प्रेडनिसोलोन (Prednisolone in Hindi): उपयोग, खुराक, मूल्य, साइड इफेक्ट्स, सावधानियां

0
2542

prednisolone fayde nuksan in hindi

1प्रेडनिसोलोन क्या है?

प्रेडनिसोलोन एक ग्लुकोकोर्टिकोइड दवा है जिसमें प्रिडनिसोलोन मुख्य घटक के रूप में पाया जाता है| यह मुख्य रूप से एलर्जी, सूजन और प्रतिरक्षा संबंधी विकारों के लिए प्रयोग होता है|

2प्रेडनिसोलोन का उपयोग

इसका उपयोग कई विकारों को ठीक करने के लिए किया जाता है जिनमें निम्न हो सकते हैं

  • लुपस, सोरायसिस और एलर्जी की स्थिति।
  • संधिशोथ; किशोर पुरानी गठिया, पॉलीमेल्जिया संधिशोथ
  • ड्यूकेन मांसपेशी डिस्ट्रॉफी (एक प्रगतिशील बीमारी जिसमें मांसपेशियां ठीक से काम नहीं करती हैं)
  • अस्थमा, गंभीर अतिसंवेदनशीलता प्रतिक्रियाएं
  • प्रत्यारोपण सर्जरी (प्रतिरक्षा दमन के लिए)
  • पेम्फिगस, बुलस पेम्फिगोइड (प्रतिरक्षा-मध्यस्थ त्वचा रोग)
  • रक्त विकार जैसे ऑटोम्यून्यून हेमोलाइटिक एनीमिया, इडियोपैथिक थ्रोम्बोसाइटोपेनिक purpura
  • तीव्र और लिम्फैटिक ल्यूकेमिया, घातक लिम्फोमा, एकाधिक माइलोमा
इस दवा को खरीदें और 20% छूट प्राप्त करें: 1 एमजीफार्मइजी

3प्रेडनिसोलोन कैसे काम करता है

  • प्रेडनिसोलोन सूजन के शुरुआत से लेकर पुरानी सूजन के विकास के लिए एक प्रभावी अवरोधक है।
  • प्रेडनिसोलोन मोनोन्यूक्लियर कोशिकाओं (सूजन कोशिकाओं की विशेषता) के प्रसार और इन कोशिकाओं द्वारा सूजन पैदा करने वाले उत्पादों या पदार्थों की रिहाई को रोकता है – जिससे प्रतिरक्षा-दमनकारी क्रियाएं होती हैं।

4भारत में प्रेडनिसोलोन का मूल्य

100 रुपये में 100 गोलियों की स्ट्रिप

5प्रेडनिसोलोन कैसे लें

  • इस दवा की खुराक और इसे लेने का समय डॉक्टर द्वारा तय किया जाना चाहिए।
  • इसकी खुराक आयु, चिकित्सा की स्थिति और चिकित्सा के प्रति प्रतिक्रिया पर आधारित है।
  • प्रेडनिसोलोन गोलियों और सिरप के रूप में मिलता है।
  • इन गोलियों को सुबह के समय लेना चाहिए या जब तक डॉक्टर द्वारा सलाह ना दी जाए|
  • इन्हें रोजाना एक ही समय पर लेना चाहिए।
  • सिरप का उपयोग करने से पहले सिरप की बोतल को अच्छी तरह से हिला लें और सही खुराक लेने के लिए हमेशा मापने वाले चम्मच का उपयोग करें।
  • प्रेडनिसोलोन इंजेक्शन के रूप में भी मिलता है जिसे एक पेशेवर स्वास्थ्यकर्मी के द्वारा ही लगवाना चाहिए|
और पढो: पैंटोसिड डी.एस के फायदेपैंटोप-डी के फायदेपैंटोसेक के फायदे

6प्रेडनिसोलोन की सामान्य खुराक

इसकी खुराक आपकी हालत पर निर्भर होती है| वयस्कों के लिए इसकी खुराक रोजाना 20 से 40 मि.ग्रा. से 80 मि.ग्रा. तक है जिसे कम करके प्रतिदिन 5 से 20 मि.ग्रा. किया जा सकता है।

7प्रेडनिसोलोन से कब बचें?

आपको निम्न स्थितियों में प्रेडनिसोलोन का उपयोग नहीं करना चाहिए:

  • यदि इसके किसी से एलर्जी हो
  • रक्तचाप बढने पर
  • थ्रोम्बोम्बोलिक विकार
  • मधुमेह मेलिटस
  • ऑस्टियोपोरोसिस,
  • स्क्लेरोडर्मा,
  • मियासथीनिया ग्रेविस,
  • जिगर, गुर्दे, दिल, आंतों, एड्रेनल या थायराइड रोग।
  • हेपेटाइटिस-बी
  • हरपीस, आंख का संक्रमण, चिकनपॉक्स, शिंगल या खसरा।
  • मोतियाबिंद, आंख का रोग
  • भावनात्मक समस्याएं, अवसाद या मानसिक बीमारी के अन्य प्रकार
  • फेच्रोमोसाइटोमा (गुर्दे के पास एक छोटी ग्रंथि में ट्यूमर)
  • अल्सर
  • आपके पैरों, फेफड़ों या आंखों में खून का थक्का
  • यदि आप किसी भी सर्जरी या दांतों की सर्जरी से गुजर रहे हैं तो डॉक्टर को सूचित करें|
  • यदि आपको टीकाकरण की आवश्यकता है तो अपने डॉक्टर को सूचित करें।
  • मांसपेशियों की समस्याओं वाले मरीजों या पूर्व में प्रीनीसोलोन टैबलेट (या एक समान दवा) ले रहर हों तो डॉक्टर को सूचित करें|

8प्रेडनिसोलोन के दुष्प्रभाव?

  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के अचानक विघटन से एक स्टेरॉयड “विदड्राल सिंड्रोम” हो सकता है। इस सिंड्रोम की वजह से भूख, मतली, उल्टी, थकावट, सिरदर्द, बुखार, जोड़ों में दर्द, त्वचा का झड़ना, मांसपेशियों में दर्द या वजन घटना हो सकता है|
  • प्रेडनिसोलोन का लंबे समय तक प्रयोग करने से कुशिंग सिंड्रोम हो सकता है। इसके लक्षणों में रक्तचाप में वृद्धि, शरीर के चारों ओर मोटापे में वृद्धि और अंगों की पतली, त्वचा पर बैंगनी पट्टियां, चेहरे की गोलियां, मांसपेशियों की कमजोरी, पतली नाजुक त्वचा के साथ आसान और लगातार चोट लगाना आदि हैं|
  • इसके इलावा गर्दन के पिछले हिस्से पर वसा जमना, मुँहासे, मासिक धर्म चक्र में परेशानी, शरीर पर बाल और मनोवैज्ञानिक असामान्यताओं में वृद्धि होना भी है|
  • प्रेडनिसोलोन रक्त ग्लूकोज के स्तर को बढ़ा सकता है, पहले से मौजूद मधुमेह को बिगाड़ सकता है और मधुमेह विरोधी दवाओं के प्रभाव को भी कम कर सकता है। इसलिए नियमित अंतराल पर खून में ग्लूकोज की जांच करते रहना चाहिए|
  • प्रेडनिसोलोन शरीर में होने वाले संक्रमण के खतरे को बढ़ा सकता है जैसे वायरल, बैक्टीरिया, फंगल, प्रोटोज़ोन या हेल्मिंथिक आदि| यह संक्रमण के प्रतिरोध को कम करके मौजूदा संक्रमणों को खराब कर सकता है।
  • प्रेडनिसोलोन रक्तचाप को बढ़कर शरीर में नमक और पानी के प्रतिधारण को बढ़ा सकता है और शरीर से पोटेशियम और कैल्शियम के निकलने का कारण बन सकता है।
  • इससे गंभीर मनोवैज्ञानिक प्रतिकूल प्रतिक्रियाएं हो सकती हैं जैसे अक्रामकता, अवसाद, भावनात्मक विकार, अनिद्रा, मनोदशा बदलना, नींद के विकार आदि|
  • प्रेडनिसोलोन हड्डी के गठन और दोबारा जुड़ने दोनों को ही को कम कर सकते हैं|
  • प्रेडनिसोलोन आंखों की बीमारियों का कारण भी बन सकता है जैसे मोतियाबिंद, ग्लूकोमा, बैक्टीरिया, कवक या वायरस के कारण आंख का संक्रमण इत्यादि|
  • त्वचा पर गंभीर चकत्ते प्रेडनिसोलोन का एक अन्य दुष्प्रभाव है।
  • प्रेडनिसोलोन को लम्बे समय तक उपयोग करने से बच्चों के विकास पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। ऐसे मामलों में तुरंत डॉक्टर से सलाह लें|
और पढो: पैंटोप्राज़ोल के फायदेराबलेट-डी के फायदेप्राइमोलट-एन के फायदे

9अंगों पर प्रभाव

  • जिगर – जिगर के गंभीर रोगों वाले मरीजों में खुराक के समायोजन की जरूरत होती है।
  • गुर्दा – इसमें खुराक के समायोजन की कोई आवश्यकता नहीं है। यदि किसी प्रकार के अवांछित लक्षण पाए जाते हैं तो अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

10एलर्जी प्रतिक्रियाएं

यदि किसी भी सामग्री से एलर्जी हो तो अपने डॉक्टर से सम्पर्क करें| इससे होने वाली एलर्जी प्रतिक्रियाओं में त्वचा पर गंभीर चकत्ते, सांस की तकलीफ और खुजली इत्यादि हैं|

11दवा इंटरैक्शन के बारे में सावधानी

इंटरैक्शन करने वाली सभी दवाओं को यहां सूचीबद्ध नहीं किया जा सकता इसलिए प्रेडनिसोलोन निम्न दवाओं और उत्पादों के साथ प्रभाव डाल सकता हैं:

  • एस्पिरिन और अन्य नॉनस्टेरॉयड एंटी-इंफ्लैमेटरी ड्रग्स (NSAIDs) जैसे इबुप्रोफेन और नाप्रोक्सेन,
  • गर्भनिरोधक गोली
  • एंटीएसिड्स- एंटीएसिड्स के साथ इसे लेने के बीच में कम से कम 2 घंटे का अंतराल छोड़ दें।
  • क्लैरिथ्रोमाइसिन, रिफाबूटिन, रिफाम्पिसिन, एम्फोटेरिसिन, केटोकोनाज़ोल, टेट्रासाइक्लिन, फ्लुकोनाज़ोल
  • इंसुलिन सहित मधुमेह के लिए दवाएं,
  • फ़िनाइटोइन
  • थायराइड की दवा
  • वेरापामिल
  • उच्च रक्तचाप या मूत्रवर्धक दवाएं
  • मिर्गी का इलाज करने वाली दवाएं जैसे कि कार्बामाज़ेपाइन, फेनोबार्बिटल, बार्बिटेरेट्स, फेनीटोइन, प्राइमिडोन, फेनिलबूटज़ोन
  • मेथोट्रेक्सेट (गठिया के लिए, क्रोन रोग, छालरोग)
  • मिफेप्रिस्टोन (गर्भपात के लिए उपयोग किया जाता है)
  • सिक्लोपोरिन (अंग प्रत्यारोपण अस्वीकृति को रोकने के लिए)
  • एंटीकोगुलेंट दवाएं (खून पतला करने वाली के लिए प्रयोग किया जाता है)
  • एमिनोग्लुटाइथिमाइड, एसीटाज़ोलोमाइड, कार्बोक्सोलोन या सैलिसिलेट्स
  • रेटिनोइड्स (त्वचा की स्थितियों के लिए)
  • कार्बिमाज़ोल (हाइपरथायरायडिज्म के लिए)
  • थियोफाइललाइन (अस्थमा के लिए)

अपने द्वारा उपयोग की जाने वाली सभी दवाओं और उत्पादों की सूचना चिकित्सक को दें| जिन हर्बल उत्पादों का आप उपयोग कर रहे हैं उनके बारे में भी डॉक्टर को सूचित करें| बिना अपने डॉक्टर की मंजूरी के दवा संशोधित न करें|

12प्रभाव या परिणाम

इससे ठीक होने के लिए लिया गया समय चिकित्सा की स्थिति पर निर्भर करता है।

लक्षणों को पूरी तरह समाप्त करने के लिए अपने डॉक्टर द्वारा तय की गयी खुराक को पूरा लें|

अपने डॉक्टर से सलाह किए बिना दवा लेना बंद ना करें|

सामान्य प्रश्न

क्या प्रेडनिसोलोन नशे की लत है?

नहीं। लेकिन इन दवाइयों पर निर्भरता से बचना चाहिए।

क्या शराब के साथ प्रेडनिसोलोन ले सकते हैं?

प्रेडनिसोलोन लेने के दौरान अल्कोहल लेने से बचना चाहिए।

क्या किसी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?

प्रेडनिसोलोन लेने के दौरान अंगूर या अंगूर का रस ना लें|

क्या गर्भवती होने पर प्रेडनिसोलोन ले सकते हैं?

यदि आप गर्भवती हैं या गर्भवती होने की योजना बना रही हैं तो अपने डॉक्टर को इस बारे में बताएं| गर्भावस्था के दौरान प्रेडनिसोलोन को लंबे समय तक लेने से भ्रूण का विकास मंद हो सकता है। प्रेडनिसोलोन को केवल तभी लेना चाहिए जब मां और बच्चे को हानि ना हो।

क्या बच्चे को स्तनपान करने के दौरान प्रेडनिसोलोन ले सकते हैं?

50 मि.ग्रा. प्रतिदिन तक की खुराक शिशु पर प्रतिकूल प्रभाव नहीं डालती| यदि आप अपने बच्चे को स्तनपान करा रही हैं तो अपने डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही इस दवा का उपयोग करें|

क्या प्रेडनिसोलोन लेने के बाद ड्राइव कर सकते हैं?

यदि आप निम्न में से कुछ भी अनुभव हो तो इस दवा को लेकर ना तो वाहन चलाएं और ना ही भारी मशीनरी चलायें:

  • आलस्य
  • सरदर्द
  • चक्कर आना
  • रक्तचाप में वृद्धि

यदि प्रेडनिसोलोन अधिक मात्र में लें तो क्या होता है?

यदि आपने प्रेडनिसोलोन अधिक मात्रा में ली है तो तुरंत अपने डॉक्टर को सूचित करें।

यदि एक्सपायरी हो चुकी प्रेडनिसोलोन लें तो क्या होता है?

एक्सपायरी हो चुकी एक खुराक लेने से कोई बड़ा प्रतिकूल प्रभाव नहीं हो सकता लेकिन दवा की शक्ति कम हो सकती है इसलिए आपको हमेशा एक्सपायरी दवा की जांच करें और कभी भी उपयोग ना करें|

यदि प्रेडनिसोलोन की खुराक लेनी याद ना रहे तो क्या होता है?

प्रभावी रूप से काम करने के लिए हर समय आपके शरीर में दवा की एक निश्चित मात्रा का होना जरूरी है| इसलिए जैसे ही आपको याद आये हमेशा अपनी भूली हुई खुराक लें| यदि दूसरी खुराक का पहले से ही समय हो गया हो तो दुगुनी खुराक ना लें|

13प्रेडनिसोलोन का भंडारण

  • इसे कमरे के तापमान पर सीधे प्रकाश और गर्मी से 25 डिग्री सेल्सियस से नीचे रखें।
  • इस दवा को फ्रिज में न रखें|
  • बोतल खोलने के 1 महीने के बाद तक प्रेडनिसोलोन ओरल सस्पेंशन को खुला न छोड़ें।

14प्रेडनिसोलोन लेते समय टिप्स

  • प्रेडनिसोलोन संक्रामक रोगों को विकसित करने के लिए आपकी संवेदनशीलता को बढ़ा सकता है| इसलिए संक्रामक बीमारियों से पीड़ित लोगों को इससे दूर रहना चाहिए।
  • प्रेडनिसोलोन का उपयोग अचानक या डॉक्टर की सलाह के बिना कभी नहीं रोकना चाहिए।
  • प्रेडनिसोलोन का उपयोग करने के दौरान अतिरिक्त पूरक खुराक लेना जरूरी है जैसे तनाव के समय, शल्य चिकित्सा या संक्रमण के दौरान
  • लंबी समय तक कॉर्टिकोस्टेरॉयड थेरेपी लेने वाले मरीजों को नियमित रूप से नियमित अंतराल पर प्रयोगशाला अध्ययन (2 घंटे के पोस्टप्रैन्डियल ब्लड ग्लूकोज और सीरम पोटेशियम सहित), रक्तचाप, वजन, और छाती का एक्स-रे इत्यादि करवाने चाहिए।
  • प्रेडनिसोलोन का लंबे समय तक उपयोग हड्डी के खनिज घनत्व को कम करता है और आंखों पर भी प्रभाव डाल सकता है। इसलिए नियमित रूप से हड्डी के खनिज घनत्व की परीक्षा और नियमित आंखों की परीक्षा करवाते रहना चाहिए।
  • बाल रोगियों के विकास पर नजर रखें|

प्रेडनिसोलोन का लंबे समय तक उपयोग करने के दौरान हमेशा हाइपोथालेमिक-पिट्यूटरी-एड्रेनल (एचपीए) एक्सिस सप्रेशन, कुशिंग सिंड्रोम की भी निगरानी करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × 5 =