norfloxacin fayde nuksan in hindi

नॉरफ्लोक्सासिन क्या है?

  • एंटीबायोटिक्स के “क्विनोलोन” समूह से संबंधित एक दवा हैनॉरफ्लोक्सासिन , जिसका प्रयोग विभिन्न प्रकार के जीवाणु संक्रमणों के इलाज के लिए होता है।
  • नॉरफ्लोक्सासिन सामान्य सर्दी, फ्लू जैसे वायरल संक्रमणों के इलाज के लिए प्रभावी नहीं है।
  • नॉरफ्लोक्सासिन का अत्यधिक या अनावश्यक उपयोग एंटीबायोटिक की प्रभावशीलता को कम कर देता है।

नॉरफ्लोक्सासिन  निम्न बीमारियों या उनके लक्षणों की रोकथाम के लिए प्रयोग किया जाता है:

  • क्रोनिक जीवाणु प्रोस्टेटाइटिस (प्रोस्टेट ग्रंथि की सूजन)
  • मूत्र मार्ग का संक्रमण
  • स्त्री रोग संक्रमण
  • संक्रमण के कारण होने वाले दस्त
  • मूत्राशय का संक्रमण
  • सूजाक
  • इंट्रा-पेटी संक्रमण
  • संयुग्म संक्रमण (जब आंखों में ड्रॉप डालने के लिए उपयोग किया जाता है)

इसका उपयोग ऊपर बताये गये उद्देश्यों के लिए भी किया जा सकता है।

नॉरफ्लोक्सासिन कैसे काम करता है?

नॉरफ्लोक्सासिन एंटीबायोटिक दवाओं के “क्विनोलोन” समूह से संबंधित होने के कारण जीवाणुनाशक माना गया है। यह जीवाणु एंजाइम को रोककर बैक्टीरिया को मारता है जो आगे के संश्लेषण को रोककर इसको आगे बढने से रोकता है।

इस दवा को खरीदें और 20% छूट प्राप्त करें: मेडलाइफ

भारत में नॉरफ्लोक्सासिन का मूल्य

  • 80 रुपये में 100 मि.ग्रा. की 10 टैबलेट
  • 83 रुपये में 200 मि.ग्रा. की 10 गोलियाँ
  • 4 9 रुपये में 400 मि.ग्रा. की 10 गोलियाँ
  • 71 रुपये में 800 मि.ग्रा. की 4 गोलियाँ

नॉरफ्लोक्सासिन कैसे लें

एंटी-बायोटिक प्रतिरोध को कम करने के लिए और नॉरफ्लोक्सासिन की प्रभावशीलता में वृद्धि के लिए यह सलाह दी जाती है कि नॉरफ्लोक्सासिन समेत सभी एंटी-बैक्टीरियल उपचारों को जीवाणु संस्कृति और संवेदनशीलता परीक्षणों के आधार पर चुना जाना चाहिए।

एक विशेष एंटीबायोटिक का उपयोग केवल उन संक्रमणों के इलाज या रोकथाम के लिए किया जाना चाहिए जो इसके लिए अतिसंवेदनशील हैं।

और पढो: नाइसिप प्लसनाइस

नॉरफ्लोक्सासिन विभिन्न रूपों में उपलब्ध है:

  • गोलियाँ
  • आँख की दवा
  • सिरप
  • इसकी खुराक को रोगी की व्यक्तिगत जरूरतों, संक्रमण के प्रकार या डॉक्टर की सलाह के अनुसार दिया जाना चाहिए।
  • नॉरफ्लोक्सासिन गोलियां सामान्यत: मुंह द्वारा अच्छी तरह से अवशोषित होती हैं| इन्हें बिना चबाये या तोड़े पानी के साथ सीधे ही निगल लेना चाहिए।
  • नॉरफ्लोक्सासिन की गोलियों को खाली पेट या भोजन के 1 या 2 घंटे पहले लेना सही होता है।
  • अच्छे परिणाम पाने के लिए शरीर में इस दवा को समान समय के अंतराल पर लेना चाहिए।
  • यदि इस सिरप का उपयोग करना हो तो हर बार उपयोग से पहले बोतल को अच्छी तरह से हिलाएं। दवा की सही खुराक लेने के लिए नापने वाले कप का प्रयोग करें।
  • नॉरफ्लोक्सासिन लेते समय इसका कोर्स पूरा किए बिना दवा को बीच में ना छोड़ें क्योंकि इससे दवा की प्रभावकारिता कम हो सकती है

नॉरफ्लोक्सासिन की सामान्य खुराक?

इस दवा की खुराक और लेने का तरीका चिकित्सक द्वारा निम्न बातों को ध्यान में रखकर तय किया जाता है:

  • रोगी की आयु और उसके शरीर का वजन
  • रोगी के स्वास्थ्य की स्थिति और चिकित्सा की स्थिति
  • रोग की गंभीरता
  • पहली खुराक लेने पर प्रतिक्रिया
  • एलर्जी और दवा प्रतिक्रियाओं का इतिहास

वयस्कों में नॉरफ्लोक्सासिन  की अधिक से अधिक खुराक हर 12 घंटे में 400 मि.ग्रा. है। उपचार का समय चिकित्सा की स्थिति के साथ बदलता रहता है।

18 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए नॉरफ्लोक्सासिन सुरक्षित और प्रभावशील नहीं है। बच्चों को इसे देने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर परामर्श करें|

गुर्दे की समस्याओं वाले या डायलिसिस लेने वाले मरीजों को नॉरफ्लोक्सासिन की खुराक बदलने की जरूरत होती है।

डॉक्टर की सहमति के बिना कभी भी इसकी खुराक को ज्यादा लंबे समय तक उपयोग न करें।

लक्षणों में सुधार या बदतर होने के मामले में तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करें|

यदि इस दवा को आपने काउंटर उत्पाद के रूप में लिया है तो लेने से पहले पैकेट पर लिखे गये सभी निर्देश पढ़ें।

नॉरफ्लोक्सासिन से कब बचें?

नॉरफ्लोक्सासिन का उपयोग नहीं करना चाहिए:

  • यदि नॉरफ्लोक्सासिन से एलर्जी हो
  • यदि क्विनोलोन परिवार से संबंधित दवाओं से एलर्जी हो जैसे लेवोफ्लोक्सासिन, ऑफलोक्सासिन, गैटीफ्लोक्सासिन इत्यादि।
  • मरीजों में कंधे की समस्या का इतिहास हो
  • मस्तिष्क ग्रेविस (मस्तिष्क की असामान्य कमजोरी) वाले मरीज़
  • दिल की समस्या वाले मरीज या लंबे क्यूटी अंतराल (दिल का विद्युत चक्र)
  • मधुमेह रोगी (विशेष रूप से मौखिक एंटी-मधुमेह दवाओं पर)
  • गुर्दे की बीमारी से पीड़ित या डायलिसिस लेने वाले मरीज़
  • जिगर की बीमारी वाले मरीज
  • मस्तिष्क रोगी

नॉरफ्लोक्सासिन के दुष्प्रभाव?

इसके साइड इफेक्ट्स संभव हैं लेकिन ये सभी मरीजों में नहीं होते| सामान्यत: इससे होने वाले साइड इफेक्ट्स में निम्न हो सकते हैं:

  • जी मिचलाना
  • उल्टी
  • खट्टे डकार
  • दस्त
  • चक्कर आना
  • सरदर्द
  • बदला हुआ स्वाद
  • त्वचा पर लाल चकत्ते

रोगी कुछ गंभीर साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं जैसे:

  • टेंडोनिटिस के लक्षण: कंधे टूटना, दर्द, सूजन, जोड़ों के चारों ओर कठोरता
  • क्यूटी अंतराल की लम्बाई (दिल का विद्युत चक्र)
  • फोटोटोक्सिसिटी (त्वचा पर प्रकाश की संवेदनशीलता)
  • तंत्रिका, अवसाद, भ्रम जैसे केंद्रीय तंत्रिका तंत्र के प्रभाव
  • तंत्रिका के लक्षण: संयम, जलने की उत्तेजना, झुकाव
  • सर्जरी
  • एलर्जी

इन मामलों में तुरंत अपने डॉक्टर से कहें|

एलर्जी प्रतिक्रियाएं

वैसे तो नॉरफ्लोक्सासिन का उपयोग जीवाणु संक्रमण के इलाज के लिए किया जाता है लेकिन नॉरफ्लोक्सासिन से एलर्जी प्रतिक्रिया होना संभव है। इससे होने वाली एलर्जी प्रतिक्रियाओं के लक्षणों में निम्न हो सकते हैं:

  • खुजली वाली त्वचा और चकत्ते
  • विशेष रूप से चेहरे, होंठ और गले की सूजन
  • सांस लेने या निगलने में कठिनाई
  • बेहोशी।

अंगों पर प्रभाव

  • किडनी और जिगर की बीमारियों वाले मरीजों को इसकी कम खुराक की आवश्यकता होती है। ऐसे मरीजों में नॉरफ्लोक्सासिन को सावधानी से लेना चाहिए।
  • नॉरफ्लोक्सासिन का उपयोग सभी उम्र के लोगों में टेंडनीटिस से जुड़ा हुआ है। 60 साल से ऊपर के लोगों में इसे लेने से हानि होने में बढ़ोतरी हुई है।

दवा इंटरैक्शन के बारे में सावधानी

इंटरैक्शन करने वाली सभी दवाओं को यहां सूचीबद्ध नहीं किया जा सकता इसलिए आपको अपने द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली सभी दवाओं के बारे में अपने डॉक्टर को जरूर सूचित करना चाहिए|

यदि आप किन्ही अन्य दवाओं का उपयोग कर रहे हैं जो आपको नींद लाती हैं जैसे नींद की गोलियाँ, एलर्जी की दवाएं, मांसपेशियों को आराम दिलाने वाली दवाएं, फिट आने वाली दवाएं, अवसाद या एंटी-स्ट्रेस दवाएं उपयोग करना हमेशा सही होता है।

नॉरफ्लोक्सासिन के साथ प्रभाव डालने वाली कुछ सामान्य दवाएं निम्न हैं:

  • थियोफिलाइन
  • कैफीन
  • नाइट्रोफ्यूरन्टाइन
  • वारफरिन
  • ओमेप्रजोल
  • टीजानीडीन
  • फ़िनाइटोइन
  • क्लोजापिन
  • साइक्लोस्पोरिन

इन सभी दवाओं का उपयोग नॉरफ्लोक्सासिन के साथ लेने पर साइड इफेक्ट्स की संभावनाओं को बढ़ा देता है|

और पढो: नोवामॉक्स 500सुमोट्रिप्टोमर

प्रभाव और परिणाम

नॉरफ्लोक्सासिन के प्रभाव को दिखाने के लिए लिया गया समय दवा के उपयोग पर निर्भर करता है।

कुछ लोगों को पहले दिन से ही गंभीर लक्षण दिख सकते हैं, लेकिन यदि लक्षण गायब हो जाएँ  तो दवा का कोर्स पूरा करें|

सामान्य प्रश्न

क्या नॉरफ्लोक्सासिन नशे की लत है?

ऐसी कोई सूचना नहीं है।

क्या शराब के साथ नॉरफ्लोक्सासिन ले सकते हैं?

नॉरफ्लोक्सासिन के साथ शराब लेने की बात स्पष्ट नहीं है। इसे लेने से पहले डॉक्टर से जरूर सलाह लें|

क्या किसी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?

  • नॉरफ्लोक्सासिन के साथ डेयरी उत्पादों और कैफीन लेने से बचना चाहिए| लेना भी हो तो कम से कम 2 घंटे का अंतर रखें।
  • मैग्नीशियम या एल्यूमीनियम एंटासिड्स लेनी हो तो खाने से कम से कम 2 घंटे पहले या 2 घंटे बाद ही लें।

क्या गर्भवती होने पर नॉरफ्लोक्सासिन ले सकते हैं?

नॉरफ्लॉक्स गर्भावस्था में उपयोग के लिए सही नहीं है। पशु अध्ययन से भ्रूण पर इसके प्रतिकूल प्रभाव दिखाई दिए हैं  इसलिए इसे गर्भावस्था के दौरान नॉरफ्लोक्सासिन लेने से बचें।

क्या बच्चे को स्तनपान करने के दौरान नॉरफ्लोक्सासिन ले सकते हैं?

यदि आप अपने बच्चे को स्तनपान करा रही हैं तो अपने डॉक्टर को इसकी सूचना दें|

नॉरफ्लोक्सासिन मानव दूध में उत्सर्जित होता है इसलिए स्तनपान कराने वाली माताओं को इससे  बचना चाहिए।

क्या नॉरफ्लोक्सासिन लेने के बाद ड्राइव कर सकते हैं?

नॉरफ्लोक्सासिन  टैबलेट ड्राइव करने की क्षमता को प्रभावित नहीं करता| लेकिन कुछ रोगियों को चक्कर आना जैसे साइड इफेक्ट के कारण सतर्कता में कमी हो सकती है इसलिए भारी मशीनरी और वाहन चलाने के दौरान सावधानी से इसका प्रयोग करना चाहिए।

यदि नॉरफ्लोक्सासिन को अधिक मात्र में ली जाए तो क्या होता है?

नॉरफ्लोक्सासिन को तय की गयी खुराक से ज्यादा नहीं लेना चाहिए। अधिक मात्रा में दवा लेना या बार बार लेने से लक्षणों में जल्दी सुधार नहीं होगा बल्कि यह गंभीर साइड इफेक्ट्स का कारण बन सकता है। ज्यादा मात्रा में इसे लेने की अवस्था में तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह लें।

यदि एक्सपायरी हो चुकी नॉरफ्लोक्सासिन लें तो क्या होता है?

किसी प्रतिकूल घटना के लिए एक्सपायरी हो चुकी नॉरफ्लोक्सासिन  की एक खुराक काफी नहीं  है। लेकिन यदि एक्सपायरी दवा लेने के बाद अस्वस्थ या बीमार महसूस करते हैं तो कृपया अपने डॉक्टर से सलाह लें।

इलाज के लिए एक्सपायरी दवा उतनी शक्तिशाली नहीं हो सकती इसलिए एक्सपायरी दवा के उपयोग से बचकर रहना चाहिए|

यदि नॉरफ्लोक्सासिन की खुराक लेनी याद ना रहे तो क्या होता है?

यदि खुराक लेनी याद ना रहे तो दवा अच्छी तरह से काम नहीं करेगी क्योंकि दवा के प्रभावी रूप से काम करने के लिए शरीर में हर समय दवा की एक निश्चित मात्रा मौजूद रहनी चाहिए। इसलिए जैसे ही आपको याद आये तुरंत भूली हुई दवा का उपयोग करें। लेकिन यदि दूसरी खुराक लेने का समय हो गया हो तो दुगुनी खुराक ना लें|

नॉरफ्लोक्सासिन का भंडारण

इसे सीधे गर्मी और प्रकाश से दूर कमरे के तापमान में रखें।

इस दवा को बच्चों और पालतू जानवरों से दूर रखें|

नॉरफ्लोक्सासिन लेते समय टिप्स

यदि आप नॉरफ्लोक्सासिन  के उपचार के कुछ दिनों में ही बेहतर महसूस करने लगते हैं तो इसका कोर्स जरूर पूरा करें|

Previous articleMakeMyTrip & Yatra Plan to Optimize Promotional Costs | CashKaro News Network
Next articleViacom Launches Its Hubs Internationally | CashKaro News Network

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fifteen + fourteen =