Health Benefits of Papaya in Hindi पपीते के अद्भुत स्वास्थ्य लाभ – उपयोग, कैलोरी और पोषण

0
295
Health Benefits of Papaya in Hindi पपीते के अद्भुत स्वास्थ्य लाभ - उपयोग, कैलोरी और पोषण

स्वर्गदूतों का फल—क्रिस्टोफर कोलंबस

क्या यह जानना दिलचस्प नहीं कि आप पपीते का सेवन करके अपना वजन कम कर सकते हैं? पपीता विटामिन-सी से भरपूर होता है जो एडिपोस टिश्यूओं  में जमा वसा को तोड़ने में मदद करता है। इतना ही नहीं, यह पाचन में भी सहायक होता है जो कब्ज से पीड़ित लोगों के लिए बहुत अच्छा होता है। क्रिस्टोफर कोलंबस ने नारंगी रंग के इस रसदार फल को ‘स्वर्गदूतों का फल’ कहा था|

कई विटामिन और खनिजों से भरपूर होने के कारण, पपीता शरीर के सामान्य कामकाज के लिए जरूरी है। उन लोगों के लिए जो इस फल के स्वाद के बारे में चिंतित हैं, पपीता एक सुस्वाद फल है जिसका स्वाद मीठा होता है। पपीता के कई प्रकार के लाभ हैं जो कई बीमारियों को रोक सकते हैं और ठीक कर सकते हैं। जर्नल और फार्मेसी ऑफ बायोलॉजिकल साइंसेज में एक अध्ययन के अनुसार पपीता स्वस्थ कार्बोहाइड्रेट, विटामिन और खनिजों का एक समृद्ध स्रोत है जो शरीर के लिए महत्वपूर्ण है।

Also read: Pumpkin in Hindi

Papaya Useful Information in Hindi – पपीते के फल के बारे में रोचक तथ्य

  • पपीता (पापौ या पौवाप) कैरिका पपीता नाम के पौधे का एक फल है जो कि इस पौधे के परिवार की 22 प्रजातियों में से एक है|
  • यह मध्य अमेरिका, दक्षिणी मैक्सिको और अमेरिका के उष्णकटिबंधीय जैसे उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों के मूल निवासी है
  • पपीते के काले बीज खाने योग्य होते हैं और स्वाद में काली मिर्च जैसे होते हैं। भारत और विदेशों में अधिकांश राज्यों में पपीते के बीजों का इस्तेमाल खाना पकाने के लिए किया जाता है
  • पपीते का पेड़ 20 फुट लंबा होता है और इसके फल 1 से 20 पाउंड तक वजन हो सकते हैं|

Papaya Benefits and Uses in Hindi – पपीते के स्वास्थ्य लाभ और उपयोग

  1. कोलेस्ट्रॉल कम करे

पपीते में एंटी-ऑक्सीडेंट, विटामिन-सी और फाइबर भरपूर मात्रा में होता है जो धमनियों में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है। यह कोलेस्ट्रॉल और कई अन्य बीमारियों जैसे स्ट्रोक, दिल के दौरे और उच्च रक्तचाप को भी रोकता है। पपीता खून में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा और हड्डियों के घनत्व में सुधार करता है।

कैसे इस्तेमाल करें: पपीते की स्मूदी बनाएं और स्वादानुसार नमक और काली मिर्च डालें। इसे ट्विस्ट देने के लिए इसमें चिया सीड्स या फ्लैक्स सीड्स भी  मिला सकते हैं जो ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर होते हैं जो दिल की ताकत को बेहतर बनाते हैं।

  1. पाचन में सहायक

पपीते में पपैन नामक पाचक एंजाइम के साथ-साथ फाइबर भी होता है जो पाचन को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह आँतों की गतिविधियों को नियमित करने में भी मदद करता है। यह विटामिन-सी से भरपूर होता है जो आसानी से पचने योग्य होता है। पपीते में मिलने वाला एंजाइम पपैन होता है जो शरीर में प्रोटीन के पाचन में मदद करता है।

कैसे इस्तेमाल करें: ताजा पपीता लें और इसे स्लाइस करें। एक मिक्सर में इसका रस निकालें और स्वाद के लिए काला नमक मिलाएं| आपका पूरा जीवन कब्ज मुक्त हो जाता है।

  1. वजन घटाने में मदद करे

पपीता कैलोरी में कम होता है लेकिन आपको हमेशा भरा हुआ महसूस कराता है और तृप्ति की भावना पैदा करती है। इसमें फाइबर होता है जो आँतों की गतिविधि को नियंत्रित करता है जो फिटनेस के लिए पहला कदम है। पपीता एंजाइम पैपैन और अन्य फाइटोकैमिकल तत्वों से भरपूर होता है जो पाचन में सहायता करते हैं। यह पाचन को तेज और प्रभावी बनाकर वजन घटाने की कुंजी है।

कैसे उपयोग करें: आँतों की गतिविधि को नियमित करने और पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने के लिए रोजाना  आधे कटे हुए पपीते का एक कटोरा लें। आप अपने नाश्ते के एक घंटे के बाद फलों का सलाद बना सकते हैं और भूख को भगा सकते हैं!

  1. कैंसर की घटना को रोके

पपीता एंटी-ऑक्सीडेंट, फाइटोन्यूट्रिएंट्स और फ्लेवोनॉयड्स से भरपूर होता है जो शरीर के टिश्यूओं को फ्री रेडिकल से बचाता है। पपीते में पपैन होने से यह कैंसर की रोकथाम में सहायक होता है।

कैसे करें उपयोग: शरीर में मुक्त कणों के बनने को रोकने के लिए रोजाना पपीते की 2 स्लाइस काटकर लें| रोज एक कटोरी पपीता कैंसर को दूर रखता है!

  1. आँखों की रौशनी में सुधार करे

पपीता विटामिन-ए, सी, और ई से भरपूर होता है जो आँखों की औशनी में सुधार करके नजर को मजबूत बनाने में मदद करता है। यह मोतियाबिंद और रतौंधी जैसी बीमारियों से भी बचाता है। पपीता विटामिन से भरपूर होता है जो नजर को बेहतर बनाने में मदद करता है।

कैसे इस्तेमाल करें: पपीते की स्मूदी का एक ताज़ा ग्लास बहुत फायदा देता है। यदि आप हर रोज़ स्मूदी नहीं पीना चाहते तो पपीते के साथ नारंगी के छिलके का उपयोग करें जो आँखों की रौशनी को बेहतर बनाने में मदद करता है और एक ताज़ा एहसास देता है|

  1. मधुमेह को रोके

पपीते में कम ग्लाइसेमिक सूचकांक होता है और यह उन लोगों के लिए भी एक आदर्श विकल्प है जो मधुमेह से पीड़ित हैं। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो मानव शरीर में मधुमेह की घटना को रोकते हैं।

कैसे इस्तेमाल करें: डायबिटीज को रोकने और इंसुलिन बनने को नियंत्रित करने के लिए पालक और पपीते का सलाद बना सकते हैं। अपने पपीते के फलों के सलाद में पालक के पत्ते भी डाल सकते हैं और इसे अपने नाश्ते के 2 घंटे बाद ले सकते हैं।

  1. बढती उम्र के संकेत को रोके

पपीता विटामिन-ई से भरपूर है जो त्वचा में मुक्त कणों के बनने को रोकता है। यह त्वचा को फिर से जीवित करने के साथ-साथ त्वचा की उम्र बढ़ने को भी रोकता है और लाइनों की उपस्थिति को कम करता है। पपीते के छिलके में एक पोषण मूल्य होता है जो त्वचा की गंदगी हटाने और समय से पहले त्वचा की उम्र बढ़ने को रोकने में मदद करता है।

कैसे इस्तेमाल करें: पपीता फेस पैक तैयार करें। पपीते के फेस पैक में नींबू मिलाएं और इसे त्वचा पर 10 से 15 मिनट के लिए छोड़ दें। ताज़ा त्वचा पाने के लिए इसे गर्म पानी से धो लें।

  1. तनाव को कम करने में मदद करे

पपीते में एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं जो कोर्टिसोल और एड्रेलाईन जैसे तनाव हार्मोन के बनने को कम करने में मदद करते हैं। विटामिन-ई की उपस्थिति दिमाग को शांत करती है और तनाव को कम करती है। मानव शरीर में 200 ग्रा. विटामिन-ई दिमाग में तनाव पैदा करने वाले हार्मोन के बनने को नियंत्रित करता है।

  1. गठिया से बचाए

पपीते में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं और विटामिन-सी भी होता है जो गठिया से बचाने में मदद करता है। पपीता हड्डियों के घनत्व में सुधार करता है और गठिया से सुरक्षा देता है।

  1. प्रतिरक्षा को बढाये

पपीते में विटामिन, मिनरल्स और फाइटोन्यूट्रिएंट्स की भरपूर मात्रा होती है जो इम्युनिटी को अच्छी तरह बूस्ट करता है। पपीते में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण और फाइटोन्यूट्रिएंट्स होते हैं जो संक्रमणों से लड़ने में मदद करते हैं।

Read more: Kiwi के फायदे | Pineapple के फायदे

Papaya Nutritional Value in Hindi – पपीता का पोषण मूल्य

कैलोरी 54.6 कैलोरी
कार्बोहाइड्रेट 50.6 मि.ग्रा.
विटामिन-सी 86.5 मि.ग्रा.
विटामिन ई 1 मि.ग्रा.
विटामिन के 3.6 एमसीजी
कैल्शियम 33.6 मि.ग्रा.
मैग्नीशियम 14 मि.ग्रा.
पोटेशियम 360 मि.ग्रा.
सोडियम 4.2 मि.ग्रा.
ओमेगा-3 फैटी एसिड 35 मि.ग्रा.

पपीते में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण और एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं जो अन्य बीमारियों को रोकने में मदद करते हैं। विटामिन-ई होने के कारण यह त्वचा को निखारती है और मुँहासे के निशान को कम करती है। यह आंखों की मांसपेशियों को मजबूत करता है। हरे बिना पके पपीते का सेवन महिलाओं में मासिक धर्म को नियमित करने में मदद करता है।

Papaya Precautions in Hindi – पपीते का सेवन करते समय खतरे

पपीता 100% प्राकृतिक है और इससे शरीर के लिए कोई नुकसान नहीं है। नियमित रूप से पपीते का सेवन करने से पहले निम्न बातों का ध्यान रखें:

  • गर्भवती महिला को पपीते के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि इसमें लेटेक्स होता है जो गर्भाशय के संकुचन का कारण बन सकता है जिससे अजन्मे बच्चे का गर्भपात हो सकता है।
  • यदि गैस्ट्रिक समस्या हो तो पपीते के ज्यादा सेवन से बचना चाहिए क्योंकि इसमें रेचक गुण पेट ढीला होने का कारण बन सकते हैं।
Read more: Banana ke Nuksan | Dragon Fruit के नुकसान

How to Consume Papaya in Hindi – पपीते का सेवन कैसे करें

कैसे बाजार में सबसे अच्छा पपीता खरीदें इस बारे में  उलझन रहती है| लम्बा पपीता गोल की तुलना में ज्यादा लाभ देता है। ज्यादा नरम पपीता खरीदने से बचना चाहिए। यदि आप पकाने की इच्छा रखते हैं, तो हरे पपीते खरीदें क्योंकि कच्चा हरा पपीता खाने योग्य नहीं होता| पीले पपीते को कमरे के तापमान पर पेपर में लपेट कर पका सकते हैं। संतरे और पके पपीते को फ्रिज करें और खरीदने के 2 से 3 दिनों के अंदर ही इसको खा लें|

  • यदि आप स्वाद चाहते हैं तो शाम के नाश्ते के लिए पपीते के फलों के सलाद पर नींबू का रस और शहद छिड़क सकते हैं।
  • अपने मेटाबोलिज्म में सुधार करने के लिए दोपहर के भोजन में पपीते को मिलाएं|
  • जहरीले पदार्थों से कालोन को साफ करने के लिए हरे पपीते को पकाएं
  • पपीते के काले बीजों को सुखाकर बैक्टीरिया के इन्फेक्शन से लड़ने में मदद करते हैं और खाने की विषाक्तता का इलाज करते हैं|

Papaya Facts in Hindi – पपीते के बारे में कुछ तथ्य

  • पपीता राष्ट्रीय महीना पूरी दुनिया में सितंबर में मनाया जाता है|
  • ‘मीट टेंडराइज़र’ के रूप में बेचा जाने वाला सफेद पाउडर मुख्य रूप से पपैन से बना होता है जो पपीते में प्रचुर मात्रा में पाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण एंजाइम है।
  • छोटे से पपीते में विटामिन-सी की दैनिक मात्रा का लगभग 300% होता है|
  • मलेरिया को ठीक करने के लिए कुछ देशों में पपीते की चाय का सेवन किया जाता है
  • पपीते का पौधा 1800 के दशक की शुरुआत में हवाई में पेश किया गया था|
  • जैसे दो प्रकार के पपीते की नस्लें होती हैं जैसे हवाईयन और मैक्सिकन|

निष्कर्ष

पपीते के फल के फायदे यह बताते हैं कि पपीते का एक छोटा कटोरा ले सकते हैं और विभिन्न बीमारियों को अलविदा कह सकते हैं और यहां तक कि उनके होने की संभावना को भी कम कर सकते हैं। आपके स्वास्थ्य पर इसके सकारात्मक प्रभाव पपीते के सेवन को दैनिक दिनचर्या बना देंगे| इसलिए पपीता खाएं|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 − 12 =