Progressive brain damage (Parkinson's disease)

पार्किंसंस रोग (पीडी) एक प्रगतिशील विकार है जो शरीर में गति लाने वाली दिमाग के नर्व सेल्स को प्रभावित करता है। जब डोपामाइन से बने हुए न्यूरॉन्स मर जाते हैं तो कांपना, धीमापन, कठोरता और संतुलन की समस्याएं होती हैं।

ऐसा माना जाता है कि हर 500 ​​लोगों में से 1 लोग पार्किंसंस रोग से प्रभावित होता है जिसका मतलब है कि यू.के. में लगभग 127,000 लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं|

पार्किंसंस के लक्षण 50 से ज्यादा की उम्र होने पर विकसित होने शुरू होते हैं लेकिन इस स्थिति में 20 में से 1 लोग पहली बार 40 वर्ष से कम उम्र में इसके लक्षणों का अनुभव करता है।

पुरुषों में महिलाओं की तुलना में पार्किंसंस रोग होने की संभावना ज्यादा होती है।

पार्किंसंस अक्सर एक हाथ कानोने से शुरू होता है। अन्य लक्षण धीमी गति से चलते हैं जैसे  कठोरता और संतुलन का नुकसान।

पार्किंसंस की बीमारी शरीर को कैसे प्रभावित करती है?

पार्किंसंस रोग एक ऐसी स्थिति है जिसमें दिमाग के कुछ हिस्से कई वर्षों में खराब हो जाते हैं। सेंट्रल नर्वस सिस्टम दिमाग और रीढ़ की हड्डी से बना होता है। जब किसी व्यक्ति को पार्किंसंस रोग होता है तो मस्तिष्क के एक हिस्से में डोपामाइन बनाने वाली कोशिकाएं मर जाती हैं। डोपामाइन कोशिकाएं अन्य कोशिकाओं को जानकारी भेजती हैं जिसे हम काम करते हैं| इस वजह से पार्किंसंस रोग मुख्य रूप से शरीर की मोटर प्रणाली को प्रभावित करता है

पार्किंसंस रोग के कारण क्या हैं?

इसके आम कारणों में निम्न हो सकते हैं –

  • जेनेटिक्स – पार्किंसंस रोग को विकसित करने के खतरे को बढ़ाने के लिए कई जेनेटिक कारकों भी होते हैं| पार्किंसंस रोग अपने माता-पिता द्वारा बच्चे को दोषपूर्ण जीन पास करने के कारण परिवारों में हो सकता है।
  • पर्यावरण कारक – कुछ शोधकर्ता यह भी महसूस करते हैं कि पर्यावरणीय कारक भी पार्किंसंस रोग के खतरे को बढ़ा सकते हैं। यह सुझाव दिया गया है कि खेती, यातायात या औद्योगिक प्रदूषण में उपयोग की जाने वाली कीटनाशक और जड़ी-बूटियां इस स्थिति में योगदान दे सकती हैं। , Parkinson रोग के लिए पर्यावरणीय कारकों को जोड़ने सबूत अनिश्चित है।
  • दवा – जहां कुछ दवाएं लेने के बाद लक्षण विकसित होते हैं वैसे ही कुछ प्रकार की एंटीसाइकोटिक दवाएं हैं और आमतौर पर दवा बंद करने के बाद बेहतर होती है।
  • सेरेब्रोवास्कुलर बीमारी – जहां छोटे-छोटे स्ट्रोक की एक श्रृंखला मस्तिष्क के कई हिस्सों के मरने का कारण बनती है।

पार्किंसंस रोग के खतरे के कारक क्या हैं?

इसके सामान्य खतरों के कारकों में निम्न हो सकते हैं:

  • लिंग – महिलाओं की तुलना में पीडी की घटनाएँ पुरुषों में अधिक आम है। पी.डी वाले पुरुषों और महिलाओं में मतभेदों के कारण अस्पष्ट हैं| पुरुषों और महिलाओं में पीडी के बीच के अंतर को समझने के लिए अन्य सिद्धांतों में मामूली सिर के आघात की उच्च दर भी शामिल हैं।
  • आयु – बढती हुई उम्र पी.डी के लिए एक अन्य खतरे का कारक है, क्योंकि उम्र के साथ पीडी की घटनाएँ भी बढ़ जाती है। पी.डी 60 वर्ष से ज्यादा की उम्र वालों में से 1% को प्रभावित करता है और 85 वर्ष से अधिक की उम्र वालो की 5% तक बढ़ जाती है।
  • नस्ल – कई अध्ययनों से पता चला है कि पीले, काले या एशियाई लोगों की तुलना में सफेद लोगों यह में ज्यादा आम है। लेकिन पीडी की सबसे ज्यादा घटनाएं हिसपैनिकस में मिलती हैं, इसके बाद एंटी-हिस्पैनिक सफेद, एशियाई और काले रंग के होते हैं।
  • पारिवारिक इतिहास और जेनेटिक – पीडी के लगभग 15% उन लोगों को यह बीमारी होती है जिनके किसी रिश्तेदार ये हो| जबकि पीडी के कुछ मामले परिवारों में होते हैं, 85% मामले स्पोरैडिक होते हैं, जिसका मतलब यह है कि वे एक मान्यता प्राप्त इनहेरिटेड जेनेटिक प्रेडिसपोजीशन के बिना होते हैं|
  • हेड ट्रामा – सिर, गर्दन या ऊपरी सर्वाइकल रीढ़ की हड्डी में चोट की वजह से भी पीडी के खतरे  में बढ़ोतरी होती है। कई अध्ययनों ने सिर में चोट और बीमारी के विकास के खतरे में बढ़ोतरी के बीच लिंक दिखाई दिया है।
  • पर्यावर्णीय कीटनाशक – ग्रामीण जीवन पीडी के लिए खतरा हो सकता है लेकिन शहरों में भी यह उतना ही फैलता है| पीडी और अल्जाइमर रोग सहित कई न्यूरोलॉजिकल स्थितियों का विकास होता है।

पार्किंसंस रोग के लक्षण क्या हैं?

पार्किंसंस रोग के तीन मुख्य लक्षण हैं:

  • शरीर के विशेष भागों का बिना इच्छा के हिलना
  • धीमी चाल
  • कठोर और लचीली मांसपेशियां

अन्य आम लक्षणों में निम्न हो सकते हैं:

  • डिप्रेशन और चिंता
  • संतुलन की समस्याएं – इससे गिरने का खतरा बढ़ सकता है
  • सूंघने की भावना का नुकसान (एनोमिया)
  • अनिद्रा
  • मेमोरी रिटार्डेशन

पार्किंसंस रोग को कैसे पहचाना जाता है?

इसके लिए कोई निश्चित परीक्षण नहीं है। आपका डॉक्टर आपके लक्षणों, चिकित्सा इतिहास और शारीरिक परीक्षा के आधार पर इसकी पहचान करता है|

पार्किंसंस रोग को कैसे रोकें और नियंत्रित करें?

पार्किंसंस रोग को रोकने की कोई विधि नहीं है लेकिन तनाव को कम करने से इसके खतरे को  कम किया जा सकता है। हरी चाय पीना, कार्बनिक, स्थानीय सब्जियां और नियमित एरोबिक व्यायाम करने से तनाव से होने वाले नुकसान में काफी कमी आती है।

पार्किंसंस रोग का एलोपैथिक उपचार –

इसकी सामान्य दवाएं हैं:

  • लेवोडोपा – पार्किंसंस रोग में ज्यादातर लोगों को लेवोडोपा नामक दवा की जरूरत होती है। लेवोडोपा मस्तिष्क में तंत्रिका कोशिकाओं द्वारा सोख ली जाती है और रासायनिक डोपामाइन में बदल जाती है, जिसका उपयोग मस्तिष्क के हिस्सों को नियंत्रित करने वाली नसों के बीच संदेशों को भेजने के लिए किया जाता है। लेवोडापा का उपयोग करके डोपामाइन के स्तर को बढ़कर  इन समस्याओं को सुधारा जाता है।
  • डोपामाइन एगोनिस्ट्स – डोपामाइन एगोनिस्ट मस्तिष्क में डोपामाइन के एक विकल्प के रूप में काम करते हैं और लेवोडोपा की तुलना में इन पर हल्का प्रभाव पड़ता है। इन्हें अक्सर लेवोडापा से कम दिया जा सकता है। इनकी सिर्फ एक टैबलेट डी जाती है, लेकिन त्वचा के पैच (रोटिगोटीन) के रूप में भी ये मिलते हैं।
  • मोनोमाइन ऑक्सीडेस-बी अवरोधक – मोनोमाइन ऑक्सीडेस-बी (एमएओ-बी) अवरोधक, जिनमें सेलेगिलिन और रसगिलिन होते हैं, प्रारंभिक पार्किंसंस रोग के इलाज के लिए लेवोडापा की जगह पर एक और विकल्प है। ये एंजाइम मस्तिष्क में इस के प्रभाव में रुकावट डालते हैं जो डोपामाइन (मोनोमाइन ऑक्सीडेस-बी) को तोड़ते हैं और डोपामाइन के स्तर को बढ़ते हैं। सेलेगिलिन और रसगिलिन दोनों पार्किंसंस रोग के लक्षणों में सुधार कर सकते हैं लेकिन इनका प्रभाव लेवोडापा के मुकाबले कम होता है।
  • कैटेचोल-ओ-मेथिलट्रांसफेरस इन्हिबिटर्स – यह पार्किंसंस रोग के बाद के चरणों में लोगों के लिए तय किए जाते हैं। वे एंजाइम लेवोडोपा को तोड़ने से रोकते हैं। जब पार्किंसंस के लक्षण अकेले गोलियों के साथ नियंत्रण किये जाते हैं। इसमें निम्न हो सकते हैं:
  • एपोमोर्फिन – यह एक डोपामाइन एगोनिस्ट है जिसे त्वचा के नीचे इंजेक्शन के रूप में दिया जाता है|
  • डुओडोपा – यह दवा एक जेल के रूप में काम करती है जो पेट की दीवार के माध्यम से डाली गई ट्यूब के माध्यम से लगातार आंत में पंप हो जाती है। यह ट्यूब के अंत से जुड़ा बाहरी पंप है जिसे आप अपने साथ ले जाते हैं।
  • सर्जरी – पार्किंसंस रोग का ज्यादातर लोगों में दवा से इलाज किया जाता है लेकिन कुछ मामलों में डीप ब्रेन स्टीमुलेशन नामक एक प्रकार की शल्य चिकित्सा का उपयोग किया जाता है।

पार्किंसंस रोग का होम्योपैथिक उपचार –

  • कास्टिकम: अत्यधिक कठोरता वाले पार्किंसंस रोग के लिए
  • जेल्सिमियम सेम्पर्वायरन्स: हाथों के हिलने वाला पार्किंसंस रोग के लिए
  • प्लंबम मेटालिकम: गति में धीमेपन वाले पार्किंसंस रोग के लिए
  • मर्कुरिउस सोलुबिलिस: हाथों के जोरदार कांपने वाले पार्किंसंस रोग के लिए
  • जिंकम मेटालिकम: पार्किंसंस रोग में हाथों का कांपना, पैर का लगातार हिलना
  • अर्जेंटीम नाइट्रिकम: पार्किंसंस रोग में नियंत्रण की कमी और हाथों का कांपना

पार्किंसंस रोग – जीवन शैली के टिप्स

  • पर्याप्त आराम प्राप्त करें – हर रात लगभग 8 घंटे सोने की कोशिश करें। ताज़ा रहने के लिए दिन के समय 1 से 2 बार झपकी लें| यदि शरीर में पैर का सिंड्रोम, तेजी से आंख की हरकत, कांपना या रात में बिस्तर में पलटने में मुश्किल जैसे लक्षण हों तो अपने डॉक्टर से सलाह लें|
  • संतुलित आहार खाएं – स्वस्थ आहार के बारे में जानने के लिए अपने आहार विशेषज्ञ से सलाह लें। अच्छा भोजन ज्यादा ऊर्जा देता है और पार्किंसंस रोग के लक्षणों का प्रबंधन करने में आपकी सहायता करता है। बाद में बीमारी की वजह से निगलने में कठिनाई के कारण आपके आहार में बदलाव किए जा सकते हैं। कुपोषण पार्किंसंस रोग के लक्षणों को और खराब कर सकता है।

नियमित रूप से व्यायाम – व्यायाम के कारण कई लाभ प्रदान के लाभ हो सकते हैं जैसे कि:

  • बढ़ती हुई ताकत
  • सहनशक्ति में सुधार
  • कठोरता में कमी
  • लचीलेपन में सुधार
  • बीमारी के बढने में देरी

स्पीच थेरेपी प्रोग्राम में भाग लें – स्पीच थेरेपी उन लोगों में उपयोगी हो सकती है जिनको बोलने में दिक्कत होती है।

तनाव का प्रबंधन करें – तनाव पार्किंसंस रोग के लक्षणों को और खराब करने के लिए जाना जाता है। तनाव प्रबंधन सीखने से आपके लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

पार्किंसंस रोग वाले व्यक्ति के लिए क्या व्यायाम हैं?

  • जब किसी को चोट, बीमारी या विकलांगता होती है तो फिजियोथेरेपी उनके काम को बहाल करने में मदद करती है। यह भविष्य में चोट या बीमारी के खतरे को कम करने में भी मदद करती है।
  • मांसपेशियों में कठोरता से आराम, मनोदशा में सुधार और तनाव से मुक्त होने में मदद करने के लिए नियमित व्यायाम विशेष रूप से महत्वपूर्ण होता है।
  • टेनिस और साइकलिंग जैसे सक्रिय खेल से लेकर चलने, बागवानी और योग जैसी गतिविधियां आपको फिट रखने में मदद कर सकती हैं।
  • संतुलन और समन्वय एक ऐसी समस्या है जिसे आपका डॉक्टर गिरावट की रोकथाम के बारे में जानकारी दे सकता है।

पार्किंसंस रोग और गर्भावस्था – जाने योग्य चीजें

गर्भावस्था में पार्किंसंस रोग (पीडी) नहीं होता फिर भी मां और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य का ध्यान रखना महत्वपूर्ण है।

गर्भावस्था में उपयोग के लिए लेवोडोपा का सबसे सुरक्षित होती है और गर्भवती महिलाओं या गर्भवती होने की कोशिश करने वाली महिलाओं में अमाटाडाइन देने से बचना चाहिए। अन्य औषधीय और शल्य चिकित्सा उपचार का डेटा कम है।

पार्किंसंस रोग से संबंधित सामान्य परेशानियाँ

इससे होने वाली सामान्य परेशानियों में निम्न हो सकती हैं:

  • सोचने में कठिनाई – आप (डिमेंशिया) और सोचने की कठिनाइयों का अनुभव कर सकते हैं। ये आमतौर पर पार्किंसंस रोग के बाद के चरण होते हैं।
  • डिप्रेशन और भावनात्मक परिवर्तन – कभी-कभी शुरुआत में आपको डिप्रेशन का अनुभव होता है। डिप्रेशन के उपचार के लिए पार्किंसंस रोग की अन्य चुनौतियों को संभालना आसान हो सकता है। यदि आप भावनात्मक परिवर्तनों का अनुभव करते हैं तो डॉक्टर इन लक्षणों के इलाज के लिए आपको दवा दे सकते हैं।
  • निगलने की समस्याएं – आपकी खराब हालत बढ़ने से निगलने में मुश्किल हो सकती है। धीरे-धीरे निगलने के कारण लार आपके मुंह में जमा हो सकता है, जिससे डोलिंग हो जाती है।
  • चबाने और खाने की समस्याएं – लेट-स्टेज पार्किंसंस की बीमारी मुंह में मांसपेशियों को प्रभावित करती है, जिससे चबाने में मुश्किल होती है।
  • नींद की समस्याएं – पार्किंसंस रोग वाले लोगों में अक्सर नींद की समस्या होती है, जिसमें रात भर बार-बार जागना, दिन के दौरान जल्दी उठना या सोना शामिल है। दवाएं ही आपकी नींद की समस्याओं में मदद कर सकती हैं।
  • मूत्राशय की समस्याएं – पार्किंसंस की बीमारी मूत्राशय की समस्याओं का कारण बन सकती है, जिसमें पेशाब को नियंत्रित करने में असमर्थ होना या पेशाब करने में कठिनाई होना शामिल हैं|
  • कब्ज – धीमे पाचन तंत्र के कारण पार्किंसंस रोग से कई लोगों को कब्ज हो जाती है|

सामान्य प्रश्न

क्या पार्किंसंस परिवारों में फैलता है?

पार्किंसंस रोग से व्यक्ति में खतरे को बढ़ाने के लिए कई अनुवांशिक कारकों को दिखाया गया है, हालांकि वास्तव में ये कुछ लोगों को इस स्थिति के लिए ज्यादा संवेदनशील बनाते हैं। पार्किंसंस रोग माता-पिता द्वारा बच्चे को दोषपूर्ण जीन पास करने से परिवारों में फैलता है।

क्या आपको पार्किंसंस रोग से दर्द होता है?

दर्द होना एक आम बात होती है लेकिन 75 प्रतिशत लोगों को अपनी बीमारी के दौरान असुविधा का अनुभव हो सकता है। दुर्भाग्यवश इन लक्षणों को अक्सर पहचाना जाता है|

क्या पार्किंसंस रोगी बहुत सोते हैं?

पार्किंसंस के रोगियों को बीमारी और दवाओं के इलाज के कारण नींद आने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। रात के दौरान सोने में कठिनाइयों से दिन की नींद आ सकती है, और दवाएं भी सूजन पैदा कर सकती हैं

📢 Hungry for more deals? Visit CashKaro stores for best cashback deals & online products to save up to ₹15,000 per month. Download the app - Android & iOS to get free ₹25 bonus Cashback!
Previous articleVideocon D2H Sports Packs – Best Videocon D2H Sports Plans & Packages in India
Next articlePolycystic Ovary Syndrome (PCOD, PCOS) in Hindi पीकॉस (पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम): लक्षण, कारण, डायगनोसिस और उपचार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 + 1 =