ऑर्निडाज़ोल (Ornidazole in Hindi): उपयोग, खुराक, मूल्य, साइड इफेक्ट्स, सावधानियां

0
5609
ornidazole fayde nuksan in hindi

ऑर्निडाज़ोल क्या है?

ऑर्निडाज़ोल एंटीबायोटिक्स दवाइयों के समूह से संबंधित दवा है जिसका उपयोग शरीर में संक्रमण का कारण बैक्टीरिया और परजीवी को मारने के लिए किया जाता है।

ऑर्निडाज़ोल का उपयोग

  • यह रक्त-संक्रमण का इलाज करता है|
  • यह मस्तिष्क, फेफड़ों, हड्डियों, जननांग पथ, श्रोणि क्षेत्र, पेट और आंतों के संक्रामक रोगों का इलाज करता है| इसका उपयोग मुंह, दांत और मसूड़ों की संक्रामक बीमारियों के लिए भी किया जाता है|
  • यह पैर के संक्रमित अल्सर और दबाव की वजह से होने वाले घावों का इलाज करता है|
  • यह सर्जरी के बाद होने वाले संक्रमण को रोकता है|
इस दवा को खरीदें और 20% छूट प्राप्त करें: नेटमेड्स 

ऑर्निडाज़ोल कैसे काम करता है?

इसका काम करने का तरीका अभी तक पूरी तरह से निर्धारित नहीं है। यह बैक्टीरिया और परजीवी में ऊर्जा के उत्पादन को रोककर डी.एन.ए को नुकसान पहुंचाता है।

भारत में ऑर्निडाज़ोल का मूल्य

45.20 रुपये में 500 मि.ग्रा. की 10 गोलियों की स्ट्रिप

और पढो: ओम्नाकोर्टिल के नुकसानओंडेम के नुकसान |ऑरोफर एक्स.टी के नुकसान

ऑर्निडाज़ोल कैसे लें

  • ऑर्निडाज़ोल गोलियों और सिरप के रूप में आता है जिसे डॉक्टर के निर्देश द्वारा पानी के साथ मुंह द्वारा लिया जाता है|
  • इन गोलियों को कुचलना या चबाना नहीं चाहिए|
  • इसे भोजन के तुरंत बाद इन गोलियों को लेना चाहिए|
  • इस दवा को समान रूप से लेने के लिए हमेशा सिरप को हिलाकर प्रयोग करें|
  • इस दवा की सही खुराक लेने के लिए नापने वाले चम्मच का प्रयोग करें।

ऑर्निडाज़ोल की सामान्य खुराक?

ऑर्निडाज़ोल की खुराक आपकी जरूरतों और बीमारी के इलाज पर निर्भर करती है| आपके उपचार की लंबाई इस बात पर निर्भर करती है कि आपकी बीमारी किस प्रकार की है और कितनी बुरी है|

  • ऑर्निडाज़ोल वायरल संक्रमण (जैसे फ्लू, सामान्य सर्दी) में काम नहीं करता है। एंटीबायोटिक का उपयोग अनावश्यक रूप से टालना चाहिए क्योंकि इससे इसकी प्रभावकारिता कम हो जाती है।
  • यदि आपको ऑर्निडाज़ोल या नाइट्रोमिडाज़ोल से एलर्जी है तो ऑर्निडाज़ोल लेने से बचें ।
  • यदि आपको सक्रिय तंत्रिका संबंधी विकार हैं तो भी ऑर्निडाज़ोल लेने से बचें।
  • अगर आपका रक्त रोग, हाइपोथायरायडिज्म या हाइपोड्रेननलिज्म का इतिहास है तो ऑर्निडाज़ोल ना लें|
  • ऑर्निडाज़ोल दिखने वाले या अपरिचित कैंडिडिआसिस के लक्षणों को मजबूत करता है। इसलिए, एंटी- फंगल एजेंट से इलाज की जरूरत हो सकती है।
  • प्रयोगशाला परीक्षण – ऑर्निडाज़ोल कुछ प्रयोगशाला की जांचों में अपना प्रभाव दिखा सकता है जैसे सीरम एएसटी, एएलटी, एसजीओटी, एसजीपीटी, एलडीएच, ट्राइग्लिसराइड्स, और ग्लूकोज हेक्सोकिनेज आदि|

ऑर्निडाज़ोल के दुष्प्रभाव?

दिल से संबंधित: टी-तरंग, फ्लशिंग, चेतना का नुकसान

केंद्रीय तंत्रिका तंत्र: एसेप्टिक मेनिंगजाइटिस, एटैक्सिया, भ्रम, समन्वय में कमी, अवसाद, चक्कर आना, बुखार, सिरदर्द, अनिद्रा, चिड़चिड़ाहट, वर्टिगो हेलुसिनेशन, आवेग, हाथों और पैरों में एक झुकाव या सनसनी महसूस करना।

त्वचाविज्ञान: एरिथेमेटस दांत, खुजली, स्टीवंस-जॉनसन सिंड्रोम

एंडोक्राइन और चयापचय: ​​डिसफुलरम जैसी प्रतिक्रिया, डिसमोनोरियोआ

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल: मतली, भूख की कमी, पेट की गड़बड़ी, कब्ज, दस्त, जीभ में असामान्य या धातु जैसा स्वाद, उल्टी इत्यादि|

जेनिटोरिनरी: गहरे रंग का मूत्र

अंगों पर प्रभाव

  • ऑर्निडाज़ोल मूत्र को गहरे रंग का कर सकता है।
  • जिगर की बीमारियों वाले मरीजों में इसकी खुराक कम होनी चाहिए।

एलर्जी प्रतिक्रियाएं

बहुत ही कम मामलों में त्वचा पर चकत्ते, लाल, खुजली वाले दाने और बुखार जैसी एलर्जी प्रतिक्रियाएं हो सकती हैं|

और पढो: ओवरल-एल के नुकसानपैन 40 के नुकसानपैंटोसिड के नुकसान

ड्रग इंटरैक्शन के बारे में सावधानी

इंटरैक्शन करने वाली सभी दवाओं को यहां सूचीबद्ध नहीं किया जा सकता इसलिए रोगी को अपने चिकित्सक को अपने द्वारा उपयोग की जाने वाली सभी दवाओं और उत्पादों के बारे में बताना चाहिए|

निम्न दवाओं को इसके साथ प्रभाव डालते देखा गया है –

  • डिस्फिराइम – मादक रोगियों में मनोवैज्ञानिक प्रतिक्रियाएं देखी गई है जो समान रूप से ऑर्निडाज़ोल और डिस्फिराइम का उपयोग करते हैं।
  • वार्फरिन और अन्य ओरल एंटी-कोगुलान्ट्स
  • लिथियम
  • बुसुल्फान
  • दवाएं जो सी.वाई.पी450 एंजाइमों को रोकती हैं जैसे सिमेटिडाइन
  • दवाएं जो सी.वाई.पी450 एंजाइमों को प्रेरित करती हैं जैसे फेनीटोइन
  • अपने डॉक्टर से पूछे बिना दवा के किसी भी नियम में कोई फेर बदल ना करें|

प्रभाव और परिणाम

  • आप ऑर्निडाज़ोल के उपचार के पहले कुछ दिनों में ही ठीक होना शुरू कर देते है|
  • डॉक्टर द्वारा तय की गयी पूरी खुराक ही शरीर से संक्रमण को पूरी तरह खत्म करने के लिए जानी जाती है|

प्रभाव और परिणाम

  • आप ऑर्निडाज़ोल के उपचार के पहले कुछ दिनों में ही ठीक होना शुरू कर देते है|
  • डॉक्टर द्वारा तय की गयी पूरी खुराक ही शरीर से संक्रमण को पूरी तरह खत्म करने के लिए जानी जाती है|

सामान्य प्रश्न

क्या ऑर्निडाज़ोल नशे की लत है?

नहीं

क्या शराब के साथ ऑर्निडाज़ोल ले सकते हैं?

नहीं। आपको ऑर्निडाज़ोल के साथ शराब वाले पेय पदार्थ या प्रोपेलीन ग्लाइकोल युक्त किसी भी उत्पाद को  कम से कम 3 दिन बाद तक उपयोग नहीं करना चाहिए|

क्या किसी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?

निम्न खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए:

  • अल्फाल्फा,
  • मोटी सौंफ़,
  • ब्लूबेरी,
  • अंगूर के बीज,
  • हरी चाय,
  • हल्दी,
  • मेंथी,
  • लहसुन,
  • अदरक।

क्या गर्भवती होने पर ऑर्निडाज़ोल ले सकते हैं?

यदि आप गर्भवती हैं या गर्भवती होने की योजना बना रही हैं तो अपने डॉक्टर को इस बारे में बताएं| गर्भावस्था के दौरान ऑर्निडाज़ोल उपयोग किया जा सकता है क्योंकि पशु अध्ययन में इसके कोई प्रतिकूल परिणाम नहीं पाए गये| लेकिन मानव अध्ययन में कमी के कारण हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

क्या बच्चे को स्तनपान करने के दौरान ऑर्निडाज़ोल ले सकते हैं?

यदि आप बच्चे को स्तनपान करा रही हैं तो अपने डॉक्टर को इसकी सूचना दें| स्तनपान के दौरान इसका सावधानी से प्रयोग करना चाहिए। ऑर्निडाज़ोल के साथ इलाज के दौरान स्तनपान को रोकना उचित है।

क्या ऑर्निडाज़ोल लेने के बाद ड्राइव कर सकते हैं?

यदि ऑर्निडाज़ोल लेने के बाद अधिक चक्कर आना, नींद में कमी महसूस करते हैं तो आपको ड्राइव नहीं करना चाहिए।

यदि ऑर्निडाज़ोल अधिक मात्रा में ली जाए तो क्या होता है?

ऑर्निडाज़ोल को अधिक मात्रा में लेने से मतली, उल्टी और समन्वय के नुकसान का कारण हो सकती है। यदि आपने अधिक खुराक ले ली हो तो तुरंत अपने चिकित्सक से संपर्क करें।

यदि एक्सपायरी हो चुकी ऑर्निडाज़ोल खाएं क्या होता है?

यह एंटीबायोटिक काम नहीं करती| इसलिए अपने चिकित्सक को इस बारे में सूचित करें।

यदि ऑर्निडाज़ोल की खुराक लेनी याद ना रहे तो क्या होता है?

यदि ऑर्निडाज़ोल की खुराक लेनी याद ना रहे तो इसे जल्द से जल्द लें। लेकिन यदि अगली खुराक का समय हो गया हो तो दोगुनी खुराक न लें|

भंडारण

इसे सीधी रोशनी और नमी से 25 सी से नीचे के तापमान पर रखें|

ऑर्निडाज़ोल लेते समय टिप्स

ऑर्निडाज़ोल सफेद रक्त कोशिकाओं में कमी (संक्रमण से लड़ने में मदद करने के लिए आवश्यक) के साथ-साथ जिगर के एंजाइमों में भी कमी का कारण हो सकती है। इसलिए इसकी खुराक में कोई बदलाव होने पर रक्त परीक्षण नियमित रूप से किया जाना चाहिए।

यदि आप दस्त से पीड़ित हैं तो निर्जलीकरण से बचने के लिए आपको उचित मात्रा में ढेर सारा तरल पदार्थ या रिहाइड्रेशन पेय लेना चाहिए|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five − two =