Levofloxacin in Hindi लेवोफ़्लॉक्सासिन: प्रयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स, मूल्य, संयोजन, सावधानियां

0
188

Table of Contents

Levofloxacin in Hindi लेवोफ़्लॉक्सासिन: प्रयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स, मूल्य, संयोजन, सावधानियां

1What is Levofloxacin in Hindi – लेवोफ़्लॉक्सासिन क्या है

लेवोफ़्लॉक्सासिन एंटीबायोटिक दवाओं के “क्विनोलोन” समूह से संबंधित है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के जीवाणु संक्रमणों के इलाज के लिए किया जाता है।


2Uses of Levofloxacin in Hindi – लेवोफ़्लॉक्सासिन के उपयोग

लेवोफ़्लॉक्सासिन का उपयोग आमतौर पर निम्न बीमारियों या लक्षणों के उपचार या रोकथाम के लिए किया जाता है:

इन्फेकशियस दस्त

  • टाइफाइड (आँतों का बुखार)
  • गोनोरिया
  • इन्हेलेशनल एंथ्रेक्स
  • क्रोनिक बैक्टीरियल प्रोस्टेटाइटिस
  • मूत्र मार्ग में इन्फेक्शन
  • त्वचा और नरम ऊतकों का इन्फेक्शन
  • ब्रोंकाइटिस
  • निमोनिया
  • तीव्र साइनस
  • हड्डियों और जोड़ों का इन्फेक्शन
  • पेट का इन्फेक्शन

उपरोक्त बताये गये के इलावा भी लेवोफ़्लॉक्सासिन का उपयोग किया जा सकता है।


3How does Levofloxacin work in Hindi – लेवोफ़्लॉक्सासिन कैसे काम करता है

लेवोफ़्लॉक्सासिन एंटीबायोटिक दवाओं के “क्विनोलोन” समूह से संबंधित है जिसे जीवाणुनाशक (बैक्टीरिया को मारने की क्षमता) माना जाता है।

यह डीएनए (आनुवंशिक सामग्री) के संश्लेषण में रूकावट डालकर बैक्टीरिया को मारता है और उन्हें आगे बढने से रोकता है।


4How to Take Levofloxacin in Hindi – लेवोफ़्लॉक्सासिन कैसे लें?

एंटीबायोटिक प्रतिरोध को कम करने और लेवोफ़्लॉक्सासिन की प्रभावशीलता को बढ़ाने के लिए यह सलाह दी जाती है कि लेवोफ़्लॉक्सासिन सहित सभी जीवाणुरोधी उपचारों को कल्चर और संवेदनशीलता की जानकारी के आधार पर चुना जाना चाहिए (एक विशेष एंटीबायोटिक का उपयोग केवल संक्रमण का इलाज करने या रोकने के लिए ही किया जाना चाहिए)।

यह विभिन्न रूपों में उपलब्ध है:

  • गोलियाँ
  • तरल सस्पेंशन
  • आँख की दवा

लेवोफ़्लॉक्सासिन की गोलियाँ आमतौर पर मुंह द्वारा लेने से अच्छी तरह से अवशोषित होती हैं| इन्हें एक ही बार में पानी के साथ सीधे ही निगल लेना चाहिए। उन्हें भोजन के साथ या बिना भी लिया जा सकता है। अच्छे परिणाम पाने के लिए शरीर में दवा की एक निश्चित मात्रा को बनाए रखने के लिए इसे हमेशा समान समय के अंतराल पर लिया जाना चाहिए। इसकी खुराक को रोगी की व्यक्तिगत जरूरतों, इन्फेक्शन के प्रकार या चिकित्सक की सलाह के अनुसार लिया जाना चाहिए।

यदि सिरप का उपयोग करना हो तो दवा को समान रूप से मिलाने के लिए बोतल को अच्छी तरह से हिलाएं। इस दवा की सही खुराक का उपभोग करने के लिए एक नापने वाले कप का उपयोग करें।

लेवोफ़्लॉक्सासिन लेते समय यह सलाह दी जाती है कि इसका कोर्स पूरा किए बिना या बीच में खुराक छोड़े बिना दवा को बीच में नहीं छोड़ना चाहिए| इससे दवा की प्रभावशीलता कम हो सकती है और इस दवा के जीवाणु प्रतिरोध की संभावना बढ़ सकती है।


5Common Dosage for Levofloxacin in Hindi – सामान्य खुराक

इस दवा की खुराक और लेने का तरीका डॉक्टर निम्न के आधार पर तय करता है:

  • रोगी की आयु और उसके शरीर का वजन
  • रोगी के स्वास्थ्य की स्थिति या चिकित्सा की स्थिति
  • रोग की गंभीरता
  • पहली खुराक लेने पर प्रतिक्रिया
  • एलर्जी या दवा प्रतिक्रियाओं का इतिहास

6Dosage in Hindi – खुराक

आमतौर पर लेवोफ़्लॉक्सासिन को भोजन के साथ या भोजन के बाद लिया जाता है। इसकी खुराक रोगी की स्थिति पर निर्भर करती है।

  • वयस्कों में लेवोफ़्लॉक्सासिन की सबसे अधिक खुराक 500 से 750 मि.ग्रा. प्रति 12 घंटा तय की गयी है।
  • बच्चों में इसकी खुराक इन्फेक्शन की गंभीरता के आधार पर सस्पेंशन के 10 से 20 मि.ग्रा. प्रति कि.ग्रा. प्रतिदिन है। इसे दैनिक रूप से एकल खुराक के रूप में लिया जा सकता है या हर 12 घंटों में दो विभाजित खुराक में लिया जा सकता है।
  • किडनी की समस्याओं या डायलिसिस से पीड़ित रोगियों में लेवोफ़्लॉक्सासिन की खुराक को कम करने की जरूरत होती है।
  • डॉक्टर की सलाह के बिना कभी भी इसकी खुराक से ज्यादा या ज्यादा समय तक इसका उपयोग न करें। लक्षणों के खराब होने की स्थिति में या सुधार न होने की स्थिति में तुरंत चिकित्सा सहायता लें।
  • यदि आपने ओवर-द-काउंटर उत्पाद के रूप में इसे लिया है तो इस दवा को लेने से पहले पैकेज पर दिए गये सभी निर्देशों को पढ़ें।

7When to Avoid Levofloxacin & precautions to take in Hindi – लेवोफ़्लॉक्सासिन से कब बचें और सावधानियां

वायरल इन्फेक्शन जैसे कि सामान्य जुकाम, फ़्लू आदि के उपचार में लेवोफ़्लॉक्सासिन अप्रभावी है या अत्यधिक उपयोग से एंटीबायोटिक प्रतिरोध हो सकता है या एंटीबायोटिक की प्रभावशीलता कम हो सकती है

लेवोफ़्लॉक्सासिन का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए:

  • लेवोफ़्लॉक्सासिन से एलर्जी वाले मरीज़
  • क्विनोलोन परिवार से संबंधित दवाओं जैसे कि सिप्रोफ्लोक्सासिन, टोलॉक्सासिन, गैटिफ्लोक्सासिन आदि से एलर्जी वाले मरीज
  • गुर्दे की बीमारी या डायलिसिस से पीड़ित रोगी
  • लिवर की बीमारियों से पीड़ित मरीज
  • मिरगी के मरीज (दौरे का अनुभव करने वाले मरीज)
  • टेंडन की समस्या के इतिहास वाले मरीज़
  • मायस्थेनिया ग्रेविस (मांसपेशियों की असामान्य कमजोरी) वाले मरीज
  • दिल की समस्या या लंबे समय तक क्यू.टी अंतराल (दिल के विद्युत चक्र) वाले रोगी
  • टाईजानिडिन (मांसपेशियों को आराम देने वाले) लेने वाले रोगी

8 Side-effects of Levofloxacin in Hindi – लेवोफ़्लॉक्सासिन के दुष्प्रभाव

इससे दुष्प्रभाव हो सकते हैं लेकिन ये सभी रोगियों में हमेशा नहीं होते।

  • जी मिचलाना
  • उल्टी
  • खट्टी डकार
  • दस्त
  • सिर चकराना
  • मुंह का फंगल इन्फेक्शन
  • सरदर्द
  • बदला हुआ स्वाद
  • त्वचा पर लाल चकत्ते
  • दौरे
  • एलर्जी

ऐसे मामलों में अपने चिकित्सक को तुरंत बताएं और तुरंत डॉक्टर के पास जाएँ|


9Reported Allergic Reactions in Hindi – एलर्जी प्रतिक्रियाएं

लेवोफ़्लॉक्सासिन का उपयोग बैक्टीरिया के संक्रमण के इलाज के लिए किया जाता है, लेकिन लेवोफ़्लॉक्सासिन से एलर्जी हो सकती है।

इससे होने वाली एलर्जी प्रतिक्रियाओं में निम्न हो सकती हैं: खुजली वाली त्वचा, चकत्ते, विशेष रूप से चेहरे, होंठ और गले पर सूजन, सांस लेने में कठिनाई या निगलने में कठिनाई और चेतना का नुकसान।


10Effect on organs in Hindi – अंगों पर प्रभाव

गुर्दे और जिगर के रोगों से पीड़ित रोगियों में इसकी खुराक के समायोजन की जरूरत होती है। ऐसे रोगियों को लेवोफ़्लॉक्सासिन को सावधानी से लिया जाना चाहिए।


11Drug Interactions to Be Careful About in Hindi – दवा इंटरेक्शन के बारे में सावधानी

  • सभी इंटरेक्शन वाली दवाओं यहाँ सूचीबद्ध नहीं किया जा सकता। आपको अपने द्वारा उपयोग की जाने वाली सभी दवाओं या उत्पादों के बारे में अपने चिकित्सक को सूचित करना चाहिए।
  • यदि आप अक्सर अन्य दवाओं का उपयोग करते हैं जो नींद लाती हैं जैसे नींद की गोलियां, अन्य एलर्जी की दवाएं, मादक दर्द की दवा, मांसपेशियों को आराम देने वाली दवाएं, फिट, डिप्रेशन या चिंता विरोधी दवाएं तो भी आपको अपने डॉक्टर को सूचित करना चाहिए
  • आपको उन हर्बल उत्पादों के बारे में भी उन्हें बताना चाहिए जिनका आप सेवन कर रहे हों। आपको अपने डॉक्टर की स्वीकृति के बिना दवा की खुराक में कोई संशोधन नहीं करना चाहिए।

लेवोफ़्लॉक्सासिन के साथ प्रभाव डालने वाली कुछ सामान्य दवाओं में निम्न हो सकती हैं:

  • एंटीएसिड्स
  • जिंक, कैशियम या मैग्नीशियम युक्त विटामिन या खनिज पूरक
  • वारफरिन
  • एंटीडायबिटिक
  • नॉन स्टेरॉयडल दवाईयां
  • थियोफिलाइन
  • डायजोक्सिन
  • प्रोबेनेसिड
  • सिमेटिडाइन
  • ओमेप्रजोल
  • टाईजानिडिन
  • फ़िनाइटोइन
  • क्लोजापिन
  • सुक्रालफेट
  • साइक्लोस्पोरिन

लेवोफ़्लॉक्सासिन के साथ इन सभी दवाओं का उपयोग करने से दुष्प्रभाव की संभावना बढ़ सकती है और इन दवाओं के चिकित्सीय प्रभाव को भी प्रभावित कर सकता है।


12 Shows Effects / Results In in Hindi – प्रभाव और परिणाम

अपना प्रभाव को दिखाने के लिए लेवोफ़्लॉक्सासिन के लिए लिया गया समय दवा के सेवन और उसके उपयोग पर निर्भर करता है।

कुछ रोगियों में पहले दिन से लक्षणों की गंभीरता कम हो सकती है लेकिन भले ही लक्षण गायब हो जाएँ लेकिन इस दवा का कोर्स हमेशा पूरा करना चाहिए।


13Storage Requirements for Levofloxacin in Hindi – भंडारण

  • सिरप: इसे प्रकाश से बचाएं।
  • टेबलेट्स: इसे 40 डिग्री से ऊपर नमी, प्रकाश और तापमान से बचाकर रखें|

14Pro Tips When Taking Levofloxacin in Hindi – टिप्स

यदि आप लेवोफ़्लॉक्सासिन के साथ उपचार के कुछ दिनों में ही बेहतर महसूस करना शुरू करते हैं तो यह उचित है कि आप इसका कोर्स पूरा करें।

यदि बीच में ही दवा बंद हो जाती है तो लक्षण वापस आ सकते हैं या खराब हो सकते हैं। साथ ही दवा के बैक्टीरिया प्रतिरोध की संभावना बढ़ सकती है।


15Frequently asked questions in Hindi – सामान्य प्रश्न

क्या लेवोफ़्लॉक्सासिन नशे की लत है?

ऐसी किसी प्रवृत्ति की कोई सूचना नहीं है।

क्या शराब के साथ लेवोफ़्लॉक्सासिन ले सकते हैं?

इस दवा के साथ शराब लेने का प्रभाव स्पष्ट नहीं है। इसके सेवन से पहले अपने चिकित्सक से सलाह लें|

क्या किसी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?

  • डेयरी उत्पादों (जैसे दूध, दही) या कैल्शियम-से भरपूर रस सहित कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ इस दवा के अवशोषण को प्रभावित कर सकते हैं।
  • इस दवा को मैग्नीशियम या एल्यूमीनियम एंटासिड खाने के कम से कम 2 घंटे पहले या 6 घंटे बाद लें।
  • लिवोफ़्लॉक्सासिन लेने वाले मरीजों को अत्यधिक केंद्रित मूत्र के गठन को रोकने के लिए पर्याप्त रूप से हाइड्रेटेड रहना चाहिए।

क्या गर्भवती होने पर लेवोफ़्लॉक्सासिन ले सकते हैं?

यदि आप गर्भवती हैं या गर्भवती होने की योजना बना रही हैं तो हमेशा अपने डॉक्टर को सूचित करें। इस दवा का उपयोग गर्भावस्था के दौरान बहुत सावधानी से करना चाहिए क्योंकि इससे भ्रूण पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है|

क्या बच्चे को स्तनपान कराते समय लेवोफ़्लॉक्सासिन ले सकते हैं?

यदि आप अपने बच्चे को स्तनपान करा रही हैं तो अपने डॉक्टर को सूचित करें। लेवोफ़्लॉक्सासिन को मानव दूध में उत्सर्जित होने के लिए जाना जाता है, इसलिए स्तनपान कराते समय लेवोफ़्लॉक्सासिन का सेवन करने से पहले हमेशा अपने बाल रोग विशेषज्ञ से सलाह करें।

क्या लेवोफ़्लॉक्सासिन को लेने के बाद वाहन चला सकते हैं?

लेवोफ़्लॉक्सासिन आमतौर पर आपकी वाहन चलाने की क्षमता को प्रभावित नहीं करती। लेकिन कुछ रोगियों को साइड इफेक्ट के रूप में चक्कर आना अनुभव हो सकता है| ऐसे मामलों में इसका उपयोग भारी मशीनरी और वाहन चलाते समय सावधानी से साथ करना चाहिए।

यदि लेवोफ़्लॉक्सासिन अधिक मात्रा में लें तो क्या होगा?

इसे तय की गयी खुराक से ज्यादा नहीं लेना चाहिए। दवा को अधिक मात्रा में लेने या बार बार लेने से आपके लक्षणों में सुधार नहीं होगा बल्कि वे गंभीर दुष्प्रभाव पैदा कर सकते हैं। अधिक खुराक के मामले में तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह करें।

यदि एक्सपायर हो चुकी लेवोफ़्लॉक्सासिन का सेवन करें तो क्या होगा?

किसी प्रतिकूल घटना का उत्पादन करने के लिए एक्सपायरी हो चुकी इस दवा की एक खुराक काफी  नहीं होती। लेकिन यदि आप अस्वस्थ या बीमार महसूस करते हैं तो इस मामले में अपने डॉक्टर से सलाह लें| एक्सपायरी दवा आपकी स्थिति के इलाज के लिए शक्तिशाली नहीं हो सकती। इसलिए ऐसी  दवा से बचना उचित है। ऐसी दवा अच्छी तरह से काम नहीं करती|

यदि लेवोफ़्लॉक्सासिन की खुराक लेनी याद ना रहे तो क्या होगा?

यदि इसकी खुराक लेनी याद न रहे तो याद आते ही तुरंत दवा का उपयोग करें| क्योंकि दवा के प्रभावी रूप से काम करने के लिए आपके शरीर में हर समय दवा की एक निश्चित मात्रा मौजूद होनी चाहिए। जैसे ही याद आये तुरंत भूली हुई दवा का उपयोग करें क्योंकि अगर दूसरी दवा का पहले से ही समय हो गया हो तो दुगुनी दवा ना लें|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

18 + 2 =