ट्रुलिसिटी (Trulicity in Hindi): उपयोग, खुराक, मूल्य, साइड इफेक्ट्स, सावधानियां

0
700
trulicity fayde nuksan in hindi

ट्र्यूलिसिटी क्या है?

  • ट्र्यूलिसिटी एक इंजेक्शन योग्य एंटी-डाइबेटिक दवा है जिसका उपयोग टाइप-2 मधुमेह रोगियों में रक्त ग्लूकोज के स्तर को कम करने के लिए किया जाता है।
  • ट्र्यूलिसिटी एक बार प्रयोग की जाने वाली खुराक में कलम या पहले से भरी हुई सिरिंज के रूप में मिलती है जिसमें 5 मि.ली. स्पष्ट और रंगहीन समाधान होता है।
  • इंजेक्शन के रूप में उपयोग के लिए ट्र्यूलिसिटी दो शक्तियों में उपलब्ध है: 75 मि.ग्रा और 0.5 मि.ग्रा प्रति 1.5 मि.ग्रा

ट्र्यूलिसिटी का उपयोग

  • ट्र्यूलिसिटी में सक्रिय घटक के रूप में डुलग्लुटाइड है जो एक ग्लूकागन-जैसे पेप्टाइड 1 (जीएलपी -1) रिसेप्टर एगोनिस्ट है जो आहार और व्यायाम के साथ मधुमेह रोगियों में खून में शुगर के स्तर को कम करने के लिए प्रयोग किया जाता है।
  • केटोएसिडोसिस मधुमेह और टाइप 1 वाले मधुमेह के रोगियों को उपयोग के लिए ट्र्यूलिसिटी इंसुलिन लेने की सलाह नहीं दी जाती|
इस दवा को खरीदें और 20% छूट प्राप्त करें: नेटमेड्ससेवऑनमेडिकल

ट्र्यूलिसिटी कैसे काम करती है?

  • ट्र्यूलिसिटी डुलाग्लुटाइड एक जलीय समाधान है। ट्र्यूलिसिटी के प्रत्येक 5 मि.ली. में 0.75 या 1.5 मि.ग्रा डुलाग्लुटाइड होता है।
  • डुलाग्लुटाइड ग्लूकोज पर निर्भर इंसुलिन की रिहाई में वृद्धि और ग्लूकागन स्राव में कमी लाता है।
  • बढ़ी हुई इंसुलिन के बहने और ग्लूकागन के स्राव में कमी से खून में ग्लूकोज के स्तर में कमी आती है।
  • खून में ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करके यह गुर्दे की क्षति, हृदय की समस्या, अंधापन, तंत्रिका-तन्त्र की समस्याओं आदि की घटनाओं को कम करता है।

ट्र्यूलिसिटी कैसे लें?

ट्र्यूलिसिटी टाइप 2 मधुमेह का पहला उपचार नहीं है क्योंकि इंसानों में सी सेल ट्यूमर की बढ़ती संभावनाओं के कारण ट्र्यूलिसिटी का लम्बे समय तक उपयोग होता है।

  • ट्र्यूलिसिटी की खुराक और इसे लेने का तरीका आपकी उम्र, स्थिति की गंभीरता, शारीरिक स्वास्थ्य और चिकित्सा के प्रति प्रतिक्रिया पर आधारित होता है।
  • इंजेक्शन लेने से पहले उस जगह को अल्कोहल के साथ रगड़कर उस जगह को साफ और सूखी कर लें| यह जांघ, ऊपरी भुजा या पेट में त्वचा के नीचे लेना चाहिए।
  • इसे अंतःशिरा या इंट्रामस्क्यूलर मार्ग के माध्यम से इंजेक्ट से न करें।
  • अन्य इंसुलिन उत्पादों और समाधानों के साथ ट्र्यूलिसिटी इंसुलिन को न मिलाएं|
  • यदि सोल्युशन रंगहीन हो गया हो या कंटेनर में क्लम्प्स हो गये हों तो ट्र्यूलिसिटी ना लें| ऐसे मामलों में कंटेनर को छोड़ दें।
  • उसी सिरिंज या सुई को फिर से उपयोग या साझा न करें क्योंकि इससे हेपेटाइटिस, एच.आई.वी जैसे गंभीर संक्रमणों की संभावना बढ़ सकती है।
  • गैर औषधीय थेरेपी (आहार संशोधन, वजन नियंत्रण, और व्यायाम) ट्र्यूलिसिटी लेने के दौरान रक्त ग्लूकोज के स्तर को कम करने की जरूरत होती है।
और पढो: गार्डासिल के नुकसानजिथ्रोमैक्स के नुकसान |वेलबर्रटिन के नुकसान

भारत में ट्र्यूलिसिटी का प्राइस

  • 4998 रुपये में 5 मिलीग्राम / 0.5 मिलीलीटर के 2 सोलूशन के इंजेक्शन की शीशी
  • 4998 रुपये में 75 मिलीग्राम / 0.5 मिलीलीटर के 2 सोलूशन के इंजेक्शन की शीशी

ट्र्यूलिसिटी की सामान्य खुराक

  • मधुमेह के इलाज के लिए ट्र्यूलिसिटी की कोई निश्चित खुराक नहीं है। इसकी खुराक भिन्नता के लिए रक्त ग्लूकोज के स्तर की निरंतर निगरानी जरूरी है।
  • इसके दुष्प्रभावों के जोखिम को कम करने के लिए आपका डॉक्टर शुरू में कम खुराक से शुरू करता है और धीरे-धीरे आपकी स्थिति के आधार पर ही आपकी खुराक बढ़ा सकता है।
  • खुराक को ध्यान से मापकर ही लें क्योंकि इंसुलिन की खुराक में सबसे छोटे बदलाव से रक्त शर्करा के स्तर पर बड़ा प्रभाव पड़ सकता है।
  • शारीरिक गतिविधि, समय और भोजन के सेवन की मात्रा, गुर्दे और जिगर के कार्यों में बादलाव के साथ ट्र्यूलिसिटी इंसुलिन की खुराक के समायोजन की आवश्यकता होती है।
  • ट्र्यूलिसिटी को सप्ताह में एक बार एक ही समय पर लें और फिर हर सप्ताह उसी दिन लेनी चाहिए|
  • इसकी खुराक को ध्यान से मापकर लें क्योंकि इंसुलिन की खुराक में छोटे से बदलाव से भी रक्त शर्करा के स्तर पर बड़ा प्रभाव पड़ सकता है।
  • ट्र्यूलिसिटी इंसुलिन दिन में एक ही बार और एक ही समय लेना चाहिए|
  • साप्ताहिक रूप से ट्र्यूलिसिटी की प्रारंभिक खुराक 75 मि.ग्रा. है। जिन रोगियों में अतिरिक्त ग्लाइसेमिक नियंत्रण की आवश्यकता होती है, वे इसकी खुराक को 1.5 मि.ग्रा. तक बढ़ा सकते हैं और यह इसकी प्रति सप्ताह अधिकतम खुराक है।

ट्र्यूलिसिटी से कब बचें?

ट्र्यूलिसिटी से निम्न स्थितियों में बचना चाहिए या सावधानी के साथ इसका प्रयोग करना चाहिए:

  • इसके किसी भी घटक से एलर्जी वाले मरीज
  • मधुमेह केटोएसिडोसिस (एसिड के निर्माण से जुड़े मधुमेह की जटिलता)
  • गुर्दे या जिगर का गंभीर विकार
  • टाइप 1 मधुमेह
  • अग्नाशयशोथ
  • सी सेल ट्यूमर का इतिहास (मेडुलरी थायराइड कार्सिनोमा)

ट्र्यूलिसिटी के दुष्प्रभाव

इसके इच्छित उपयोगों के इलावा ट्र्यूलिसिटी के कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकते है जिसमें कुछ निम्न हो सकते हैं:

  • बेचैनी
  • सरदर्द
  • आलस्य
  • अवांछित एकाग्रता
  • डिप्रेशन
  • उलझन
  • कंपकपी
  • चक्कर आना
  • घबराहट
  • टाईकार्डिया (दिल की धड़कन में वृद्धि)
  • चिंता
  • थकान
  • पसीना आना

इससे होने वाले अन्य साइड इफेक्ट्स हैं:

  • इंजेक्शन वाली जगह पर दर्द
  • मतली उल्टी
  • भूख में कमी
  • अग्नाशयशोथ
  • सी सेल ट्यूमर का जोखिम
  • गंभीर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं – अपचन, पेट दर्द
  • हाइपरगलायकेमिया – प्यास, पेशाब में वृद्धि, भ्रम, सांस में गंध, तेजी से सांस लेने आदि।

इसके अलावा कुछ अन्य अवांछित प्रभाव भी पैदा हो सकते हैं|ऐसे मामलों में तुरंत चिकित्सक की तलाश करें।

और पढो: वेंटोलिन के नुकसानट्रेसिबा के नुकसानअल्टरम के नुकसान

अंगों पर प्रभाव

लिवर और किडनी – जिगर और गुर्दे की बीमारी वाले मरीजों को ट्र्यूलिसिटी का सावधानी से उपयोग करना चाहिए क्योंकि इससे गंभीर हेपेटिक और गुर्दे की हानि हो सकती है।

एलर्जी प्रतिक्रियाएं

ट्र्यूलिसिटी लेने के साथ होने वाली एलर्जी प्रतिक्रियाओं के बारे में अपने डॉक्टर को सूचित करें। इससे होने वाली एलर्जी प्रतिक्रिया के लक्षणों में निम्न हो सकते हैं:

  • साँसों की कमी
  • चेहरे, होंठ, जीभ या गले की सूजन
  • बेहोशी
  • एंजियोएडेमा (त्वचा के नीचे दर्द रहित सूजन)
  • चेतना का नुक्सान

ड्रग इंटरैक्शन के बारे में सावधानी

ट्र्यूलिसिटी अन्य दवाओं, विटामिन की खुराक या हर्बल उत्पादों के साथ प्रभाव डाल सकता है जिनका आप प्रयोग कर रहे हैं। यह हानिकारक हो सकते हैं। आपको अपने चिकित्सक को ट्र्यूलिसिटी का उपयोग करने से पहले अपने द्वारा इस्तेमाल किये जाने वाले काउंटर उत्पादों या विटामिन की खुराक या सभी दवाओं के बारे में सूचित करना चाहिए| ट्र्यूलिसिटी आमतौर पर किसी भी मुंह द्वारा ली जाने वाली दवाओं के अवशोषण को प्रभावित नहीं करती|

प्रभाव या परिणाम

ट्र्यूलिसिटी को लेने के तुरंत बाद इसका प्रभाव दिखाई देता है और इसका उन्मूलन में लगभग 5 दिन का समय लगता है।

सामान्य प्रश्न

क्या ट्र्यूलिसिटी नशे की लत है?

इस दवा की आदत बनने की कोई सूचना नहीं है। लेकिन इन दवाइयों पर निर्भरता से बचना चाहिए।

क्या शराब के साथ ट्र्यूलिसिटी ले सकते हैं?

ट्र्यूलिसिटी के साथ शराब लेने की सलाह नहीं दी जाती| ट्र्यूलिसिटी लेने पर यह रक्त में ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करने में हस्तक्षेप कर सकता है।

क्या किसी विशेष खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए?   

उच्च ग्लूकोज की मात्रा युक्त खाद्य पदार्थों से बचें और ट्र्यूलिसिटी लेने के साथ रक्त ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करने के लिए सख्त आहार का पालन करें।

क्या गर्भवती होने पर ट्र्यूलिसिटी ले सकते हैं?

गर्भावस्था के दौरान सामान्य रक्त ग्लूकोज के स्तर को बनाए रखने की सलाह दी जाती है क्योंकि असामान्य रक्त ग्लूकोज के स्तर से जन्मजात असामान्यताएं जुडी होती हैं। इसलिए गर्भावस्था के दौरान ट्र्यूलिसिटी केवल तभी लेना चाहिए जब इससे जोखिम से अधिक लाभ हो|

क्या स्तनपान कराने के दौरान ट्र्यूलिसिटी ले सकते हैं?

जब आप स्तनपान करा रही हैं तो ट्र्यूलिसिटी का उपयोग करने की सलाह नही दी जाती क्योंकि यह दवा स्तन के दूध में गुजर सकती है और रक्त शर्करा के स्तर को कम करके बच्चे को नुकसान पहुंचा सकती है।

क्या ट्र्यूलिसिटी लेने के बाद ड्राइव कर सकते हैं?

ट्र्यूलिसिटी का सेवन आपकी ड्राइव करने की क्षमता को प्रभावित नहीं करता लेकिन इसकी खुराक के कारण होने वाली हाइपोग्लाइकेमिया या हाइपरग्लाइकेमिया की वजह से उनींदापन, थकान, एकाग्रता में कमी, नींद आदि हो सकती है इसलिए भारी मशीनरी और वाहन चलाने में बाधा हो सकती है।

यदि ट्र्यूलिसिटी अधिक मात्रा में लें तो क्या होता है?

ट्र्यूलिसिटी को कभी भी तय की गयी मात्रा से अधिक नहीं लेना चाहिए। अधिक मात्रा में लेने से या बार बार लेने से गंभीर हाइपोग्लाइकेमिया हो सकता है| इसलिए यदि आपने इसकी अधिक खुराक ली है तो तुरंत अपने डॉक्टर के पास जाएँ|

यदि एक्सपायरी हो चुकी ट्र्यूलिसिटी लें तो क्या होगा?

ट्र्यूलिसिटी  की एक खुराक से कोई बड़ा प्रतिकूल प्रभाव नहीं हो सकता लेकिन दवा की शक्ति कम हो सकती है और इससे हाइपरग्लेकेमिया (रक्त ग्लूकोज के स्तर में वृद्धि) हो सकता है। यदि आपने ऐसी दवा को लंबी अवधि के लिए लिया है तो अपने चिकित्सक को इसके बारे में सूचित करें।

यदि ट्र्यूलिसिटी की खुराक लेनी याद ना रहे तो क्या होता है?

यदि इसकी खुराक लेनी याद ना रहे तो दवा अच्छी तरह से काम नहीं करेगी क्योंकि इससे हाइपरग्लाइकेमिया और ग्लूकोज का खराब नियंत्रण हो सकता है। यदि आप खुराक लेना भूल जाते हैं तो जितनी जल्दी हो सके अगली खुराक को लें|अगली खुराक तक कम से कम 3 दिन (72 घंटे) का समय लें| यदि अगली खुराक में  3 दिन से कम समय रहता है तो भूली हुई खुराक छोड़ दें और अगली खुराक न लें|

भंडारण

  • इसे सीधी गर्मी और नमी से दूर ठंडी और सूखी जगह पर रखें|
  • दवा को फ्रीज न करें।
  • बच्चों और पालतू जानवरों से इस दवा को दूर रखें।

ट्र्यूलिसिटी लेते समय टिप्स

  • अच्छे परिणाम पाने के लिए ट्र्यूलिसिटी को गैर फार्माकोलॉजिकल थेरेपी (उचित आहार संशोधन, वजन नियंत्रण और व्यायाम) के साथ लेना चाहिए।

अग्नाशयशोथ, थायराइड सेल कार्सिनोमा और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल रिफ्लक्स रोग के पिछले इतिहास वाले मरीज ट्र्यूलिसिटी के उपयोग से बचें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two + 18 =