निमोनिया फेफड़ों का संक्रमण है जो एक या दोनों फेफड़ों में हो सकता है| यह बैक्टीरिया, वायरस या फंगल के कारण हो सकता है। बैक्टीरियल निमोनिया वयस्कों में सबसे आम होता है।

बैक्टीरियल निमोनिया: इस निमोनिया का सबसे आम कारण स्ट्रेप्टोकोकस निमोनिया है। क्लैमिडोफिला निमोनिया और लेजिओनेला न्यूमोफिला भी बैक्टीरियल निमोनिया का कारण बन सकते हैं| जीवाणुओं के कारण निमोनिया का एंटीबायोटिक्स से इलाज किया जा सकता है, लेकिन निमोनिया वाले बच्चों में से केवल एक तिहाई को ही ऐसे एंटीबायोटिक मिलते हैं|

वायरल निमोनिया: रेस्पिरेटरी वायरस अक्सर इस निमोनिया का कारण होते हैं खासकर छोटे बच्चों और बूढ़े लोगों में। वायरल निमोनिया आमतौर पर गंभीर नहीं होता और बैक्टीरियल निमोनिया की तुलना में कम समय तक रहता है।

माइकोप्लाज्मा निमोनिया: माइकोप्लाज्मा जीव वायरस या बैक्टीरिया से नहीं होते, लेकिन उन दोनों के लक्षण सामान्य होते हैं। माइकोप्लामास आमतौर पर निमोनिया के हल्के मामलों का कारण बनता है अक्सर छोटे बच्चों और युवा वयस्कों में।

फंगल निमोनिया: मिट्टी या पक्षी के मल का फंगल उन लोगों में निमोनिया का कारण बन सकता है जो जीवों को बड़ी मात्रा में सांस द्वारा ले लेते हैं। वे पुरानी बीमारियों या कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में भी निमोनिया पैदा कर सकते हैं।

निमोनिया में 5 साल से कम उम्र के बच्चों की मौतों का 16% हिस्सा है, 2015 में 920 में से 136 बच्चे मारे गए।

निमोनिया का टीकाकरण, पर्याप्त नुट्रीशन और एनवायरमेंटल कारकों की वजह से इसे रोका जा सकता है।

खुद पहचानिए: यदि आपको खांसी, बुखार, सर्दी और सांस लेने में कठिनाई जैसे लक्षण दिखाई दें तो आपको निमोनिया हो सकता है।

निमोनिया शरीर को कैसे प्रभावित करता है?

निमोनिया फेफड़ों में वायु की कोशिकाओं में सूजन का कारण बनता है जिसे अल्वेली कहा जाता है। अल्वेली तरल पदार्थ या पस से भर जाता है जिससे सांस लेने में मुश्किल होती है।

निमोनिया के कारण क्या हैं?

कई अलग-अलग प्रकार के जर्म्स निमोनिया का कारण बन सकते हैं। निमोनिया के पांच मुख्य कारण हैं:

  • बैक्टीरिया
  • वायरस
  • मायकोप्लास्म्स
  • फंगल
  • रसायनिक और पर्यावरण एजेंट

निमोनिया के खतरे के कारक क्या हैं?

इससे होने वाले सामान्य खतरों के कारकों में निम्न हो सकते हैं:

  • 5 और 65 वर्ष से अधिक उम्र
  • धूम्रपान करना
  • वायरल रेस्पिरेटरी इन्फेक्शन – सर्दी, लैरींगजाइटिस, इन्फ्लूएंजा इत्यादि।
  • निगलने में कठिनाई (स्ट्रोक, डिमेंशिया, पार्किंसंस रोग, या अन्य न्यूरोलॉजिकल स्थितियों के कारण) जो आकांक्षा (विदेशी वस्तु में सांस लेने) का कारण बन सकती है
  • क्रोनिक फेफड़ों की बीमारी जैसे सीओपीडी, ब्रोंकाइक्टेसिस या सिस्टिक फाइब्रोसिस
  • मस्तिष्क पक्षाघात(सेरिब्रल पाल्सी)
  • हृदय रोग, लिवर सिरोसिस या मधुमेह जैसी अन्य गंभीर बीमारियां
  • अस्पष्ट चेतना (डिमेंशिया, स्ट्रोक या अन्य तंत्रिका संबंधी स्थितियों के कारण मस्तिष्क के काम का नुकसान)
  • सर्जरी या चोट

निमोनिया के लक्षण क्या हैं?

निमोनिया के सबसे आम लक्षण इस प्रकार हैं:

  • खांसी (कुछ निमोनिया में हरे रंग या पीले रंग की बलगम या खूनी बलगम खांसी खांसी के साथ हो सकती है)
  • बुखार, जो हल्का या तेज़ हो सकता है
  • सर्दी के साथ कंपकपी
  • सांस लेने में तकलीफ, जो केवल तब हो सकती है जब आप सीढियां चढ़ते हैं

इसके इलावा कुछ लक्षणों में निम्न हो सकते हैं:

  • जब आप गहराई से खांसी करते या सांस लेते हैं तो छाती का दर्द तेज या और खराब हो जाता है
  • सरदर्द
  • अत्यधिक पसीना और क्लैमी त्वचा
  • भूख, कम ऊर्जा और थकान
  • विशेष रूप से वृद्ध लोगों में भ्रम

ये लक्षण अलग हो सकते हैं जो इस पर निर्भर करता है कि आपका निमोनिया बैक्टीरिया या वायरल है या नहीं।

बैक्टीरियल निमोनिया में आपके शरीर का तापमान 105 डिग्री फ़ारेनहाइट जितना ऊंचा हो सकता है। यह निमोनिया पसीना पैदा कर सकता है और तेजी से सांस लेने और नाड़ी की दर में बढावा कर सकता है। खून में ऑक्सीजन की कमी के कारण होंठ और नाखूनों का रंग नीला हो सकता है। रोगी की मानसिक स्थिति भ्रमित(कन्फ्यूज्ड) हो सकती है।

वायरल निमोनिया के शुरु के लक्षण इन्फ्लूएंजा के लक्षणों जैसे होते हैं जैस बुखार, सूखी खांसी, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द और कमजोरी। 12 से 36 घंटों के भीतर ही सांस फूलने लगता है, खांसी बदतर हो जाती है और थोड़ी मात्रा में बलगम भी पैदा होने लगती है। तेज बुखार हो सकता है और होंठ नीले हो सकते हैं।

निमोनिया की निदान कैसे की जाती है?

  • शारीरिक परीक्षा – आपका डॉक्टर स्टेथोस्कोप से आपके फेफड़ों को सुनता है| यदि आपको निमोनिया है तो जब आप सांस लेते हैं तो आपके फेफड़ों में क्रैकलिंग, बुलबुले और गडगडाने की आवाज़ आती है और आपकी छाती के कुछ स्थानों से सांस लेने की आवाज सुनना मुश्किल हो सकता है।
  • छाती एक्स-रे (यदि आपके डॉक्टर को निमोनिया पर संदेह है)
  • सफेद रक्त कोशिका की गिनती की जांच करने के लिए खून की जांच और आपके खून में होने वाले जर्म्स को जानने की कोशिश करें।
  • आर्टरियल ब्लड गैसों की जांच केवल यह देखने के लिए कि फेफड़ों से आपके खून को पर्याप्त ऑक्सीजन मिल रही है या नहीं।
  • फेफड़ों को बेहतर देखने के लिए छाती का सीटी या सीएटी स्कैन करें।
  • स्पुटम टेस्ट
  • फेफड़ों के आस-पास की जगह में तरल पदार्थ होने पर प्लयूरल फ्लूइड कल्चर टेस्ट
  • पल्स ऑक्सीमेट्री यह मापने के लिए कि आपके खून के बहाव के द्वारा कितनी ऑक्सीजन मिलती है बस थोड़ी देर के लिए अपनी उंगली एक छोटे क्लिप में जोड़ दी जाती है।
  • ब्रोंकोस्कोपी, फेफड़ों के वायुमार्गों को देखने के लिए प्रयुक्त एक प्रक्रिया है जिसमे आपको अस्पताल में भर्ती कराया जाता है और यह देखा जाता है कि एंटीबायोटिक दवाएं अच्छी तरह से काम कर रही हैं या नहीं।

निमोनिया को कैसे रोकें और नियंत्रित करें?

टीकाकरण करवाएं – मौसमी इन्फ्लूएंजा को रोकने के लिए हर साल फ्लू का एक शॉट लें| फ्लू निमोनिया का एक आम कारण है इसलिए फ्लू को रोकना निमोनिया को रोकने का एक अच्छा तरीका है।

हाथ धोएं – अपने हाथों को बार-बार धोएं खासतौर पर अपनी नाक छिडकने के बाद, बाथरूम जाने पर, डायपर बदलने पर और भोजन खाने या तैयार करने से पहले।

धूम्रपान न करें – तम्बाकू आपके फेफड़ों की इन्फेक्शन से लड़ने की शक्ति को नुकसान पहुंचाता है और धूम्रपान करने वालों को निमोनिया होने का सबसे ज्यादा खतरा होता है। धूम्रपान करने वालों को ज्यादा खतरे वाले समूहों में से एक माना जाता है जिन्हें न्यूमोकोकल टीका लगवाने  के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

निमोनिया का उपचार – एलोपैथिक उपचार –

एंटीबायोटिक्स – इन दवाओं का उपयोग बैक्टीरियल निमोनिया के इलाज के लिए किया जाता है। निमोनिया के कारण बैक्टीरिया के प्रकार की पहचान करने में समय लग सकता है और इसका इलाज करने के लिए सबसे अच्छा तरीका एंटीबायोटिक चुनना पड़ सकता है। यदि आपके लक्षण बेहतर नहीं होते तो डॉक्टर एक अलग एंटीबायोटिक लेने की सलाह देता है।

खांसी की दवा – इस दवा का उपयोग खांसी को शांत करने के लिए किया जा सकता है ताकि आप आराम कर सकें। चूंकि खांसी फेफड़ों से तरल पदार्थ को ढीला और ट्रान्सफर करने में मदद करती है इसलिए यह विचार सही है कि आप अपनी खांसी को पूरी तरह से खत्म न करें। इसके अलावा आपको पता होना चाहिए कि ओवर-द-काउंटर खांसी की दवाएं निमोनिया के कारण खांसी कम करती हैं या नहीं।

बुखार कम करने वाले / दर्द नाशक – इन्हें आप बुखार और असुविधा के लिए जरूरत के हिसाब से ले सकते हैं। इनमें एस्पिरिन, इबुप्रोफेन (एडविल, मोटरीन आईबी, अन्य) और एसिटामिनोफेन (टायलोनोल, अन्य) जैसी दवाएं शामिल हैं।

होम्योपैथिक उपचार –

ब्रायनिया – छाती के दर्द वाले निमोनिया के लिए

आर्सेनिक एल्बम – सांस लेने में कठिनाई वाले निमोनिया के लिए

फॉस्फोरस – छाती की पीड़ा वाले निमोनिया के लिए

एंटीमोनियम टार्ट – छाती में रैटलिंग म्यूकस वाले निमोनिया के लिए

हेपर सल्फ – पुरुलेंट स्पुटा वाले निमोनिया के लिए

इपकाक – मतली और उल्टी वाले न्यूमोनिया के लिए

निमोनिया – जीवन शैली के टिप्स

  • कफ के स्राव को कम करने में मदद करने के लिए बहुत सारे तरल पदार्थ पियें|
  • बहुत सारा आराम करें और घर के काम के लिए किसी और को रखें|
  • अपने डॉक्टर से बात किए बिना खांसी की दवाएं न लें। खांसी एक तरीका है जिससे आपके शरीर के इन्फेक्शन से छुटकारा मिल सकता है।
  • एस्पिरिन, नॉनस्टेरॉयड एंटी-इंफ्लैमेटरी ड्रग्स (एनएसएड्स, जैसे इबुप्रोफेन या नैप्रोक्सेन), या एसिटामिनोफेन से अपने बुखार को नियंत्रित करें। बच्चों को एस्पिरिन न दें।

निमोनिया वाले व्यक्ति के लिए क्या व्यायाम हैं?

ब्रीदिंग एक्सरसाइज – आप लंबे समय तक गहरी सांस लेने या पानी के गिलास में फूंक मारकर  ऐसा कर सकते हैं। गहरी सांस लेने से आपके फेफड़ों से बलगम को साफ़ करने में भी मदद मिलती है| बलगम को ट्रान्सफर करने के लिए गहराई से पांच से दस गुना सांस लें और खांसी या कफ के लिए दो बार सांस लें।

निमोनिया और गर्भावस्था – जानने योग्य बातें

निमोनिया एक गंभीर बीमारी है और यदि इसका इलाज ना किया जाए तो महिला और बच्चे दोनों के लिए खतरनाक परेशानियों का कारण बन सकता है।

माँ के लिए निमोनिया शरीर में ऑक्सीजन के स्तर के गिरने का कारण बन सकता है क्योंकि फेफड़ों को पकड़ने में असमर्थ होता है| इसका मतलब है कि बच्चे को समर्थन देने के लिए ऑक्सीजन का कम स्तर गर्भाशय तक पहुंच सकता है।

गंभीर मामलों मेंगर्भावस्था के दौरान निमोनिया समय से पहले जन्म या कम वजन वाले बच्चों के जन्म का कारण बन सकता है।

निमोनिया से संबंधित सामान्य परेशानियाँ

इसमें निम्न हो सकते हैं:

  • रेस्पिरेटरी फेलियर जिसके लिए एक सांस लेने वाली मशीन या वेंटिलेटर की जरूरत होती है।
  • सेप्सिस एक ऐसी स्थिति जिसमें शरीर में अनियंत्रित सूजन होती है, जिससे अंगों की विफलता हो सकती है।
  • एक्यूट रेस्पिरेटरी डिसट्रेस सिंड्रोम (एआरडीएस) रेस्पिरेटरी फेलियर का एक गंभीर रूप है।
  • फेफड़ों की फोड़े – ये निचला लेकिन गंभीर निमोनिया की परेशानी है| वे तब होते हैं जब फेफड़ों के अंदर या आसपास पस भर जाती है इन्हें कभी-कभी सर्जरी से निकालने की जरूरत हो सकती है।

सामान्य प्रश्न

निमोनिया से ठीक होने में कितना समय लगता है?

निमोनिया के कई उपचार हैं। ये उपचार लक्षण की गंभीरता, आपकी आयु और स्वास्थ्य पर निर्भर करते हैं| ज्यादातर स्वस्थ लोग निमोनिया से एक से तीन सप्ताह में ठीक हो जाते हैं, लेकिन निमोनिया जीवन को खतरे में भी डाल सकता है।

क्या निमोनिया होने पर आप काम पर जा सकते हैं?

आप काम पर लौटने के लिए अच्छा महसूस कर सकते हैं लेकिन आराम करने में कुछ दिन लग सकते हैं। निमोनिया जीवन के लिए खतरनाक नहीं है लेकिन यह ऐसी स्थिति नहीं है जिसे आप हल्के में नहीं लेना चाहिए। फेफड़ों के बैक्टीरिया या पर्यावरणीय इन्फेक्शन के कारण निमोनिया संक्रामक है।

सरवाईविंग निमोनिया की क्या संभावना है?

निमोनिया घातक भी हो सकता है। गंभीर निमोनिया वाले मरीजों के लिए मृत्यु दर (मृत्यु) दर 30% तक है, जिन्हें देखभाल इकाई में इलाज़ की जरूरत होती है। कुल मिलाकर लगभग 5% से 10% रोगी अस्पताल में इलाज किया जाता है तो रोग से मर जाते हैं।

👋CashKaro Exclusive Offer👋

Hungry for more Cashback 💸? Visit CashKaro Stores for the best cashback deals & online products to save up to Rs 15,000/month. Download CashKaro App to get a Rs 60 bonus Cashback.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 − 10 =