रामेश्वरम में जाने के लिए स्थान (Rameswaram Best Places in Hindi)

rameshwaram-tamil-nadu-best-places-in-hindi

rameshwaram-tamil-nadu-best-places-in-hindi

तमिलनाडु के रामानथपुरम जिले का एक शहर रामेश्वरम पंबन द्वीप पर स्थित है लेकिन यह  मुख्य भूमि भारत के पंबन द्वीप से अलग है। यह श्री लंका के मन्नार द्वीप तक पहुंचने का सबसे नज़दीकी बिंदु है। एक लोकप्रिय धारणा के अनुसार हिंदूओं के भगवान राम ने रावण से अपनी पत्नी सीता को बचाने के लिए रामेश्वरम से समुद्र पर एक पुल बनाया था। इसलिए इसे भारत में जाने वाले सबसे पवित्र स्थानों में से एक माना जाता है।

क्यों जाएं: मंदिर, प्राकृतिक सौंदर्य

आदर्श: धार्मिक लोग

लाने के लिए चीजें: सी-शेल्स हस्तशिल्प, ताड़ और नारियल के फाइबर से बने हैंडबैग, रूद्रक्ष से बनी चीज़ें

रामेश्वरम में जाने के लिए स्थान

12. लक्ष्मण तीर्थम

भगवान राम के भाई भगवान लक्ष्मण के सम्मान में यह मंदिर बनाया गया था। लक्ष्मण जी की याद में मंदिर में पवित्र प्रार्थना की जाती है। इस मंदिर में संगमरमर की बनी हुई भगवान लक्ष्मण की कई मूर्तियां हैं। इसके इलावा भगवान राम और सीता की मूर्तियों को भी मंदिर में रखा गया है।

शहर से दूरी: 1 कि.मी

अपेक्षित समय:1 घंटा

आदर्श: धार्मिक लोग

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

11. कोठंदारास्वामी मंदिर

यह मंदिर बंगाल की खाड़ी के निकट एक द्वीप पर है और यह सभी तरफ से हिन्द महासागर से घिरा हुआ है। मंदिर कई चक्रवातों का सामना करने के लिए काफी मजबूती से बना है। ऐसा भी माना जाता है कि इस जगह पर ही कि रावण के भाई विभीषण भगवान राम से इसी जगह पर मिले थे। मंदिर की दीवारों पर रामायण की कहानी को दर्शाते हुए सुंदर चित्र हैं।

शहर से दूरी: 7 कि.मी

अपेक्षित समय: 1 घंटा

आदर्श: धार्मिक लोग

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

10. जदा तीर्थम

कावेरी तीर्थम में जादा तीर्थम कावेरी तीर्थम के अंदर स्थित एक छोटा सा मंदिर है जहाँ भगवान कपदीश्वर की पूजा की जाती है। यह मंदिर एक विशाल पीपल के पेड़ के तने के पास बना हुआ है| ऐसा माना जाता है कि निर्वासन के समय सभी देवताओं ने इस पीपल के पेड़ के नीचे आराम किया था| मंदिर निर्माण में छोटा तो है पर  यह इस पर जटिल जाली के काम के लिए जाना जाता है।

शहर से दूरी: 12 कि.मी

अपेक्षित समय:1 घंटा

आदर्श: धार्मिक लोग

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

9. गन्धमादन पर्वतम

यह एक है, जो दक्षिण भारत के कई समुदायों द्वारा पूजे जाने वाले अत्यंत सम्मानित देवता भगवान राम के इस दो मंजिला मंदिर के अंदर चक्र पर राम के चरण अंकित हैं। गंधमादन  पर्वत के आस-पास कई तीर्थस्थल हैं जहाँ तीर्थयात्री हमेशा आते रहते हैं|

शहर से दूरी: 2 कि.मी

अपेक्षित समय: 1 घंटा

आदर्श: धार्मिक लोग

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

8. जटायु तीर्थम

भगवान राम के वफादार चील जटायु की याद में बनाया गया यह पवित्र मंदिर जटायु तीर्थम के बारे में यह माना जाता है कि भगवान राम का जीवन को बचाने के लिए जटायु ने अपना जीवन खो दिया था। यह मंदिर उसी स्थान पर बना था जहां जटायु को दफन किया गया था। इसके अलावा, दफन करने वाली जगह विभूति से भर दी गयी थी|

शहर से दूरी: 1 किमी

अपेक्षित समय: 1 घंटा

आदर्श: धार्मिक लोग

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

7. पञ्च-मुखी हनुमान मंदिर

रामेश्वरम के इस प्रसिद्ध मंदिर के बारे में माना जाता है कि भगवान हनुमान इस स्थान पर पांच रूपों में दिखाई देते हैं और सिन्दूर से सजाए गए हैं| मंदिर में भगवान राम, सीता और हनुमान जी की मूर्तियां हैं। इनके बारे में कहा जाता है कि इन देवताओं की आत्माएं इन मूर्तियों में विराजमान हैं जो इनमे एक रहस्यमय आभा जोड़ते है। मंदिर के बाहर एक बहता हुआ पत्थर है जिसका उपयोग भगवान राम ने समुद्र पर पुल बनाने के लिए किया था|

शहर से दूरी: 51 कि.मी

अपेक्षित समय:1 घंटा

आदर्श: धार्मिक लोग

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

और पढो:चेन्नई|कोडाईकनाल

6. अन्नई इंदिरा गांधी रोड ब्रिज

इस पुल को पंबन ब्रिज भी कहते हैं जोकि दक्षिणी भारत का सबसे लंबा पुल है और रामेश्वरम द्वीप की मुख्य भारत भूमि पर है। इसका निर्माण काफी मजबूती से हुआ है क्योंकि यह पुल आज भी इतना लंबा और मजबूत है ​​कि जहाज भी आसानी से इस पुल के नीचे से निकल जाते हैं|

शहर से दूरी: 11 कि.मी

अपेक्षित समय: 1 घंटा

आदर्श: वास्तुकला और इंजीनियरिंग के उत्साही

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

5. जल पक्षी अभयारण्य

रामानथपुरम जिले में स्थित यह सुंदर पक्षी अभयारण्य अक्टूबर से जनवरी तक कई देशी और प्रवासी पक्षियों से भर जाता है| पक्षियों के ढेर के ढेर  इस अवधि में यहाँ देखे जा सकते हैं| क्योंकि वे बच्चों को पैदा करते और उन्हें खिलाते हैं।

शहर से दूरी: 11 कि.मी

अपेक्षित समय: 2-3 घंटे

आदर्श: पक्षी देखना

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: अक्टूबर – जनवरी

4. धनुष्कौड़ी मंदिर और समुद्र तट

धनुष्कौड़ी एक ऐसा अद्भुत मंदिर था जिसे एक विनाशकारी चक्रवात ने खत्म कर दिया था। यह शानदार द्वीप बंगाल की खाड़ी और हिन्द-महासागर के बीच में है। यहाँ समुद्र धनुष और तीर जैसा के समान दिखता है। तीर के सिर वाले भाग को बहुत सम्मानित दृष्टि से देखा जाता है और इस जगह की पूजा करने के लिए दूर-दराज से तीर्थयात्री यहाँ आते हैं। ऐसा माना जाता है कि भगवान राम के पैरों के निशान भी इस मंदिर में मौजूद हैं।

शहर से दूरी: 11 कि.मी

अपेक्षित समय: 2-3 घंटे

आदर्श: धार्मिक लोग

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

3. अग्नितीर्थम

रामेश्वरम के 64 पवित्र स्नानों में से, अग्नितीर्थम को सबसे पवित्र माना जाता है और हजारों पर्यटक इसमें पवित्र डुबकी लगाते हैं| इस समुद्र तट पर श्री रामानाथस्वामी मंदिर के पास ही  स्थित है। यह जगह एकमात्र ऐसा तीर्थ है जो मंदिर के परिसर के बाहर स्थित है।

कई हिंदू शास्त्रों और पौराणिक किंवदंतियों में हिंदूओं के इस तीर्थस्थल का उल्लेख किया गया है।

शहर से दूरी: 1 कि.मी

अपेक्षित समय: 2-3 घंटे

आदर्श: धार्मिक लोग

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

2. एडम ब्रिज

एडम पुल या राम सेतु एक ऐसा ऐतिहासिक पुल है जो भारत में पंबन द्वीप को श्रीलंका के उत्तर पश्चिमी तट से जोड़ता है। चूना पत्थर की एक श्रृंखला पंबन द्वीप की धनुष्कौड़ी द्वीप से जोड़ती है।

शहर से दूरी: 12 कि.मी

अपेक्षित समय:2-3 घंटे

आदर्श: हर कोई

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

1. रामेश्वरम मंदिर

यह भगवान शिव का मंदिर वास्तुशिल्प गौरव और अध्यात्म का प्रतीक है। तमिलनाडु के रामानाथस्वामी मंदिर के रूप में जाने जाने वाली  यह जगह भारत के 12 ज्योतिर्लिंग में से एक है। इस मंदिर में दुनिया का सबसे लंबे गलियारा है जिसके खंभे जटिल नक्काशी से सजाए गए हैं।

ऐसा माना जाता है कि भगवान राम ने इस मंदिर में लिंगम की स्थापना की थी| मंदिर के अंदर दो लिंगम रामलिंगम और शिवलिंगम मौजूद हैं। लोग इस मंदिर में आकर मंदिर परिसर के अंदर मौजूद बीस पवित्र जल निकायों में डुबकी लगाते हैं। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से वे अपने जीवन के पापों और अन्य गलत कर्मों से छुटकारा पा सकते हैं|

खुलने का समय: 04:30 बजे से 08:30 बजे तक

शहर से दूरी: 0 कि.मी

अपेक्षित समय:3-4 घंटे

आदर्श: धार्मिक लोग

यात्रा करने का सबसे अच्छा समय: पूरे साल

 रामेश्वरम के अन्य आकर्षण

  • नंबू नयागियामैन मंदिर
  • एरियामान बीच
  • विलून्दी तीर्थम
  • थिरुप्पुल्लानी

रामेश्वरम कैसे पहुंचे

उड़ान, ट्रेन, बस

निकटतम हवाई अड्डा:

मदुरई हवाई अड्डा (149 कि.मी)

तुतीकोरिन (142 कि.मी)

अपनी उड़ानें बुक करके पैसा बचाएं: क्लियरट्रिप फ्लाइट कूपन, मेक माय ट्रिप घरेलू उड़ान कूपन, यात्रा कूपन

निकटतम रेलवे स्टेशन:

रामेश्वरम रेलवे स्टेशन

निकटतम बस स्टॉप:

रामेश्वरम की दक्षिण भारत के सभी प्रमुख शहरों के साथ अच्छी कनेक्टिविटी है। राज्य और स्थानीय परिवहन बस सेवाएं इन मार्गों पर नियमित रूप से चलती हैं।

अपनी बस बुक करके पैसा बचाएं: माय बस टिकट्स, ई ट्रेवल स्मार्ट, बोबे

कहाँ रहें

होटल रामेश्वरम ग्रांड, होटल अम्मान रेजीडेंसी, होटल अशोक, होटल सारा

होटल बुकिंग पर छूट पायें: क्लियर ट्रिप होटल, गोआइबीबो होटल, होटल्स.कॉम

यात्रा के लिए आसपास के स्थान

  • धनुष्कौड़ी (19 कि.मी)
  • मधुरई (170 कि.मी)
  • मन्नार (324 कि.मी)
  • तुतीकोरिन (192 कि.मी)
  • कोवलम (373 कि.मी)

छिपे हुए रत्न

सर्फिंग और कयाकिंग जैसी जल क्रीडा गतिविधियों का आनंद लेने के लिए कठादी जाएं। आप समुद्र तट पर कॉटेज में रहकर नीले समुद्र के पानी के विशाल विस्तार का मज़ा ले सकते हैं।

कैशकारो की सलाह

रामेश्वरम केवल तीर्थयात्रा और धार्मिक स्थल ही नहीं है बल्कि आप विभिन्न समुद्र तटों पर जाकर वहां के परिदृश्य देख सकते हैं और प्रकृति का आनन्द ले सकते हैं|

होली आईलैंड बीच पर होली आइलैंड वॉटर स्पोर्ट्स का मज़ा जरूर लेना चाहिए। कोई जेट स्की, विंडसर्फिंग, स्टैंड अप बोर्ड और ऐसी कई गतिविधियां कर सकते हैं|

यात्रा करने का मजेदार तरीका

रामेश्वरम दक्षिण भारत के प्रमुख शहरों से सड़क से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है| आप अपनी कार से यात्रा करके राजमार्ग पर स्थानीय व्यंजनों का आनंद ले सकते हैं।

यदि आप अपनी कार से नहीं जाना चाहते तो आप कार किराए पर ले सकते हैं: हायरमीकार, बलाबलाकार,  सवारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fourteen − eleven =