमें चीनी होती है?

हाँ, इसमें चीनी शामिल है और इस प्रकार यह मधुमेह के रोगियों के लिए सही नहीं है।


Buyer’s Guide in Hindi – खरीदने के लिए गाइड

कुमार्यावास – अश्विनी फार्मास्यूटिकल्स

सबसे अच्छी कीमत

95 रुपये


Research about Kumaryasava in Hindi – कुमार्यावास के बारे में शोध

अध्ययन बताते हैं कि कुमार्यावास(Kumaryasava)पेट की खराबी, बवासीर, मासिक धर्म की समस्याओं, बुखार, खांसी जैसी बीमारियों को ठीक करने के लिए फायदेमंद है। यह मुख्य रूप से इसके साथ जुड़े कई गुणकारी गुणों के कारण है। यह रोगियों के जीवन की क्वालिटी में सुधार करने के लिए भी जाना जाता है।


मिलने वाले ब्रांड

कहॉ से खरीदें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × 3 =