हूपिंग कफ़ (Whooping Cough in Hindi): लक्षण, कारण, निदान और उपचार

Whooping Cough in Hindi

हूपिंग खांसी को पर्टुसिस भी कहा जाता है| यह छूत वाला एक रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट बैक्टीरिया इन्फेक्शन है। इसमें खांसी का एक दौरा सा पड़ता है जिससे व्यक्ति को सांस लेने के दौरान तेज़ आवाज हो सकती है। यह खांसी आमतौर पर 10 या उससे ज्यादा हफ्ते तक चलती है। यह बीमारी उन लोगों में भी हो सकती है जिन्हें टीका लगा हो, लेकिन ये लक्षण आमतौर पर हल्के होते हैं।

बर्टेटेला पर्टुसिस जीवाणु के कारण पर्टुसिस होता है जो एक वायु रोग है जो इन्फेक्टेड व्यक्ति की खांसी और छींक से आसानी से फैलता है। इसकी रोकथाम मुख्य रूप से टीकाकरण से होती है लेकिन समय के साथ पर्टुसिस की सुरक्षा घट जाती है, इसलिए बच्चों और वयस्कों के लिए टीके की अतिरिक्त खुराक की सलाह दी जाती है।

2015 में दुनिया भर में लगभग 16.3 मिलियन लोग इससे इन्फेक्टेड हुए| 2015 में पर्टुसिस के कारण 58,700 मौतें हुईं जो 1990 में 138,000 मौतों से नीचे थीं।

और पढो: व्हीपल रोग in hindi

खांसी खांसी आपके शरीर को कैसे प्रभावित करती है?

जो बैक्टीरिया पर्टुसिस रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट को संक्रमित करते हैं और प्राकृतिक रक्षा प्रणालियों से रोगाणुओं को हटाने से रोकते हैं| यह इन्फेक्शन बलगम के इकठ्ठे होने का कारण बनता है, जिससे लगातार खांसी और कभी-कभी उल्टी भी हो जाती है। ये जीवाणु फेफड़ों की श्वास ट्यूबों में रहते हैं जिससे उनमे सूजन हो जाती है और वे तंग हो जाती है। सांस लेने में दिक्कत होने से चेहरे का रंग लाल या नीला हो जाता है और थकावट का कारण बन सकता है।

हूपिंग खांसी के कारण क्या हैं?

हूपिंग खांसी एक वायुमंडलीय बीमारी है जो बोर्डेटेला पर्टुसिस नामक बैक्टीरिया के कारण होती है। जब एक इन्फेक्टेड व्यक्ति खांसी करता या छींकता है तो इससे बूँदें हवा में फैल जाती हैं जब कोई स्वस्थ व्यक्ति इसमें सांस लेता है तो उसे भी रोग हो जाता है।

हूपिंग खांसी के खतरे के कारक क्या हैं?

आयु – 12 महीने से कम आयु के शिशुओं को इस बीमारी का खतरा रहता है। किशोर और वयस्क इस प्रकोप के दौरान अतिसंवेदनशील होते हैं।

अधूरा टीकाकरण – जिन लोगों ने टीका नहीं लगवाया या जिन्होंने टीकों का पूरा सेट ना लगवाया हो उन्हें गंभीर परेशानियों और मृत्यु का सबसे ज्यादा खतरा रहता है|

हूपिंग खांसी के लक्षण क्या हैं?

  • पर्टुसिस के लक्षणों में खांसी के बाद पैरॉक्सिसल खांसी, इन्स्पपिरेटरी हूप, बेहोशी या उल्टी आदि शामिल हैं|
  • पर्टुसिस से खांसी उपसंवेदनशील हेमोरेज, रिब फ्रैक्चर, मूत्र के असंतुलन, हर्निया और कशेरुका धमनी विच्छेदन का कारण बन सकती है।
  • यह बीमारी आमतौर पर हल्की खांसी, छींकने या नाक बहने से शुरू होती है। एक या दो हफ्तों के बाद खांसी की वजह से अनियंत्रित दौरे आने लगते हैं, उसके बाद छोटे बच्चों में ऊंची आवाज या बड़े बच्चों में हांफने की आवाज़|

हूपिंग खांसी कैसे पहचानी जाती है?

शुरुआती चरणों में हूपिंग खांसी को पहचानना मुश्किल है क्योंकि लक्षण अन्य सामान्य सांस की बीमारियों जैसे ठंड, फ्लू या ब्रोंकाइटिस के समान ही होते हैं। इसको पहचानने पुष्टि के लिए चिकित्सा परीक्षणों की आवश्यकता हो सकती है जिसमें निम्न शामिल हैं:

नाक या गले के कल्चर की जांच – एक स्वाब  से नसोफारय्न्क्स क्षेत्र से नमूना लिया जाता है जिससे तब हूपिंग खांसी बैक्टीरिया की उपस्थिति की जांच की जाती है।

रक्त परीक्षण – यह जांच सफेद रक्त कोशिकाओं की गिनती की जांच करने के लिए है क्योंकि सफेद रक्त कोशिकाएं शरीर से लड़ने में मदद करती हैं, जैसे कि हूपिंग खांसी। डब्ल्यूबीसी की उच्च गिनती आम तौर पर इन्फेक्शन या सूजन की उपस्थिति की तरफ इशारा करती है।

चेस्ट एक्स-रे – फेफड़ों में सूजन या तरल पदार्थ की उपस्थिति की जांच के लिए एक्स-रे किया जाता है| यह तब हो सकता है जब निमोनिया पर्टुसिस और अन्य श्वसन संक्रमण को जटिल करता है।

और पढो: एड्स / एचआईवी संक्रमण in hindiहेपेटाइटिस बी in hindi

हूपिंग खांसी को कैसे रोकें और नियंत्रित करें?

पर्टुसिस वैक्सीन से सांस घुटने वाली खांसी को रोका जाता है, जिसे दो अन्य गंभीर बीमारियों, डिप्थीरिया और टेटनस के खिलाफ टीकों के साथ दिया जाता है।

यह टीका शिशुओं को 2 महीने, 4 महीने, 6 महीने और 15 से 18 महीने और बाद में 4 से 6 वर्ष की आयु में दिया जाता है।

बूस्टर शॉट्स – यह किशोरावस्था में दिया जाता है क्योंकि पर्टुसिस टीके से प्रतिरक्षा 11 साल की उम्र में घट जाती है।

हूपिंग खांसी का उपचार – एलोपैथिक उपचार

एंटीबायोटिक्स – एरिथ्रोमाइसिन, स्पष्टीथ्रोमाइसिन या एजीथ्रोमाइसिन आम तौर पर बैक्टीरिया के विकास को रोकने के लिए है|

मैक्रोलाइड्स – ट्रिमेथोप्रिम-सल्फैमेथॉक्सोजोल एलर्जी वाले लोगों में प्रथम श्रेणी के एजेंटों या उन शिशुओं में उपयोग किया जा सकता है जिनके पास मैक्रोलाइड से पिलोरिक स्टेनोसिस का खतरा होता है।

हूपिंग खांसी का उपचार – होम्योपैथिक उपचार

आर्सेनिकम – यह तब दिया जाता है जब त्वचा का मोम जैसा पीलापन और ठंडा हो जाना होता है|

बेल्लाडोना – यह तब दी जाती है जब हर बार खांसी के साथ बच्चे का चेहरा बहुत लाल हो जाता है।

ब्रायनिया – यह संकेत दिया जाता है कि जब खांसी गति के साथ और खाने या पीने के बाद बदतर होती है।

कार्बो वेज – यह तब दिया जाता है जब हर बार खांसी के बाद बहुत थकावट होती है, त्वचा की चमक, गर्म सिर और चेहरे पर मौजूद होती है|

केमोमिला – यह सूखी खांसी के लिए दिया जाता है।

पल्सेटिला – यह तब दिया जाता है जब खांसी के दौरान बच्चा रोता है और उल्टी होती है और बलगम के साथ उल्टी होती है|

हूपिंग खांसी – जीवन शैली के टिप्स

आराम करें – आपको बेहतर आराम करने की सलाह दी जाती है।

बहुत सारा तरल पदार्थ पीएं – पानी, रस और सूप को विशेष रूप से बच्चों को निर्जलीकरण से बचने के लिए दिया जाना चाहिए।

कम भोजन खाएं – खांसी के बाद उल्टी से बचने के लिए एक ही बार ज्यादा खाने के बजाय थोडा थोडा करके भोजन करना उपयोगी हो सकता है।

साफ़ हवा – अपने घर को परेशानियों से मुक्त रखें जो खांसी को ट्रिगर कर सकती है। आप अपने घर में एक वायु शोधक का उपयोग कर सकते हैं।

फैलने से रोकें – खांसी करने के दौरान अपना मुंह ढकें और उसके बाद अपने हाथ धो लें|

हूपिंग खांसी वाले व्यक्ति के लिए क्या व्यायाम हैं?

हूपिंग खांसी वाले मरीजों के लिए किसी विशेष व्यायाम की सलाह नहीं दी जाती| लेकिन श्वास का अभ्यास करने में मदद मिल सकती है।

हूपिंग खांसी और गर्भावस्था – जानने योग्य बातें

  • गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिलाओं में किसी की मौत नहीं हुई है और गर्भावस्था के दौरान यह रोग गंभीर नहीं है।
  • जिन महिलाओं को प्रसव के समय खांसी आती है, वे ये बीमारी अपने बच्चों को भी दे सकती हैं।
  • गर्भवती होने पर टीकाकरण कराना बच्चे को अपने जीवन के पहले कुछ हफ्तों में खांसी विकसित करने से बचाने में अत्यधिक प्रभावी होता है।
  • टीका से मां को प्राप्त होने वाली प्रतिरक्षा बच्चे को प्लेसेंटा के माध्यम से पास कर देगी और उनके लिए निष्क्रिय सुरक्षा प्रदान करेगी जब तक कि वे दो महीने की उम्र में पर्टुसिस के खिलाफ नियमित रूप से टीका ना लगवाएं|

हूपिंग खांसी से संबंधित सामान्य परेशानियाँ

  • क्रैकड रिब्स
  • पेट का हर्निया
  • त्वचा में टूटी हुई खून की नलियाँ
  • निमोनिया (बच्चों में)
  • सांस धीमा होना या बंद होना (बच्चों में)
  • भोजन की कठिनाइयों (बच्चों में) के कारण निर्जलीकरण या वजन घटना
  • दौरे (बच्चों में)
  • मस्तिष्क में नुक्सान (बच्चों में)

सामान्य प्रश्न

हूपिंग खांसी कितनी संक्रामक है?

खांसी शुरू होने के लगभग 2 सप्ताह तक लोग इन्फेक्टेड रहते हैं। एंटीबायोटिक्स लेने के बाद व्यक्ति 5 दिनों के लिए ही संक्रामक होता है|

क्या वयस्कों को हूपिंग खांसी होती है?

वयस्कों में इस बीमारी का मामूली मामला हो सकता है। इसे रोकने के लिए टीडीएपी नामक एक टीका वयस्कों और किशोरों को दिया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one − one =