Lazy Eye (Amblyopia)in Hindi लेजी आईज (एमबिलयोपिया): लक्षण, कारण, डायगनोसिस और ट्रीटमेंट

कैशकरो मेडिकल एक्सपर्ट

एमबिलयोपिया को लेजी आईज के नाम से भी जाना जाता है। यह आंख और ब्रेन के एक साथ अच्छी तरह से काम नहीं करने के कारण दृष्टि का विकार (साइट डिसार्डर) है। लेजी आईज के कारण देखने में परेशानी होती है, जो आमतौर पर सामान्य दिखाई देती है। छोटे बच्चों और लोगों में एक आंख की कमी (सिंगल आई) में दृष्टि (विजिन) का सबसे आम कारण है।

बुनियादी कारण को ठीक करने के बाद, दृष्टि (विजिन) को ठीक से बहाल नहीं किया जाता है, क्योंकि इसमें में ब्रेन भी शामिल है। एमबिलयोपिया का पता लगाना मुश्किल हो सकता है, इसलिए चार से पांच साल की उम्र के सभी बच्चों के लिए विजिन टेस्ट की सिफारिश की जाती है।

एमबिलयोपिया पांच साल की उम्र से शुरू होता है और वयस्कों में, आबादी का 1-5% प्रभावित होने का अंदाजा है। इस बीमारी से लोग पायलट या पुलिस अधिकारी नहीं बन सकते हैं।

How does Amblyopia affect your body in Hindi-एमबिलयोपिया आपके शरीर पर कैसे असर करती है?

एमबिलयोपिया एक ऐसी हालत है जो दृष्टि (विजिन) पर असर करती है, लेकिन उम्र बढ़ने के साथ ये विकसित होता है। दृष्टि विकास (विजिन डेवलपमेंट) के दौरान, आपकी दृष्टि (विजिन) पर कई फैक्टर्स असर कर सकते हैं जो आपके ब्रेन और आंखों को ठीक से संचार (कम्यूनिकेट) करने से रोकते हैं। अगर इनमें से कोई एक फैक्टर दूसरे की तुलना में एक आंख के विकास में बाधा बनता है, तो यह प्रभावित आंख से पाए गए संकेतों की अनदेखा करने के लिए आपके ब्रेन को रोक कर सकता है। इस बात को नजरअंदाज करना कि आंख आपके ब्रेन के लिए एक आदत बन सकती है, जिससे एमबिलयोपिया हो सकता है।

What are the causes of Amblyopia in Hindi-एमबिलयोपिया के कारण क्या हैं?

जीवन की शुरुआत में असामान्य दृश्य अनुभव (अबनार्मल विजिन एक्सपीरियंस) के कारण एमबिलयोपिया विकसित होता है जो आंख और ब्रेन के पीछे टीशू (रेटिना) की एक पतली परत के बीच तंत्रिका मार्गों (नर्व पाथवेज) को बदलता है। सामान्य कारणों में शामिल हैं:

  • मसल्स इमबैलेंस (स्ट्रैबिस्मस) – एमबिलयोपिया का सबसे आम कारण आंखों को बनाए रखने वाली मशल्स का इमबैलेंस होना है। यह आंखों को पार करने या बाहर निकलने का कारण बन सकता है और एक समन्वित तरीके (कार्डिनेटेड वे) से आंखों को एक साथ ट्रैक करने से रोकता है।
  • अपवर्तक (रिफ्रेक्टिव) अनिसोमेट्रोपिया- हर आंख में देखने के तरीके में एक खास अंतर होता है, अक्सर दूरदर्शिता (फारसाइटेडनेस) के कारण होता है लेकिन कभी-कभी निकटता (नियरसाइटेडनेस) या (एसिटिगमाटिज्म) की वजह से एमबिलयोपिया हो सकता है।
  • डिप्राइवेशन – मोतियाबिंद (काटारैक्ट) से बच्चे के उस आंख की देखने की क्षमता जा सकती है।

What are the risk factors of Amblyopia in Hind- एमबिलयोपिया के रिस्क फैक्टर क्या हैं?

  • कम जन्म के वजन या समय से पहले पैदा होने वाले बच्चों में एमबिलयोपिया विकसित होने का अधिक खतरा होता है।
  • एमबिलयोपिया, या मीडिया अपारदर्शिता (ओपासिटीज) की फैमिली हिस्ट्री से बच्चे में एमबिलयोपिया का खतरा बढ़ जाएगा।

What are the symptoms of Amblyopia in Hindi-एमबिलयोपिया के लक्षण क्या हैं?

आमतौर पर ये लक्षण होते है:

  • खराब स्टीरियो विजन।
  • खराब पैटर्न मान्यता (रिकोगनिशन), खराब दृश्य तीक्ष्णता (विजुअल एक्विटी), और प्रभावित आंख पर विपरीत और गति के लिए कम संवेदनशीलता।
  • स्थानिक दृष्टि (फंक्शनल अबनार्मलटिजी) में कार्यात्मक असामान्यताएं जैसे दृश्य तीक्ष्णता में कमी, विपरीत संवेदनशीलता कार्य (कंट्रास्ट संसिविटी फंक्शन) और वर्नियर एक्युइटी।
  • द्विनेत्री असामान्यताएं (बाइनोकुलर अबनार्मलटिज) जैसे इम्पेर्यड स्टीरियो एक्यूटी और असामान्य द्विनेत्री योग (अबनार्मल बाइनोकुलर सम्मनशन)।

How is Amblyopia diagnosed in Hindi-एमबिलयोपिया का डायगनोसिस कैसे किया जाता है?

जितनी जल्दी हो सके एम्बीलोपिया का डायगनोसिस करना जरूरी है ताकि दृष्टि हानि (विजिन लॉस) को कम से कम रखा जा सके। 3 से 8 साल की आयु के बच्चों में एम्बीलोपिया के लिए स्क्रीनिंग सिफारिश दी जाती है।

यह एक या दोनों आंखों में कम दृश्य तीक्ष्णता (लो विजुअल एक्यूटी) की पहचान करके, आंख की संरचनात्मक असामान्यता (स्ट्रक्चरल एबनार्मलटीज) के अनुपात से और अन्य दृश्य विकारों (विजुअल डिसार्डर) को छोड़कर डायगनोसिस किया जाता है।

युवा बच्चों में, यह अनुमान लगाया जा सकता है कि रोगी की प्रतिक्रियाओं (रिएक्शन) का अवलोकन (आबर्जविंग) तब किया जाता है जब एक आंख को कवर किया जाता है, जिसमें रोगी की एक आंख से वस्तुओं का पालन करने की क्षमता का अवलोकन करना शामिल है।

द्विनेत्री (बाइनोकुलर) रेटिनल बायरफ्रिजेंस स्कैनिंग स्ट्रैबिस्मस, माइक्रोस्ट्राबिसमस या कम निर्धारण सटीकता के साथ जुड़ा हुआ है कि परिवेशी पहचान करने में सक्षम हो सकता है।

How to prevent & control Amblyopia in Hindi-एमबिलयोपिया को कैसे रोकें और कंट्रोल करें?

लेजी आईज को स्ट्रैबिस्मस, अस्टिगमाटिज्म, मोतियाबिंद, और अन्य दृष्टि समस्याओं का शुरुआती पता लगाने और ट्रीटमेंट से रोका जा सकता है।

Treatment of Amblyopia- Allopathic Treatment in Hindi-एमबिलयोपिया का एलोपैथिक ट्रीटमेंट

  • प्रभावित त्वचा में आई पैच का इस्तेमाल करने से पहले, निकटता (नियरसाइटटेडनेस), दूरदर्शिता (फारसाइटटेडनेस) या दृष्टिवैषम्य (अस्टिगमाटिज्म) जैसी समस्याओं का इलाज किया जाता है। आंख के पैच का इस्तेमाल तब मजबूत आंख को कवर करने के लिए किया जाता है ताकि बच्चे अपनी कमजोर आंख का इस्तेमाल कर सके। पहले तो दृष्टि धुंधली होगी लेकिन समय के बाद, हफ्तों और कुछ महीनों के भीतर, यह ठीक हो जाएगी।
  • एमबिलयोपिया वाले बच्चों को अपनी आंखों को फोकस करने में मदद के लिए चश्मे की भी जरूरत होती है।
  • लेजी आईज के हल्के मामलों में, एट्रोपिन नामक एक आंख के ड्रॉप का इस्तेमाल किया जाता है। यह मजबूत आंख को धुंधला करता है इसलिए बच्चे को पैच पहनने की जरूरत नहीं है।
  • रिफ्रेक्टिव सर्जरी का इस्तेमाल एनिसोमेट्रोपिया को ठीक करने के लिए किया जा सकता है और आंखों की मांसपेशियों की सर्जरी स्ट्रैबिस्मस को सही कर सकती है।

Amblyopia- Lifestyle Tips in Hindi-एमबिलयोपियालाइफस्टाइल टिप्स

विटामिन से भरपूर, पौष्टिक आहार लें।

अगर आपके बच्चे की आंखें लेजी हैं, तो उसे आई पैच हटाने न दें या आप आई पैच के बजाय आई ड्रॉप का इस्तेमाल कर सकते हैं।

बच्चों की नियमित रूप से आंखों का चेकअप जरूरी है, खासकर 8 साल की उम्र तक।

What are recommended exercise for person with Amblyopia in Hindi-एमबिलयोपिया वाले व्यक्ति के लिए क्या एक्सरसाइज होनी चाहिए?

10 सेकंड के लिए मजबूत आंख को कवर करके और दूर की वस्तु पर ध्यान केंद्रित करके, कमजोर आंख से एक्सरसाइज करना।

पढ़ते समय या कंप्यूटर का इस्तेमाल करते समय हर 30 मिनट में 2 सेकंड के लिए अपनी आई बोल पर गोल घुमाएं।

Amblyopia & pregnancy- Things to know in Hindi-एमबिलयोपिया और प्रेगनेंसीजरूरी बातें

अगर प्रेगनेंसी के दौरान मां सिगरेट पीती है तो बच्चे में एंबीलिया होने की संभावना बढ़ सकती है।

हालांकि, अगर मां में एमबिलयोपिया है, तो इसका एक जोखिम है कि उस बच्चे में भी यह होगा।

5 साल की उम्र तक बच्चे की आंखों की रोज जांच जरूरी है।

Common complications related to Amblyopia in Hindi-एमबिलयोपिया से जुड़ी मुश्किलें

अनट्रीटेड लेजी आई में आंखों की रोशनी हमेशा के लिए जा सकती है।


FAQs in Hindi-पूछे जाने वाले सवाल

सवाल: अनिसोमेट्रोपिया और एमबिलयोपिया में क्या संबंध है?

जवाब: अनिसोमेट्रोपिया एक ऐसी हालत है जिसमें दो आंखों की अपवर्तक त्रुटियों (रिफ्रेएक्टिव एर्रस) में जरूरी अंतर होता है। अगर एनिसोमेट्रोपिया बचपन से मौजूद है और इसका इलाज नहीं किया जाता है, तो इससे अक्सर कमजोर आंख या लेजी आई का विकास होता है।

सवाल: बच्चों को किस उम्र में अपनी पहली आंख की जांच करवानी चाहिए?

जवाब: बच्चों को 8-9 साल की उम्र तक आंख चेक करानी चाहिए। लगभग तीन साल की उम्र में पहली बार आंख की जांच करानी चाहिए।

सवाल: क्या एमबिलयोपिया अंधापन है?

जवाब: नहीं; एमबिलयोपिक आंख अंधी नहीं है क्योंकि यह पूरी तरह से दृष्टि (विजिन) के बिना नहीं रहती है। यह प्रभावित आंख की केवल केंद्रीय दृष्टि (सेंट्रल विजिन) को प्रभावित करता है।


ऐसे ही लेख पढ़ें

  • बेड सोर
  • एएलएस डायगनोसिस
  • हाइपरोपिया ट्रीटमेंट
  • खून की कमी
📢 Hungry for more deals? Visit CashKaro stores & online shopping categories to get exclusive coupons and save up to ₹15,000 per month. Download the app - Android & iOS to get free ₹25 bonus Cashback!
Previous articleFollicular Keratosis (Keratosis Pilaris) in Hindi फोलिकुलर केराटोसिस (केराटोसिस पिलारिस): लक्षण, कारण, डायगनोसिस और ट्रीटमेंट
Next articleSBI Offers: Upto Rs 3,000 Off on Travelguru, Tata CliQ & more

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

7 − five =