पैंटोप-डी (Pantop D in Hindi): उपयोग, खुराक, मूल्य, साइड इफेक्ट्स, सावधानियां

0
2024

pantop fayde nuksan in hindi

1पैंटोप-डी क्या है?

पैंटोप-डी पैंटोप्राज़ोल(40 मि.ग्रा.) और डोम्परिडोन(30 मि.ग्रा.) का एक संयोजन है जो अम्लता, सीने में जलन, मतली, उल्टी वगैरह के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है।

2पैंटोप-डी का उपयोग

निम्न बीमारियों और लक्षणों की रोकथाम, नियंत्रण और उपचार के लिए पैंटोप-डी का उपयोग किया जा सकता है:

  • गैस्ट्रोसोफेजियल रिफ्लेक्स बीमारी (जीईआरडी)
  • आमाशय में अल्सर
  • ज़ोलिंगर एलिसन सिंड्रोम
  • जी मिचलाना
  • उल्टी
  • सीने में जलन
  • इरोसिव एसोफैगिटिस
  • इडियोपैथिक या मधुमेह गैस्ट्रोपेरिसिस (हालत जो पेट खाली करने से रोकती है)
  • हेलिकोबैक्टर पिलोरी संक्रमण

पैंटोप-डी का उपयोग ऊपर बताये गये उद्देश्यों के इलावा भी किया जा सकता है।

इस दवा को खरीदें और 20% छूट प्राप्त करें: 1 एमजीपिनहेल्थ

3पैंटोप-डी कैसे काम करता है?

पैंटोप्राज़ोल(40 मि.ग्रा.) और डोम्परिडोन(30 मि.ग्रा.) पैंटोप-डी में मौजूद दो सक्रिय तत्व हैं।

  • पैंटोप्राज़ोल “प्रोटॉन पंप इनहिबिटर” दवाओं के समूह से संबंधित है जिसे पेप्टिक अल्सर के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है।
  • यह गैस्ट्रिक एसिड के स्राव को रोककर काम करता है। यह आराम चरण में दोनों के साथ-साथ भोजन द्वारा उत्तेजित होने पर हृदय जला और गैस्ट्रिक अल्सर रोग को रोकने में एसिड स्राव को रोकता है।
  • डोम्परिडोन दवाओं के एक समूह से संबंधित है जिसे “डोपामाइन प्रतिद्वंद्वियों” कहा जाता है जो आपके भोजन पाइप के माध्यम से पेट से आंत तक तेजी से भोजन को बढ़ावा देकर काम करता है।
  • यह भोजन को पाइप तक गलत तरीके से बहने से रोकता है और मस्तिष्क में उल्टी केंद्र को रोकता है जिससे अंततः मतली और उल्टी की भावना कम हो जाती है।

4भारत में पैंटोप-डी का मूल्य

  • 5 रुपये में 10 कैप्सूल की स्ट्रिप
  • पैंटोप-डी.एस.आर: 112 रुपये में 30 मि.ग्रा. या 40 मि.ग्रा. 10 कैप्सूल की स्ट्रिप
Read More: pantocid dsr benefits in hindipantosec benefits in hindipantoprazole benefits in hindi

5पैंटोप-डी कैसे लें

पैंटोप-डी मौखिक उपयोग के लिए कैप्सूल रूप में उपलब्ध है।

  • पैंटोप-डी के उपचार की खुराक और लेने का तरीका डॉक्टर द्वारा ही तय किया जाना चाहिए। इसे तय की गयी खुराक से ज्यादा या कम ना लें।
  • पैंटोप-डी को मुंह द्वारा सुबह खाली पेट (भोजन से कम से कम आधा घंटे) लेना चाहिए।
  • इसका कैप्सूल तरल पदार्थ के साथ बिना कुचले, चबाये या तोड़े पूरी तरह से निगल लेना चाहिए।
  • लक्षण गायब होने के बावजूद भी डॉक्टर की सहमति के बिना इसे बंद नहीं करना चाहिए।

6पैंटोप-डी की सामान्य खुराक

  • पैंटोप-डी की खुराक रोगी की स्थिति, रोगी की उम्र और दवा की प्रारंभिक प्रतिक्रिया के साथ बदलती रहती है।
  • वयस्कों के लिए इसकी खुराक भोजन से आधे घंटे पहले एक टैबलेट तय की गयी है।
  • यदि डॉक्टर ना कहे तो पैंटोप-डी का उपयोग 14 दिनों से ज्यादा समय तक नहीं करना चाहिए।
  • अपने डॉक्टर की सहमति के बिना अचानक अपनी दवा न बदलें ना ही लेना बंद करें।
  • गुर्दे और जिगर की बीमारी वाले मरीजों को सावधानी से और डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही पैन-डीका उपयोग करना चाहिए।
  • लक्षणों में सुधार या बदतर होने के मामले में तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।

7पैंटोप-डी से कब बचें?

  • इसके किसी भी घटक से एलर्जी हो
  • आँतों में रुकावट
  • इलेक्ट्रोलाइट से बाधा वाले मरीजों को विशेष रूप से मैग्नीशियम, पोटेशियम और कैल्शियम से|
  • गुर्दे और जिगर की गंभीर बीमारी वाले मरीज़
  • विटामिन बी 12 की कमी वाले मरीज
  • ऑस्टियोपोरोसिस के मरीज़
  • कोंजेस्टिव हार्ट फेल

8पैंटोप-डी के दुष्प्रभाव

पैंटोप-डी के आम साइड इफेक्ट्स में निम्न हो सकते हैं:

  • दस्त
  • सरदर्द
  • पेट में दर्द
  • पेट फूलना
  • चक्कर आना
  • त्वचा पर लाल चकत्ते
  • जोड़ों का दर्द
  • हड्डी के फ्रैक्चर की संभावना बढना

9अंगों पर प्रभाव?

जिगर और गुर्दे की गंभीर बीमारी वाले मरीजों को सावधानी से पैंटोप-डी का उपयोग करना चाहिए। कुछ मामलों में डॉक्टर द्वारा खुराक तय करने की जरूरत हो सकती है।

10एलर्जी प्रतिक्रियाएं

यदि पैंटोप-डी के किसी तत्व से एलर्जी है तो अपने डॉक्टर को बताएं| एलर्जी प्रतिक्रियाओं के लक्षणों में निम्न हो सकते हैं:

  • त्वचा पर चकत्ते या खुजली
  • साँसों की कमी
  • चेहरे, होंठ, जीभ, या गले की सूजन
  • बेहोशी
Read More: prednisolone benefits in hindirablet d benefits in hindiprimolut n benefits in hindi

11दवा इंटरैक्शन के बारे में सावधानी

बड़ी संख्या में दवाओं के अन्य दवाओं के साथ प्रभाव होते हैं जिसके कारण उनके चिकित्सीय प्रभाव में कमी आ जाती है और साइड इफेक्ट्स की संभावना भी बढ़ जाती है। इसलिए रोगी को पैंटोप-डी के साथ इस्तेमाल होने वाले काउंटर उत्पादों या विटामिन की खुराक सहित अपनी सभी दवाओं के बारे में अपने डॉक्टर को सूचित करना चाहिए।

सभी इंटरैक्शन वाली दवाओं को यहां सूचीबद्ध नहीं किया जा सकता इसलिए पैंटोप-डी के साथ लेने पर प्रभाव डालने वाली कुछ महत्वपूर्ण दवाएं हैं:

  • शराब
  • ऐमियोडैरोन
  • फ़िनाइटोइन
  • वारफरिन
  • एटरोपिन
  • क्लारिथ्रोमायसिन
  • केटोकोनाजोल

12प्रभाव और परिणाम

पैंटोप-डी को मुंह द्वारा लेने के 30 मिनट से 1 घंटे के भीतर ही इसका प्रभाव शुरू हो जाता है और 2 घंटों में यह अपने चरम प्रभाव तक पहुंच जाती है|

सामान्य प्रश्न

क्या पैंटोप-डी नशे की लत है?

ऐसी कोई सूचना नहीं मिली है।

क्या शराब के साथ पैंटोप-डी ले सकते हैं?

इसके साथ शराब की खपत लेने की सलाह नहीं दी जाती, इसे शराब के साथ लेने से अम्लता बढ़ जाती है और इससे समस्या और बढ़ सकती है जिससे पैंटोप-डी की शक्ति कम हो जाती है। पैंटोप-डी के साथ शराब का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।

यदि पैंटोप-डी अधिक मात्रा में लें तो क्या होता है?

पैंटोप-डी की खुराक ज्यादा लंबे समय तक नहीं लेनी चाहिए क्योंकि इससे विषाक्तता हो सकती है। यदि  अधिक खुराक ले भी ली हो तो तत्काल चिकित्सा की और ध्यान दें| इससे होने वाले तीव्र विषाक्तता के प्रमुख संकेतों में भ्रम, झटके, उनींदापन, अनियमित दिल की धड़कन शामिल हैं।

यदि एक्सपायरी हो चुकी पैंटोप-डी लें तो क्या होगा?

एक्सपायरी हो चुकी एक खुराक लेने से बड़े प्रतिकूल प्रभाव नहीं सकते लेकिन इस  दवा की शक्ति कम हो सकती है। सुरक्षित रहने के लिए हमेशा एक्सपायरी दवा की जांच करें और कभी भी इसका उपयोग न करें।

यदि पैंटोप-डी की खुराक लेनी याद न रहे तो क्या होता है?

जैसे ही आपको भूली हुई खुराक याद आये तुरंत उसे लें| लेकिन यदि दूसरी खुराक का पहले से ही समय हो गया हो तो दुगुनी खुराक न लें।

13पैंटोप-डी का भंडारण

  • इसे सीधी धूप और गर्मी से बचाकर कमरे के तापमान पर रखें|
  • इसे बच्चों और पालतू जानवरों से दूर रखें।

14पैंटोप-डी लेते समय टिप्स:

  • पैंटोप-डी को जब बड़ी मात्रा में या लंबी अवधि के लिए उपयोग किया जाए विशेष रूप से बुजुर्गों में तो यह हड्डी के फ्रैक्चर (ऑस्टियोपोरोसिस) का कारण हो सकता है।

जब इसे लंबी अवधि के लिए उपयोग किया जाए  तो यह रक्त में मैग्नीशियम के स्तर को कम कर सकती है। पैंटोप-डी लेने वालों के रक्त में मैग्नीशियम के स्तर की लगातार निगरानी करनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

5 × two =