Low blood pressure in Hindi

एक सामान्य रक्तचाप लगभग 120/80 होता है। यदि आपका रक्तचाप 90/60 (60 से अधिक 90) से नीचे गिर जाता है तो इसे कम रक्तचाप या हाइपोटेंशन भी कहा जाता है। आपका रक्तचाप स्वाभाविक रूप से अलग अलग समय पर गिरता है लेकिन लंबे समय तक कम रक्तचाप होना स्वास्थ्य परिस्थितियों का कारण बन सकता है। कुछ दवाओं के कारण या बूढ़े होने के प्राकृतिक परिणाम के रूप में भी कम रक्तचाप हो सकता है। कम रक्तचाप की वजह से जरूरी नहीं कि आपके स्वास्थ्य को खतरा पैदा हो| 90/60 से नीचे रक्तचाप वाले लोग भी पूरी तरह से सामान्य जीवन जीते हैं। इसके लक्षण ही यह तय करते हैं कि आपको कम रक्तचाप की समस्या है या नहीं। कम रक्तचाप आमतौर पर खतरनाक नहीं होता लेकिन यदि इससे दर्द, चक्कर आना या थकावट जैसे लक्षण पैदा हों तो यह गंभीर हो सकता है|

जिन लोगों को क्रोनिक लो ब्लड प्रेशर (ऑर्थोस्टैटिक हाइपोटेंशन) है वे अक्सर लेटने या उठने-बैठने की स्थिति में या हल्का महसूस होने की समस्याओं का अनुभव करते हैं। कम रक्तचाप के मामलों में रोगियों को सदमे और यहां तक ​​कि स्ट्रोक भी हो सकता है।

खुद पहचाने – यदि आपको सिर घूमना, चक्कर आना या बेहोशी जैसे लक्षण दिखाई दें तो शायद आपको कम रक्तचाप की समस्या है।

और पढो: हुकवर्म इन्फेक्शन लक्षणइस्कैमिक हार्ट रोग लक्षण

कम रक्तचाप शरीर को कैसे प्रभावित करता है?

कम रक्तचाप का मतलब है कि शरीर में खून का बहाव आपके अंगों को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन और पोषक तत्व नहीं दे सकता| जब रक्तचाप बहुत कम होता है तो लोग अपनी चेतना खो सकते हैं।

कम रक्तचाप के कारण क्या हैं?

तनाव, आयु, तापमान, दिन का समय (जैसे शाम) और अंतिम भोजन का समय कुछ ऐसे कारक हैं जो अस्थायी रूप से निम्न रक्तचाप में योगदान दे सकते हैं। इसके अलावा बहुत लंबे समय तक बिस्तर में रहना रक्तचाप में अस्थायी गिरावट का कारण बनता है।

कम रक्तचाप के सामान्य कारण:

  • गर्भावस्था के पहले छह महीनों के दौरान
  • हृदय-रोग (धीमी हृदय गति ब्रैडकार्डिया) जो रक्तचाप को कम करती है – उदाहरण के लिए दिल के दौरे के बाद की स्थिति
  • एंडोक्राइन डिसआर्डर जैसी हार्मोनल बीमारी में ग्रंथि की समस्या के कारण (जैसे थायरॉइड या गुर्दे), कुछ मामलों में मधुमेह भी कम रक्तचाप पैदा कर सकता है|
  • अक्सर उल्टी, दस्त, बुखार और गर्मी के स्ट्रोक के कारण डीहाईडरेशन होता है। हल्के डीहाईडरेशन से चक्कर आना या बेहोशी महसूस होती है। यदि लंबे समय तक यह सदमे और अन्य गंभीर स्थितियों का कारण बन सकता है
  • चोट के कारण, खून की हानि, आंतरिक रक्तस्राव या गंभीर डीहाईडरेशन (रक्त में कम पानी) जिसके कारण शरीर में खून की मात्रा में कमी आ सकती है|
  • सेप्टिक शॉक, जब बैक्टीरियल इन्फेक्शन संक्रमित अंग से खून के बहाव में पहुंच जाता है
  • गंभीर एलर्जी प्रतिक्रिया (सांस लेने की समस्याएं, पित्ताशय, खुजली, सूजन गले), आमतौर पर कुछ खाद्य पदार्थों, जहरीले कीड़ों के काटने से या पेनिसिलिन से। यह रक्तचाप में अचानक गिरावट का कारण हो सकता है
  • आहार में आवश्यक विटामिन की कमी से एनीमिया (पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाएं नहीं) होता है जो कम रक्तचाप का कारण बनता है।

कम रक्तचाप का कारण बनने वाली दवाएं:

उच्च रक्तचाप के साथ-साथ दिल और डिप्रेशन की दवाएं भी कम रक्तचाप का कारण बन सकती हैं। इसमें बीटा-ब्लॉकर्स, अल्फा-ब्लॉकर्स, कैल्शियम चैनल अवरोधक, एंटीड्रिप्रेसेंट्स के साथ शामिल हैं। इसके अलावा मूत्रवर्धक आपके शरीर में पानी की मात्रा को कम करके रक्तचाप को कम करते हैं।

कम रक्तचाप के खतरे के कारक क्या हैं?

इसके सामान्य खतरे के कारकों में निम्न हो सकते हैं:

आयु – मुख्य रूप से 65 वर्ष से अधिक आयु के वयस्कों में खड़े होने पर या खाने के बाद रक्तचाप में गिरावट होती है। हाइपोटेंशन मुख्य रूप से बच्चों और छोटे वयस्कों को प्रभावित करता है।

दवाएं – जो लोग कुछ ऐसी दवाएं लेते हैं जैसे अल्फा ब्लॉकर्स जो उच्च रक्तचाप की दवाएं होती हैं जिस से रक्तचाप कम होने का खतरा अधिक हो जाता है।

कुछ बीमारियां – पार्किंसंस की बीमारी, मधुमेह और दिल की स्थिति कम रक्तचाप के खतरे को बढ़ा देती है।

और पढो: जापानी एन्सेफलाइटिस लक्षण

कम रक्तचाप के लक्षण क्या हैं?

इसके लक्षणों में निम्न हो सकते हैं:

  • चक्कर आना
  • बेहोशी
  • नजर धुंधली होना
  • दिल की धड़कन असामान्य होना
  • बीमार (मतली),कमजोर या बहुत थका हुआ महसूस करना,

कम रक्तचाप को कैसे पहचाना जाता है?

इसे पहचानने के ​​तरीके निम्न हो सकते हैं:

खून की जांच – ये आपके पूरे स्वास्थ्य के बारे में जानकारी दे सकते हैं, भले ही आपको कम ब्लड शुगर (हाइपोग्लिसिमिया), हाई ब्लड शुगर (हाइपरग्लेसेमिया या मधुमेह) या लाल रक्त कोशिकाओं की गिनती का कम होना (एनीमिया) जैसी समस्या हो तो यह आपके रक्तचाप को कम कर सकती है|

इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईसीजी) – इस दर्द रहित जांच के दौरान, मुलायम और चिपचिपे पैच (इलेक्ट्रोड) आपकी छाती, बाहों और पैरों की त्वचा से जोड़े जाते हैं। यह पैच आपके दिल के विद्युत सिग्नल का पता लगाते हैं जबकि मशीन उन्हें ग्राफ पेपर पर रिकॉर्ड करती है या स्क्रीन पर दिखाती है।

इकोकार्डियोग्राम – इस जांच में आपकी छाती का अल्ट्रासाउंड किया जाता है जो आपके दिल की संरचना और काम करने की छवियां दिखाता है। अल्ट्रासाउंड तरंगें फैलकर उनके इको को एक ट्रांसड्यूसर नामक डिवाइस में रिकॉर्ड किया जाता है जो शरीर के बाहर होता है। वीडियो मॉनीटर पर चलती छवियों को बनाने के लिए कंप्यूटर ट्रांसड्यूसर से जानकारी मिलती है।

कम रक्तचाप को कैसे रोकें और नियंत्रित करें?

  • अपने आहार में सोडियम की मात्रा को बढ़ाएं|
  • कम भोजन खाएं – तीन बड़े भोजन खाने के बजाय दिन भर समान रूप की दूरी पर पांच या छह बार थोडा थोडा करके खाने की कोशिश करें|
  • तेजी से पचाने योग्य कार्बोस से बचें – यदि आपका शरीर बहुत तेजी से भोजन पचा लेता है तो इससे भी रक्तचाप में कमी आ सकती है। उदाहरण के लिए सफेद चावल और सफेद रोटी तेजी से हजम होने वाले खाद्य पदार्थ हैं जो आपके रक्तचाप को कम कर देंगे। सेम, प्रोटीन और साबुत अनाज आपके रक्तचाप को स्थिर रखते हैं| अपने सैंडविच में वाइट ब्रेड की जगह पर होल-वीट ब्रेड का उपयोग करें और सफेद चावल की बजाय ब्राउन राइस खाएं।
  • पर्याप्त विटामिन और पोषक तत्व प्राप्त करें – आपके आहार में पोषक तत्वों की कमी से रक्तचाप कम हो सकता है। उदाहरण के लिए यदि आपके आहार में पर्याप्त मात्र में विटामिन बी-12 नहीं है तो आपके शरीर में पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाएं नहीं होंगी। इससे एनीमिया हो सकता है जोकि कम रक्तचाप का एक लक्षण है। फोलिक एसिड की कमी से भी ऐसी परिस्थिति पैदा हो सकती है। इसलिए, ब्रोकोली, सेम, मसूर जोकि फोलिक एसिड के अच्छे स्रोत हैं, इनका सेवन करना चाहिए। दूध, अंडे और मछली विटामिन बी-12 के अच्छे स्रोत हैं। इन्हें नियमित रूप से अपने आहार में शामिल करें।
  • अधिक पानी पीएं – पानी पीना न केवल डीहाईडरेशन को रोकता है बल्कि खून की मात्रा भी बढाता है। बढ़ी हुई खून की मात्रा कम रक्तचाप में बदल देती है। हर दिन कम से कम आठ से दस 8 औंस पानी पीना चाहिए।

कम रक्तचाप का उपचार

अस्थायी कम रक्तचाप का इलाज करने की कोई जरूरत नहीं है। लेकिन पुराने कम रक्तचाप यानी ऑर्थोस्टैटिक हाइपोटेंशन का उपचार किया जाता है।

एलोपैथिक उपचार –

यह उपचार कारण पर निर्भर करता है। जैसे:

  • डीहाईडरेशन के लिए तरल देना
  • मधुमेह के लिए नियमित इंसुलिन का इंजेक्शन
  • दवाओं के कारण या बदली हुई खुराक के कारण
  • हृदय की स्थिति का इलाज करने के लिए दवा, सर्जरी या दोनों ही
  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स जैसे खून की मात्रा या दबाव बढ़ाने वाली दवा
  • ऑर्थोस्टैटिक हाइपोटेंशन का इलाज करने वाली दवाएं जिनमें पाइरिडॉस्टिग्माइन, मायास्थेनिया ग्रेविस के उपचार में उपयोग की जाने वाली दवाएं

होम्योपैथिक उपचार –

कम रक्तचाप के लिए सबसे प्रभावी होम्योपैथिक दवाएं जेल्समियम, चाइना, नाजा और विस्कम एल्बम हैं। गेल्समियम तब ली जाती है जब कम रक्तचाप के कारण वर्टिगो, चक्कर आना जैसी समस्या होती है। डायरिया के बाद डीहाईडरेशन और खून की कमी से रक्तचाप कम होने के लिए चाइना बेहद फायदेमंद है। इसके इलावा दो होम्योपैथिक दवाएं नाजा और विस्कम एल्बम तब प्रयोग की जाती हैं जब वाल्वुलर दिल के घावों से रक्तचाप कम होता है।

कम रक्तचाप – जीवन शैली के टिप्स

  • जल्दी में खड़े न होयें
  • खूब पानी पिए।
  • अपने डॉक्टर से पूछें कि क्या आपको अपने आहार में ज्यादा नमक की जरूरत है।
  • अपने डॉक्टर से अपनि दवा के विकल्पों पर चर्चा करें।
  • यदि आपको बेहोशी, चक्कर आना या अस्थिर महसूस हो तो आप जो कर रहे हैं उसे बैठें लेतें या थोडा पानी पियें|

कम रक्तचाप वाले व्यक्ति के लिए क्या व्यायाम हैं?

सभी व्यायाम फायदेमंद होते हैं लेकिन दिल को मजबूत करने के लिए कार्डियो सबसे महत्वपूर्ण है ताकि दिल खून को अच्छी तरह से पंप कर सके।

कम रक्तचाप और गर्भावस्था – जानने योग्य बातें

गर्भावस्था के दौरान कम रक्तचाप होने के कई आम कारण है। ज्यादातर यह स्थिति बड़ी समस्याएं पैदा नहीं करती और जन्म देने के बाद रक्तचाप सामान्य स्तर पर वापस आ जाता है|कुछ मामलों में कम रक्तचाप बहुत गंभीर समस्या का संकेत हो सकता है जो कि मां और बच्चे दोनों के लिए खतरनाक हो सकता है।

कम रक्तचाप एक्टोपिक गर्भावस्था का संकेत भी हो सकता है, जो तब होता है जब एक महिला के गर्भाशय के बाहर एक उर्वरित अंडा ट्रांसप्लांट किया जाता है।

कम रक्तचाप से संबंधित सामान्य परेशानियाँ

कम रक्तचाप से मध्यम रूप चक्कर आना, कमजोरी, झुकाव और गिरने से चोट का खतरा जैसी परेशानियाँ हो सकती हैं।

गंभीर रूप से कम रक्तचाप आपके सामान्य कामों को पूरा करने के लिए शरीर को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं दे सकता जिससे आपके दिल और मस्तिष्क को नुकसान पहुंच सकता है।

सामान्य प्रश्न

खतरनाक रूप से कम रक्तचाप क्या है?

यदि कोई लक्षण दिखाई देता है तभी ज्यादातर डॉक्टर रक्तचाप को बहुत कम मानते हैं। कुछ विशेषज्ञ कम रक्तचाप को 90 मि.मी एचजी सिस्टोलिक या 60 मिमी एचजी डायस्टोलिक की रीडिंग के रूप में मानते हैं। यदि इससे कम की संख्या हो तो आपका दबाव सामान्य से कम होता है जिसकी वजह से रक्तचाप में अचानक गिरावट खतरनाक हो सकती है।

क्या कम बीपी थकावट का कारण बन सकता है?

सामान्य रूप से कम रक्तचाप के कारण थकान नहीं होती। यदि किसी का रक्तचाप अचानक गिर जाता है (संक्रमण के कारण या दिल की समस्या या निर्जलीकरण के कारण आदि) तो आप थके हुए और बीमार महसूस कर सकते हैं|

कौन से खाद्य पदार्थ कम रक्तचाप का इलाज करते हैं?

रक्तचाप को भोजन के बाद तेजी से गिरने से रोकने में मदद के लिए दिन में कई बार छोटे छोटे हिस्सों में खाते हैं और आलू, चावल, पास्ता और रोटी जैसे उच्च कार्बोहाइड्रेट खाद्य पदार्थों खाते हैं। आपका डॉक्टर रक्तचाप को अस्थायी रूप से बढ़ाने के लिए भोजन के साथ कैफीनयुक्त कॉफी या चाय पीने की भी सलाह देता है।

क्या कॉफी कम रक्तचाप के लिए अच्छी है?

कैफीन रक्तचाप में कम लेकिन नाटकीय रूप से बढावा दे सकती है भले ही आपको उच्च रक्तचाप न हो। कुछ शोधकर्ता मानते हैं कि कैफीन उन हार्मोन में रूकावट डाल सकता है जो आपकी आर्टरी को चौड़ा रखने में मदद करते हैं|

📢 Hungry for more deals? Visit CashKaro stores & online shopping categories to get exclusive coupons and save up to ₹15,000 per month. Download the app - Android & iOS to get free ₹25 bonus Cashback!
Previous articleजापानी एन्सेफलाइटिस (Japanese Encephalitis in Hindi): लक्षण, कारण, निदान और उपचार
Next article10 Popular Health Benefits of Grapefruit & Grapefruit Juice – Calories & Nutrition Included

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × 5 =