पलक्कड़ में 8 आश्चर्यजनक जगहें (Palakkad Best Places in Hindi)

palakkad kerala best places in hindi
palakkad kerala best places in hindi

पलक्कड़ के बारे में

केरल के पश्चिमी घाटों में पलक्कड़ स्थित सुस्त लेकिन सुन्दर स्थान है। यह ताड़ के बगीचों  और धान के खेतों के लिए प्रसिद्ध है इसलिए यह केरल का मुख्य अन्न-भण्डार कहा जाता है। पलक्कड़ को इसका नाम ‘पाला’ पेड़ों से मिला है जो इस क्षेत्र में अधिक मात्रा में होते हैं। मलयालम केरल की सर्वव्यापी भाषा होने के बावजूद  तमिल मुख्य भाषा के रूप में इस जिले में बोली जाती है।

सामान्य ज्ञान: पलक्कड़ को “केरल का गेटवे” कहा जाता है

क्यों जाएँ: विरासत, आराम करने, जैव विविधता

आदर्श: विरासत यात्राएं, आराम करने के लिए यात्राएं, प्रकृति में घूमने,  वन्यजीव खोजने

लाने के लिए चीजें: पारंपरिक घंटी, ‘थूकू’ (लटकती घंटी), त्रावणकोर साड़ी, ‘निलाविल्लक्कस’ (पारंपरिक दीपक)

पलक्कड़ में जाने के लिए जगहें

8. परंबिकुलम टाइगर रिजर्व

यह अभयारण्य बाघों की आबादी को संरक्षित रखने के अपनी लगातार कोशिशों के लिए जाना जाता है। यह कदर, मालसार और  मुदुवार जैसी जनजातियों का निवास स्थान भी है। इस अभयारण्य में विदेशी पशु प्रजातियों के साथ-साथ अनेक प्रकार की वनस्पतियाँ भी है।

शहर से दूरी: 89 कि.मी

अपेक्षित समय: 2-3 घंटे

आदर्श: ट्रेक, सफारी, जैव विविधता

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: जुलाई-मार्च

स्थान: नेविगेट करें

7. ओट्टापलम

भरतपुझा नदी के किनारे  ओट्टापलम प्राकृतिक सौंदर्य लिए हुए एक शांतिपूर्ण शहर है। कालिकट के मूल निवासी ज़मोरिन्स के युग के दौरान यहाँ कई सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित हुए थे इसलिए इस स्थान का अपना एक ऐतिहासिक महत्व है| केरल का एक लोकप्रिय त्योहार चिनाकाथूर पुरम है जो चिनाकाथूर मंदिर में आयोजित किया जाता है।

शहर से दूरी: 36 कि.मी

अपेक्षित समय: 1-2 घंटे

आदर्श: दर्शनीय सौंदर्य, फोटोग्राफी प्रेमी

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: जुलाई-मार्च

स्थान: नेविगेट करें

6. पल्लकड़ किला

1766 ईस्वी में हैदर अली (टीपू सुल्तान के पिता) ने पल्लकड़ किला बनवाया था। यह सुंदर किला भारत के पुरातत्व विभाग द्वारा संरक्षित की गयी एक संरचना है| यह 60, 702 वर्ग मीटर में फैला हुआ एक राजसी किला है और यह अपनी फ्रांसीसी वास्तुकला के लिए भी प्रसिद्ध है। ‘कोटा मैदानम’ किले का एक बड़ा जमीनी क्षेत्र है जिसका उपयोग आजकल क्रिकेट प्रतियोगिताओं, प्रदर्शनियों और अन्य आयोजनों के लिए होता है। इस किले के परिसर में रप्पादी, एक ओपन-एयर ऑडिटोरियम भी मौजूद है। किले के अन्य आकर्षणों में हनुमान मंदिर, एक बगीचा, एक मंदिर और एक उप जेल भी शामिल हैं।

शहर से दूरी: पलक्कड़ शहर के बीचों-बीच स्थित है

अपेक्षित समय: 2-3 घंटे

आदर्श: पुरातात्विक, इतिहासकार

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: वर्ष-भर

स्थान: नेविगेट करें

और पढ़ें: एर्नाकुलम |मैसूर

5. धोनी

अपने झरनों और घने जंगलों के लिए प्रसिद्ध धोनी एक छोटा सा गांव है जो पश्चिमी घाटों के किनारे के साथ साथ स्थित है|

शहर से दूरी: 15 कि.मी

अपेक्षित समय: 3-4 घंटे

आदर्श: ट्रेकिंग

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: वर्ष-भर

स्थान: नेविगेट करें

4. साइलेंट वैली नेशनल पार्क

केरल के पश्चिमी घाटों की कुंडली पहाड़ियों में यह सुंदर वर्षा वन हैं जो 89 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैले हुए हैं| यह राष्ट्रीय उद्यान भारत में अकेला अनछुआ क्षेत्र है। यह पार्क इसके अद्वितीय सिल्वान वातावरण जिसमें इसकी शक्तिशाली चोटियां और जल निकाय हैं जो इसमें बहते है के लिए भी जाना जाता है| इस क्षेत्र में बहने वाली ‘कुंती’ नदी की प्राकृतिक सुंदरता बस देखते ही बनती है।

शहर से दूरी: 53 कि.मी

अपेक्षित समय: 3-4 घंटे

आदर्श: वन्यजीव सफारी, प्रकृति प्रेमी

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: वर्ष-भर

स्थान: नेविगेट करें

पलक्कड़ में जाने के लिए मंदिर

3. जैन मंदिर

कल्प्ति  नदी के तट पर जैनिमेदु  में 500 साल पुराना मंदिर स्थित है। राजसी ग्रेनाइट की दीवारों से बने हुए इस मंदिर में जैन तीर्थंकरों और यक्षिणियों की तस्वीरें हैं।

शहर से दूरी: 3 कि.मी

अपेक्षित समय: 1-2 घंटे

आदर्श: जैन संप्रदाय के अनुयायी, आध्यात्मिक लोग

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: वर्ष-भर

स्थान: नेविगेट करें

2. कल्प्ति मंदिर

नवंबर में आयोजित ‘रथ यात्रा’ के लिए प्रसिद्ध यह भगवान शिव का मंदिर है|

शहर से दूरी: 3 कि.मी

आदर्श: धार्मिक लोग, शिव-भक्त

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: नवंबर

स्थान: नेविगेट करें

1.पट्टाम्बि नेरचा

यह एक मस्जिद है जो फरवरी में  ‘अलूर वलिया पुकुनजकोया थांगल’ मनाने के लिए और वार्षिक दावत की मेजबानी करने के लिए प्रसिद्ध है।

शहर से दूरी: 61 किमी

आदर्श: धार्मिक लोग

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: फरवरी

स्थान: नेविगेट करें

पलक्कड़ कैसे पहुंचे

निकटतम हवाई अड्डा:

कोयंबटूर हवाई अड्डा (100 कि.मी दूर)

अपनी उड़ानें बुक करके पैसे बचाएं: एयरएशिया प्रोमो कोड, गोएयर प्रोमो कोड

निकटतम रेलवे स्टेशन:

  • पलक्कड़ जंक्शन (ब्रॉड गेज लाइन)
  • पल्लकाड़ टाउन रेलवे (संकीर्ण गेज लाइन)

निकटतम बस स्टॉप:

कोयंबटूर बस स्टॉप जहां से केरल और तमिलनाडु सरकारों द्वारा चलाई जाने वाली बसों से यात्रा की जा सकती है| निजी कंपनी की बसों और टैक्सियों द्वारा यात्रा करना भी एक विकल्प है|

अपनी बस बुक करके पैसा बचाएं: रेडबस कूपन कोड, टिकटगोस कूपन कोड,  ट्रेवलयारी  कूपन कोड

कहाँ रहें

फोर एन स्क्वायर रेजीडेंसी, आयूर वैद्य मन,  होटल के.पी.एम त्रिपेंट|

होटल बुकिंग पर छूट पाइए: रेडबस होटल, पेटीएम होटल

यात्रा के लिए आसपास के स्थान

  • ऊटी (163 कि.मी)
  • नेल्लियंपैथी (5 कि.मी)
  • कोयंबटूर (53 कि.मी)
  • मालम्पुझा (14 कि.मी)
  • कूनूर (146 कि.मी)
  • त्रिशूर (69 कि.मी)

छिपे हुए रत्न

आपको मालपाझा से कुछ मील दूर ‘कवा‘  जाना चाहिए जोकि एक लुभावनी सुंदर पहाड़ों से घिरी भूमि है और इसके बीच में एक झील है।

कन्निमारा टीक, परंबिकुलम वन्यजीव अभयारण्य के अंदर है जहाँ पर  दुनिया का सबसे पुराना और लंबा सागौन का पेड़ है|

नेल्लियंपैथी में सीतागुंडू व्यू प्वाइंट एक ऐसी जगह है जो आवले के पेड़ों के लिए जाना जाता है|

मालम्पुझा में स्थित रॉक गार्डन प्रसिद्ध मूर्तिकार, पद्मश्री नेक चंद सैनी द्वारा डिजाइन किया गया है। बगीचे को बनाने के लिए टाइल्स, ट्यूब, बोतलों और ऐसी ही अन्य चीजों का इस्तेमाल किया गया है|

कैशकारो की सलाह

पलक्कड़ जिले के आसपास कई जलाशयो, बांध, झीलें होने के साथ-साथ समुद्र तटों के भी कई जल निकाय हैं| पोथुंडी बांध और जलाशय, मंगलम बांध, सिरुवानी जलाशय, कंजिरपुझा जलाशय, कुमारकोम बीच, कुंडूर बीच, कोल्लम बीच आदि कई ऐसे स्थान हैं जहाँ आप “गॉडस ओन कंट्री के  नाम से प्रसिद्ध केरल में प्रकृति आनंद लेने जा सकते हैं!

यात्रा करने के लिए सबसे मजेदार तरीका

कार से यात्रा करना आपके लिए एक मजेदार अनुभव हो सकता है। आप केरल की सुंदरता को नजदीक से देख सकते हैं और क्षेत्र के स्थानीय व्यंजनों का आनंद भी ले सकते हैं।

अगर आप अपनी कार नहीं जाना चाहते तो आप कार किराए पर लेकर भी पैसे बचा सकते हैं:

कैब ऑफर, ज़ूमकार प्रोमो कोड

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 − four =