o2 fayde nuksan in hindi

Skip to Content

O2 In Hindi ओ 2: उपयोग, खुराक, साइड इफेक्ट्स, मूल्य, संरचना और 20 सामान्य प्रश्न

What is O2 in Hindi – ओ2 क्या है?

यह मुख्य रूप से निमोनिया, योनि और मूत्र पथ के इन्फेक्शन, इन्फेक्शन वाले दस्त जैसे इन्फेक्शनस को रोकने या उनके इलाज के लिए उपयोग किया जाता है| इसे तय की गयी खुराक से ज्यादा लेने पर भूख न लगना और पेट में दर्द जैसे दुष्प्रभाव होते हैं। मिर्गी, जिगर, गुर्दे की बीमारियों या मांसपेशियों की कमजोरी के मामलों में ओ2 का उपयोग कभी नहीं करना चाहिए।

ओ2 की रचना – ओफ्लोक्सासिन 200 मि.ग्रा. + ओर्डिनाजोल 500 मि.ग्रा.
निर्मित – मेडले फार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड
प्रिस्क्रिप्शन – जरूरी है क्योंकि यह अनुसूची ‘एच’ के तहत आता है लेकिन ओटीसी के रूप में भी मिलता है|
रूप – गोलियाँ, कैप्सूल, क्रीम और सिरप
कीमत – 119 रूपए की 10 टैबलेट
एक्सपायरी – बनाए जाने की तारीख से 24 महीने तक
दवा का प्रकार – एंटीबायोटिक + एंटीडायरीफाइल

Also Read in English about O2


Uses of O2 in Hindi – ओ2 के उपयोग

ओ2 का उपयोग निम्न स्थितियों को रोकने या उनका इलाज करने के लिए किया जाता है जैसे:

  • गोनोरिया: असुरक्षित यौन संबंध के दौरान बैक्टीरियल इन्फेक्शन के कारण पैदा हुए योनि के गोनोरियल इन्फेक्शन का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है।
  • निमोनिया: निमोनिया का इलाज करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि यह बैक्टीरिया के कारण होता है।
  • डायरिया: डायरिया के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है जो बैक्टीरिया के संक्रमण के कारण होता है।
  • दंत इन्फेक्शन: इसे दांतों के इन्फेक्शन का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है क्योंकि ज्यादातर दांतों के इन्फेक्शन एनारोबिक बैक्टीरिया के कारण होते हैं जिनके खिलाफ ओ2 सबसे शक्तिशाली है।
  • पेट का इन्फेक्शन: पेट के संक्रमण का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है|
  • योनि का इन्फेक्शन: योनि के इन्फेक्शन के इलाज़ के लिए उपयोग किया जाता है।
  • सर्जरी के बाद का इन्फेक्शन: सर्जरी के बाद के  इन्फेक्शन के लिए प्रयोग होता है|
  • यूटीआई: मूत्र पथ के इन्फेक्शन के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है।
  • नरम ऊतकों का इन्फेक्शन: त्वचा और नरम ऊतकों के इन्फेक्शन का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है जो बैक्टीरिया के कारण होने की उम्मीद है।
  • साइनसाइटिस: बैक्टीरिया के कारण होने वाली साइनस की सूजन और इन्फेक्शन का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है।
  • अन्य: फेफड़े के फोड़े के मामलों का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है।

How does O2 work in Hindi – ओ2 कैसे काम करता है?

  • ओ2 में ओफ्लोक्सासिन और ओर्डिनाजोल सक्रिय सामग्री के रूप में होता है|
  • ओफ्लोक्सासिन कुइनोलोन समूह से संबंधित है और बैक्टीरिया कोशिकाओं के डीएनए के संश्लेषण में रूकावट डालकर बैक्टीरिया कोशिकाओं के बढने को रोकता है और इस तरह उन्हें मारता है।
  • कोशिका भित्ति का अवरोध जीवाणु कोशिकाओं को एंटीबायोटिक के प्रति अतिसंवेदनशील बनता है और उन्हें विनाश की ओर ले जाता है।
  • ओर्डिनाजोल डीएनए स्ट्रैंड को तोड़ने का काम करता है और जिससे रोगाणुओं के डीएनए को नुकसान पहुंचता है और इन्फेक्शन खत्म हो जाता है।
  • ओ2 जीवाणुनाशक और एंटीपैरासिटिक दोनों ही गतिविधियां दिखाता है|

How to take O2 in Hindi – ओ2 कैसे लें?

  • ओ2 आमतौर पर टैबलेट, ड्रॉप्स और सिरप के रूप में मिलता है।
  • इसकी टैबलेट को मुंह के द्वारा पानी के साथ या भोजन के बाद लिया जाता है क्योंकि इसे खाली पेट लेने पर दवा के कारण होने वाली किसी भी गैस्ट्रिक जलन को रोकता है।
  • ओ2 टैबलेट को कभी भी चबाना या कुचलना नहीं चाहिए। इसे पूरे रूप में निगल लेना चाहिए।
  • एंटीबायोटिक के खिलाफ प्रतिरोध के विकास को रोकने के लिए बैक्टीरिया और परजीवी के रूप में जाने जाने वाले इन्फेक्शन में ओ2 लिया जाना चाहिए।
  • ओ2 टैबलेट की दो खुराक के बीच 8 से 10 घंटे के समय का अंतर होना चाहिए।
  • यदि आप ओ2 सिरप ले रहे हैं तो लेने से पहले बोतल को अच्छी तरह से हिलाना चाहिए और मापने के लिए मापने वाले कप का उपयोग करना चाहिए।
  • दवा की बेहतर समझ रखने के लिए दवा का सेवन करने से पहले पैक में मिलने वाले लीफलेट को पढना उचित है।
Read More: omeprazole in hindiomez d in hindi

Common Dosage for O2 in Hindi – ओ2 की सामान्य खुराक

  • चिकित्सक इस दवा की खुराक रोगी की आयु, वजन, मानसिक स्थिति, एलर्जी के इतिहास के अनुसार तय करता है।
  • बच्चों को इस की खुराक देते समय बाल रोग विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए।
  • उचित चिकित्सकीय सलाह के बिना इसकी खुराक में बदलाव से बचना चाहिए।

यदि ओ2 ज्यादा मात्रा में लें तो क्या होगा?

किसी भी दवा को ज्यादा मात्रा में लेने से गंभीर दुष्प्रभाव होने की संभावना बढ़ सकती है। इसलिए इस  दवा की तय की गयी खुराक का सख्ती से पालन करना चाहिए और कोई भी लक्षण दिखाई देने के मामले में तुरंत डॉक्टर से सलाह लें|

यदि ओ2 की खुराक लेनी याद ना रहे तो क्या होगा?

यदि आप इसकी खुराक लेना भूल गये हैं तो जैसे ही आपको याद आये हमेशा अपनी छूटी हुई खुराक लें| लेकिन यदि पहले से ही दूसरी खुराक लेने का समय हो गया हो तो दुगुनी खुराक न लें क्योंकि इससे दवा की अधिकता के कारण दुष्प्रभाव हो सकते हैं| दो खुराक के बीच कम से कम 8-10 घंटे का अंतर होना चाहिए।

यदि एक्सपायरी हो चुकी ओ2 लें तो क्या होता है?

एक्सपायरी हो चुकी इस दवा की खुराक किसी अवांछनीय प्रभाव को नहीं दिखाती| लेकिन किसी को भी एक्सपायरी दवा लेने से बचना चाहिए।

ओ2 की शुरुआत का समय और प्रभाव क्या है?

ज्यादातर रोगियों को 1 से 2 घंटों में ही लक्षणों में राहत महसूस होने लगती है। मनचाहे प्रभाव दिखाने के लिए दवा द्वारा लिया गया समय हर व्यक्ति में अलग होता है।

Read More: nurokind lc in hindiofloxacin in hindiokacet in hindi

When to Avoid O2 in Hindi – ओ2 से कब बचें?

निम्न स्थितियों में ओ2 का सेवन न करें:

  • एलर्जी: सेफिक्साइम या किसी अन्य दवा से एलर्जी के मामलों में जो सेफलोस्पोरिन वर्ग या पेनिसिलिन या अन्य एंटीबायोटिक दवाओं से संबंधित है।
  • टेंडन का टूटना: टेंडन के टूटने के मामले में|
  • मिर्गी: मिर्गी के रोगियों को दवा से बचना चाहिए क्योंकि ओ2 दौरे को तेज कर सकता है।
  • लीवर / किडनी की कमजोरी: यकृत रोग और गुर्दे की बीमारी या हानि वाले रोगियों के मामलों में। डायलिसिस पर मरीजों को भी इस दवा से बचना चाहिए जब तक कि डॉक्टर द्वारा सलाह न दी जाए।

Precautions While Taking O2 in Hindi – ओ2 लेते समय सावधानियां

  • सहवर्ती दवा: टिज़ेनिडीन लेने वाले मरीजों को ओ 2 के सहवर्ती उपयोग से बचना चाहिए।
  • लीवर/किडनी रोग: किडनी या लीवर की कमी वाले रोगियों में चिकित्सक द्वारा खुराक में बदलाव की आवश्यकता हो सकती है।
  • खुराक में परिवर्तन: डॉक्टर की सलाह के बिना खुराक में बदलाव से बचना चाहिए।

ओ2 लेते समय चेतावनी

  • जब तक डॉक्टर द्वारा बताए गए लंबे समय तक उपयोग से बचा जाना चाहिए।
  • दो खुराकों के बीच समान समय का अंतराल होना चाहिए।
  • दवा से होने वाले अनचाहे प्रभावों का मुकाबला करने के लिए बहुत सारे तरल पदार्थ लें।
  • गैस्ट्रिक जलन को रोकने के लिए भोजन के साथ या बाद में इस टैबलेट कप लें|
  • दवा के कोर्स को पूरा जरूर करें क्योंकि कोर्स को अधूरा छोड़ने से इन्फेक्शन दोबारा वापिस आ सकता है।

Side-Effects of O2 in Hindi – ओ2 के साइड-इफेक्ट्स

विभिन्न उपचारों के लिए उपयोग किए जाने वाले ओ2 से जुड़े कुछ दुष्प्रभाव निम्न हैं:

  • मतली (सामान्य)
  • उल्टी (सामान्य)
  • पेट में दर्द (सामान्य)
  • चक्कर आना (सामान्य)
  • अपच (सामान्य)
  • बदल स्वाद सनसनी (सामान्य)
  • त्वचा लाल चकत्ते (कम सामान्य)
  • एलर्जी प्रतिक्रियाएं (दुर्लभ)
  • टेंडोनाइटिस (कम सामान्य)

क्या ओ2 से कोई एलर्जी प्रतिक्रियाएं हैं?

ओ2 टेबलेट चकत्ते, साँस लेने में कठिनाई, चेहरे, होंठ और गले में सूजन, बेहोशी और दिल की धड़कन अनियमित होना जैसे लक्षणों के साथ एलर्जी की प्रतिक्रिया के कारण जाना जाता है। ऐसे किसी भी संकेत के मामले में तुरंत चिकित्सा सहायता लेनी चाहिए।

अंगों पर प्रभाव?

ओ2 को लिवर की कमजोरी के रोगियों में सावधानी से इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि यह लीवर को प्रभावित कर सकता है।

Drug Interactions to be Careful About in Hindi – ड्रग इंटरैक्शन के बारे में सावधानी

ओ2 का सेवन करने पर कुछ दवाइयों के सेवन से सावधान रहना चाहिए। ये कुछ खाद्य पदार्थों से लेकर अन्य दवाओं तक कुछ परीक्षणों में शामिल हो सकते हैं, जो ओ2 के सेवन के बाद सही नहीं होते। हम निम्न में इन विवरणों का पता लगाते हैं।

  1. ओ2 के साथ खाद्य पदार्थ

कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थों से बचा जाना चाहिए।

  1. ओ2 के साथ दवाएं

सभी आपस में प्रभाव डालने वाली दवाओं को यहाँ सूचीबद्ध नहीं किया जा सकता। इसलिए हमेशा यह सलाह दी जाती है कि रोगी को चिकित्सक को अपने द्वारा उपयोग की जाने वाली सभी दवाओं के बारे में बताना  चाहिए। उन हर्बल उत्पादों के बारे में भी अपने डॉक्टर को जानकारी देनी चाहिए जिनका आप सेवन कर रहे हैं।

निम्नलिखित दवाओं के साथ आम दवा पारस्परिक क्रिया देखी गई है:

  • एंटासिड्स: एल्युमिनियम / मैग्नीशियम के साथ एंटासिड लेने से 2 घंटे पहले और 2 घंटे बाद ओ2 लेने से बचें क्योंकि इससे दवा के अवशोषण में देरी होती है
  • जस्ता, कैल्शियम या मैग्नीशियम युक्त विटामिन या खनिज पूरक (हल्का)
  • वारफारिन (हल्का)
  • कैफीन (मध्यम)
  • थियोफिलाइन (हल्का)
  • टिजानिडिन (गंभीर)
  • फ़िनाइटोइन (मध्यम)
  • केटोकोनाज़ोल की तरह ऐज़ोल एंटिफंगल (हल्का)
  • साइक्लोस्पोरिन (मध्यम)
  1. लैब टेस्ट पर ओ2 का प्रभाव

ओ2 किसी भी लैब टेस्ट पर प्रभाव नहीं डालता|

  1. पहले से मौजूद बीमारियों के साथ ओ2 का इंटरैक्शन

कोई भी लिवर या किडनी का विकार

क्या अल्कोहल के साथ ओ2 ले सकते हैं?

नहीं, इस दवा के साथ शराब के सेवन से छाती में दर्द, दिल कि धड़कन बढना, लो ब्लड प्रेशर और उनींदापन जैसे दुष्प्रभावों का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए ओ2 के साथ शराब लेने से पहले डॉक्टर से हमेशा सलाह ली जानी चाहिए।

क्या किसी भी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?

कैल्शियम वाली चीज़ों जैसी दूध, दही या कैल्शियम सप्लीमेंट जैसे डेयरी उत्पादों से बचें क्योंकि वे दवा के अवशोषण को बदल सकते हैं।

क्या गर्भवती होने पर ओ2 ले सकते हैं?

नहीं, ओ2 गर्भवती महिलाओं को लेना सुरक्षित नहीं है क्योंकि यह प्लेसेंटा को तोड़कर भ्रूण को नुकसान पहुंचाने के लिए जाना जाता है। ऐसे मामलों में डॉक्टर को सूचित करना चाहिए।

क्या बच्चे को स्तनपान कराते समय ओ2 ले सकते हैं?

स्तनपान कराने वाली माताओं को इसे तभी लेना चाहिए जब जरूरी हो क्योंकि ये माँ के दूध में पास होने के लिए जाना जाता है| इसलिए इसे लेने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए|

क्या ओ2 लेने के बाद गाड़ी चला सकते हैं?

ओ2 से चक्कर आना और उनींदापन आदि हो सकता है। इसलिए इनमें से कोई भी लक्षण होने पर भारी मशीनरी चलाने या ड्राइव करने से बचना चाहिए


Buyer’s Guide – O2 Composition, Variant and Price in Hindi – ओ2 संरचना, विविधता और मूल्य – खरीदने के लिए गाइड

ओ2 वेरिएंट ओ2 कंपोजिशन ओ2 मूल्य
ओ2 60 मि.लि. सिरप मेट्रोनिडाजोल 200 मि.ग्रा. + ओफ़्लॉक्सासिन 100 मि.ग्रा./5 मि.लि. 48 रूपए का 1 पैक
ओ2 डर्म 15 मि.ग्रा. क्रीम क्लोबेटासोल प्रोपेनेट 0.05% डब्लू/डब्लू + क्लोट्रिमेज़ोल 1% डब्लू / डब्लू + ओफ़्लॉक्सासिन 0.75% डब्लू / डब्लू + ओरनिडाज़ोल 2% डब्लू / डब्लू 54 रूपए का 1 पैक
ओ2 प्रो 5 मि.लि. सस्पेंशन बेसिलस क्लौसी 2 बिलियन स्पोर्स/सस्पेंशन 29.90 रूपए का 1 पैक
ओ 200 मि.ग्रा. टैबलेट ओफ्लोक्सासिन 200 मि.ग्रा. 120 रूपए की 10

टेबलेट्स

इस दवा को खरीदें और 20% छूट प्राप्त करें: 1 एमजी

Substitutes of O2 in Hindi – ओ2 के बदले में

ओ2 के लिए निम्न वैकल्पिक दवाएं हैं:

ओफ्जो टेबलेट: कॉमेड केमिकल्स द्वारा निर्मित।

ओरनी टेबलेट: ज्यड्स हेल्थकेयर लि. द्वारा निर्मित

ओरनोफ टैबलेट: अरिस्टो फार्मास्युटिकल्स प्राइवेट लिमिटेड द्वारा निर्मित

ओवाक्स ओजेड टेबलेट: लानार्क लैब द्वारा निर्मित

भंडारण

  • इस दवा को पर ठंडी और नमी से मुक्त जगह में सीधी धूप और रौशनी से बचाकर रखना चाहिए|
  • दवा को ऐसे स्थान पर रखना चाहिए जहां यह बच्चों की पहुंच से बाहर हो।

FAQs –10 Important Questions Answered about O2 in Hindi – ओ2 के बारे में 10 महत्वपूर्ण प्रश्न

ओ2 क्या है?

ओ2 एक कॉम्बिनेशन दवा है जिसमें ओफ्लोक्सासिन और ओर्डिनाजोल इसके मुख्य सक्रिय घटक के रूप में होते हैं। ओ2 में जीवाणुनाशक और एंटीपैरासिटिक गुण होते हैं।

इसका उपयोग मुख्य रूप से इन्फेक्शन वाले दस्त, मूत्र पथ के इन्फेक्शन, योनि के इन्फेक्शन और निमोनिया जैसी स्थितियों के इलाज के लिए किया जाता है।

ओ2 को परिणाम दिखाने के लिए कितना समय लगता है?

ओ2 को अपना प्रभाव दिखाने के लिए लिया जाने वाला समय हर रोगी में अलग होता है। ज्यादातर रोगियों को 1 से 2 घंटों के भीतर ही आराम महसूस होने लगता है।

क्या ओ2 को खाली पेट लेना चाहिए?

पेट खराब होने से बचाने के लिए इसे खाली पेट नहीं लेना चाहिए|

क्या ओ2 उनींदापन का कारण बनता है?

जी हां, ओ2 कुछ मामलों में उनींदापन या नींद आना आदि का कारण हो सकती है लेकिन यह हर व्यक्ति में अलग होता है।

ओ2 टैबलेट लेने के बीच में समय का क्या अंतर होना चाहिए?

ओ2 की दो खुराक के बीच कम से कम 8 से 10 घंटे के का अंतराल होना चाहिए|

क्या चिकित्सा का कोर्स पूरा करना चाहिए, भले ही लक्षण ठीक हो जाएँ?

डॉक्टर द्वारा बताए अनुसार ही ओ2 का सेवन करना चाहिए और लक्षणों की गंभीरता के मामले में तत्काल चिकित्सा सहायता या सलाह लेनी चाहिए और डॉक्टर को यह तय करना चाहिए कि ओ2 के चक्र को कब और कैसे रोकना है।

क्या ओ2 मासिक धर्म को प्रभावित करता है?

नहीं, आम तौर पर यह मासिक धर्म चक्र पर प्रभाव नहीं डालता। इस दवा का सेवन करने से पहले मासिक धर्म की समस्याओं के मामले में डॉक्टर से सलाह लें|

क्या ओ2 बच्चों के लिए सुरक्षित है?

बच्चों को ओ2 उचित सलाह के बिना नहीं लेना चाहिए और इसे देने से पहले बाल रोग विशेषज्ञ की सलाह से लेनी चाहिए।

क्या कोई लक्षण हैं जिन पर ओ2 लेने से पहले विचार करना चाहिए?

ओ2 लेने से पहले किसी भी प्रकार के जिगर या किडनी के विकार और एलर्जी प्रतिक्रियाओं को ध्यान में रखना चाहिए।

क्या ओ2 भारत में कानूनी है?

हां, यह भारत में कानूनी है।


डिस्क्लेमर – ऊपर दी गई जानकारी हमारे शोध और ज्ञान के सर्वश्रेष्ठ है। हालांकि, आपको दवा का सेवन करने से पहले एक चिकित्सक से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

लेखक –

Reviewed and Edited by Dr. Pradeep - Clinical Research Coordinator

📢 Hungry for more deals? Visit CashKaro stores & online shopping categories to get exclusive coupons and save up to ₹15,000 per month. Download the app - Android & iOS to get free ₹25 bonus Cashback!
Previous articleNurokind LC In Hindi न्यूरोकाइंड एल.सी: उपयोग,फायदे, खुराक, मूल्य, साइड इफेक्ट्स, सावधानियां
Next articleऑफलोक्सासिन (Ofloxacin in Hindi): उपयोग, खुराक, मूल्य, साइड इफेक्ट्स, सावधानियां

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eighteen + fifteen =