Punarnavadi Mandoor in Hindi पुनर्नवादि मंडूर: लाभ, उपयोग, खुराक और साइड इफेक्ट्स

0
143955

Punarnavadi Mandoor ke fayde in Hindi पुनार्नावादी मंडूर: लाभ, उपयोग, खुराक और साइड इफेक्ट्स

What is Punarnavadi Mandoor in Hindi – पुनर्नवादि मंडूर क्या है?

पुनर्नवादि मंडूर एक आयुर्वेदिक औषधि है जिसका उपयोग शरीर में आयरन के स्तर को बढ़ाने के लिए किया जाता है। यह एनीमिया, पीलिया, हेपेटाइटिस, कोलाइटिस, गठिया जैसे रोगों का इलाज करने में मदद करता है। इसमें होग्वीड (पुनर्नवा), सूखी अदरक, ट्रिविट, काली मिर्च, लंबी काली मिर्च, देवदार, हल्दी, हरीतकी, बिभीत्की, आंवला, कैरम और कैरावे सहित कई तत्व होते हैं। ये सारी चीज़ें स्वस्थ शरीर और स्वस्थ दिमाग में योगदान करती हैं। इस दवा के लाभों के बारे में जानने के लिए आगे पढ़ें।


Benefits of Punarnavadi Mandoor in Hindi – पुनर्नवादि मण्डूर के फायदे

जैसा कि पुनर्नवादि मंडूर कई महत्वपूर्ण सामग्रियों का एक पॉली हर्बल रूप है जिसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं। इनमे से कुछ नीचे दिए गये हैं:—

जिगर की समस्याएं

अध्ययनों से यह पता चला है कि पुनर्नवादि मंडूर का सेवन करने से हेपेटोसाइट्स या जिगर की कोशिकाओं के बनने से जिगर की खराबी ठीक हो जाती है। यह लीवर की कोशिकाओं में फैट के इकठ्ठे होने को भी कम करता है जो कि फैटी लिवर जैसे रोगों और फॉस्टर लिवर के कार्य को रोकता है।

आयरन की कमी को रोकता है

यह मुख्य रूप से आयरन की कमी को रोकने के लिए दी जाती है। पुनर्नवादि मंडूर को नियमित रूप से लेने  से हीमोग्लोबिन के स्तर में सुधार होता है और एनीमिया, क्रोनिक कोलाइटिस, वर्म के इन्फेक्शन आदि रोगों की घटना को कम किया जा सकता है।

हृदय संबंधी विकार

इसकी कार्डियो प्रोटेक्टिव प्रॉपर्टी ड्यूरेसिस को बढ़ावा देती है और फ्लूड रिटेंशन को खत्म कर देती है जो बदले में दिल से जुड़ी बीमारियों को कम करता है। यह पंपिंग की दर को बढ़ाकर हार्ट फेल होने से रोकता है, जिससे आपका दिल स्वस्थ रहता है।

गुर्दे से संबंधित समस्याएं

यह अपने औषधीय गुणों के कारण किडनी के काम को बढ़ा देता है और किडनी को फूलने से रोकता है जो कि किडनी से संबंधित सबसे अधिक समस्याओं में से एक है।

महिलाओं के लिए लाभ

एक महिला मासिक धर्म के दौरान लगभग 10 मि.ली. से 35 मि.ली. खून खो देती है। पुनर्नवादि मंडूर का सेवन करने से शरीर में आयरन के बनने की क्षमता में सुधार करता है जिससे महिलाओं को शीघ्र स्वस्थ होने में मदद मिलती है।


Uses of Punarnavadi Mandoor in Hindi – पुनर्नवादि मंडूर के उपयोग

पुनर्नवादि मंडूर में बहुत से उपयोग और लाभ हैं जो कई समस्याओं का हल कर सकते हैं। कुछ सर्वोत्तम उपयोग नीचे सूचीबद्ध हैं:

हेमेटोजेनिक प्रकृति

पुनर्नवादि मंडूर विशेष रूप से आयरन टॉनिक के रूप में उपयोग किया जाता है क्योंकि इसमें आयरन ऑक्साइड होता है। इसके हेमेटोजेनिक गुण लाल रक्त कोशिकाओं (आरबीसी) बनाते हैं जो मासिक धर्म चक्र के दौरान खोए हुए खून की मात्रा को कम करने में मदद करता है और एनीमिया, जलोदर, पुराने बुखार जैसी समस्याओं से बचाता है।

एंटी इंफ्लेमेटरी

इसका उपयोग इसके तीव्र रूप में त्वचा की सूजन को ठीक करने के लिए भी किया जाता है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो त्वचा को ठंडा करने में मदद करती है। 1 से 2 महीने के लिए इसका उपयोग करना अच्छे परिणाम देता है|

आयुर्वेदिक दवा

इसमें शुंती, मरिचा, पुर्नवा, त्रिवृत, दंती, अमलकी आदि आयुर्वेदिक तत्व पाए जाते हैं जो पीलिया, बवासीर, पुराने बुखार, मलबासर्शन सिंड्रोम जैसे रोगों से लड़ने में बहुत प्रभावी तरीके से मदद करता है।


How To Use Punarnavadi Mandoor in Hindi – पुनर्नवादि मंडूर का उपयोग कैसे करें?

पुनर्नवादि मंडूर में उच्च गुणवत्ता वाले प्राकृतिक तत्व होते हैं जो विभिन्न प्रकार के स्वास्थ्य मुद्दों को पूरा करते हैं। पुनर्नवादि मंडूर का सेवन छाछ, गुड़ या दूध के साथ किया जा सकता है। हर रोज़ 500 मि.ग्रा. से ज्यादा का सेवन न करें। पुनर्नवादि मंडूर के सेवन से संबंधित कुछ प्रश्न नीचे दिए गए हैं:

क्या इसका सेवन भोजन से पहले या बाद में किया जा सकता है?

पुनर्नवादि मंडूर एक आयुर्वेदिक दवा है जिसका सेवन भोजन करने से पहले या बाद में किया जाना चाहिए। इसे डॉक्टर द्वारा तय किये अनुसार 500 मि.ग्रा. से 1 ग्रा. के अनुपात में लेना चाहिए।

क्या पुनर्नवादि मंडूर को खाली पेट लिया जा सकता है?

भोजन के बाद पानी, छाछ या गुड़ के साथ इसका सेवन करना सबसे फायदेमंद है।

क्या पुनर्नवादि मंडूर को पानी के साथ लिया जा सकता है?

हाँ। पुनर्नवादि मंडूर पानी के साथ लेने पर प्रभावी होता है। इसका सेवन छाछ या गुड़ के साथ भी लिया जा सकता है।


Punarnavadi Dosage in Hindi – पुनर्नवादि की खुराक

इसका उपयोग शरीर में आयरन के स्तर को बढ़ाता है। पुनर्नवादि मंडूर को रोगी की समस्या की ऊंचाई, आयु, वजन और गंभीरता जैसे कारकों को ध्यान में रखते हुए निर्धारित किया गया है।

आयु मात्रा समय
वयस्क 500 मि.ग्रा. से  1 ग्रा. भोजन के बाद
बच्चे अधिकतम 250 मि.ग्रा. एक दिन में

 

 

भोजन के बाद

 

इसका सेवन भोजन से पहले किया जाता है लेकिन यह सबसे अच्छा काम तब करता है जब इसका सेवन भोजन के बाद किया जाता है।

इसे सबसे प्रभावी बनाने के लिए, इसे पानी, छाछ या गुड़ के साथ लेना चाहिए।

Also See: Shatavari Churan के फायदेShatavari Kalpa के फायदे

Side Effects of Punarnavadi Mandoor in Hindi – पुनर्नवादि मंडूर के साइड इफेक्ट्स

पुनर्नवादि मंडूर कई बीमारियों से निपटने के लिए उपयोगी है। इसके सेवन से कोई दुष्प्रभाव नहीं हैं। लेकिन कुछ मामलों में इसके तत्वों के कारण इसका कुछ लोगों पर निम्न तरीकों से प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है:

  • उच्च रक्तचाप: उच्च रक्तचाप से पीड़ित रोगियों में रक्तचाप में वृद्धि देखी जा सकती है जो तनाव, अपर्याप्त नींद, थकान जैसे कई कारकों का परिणाम है।
  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल प्रभाव: यह पाचन तंत्र में रुकावट या अत्यधिक गैस का कारण हो सकता है  जिससे गैसट्रोइंटेस्टिनल समस्याएं हो सकती हैं।
  • पुनर्नवादि मंडूर को लेने से कई अन्य दुष्प्रभाव जैसे रेस्पिरेटरी अरेस्ट, ऑप्टिक अट्रोफी, मतली, पेट में जलन, खुजली, खराश आदि होते हैं।

ऊपर पूरी सूची नहीं है। ये पुनर्नवादि मंडूर के कुछ सबसे ज्यादा ध्यान देने लायक दुष्प्रभाव हैं जो ज्यादातर लोगों में देखे जाते हैं। ऊपर बताये गये दुष्प्रभावों से ज्यादा और भी कई हो सकते हैं जो मेटाबोलिज्म पर डिपेंड होता है।

Read more: dabur gulabari rose water ke faydehimalaya punarnava ke fayde |  punarnava powder ke fayde

Precautions and Warnings of Punarnavadi Mandoor in Hindi – पुनर्नवादि मंडूर से बचाव और चेतावनी

क्या गाड़ी चलाने से पहले इसका सेवन किया जा सकता है?

ज्यादातर रोगियों को यह प्रभावित नहीं करता लेकिन यदि किसी को उनींदापन, सिरदर्द आदि हों तो डॉक्टर को बताएं|ऐसी स्थिति में ड्राइव करने से पहले पुनर्नवादि मंडूर ना लें|

क्या इसे शराब के साथ लिया जा सकता है?

नहीं, शराब शरीर में उनींदापन लाती है जो किसी पर भी निगेटिव प्रभाव डालती है। इसलिए इस दवा को शराब के साथ नहीं लिया जाना चाहिए।

क्या इसकी लत लग सकती है?

नहीं, इसकी तय की गयी मात्रा में लेने से नशा नहीं होता| यह आयुर्वेदिक तत्वों से भरपूर है|

क्या यह मदहोश कर सकता है?

पुनर्नवादि मंडूर लेने वाले दुष्प्रभावों में से एक उनींदापन है। यदि आपको किसी भी प्रकार की परेशानी हो तो तुरंत अपने डॉक्टर को सूचित करें|

क्या पुनर्नवादि मंडूर को ज्यादा मात्रा में ले सकते हैं?

नहीं, अधिक मात्रा में इसे लेने से आपकी बीमारी ठीक नहीं होगी। बल्कि यह गंभीर दुष्प्रभाव को जन्म देता है| इसलिए आयुर्वेदिक डॉक्टर द्वारा तय की गयी मात्रा से ज्यादा इस दवा को नहीं लेना चाहिए।

Also See: Punarnavarishta के फायदेSeptilin के फायदेShankhpushpi के फायदे

8 Important Questions Asked About Punarnavadi Mandoor in Hindi – पुनर्नवादि मंडूर के बारे में पूछे गए महत्वपूर्ण सवाल

यह किस चीज से बना है?

यह काली मिर्च, चित्रक मूल, वैदिंग, सोंठ, आंवला, दंती की जड़ें, कुटकी, मस्ताक, काला जीरा जैसी हर्बल सामग्री से बना है। इन सभी चीज़ों का मेल इसे एक रोग से लड़ने वाली दवा बनाता है।

भंडारण?

इसे कमरे के तापमान पर और सूखी जगह पर रखा जाना चाहिए। एक बार खोलने के बाद इसे बच्चों की पहुंच से दूर रखें|

जब तक हालत में सुधार ना दिखे क्या तब तक पुनर्नवादि मंडूर का उपयोग करने की जरूरत है?

आम तौर पर यह आयुर्वेदिक दवा पूरी तरह से 4 से 8 हफ्ते में परिणाम दिखाना शुरू कर देती है। इस दवा को नियमित रूप से लेना चाहिए और इसे तय की गयी मात्रा में ही लेना चाहिए।

पुनर्नवादि मंडूर को दिन में कितनी बार लेने की जरूरत है?

इसे दिन में दो बार लेना चाहिए। यह सबसे अच्छा काम तब करता है जब इसे गुनगुने पानी और भोजन के बाद लिया जाता है| इसे दिन में 2 से 3 ग्रा. से ज्यादा नहीं लेना चाहिए|

क्या इसका स्तनपान पर कोई असर पड़ता है?

हाँ, यदि आप स्तनपान करा रही हैं तो पुनर्नवादि को लेना उचित नहीं है। इसका दुष्प्रभाव आपको थका हुआ महसूस कराता है।

क्या यह बच्चों के लिए सुरक्षित है?

यह बच्चों के लिए सुरक्षित माना जाता है। लेकिन बच्चों को इसे तय की गयी मात्रा में ही दिया जाना चाहिए| यदि इसे तय की गयी मात्रा से ज्यादा दिया जाता है तो कई नकारात्मक प्रभाव को जन्म दे सकता है।

क्या गर्भधारण पर इसका कोई असर पड़ता है?

यह गर्भवती या स्तनपान कराने वाली माताओं पर नेगेटिव प्रभाव डाल सकता है क्योंकि यह रक्तचाप को बढ़ा सकता है| कुछ मामलों में यह सिरदर्द या मरोड़ पैदा कर सकता है। इसलिए गर्भवती महिलाओं के लिए यह उचित नहीं है।

क्या इसमें शुगर होती है?

हाँ, इसमें चीनी होती है और इस प्रकार यह मधुमेह से पीड़ित रोगियों के लिए सही नहीं है।

Read more: punarnavadi guggulu ke faydedabur gripe water ke fayde | dabur chyawanprashke fayde

Buyers Guide – Price and Where to Buy Punarnavadi Mandoor in Hindi – खरीदने के लिए गाइड – मूल्य और पुनर्नवादि मंडूर कहाँ से खरीदें

पुनर्नवादि मंडूर 20 ग्रा. (2 का पैक)

सबसे अच्छी कीमत

218 रुपये

बैद्यनाथ पुनर्नवादि मंडूर (2 का पैक)

सबसे अच्छी कीमत

143 रुपये


Research about Punarnavadi Mandoor in Hindi – पुनर्नवादि मंडूर के बारे में शोध

एक अध्ययन से पता चलता है कि इस दवा ने एनीमिया के रोगियों में मुख्य शिकायतों, संबंधित लक्षणों, धातू की क्षय और अग्निबल, देहा बल और सत्व बल में अत्यधिक महत्वपूर्ण परिणाम दिए हैं। इसने रोगियों के जीवन की गुणवत्ता में भी सुधार किया है।


ब्रांड जो पुनर्नवादि गुग्गुलु बनाते हैं:

खरीदने के लिए:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × one =