Tea Tree Oil in Hindi टी ट्री ऑयल: फायदे, इस्तेमाल, खुराक और साइड इफेक्ट्स

0
233

Tea Tree Oil in Hindi टी ट्री ऑयल: फायदे, इस्तेमाल, खुराक और साइड इफेक्ट्स

1About Tea Tree Oil in Hindi-टी ट्री ऑयल के बारे में

टी ट्री ऑयल एक एसेंसियल ऑयल है जो ऑस्ट्रेलियाई पौधे, मेलेलुका अल्टिफ़ोलिया की आसुत पत्तियों से बनाया जाता है। मेलेलुका ऑयल के रूप में भी जाना जाता है, यह तेल वैकल्पिक ट्रीटमेंट (अलटरनेटिव ट्रीटमेंट) के लिए लोकप्रिय है। टी ट्री का कास्मेटिक प्रोडक्ट, दवाओं के साथ-साथ घरेलू वस्तुओं में भी विविध इस्तेमाल होता है।


2Properties of Tea Tree Oil in Hindi-टी ट्री ऑयल के गुण:

  • एंटीबैक्टिरियल
  • एंटीफंगल
  • एंटीवायरल
  • एंटी-इंफ्लैमेंटरी
  • कपूर
  • कपूर की तरह ताज़ा महक
  • टेरपिनन-4-ओल एक प्रमुख घटक है

3Benefits of Tea Tree Oil for Skin & Face in Hindi- स्किन और चेहरे के लिए टी ट्री ऑयल के फायदे

  • मुंहासे का इलाज: मुंहासों के ट्रीटमेंट के लिए टी ट्री ऑयल सबसे प्रभावी घरेलू उपचारों में से एक है। इसके रोगाणुरोधी गुण मुंहासे के इलाज और कम करने में मदद करते हैं। पिंपल्स के लिए टी ट्री ऑयल के फायदे जानने के लिए आगे पढ़ें।
  • एक्जिमा और सोरायसिस: तेल की एंटी-इंफ्लैमेंटरी एक्शन प्राकृतिक तरीके से एक्जिमा और सोरायसिस के इलाज में मदद करती है।
  • टोनेल फंगस और रिंगवार्म: टी ट्री ऑयल एक उत्कृष्ट एंटी-फंगल एजेंट है। यह परजीवी और फंगल इंफेक्शन को खत्म कर सकता है। आप प्रभावित क्षेत्रों में टी ट्री ऑयल को लगा कर रिंगवर्म, टोनेल फंगस और एथलीट फुट का इलाज कर सकते हैं।
  • इंफेक्शन और कट: तेल की एंटी-माइक्रोबियल एक्टिविटी इंफेक्शन और कटौती को ठीक करने के लिए घर पर बने जेल / मलहम में एक आदर्श प्राकृतिक घटक बनाती है।
  • फोड़े: स्किन के रोम छिद्रों को प्रभावित करने वाले इंफेक्शन सूजन और अस्वस्थता पैदा कर सकते हैं। टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल फोड़े में भी मददगार हो सकता है।
  • वार्टस ट्रीटमेंट: वार्टस वायरस के कारण होता है। टी ट्री ऑयल के एंटीवायरल गुण वार्ट का मुकाबला करने में मदद करते हैं।

4Benefits of Tea Tree Oil for Hair in Hindi-बालों के लिए टी ट्री ऑयल के फायदे:

डैंड्रफ और खुजली को ठीक करता है: डैंड्रफ के 5% मामले में टी ट्री ऑयल से इलाज करने के लिए किया जा सकता है। टी ट्री ऑयल के समान अनुपात वाला एक शैम्पू डैंड्रफ से जुड़ी खुजली को कम करने में भी असरदार हो सकता है

क्रैडल कैप का ट्रीटमेंट: रिसर्च से पता चला है कि टी ट्री ऑयल बच्चे की स्कल्प की क्रैडल कैप को दूर करने में असरदार है।

सिर का जूं: टी ट्री ऑयल जब नेरोलिडोल के साथ मिलाया जाता है, तो कुछ एसेंसियल ऑयल में पाया जाने वाला एक कम्पाउंड सिर के जूं को खत्म करने में बहुत फायदेमंद होता है। दोनों सामग्री जूं को खत्म करने के साथ-साथ उनके अंडों को भी कम करती है।


5Health Benefits of Tea Tree Oil in Hindi-टी ट्री ऑयल के हेल्दी फायदे

  • स्टे ट्रीटमेंट: स्टे एक बैक्टीरियल इंफेक्शन है, जो पलक के किनारे पर सूजन का कारण बनता है। टी ट्री ऑयल में एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं जो अंत में आंख को ठीक करने के लिए सूजन और बैक्टीरिया को कम कर सकते हैं
  • ब्लैडर और यूरेनरी ट्रैक के इंफेक्शन को रोकें: टी ट्री ऑयल एंटीबायोटिक लचीला बैक्टीरिया के खिलाफ अच्छी तरह से काम करता है और इसलिए मूत्राशय के इंफेक्शन को रोक सकता है। रिसर्च से पता चला है कि ऑयल यूरेनरी ट्रैक के इंफेक्शन को ठीक करने में भी मददगार होता है।
  • सेक्सुअली ट्रांसमीटेड डिजीज का ट्रीटमेंट: टी ट्री ऑयल की एंटीमाइक्रोबायल एक्टिविटी सिफलिस और क्लैमाइडिया जैसे सेक्सुअली ट्रांसमीटेड डिजीज का ट्रीटमेंट में मदद करती है।
  • बेली बटन इंफेक्शन: टी ट्री ऑयल की ऐंटिफंगल और ऐंटीमाइक्रोबायल एक्टिविटी बेली बटन के इंफेक्शन के इलाज में अच्छा है।
  • रूट कैनाल पेन: टी ट्री ऑयल रूट कैनाल कीटाणुरहित कर सकता है और दर्द को कम कर सकता है।
  • कान में इंफेक्शन: टी ट्री ऑयल की एंटिफंगल और एंटीमाइक्रोबायल एक्टिविटी कान के इंफेक्शन को ठीक करने के लिए कहा जाता है
  • विजाइना में बदबू: टी ट्री ऑयल की एंटिफंगल और एंटीमाइक्रोबायल एक्टिविटी को योनि की बदबू खत्म करने के लिए जाना जाता है।
  • सेल्युलिटिस: टी ट्री ऑयल के इस्तेमाल को सेल्युलाइटिस को ठीक करने के लिए कहा जाता है। यह एंटीबैक्टिरियल, एंटिफंगल और तेल के एंटी-इंफ्लैमेंटरी गुणों के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।
  • ओरल थ्रश: ओरल थ्रश कैंडिडा अल्बिकन्स के कारण होता है। ट्री टी ऑयल के एंटिफंगल गुण थ्रिडा को त्यागने के लिए कैंडिडा अल्बिकन्स के खिलाफ काम करते हैं।

6Uses of Tea Tree Oil in Hindi-टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल

  1. कीट विकर्षक (इनसेक्ट रिपेलेंट)
  2. एंटीमाइक्रोबायल वाशिंग फ्रेशनर
  3. डियोड्राईजर
  4. मुंहासे वाली स्किन के लिए फेस वाश
  5. पैरों की बदबू को दूर कर सकता है
  6. मोल्ड रिमूवर
  7. घरेलू सामान को साफ करता है

7How to use Tea tree oil on Hair in Hindi-बालों पर टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल कैसे करें

नीचे दिए गए ट्रीटमेंट लंबे और घने बालों के लिए असरदार हो सकते हैं।

  • टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदों को बराबर मात्रा में कैरियर ऑयल (नारियल या बादाम के तेल) के साथ मिलाएं।
  • इस मिश्रण से स्कल्प की मालिश करें।
  • अच्छी तरह से धोएं।

8How to use Tea tree oil on Skin in Hindi-स्किन पर टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल कैसे करें

मुंहासे का ट्रीटमेंट

  • टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदें शहद और दही के एक चम्मच के साथ मिलाएं।
  • इस मिश्रण (मिक्सचर) को मुंहासों पर लगाएं।
  • 20 मिनट के बाद अपना चेहरा धो लें।

9Tea Tree Oil Dosage in Hindi-टी ट्री ऑयल की खुराक: यह कितना सुरक्षित है?

टापिकल ट्रीटमेंट के लिए टी ट्री ऑयल सुरक्षित है। हालांकि, इसे मुंह से कभी नहीं निगलना चाहिए।

  • मुंहासे के लिए: मुंहासे पर 5% जेल
  • नेल फंगस के लिए: 100% सल्यूशन | दिन में 2 बार | 6 महीने के लिए
  • टी ट्री ऑयल के 100% घोल का इस्तेमाल कट, जलन, घर्षण आदि के ट्रीटमेंट के लिए किया जा सकता है।

10Possible Side Effects of Tea Tree Oil in Hindi-टी ट्री ऑयल के संभावित साइड इफेक्ट

  • स्किन की समस्याएं जैसे स्किन में जलन और सूजन
  • युवा लड़कों में हार्मोनल असंतुलन जो अभी तक युवा (प्यूबरटी) नहीं हुए हैं।
  • गरारे करते समय गले की संवेदनशील झिल्लियों में चोट

11Where to Buy tea Tree Oil in Hindi-टी ट्री ऑयल कहां से खरीदें

आप 1एमजी ऑफ़र का इस्तेमाल कर सकते हैं, फ्लिपकार्ड ऑफ़र और अमेजान इंडिया ऑफ़र चाय ट्री ऑयल प्रोडक्ट खरीदते समय पैसे बचाने के लिए देते हैं।


 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one × 2 =